We are open and delivering worldwide! Safe, Timely & Efficient

Sarees|Laheriya-Shibori

Filter

68 Items

Set Descending Direction
  1. Violet Pure Shibori Kota Cotton Saree
  2. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  3. Red Pure Shibori Kota Cotton Saree
  4. Purple Pure Shibori Kota Cotton Saree
  5. Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  6. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  7. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  8. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  9. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  10. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  11. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  12. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  13. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  14. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  15. Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  16. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  17. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  18. Yellow Pure Shibori Kota Cotton Saree
  19. Black-Yellow Pure Shibori Kota Cotton Saree
  20. Red-Orange Pure Shibori Kota Cotton Saree
  21. Green Pure Shibori Kota Cotton Saree
  22. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  23. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  24. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  25. Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  26. Green Pure Shibori Kota Cotton Saree
  27. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  28. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  29. Green Pure Shibori Kota Cotton Saree
  30. Green Pure Shibori Kota Cotton Saree
  31. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  32. Multi Pure Shibori Kota Cotton Saree
  33. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  34. Pink Pure Shibori Kota Cotton Saree
  35. Green-Red Pure Shibori Kota Cotton Saree
  36. Green-Purple Pure Shibori Kota Cotton Saree
  37. Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  38. Yellow-Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  39. Yellow-Black Pure Shibori Kota Cotton Saree
  40. Orange-Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  41. Red Handloom Shibori Tussar Ghicha Saree
  42. Blue Handloom Shibori Tussar Ghicha Saree
  43. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  44. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  45. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  46. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  47. Green Chiffon  Saree with Shibori
  48. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  49. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  50. Multi Chiffon  Saree with Shibori
  51. Purple Chiffon  Saree with Shibori
  52. Green Pure Shibori Kota Cotton Saree
  53. Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  54. Yellow-Blue Pure Shibori Kota Cotton Saree
  55. Blue Pure Chanderi Sico Saree
  56. Yellow Pure Chanderi Sico Saree
  57. Green Pure Chanderi Sico Saree
  58. Cream Pure Chanderi Sico Saree
  59. Cream Pure Chanderi Sico Saree
  60. Cream Pure Chanderi Sico Saree
  61. Orange Pure Chanderi Sico Saree
  62. Cream Pure Chanderi Sico Saree
  63. Yellow Pure Chanderi Sico Saree
  64. Multi Pure Chanderi Sico Saree
  65. Pink Pure Chanderi Sico Saree
  66. Blue Pure Chanderi Sico Saree
  67. Yellow-Blue Pure Chanderi Sico Saree
  68. Orange Pure Kota Cotton Saree

68 Items

Set Descending Direction

Sensational waves in fabrics created by the Leheria Prints and Shibori

Bandhani or Bandhej is a tie & dye art that originally began in Kutch district of Gujarat. Tie & dye involves creating resists by tying threads tightly at selected points which could number from a few to several hundreds or even thousands based upon the complexity of the design intended, before dyeing the fabric. The tied part does not get dyed and when the threads are removed and the fabric spreads out the design becomes evident by a light coloured design on a dark coloured background. Leheria or Leheriya and Shibori are part of this larger traditional art known as Bandhani.
Leheria comes from the word Leher meaning wave, since the tie and dye process applied to white fabrics, results in brightly coloured complex wave or Leher designs. Leheria work is done on silk or cotton fabric and on long and broad canvases like turbans and sarees.
  • The process involves rolling the fabric and tying resists at various spots on the cloth rolled diagonally from one corner to the opposite selvage.
  • Selvage is the self finished edges in a fabric as a result of looping back the thread from the weft (perpendicular thread to the waft threads) at the end of each row length of the fabric that prevents the fabric from unravelling or fraying.
  • This rolled fabric is then dyed according to the usual tie and dye process in bright colours.
  • When the fabric is unfolded after dyeing, it leaves a lot of stripes or other shapes at intervals across the fabric in a design.
  • Several tie and dye processes are undergone if required, to create a myriad of colourful stripes across the fabric length. Indigo is used in the last few stages of the process.
  • The appeal of Leheria lies in the way the folding and tying of resists is manipulated before dyeing to create colourful striking outcomes of extraordinary designs. Mothara is a special ‘lentil design’, popular and achieved by the re-rolling of the unfolded first stage in the opposite direction and the resist tied at the diagonal end and repeating the dye process. The resulting checkered design has un-dyed areas at regular intervals which are the size of a lentil.
  • Leheria turbans are very popular in Rajasthan and some other parts of India. Leheria Sarees and salwar kameez have wooed the fashion world with their unique designer prints.
  • I would recommend Unnati Silks for buying Leheria Prints sarees online. You could buy wholesale or retail at very attractive prices.
    The variety of Leheria Prints sarees at Unnati Silks is interesting.
  • You have half half sarees where one half would have zari mango bootis and the other half would be covered by some pattern in Tie & Dye. The complementary designer pallu would have a portion plain and the other part having Bandhini designs.
  • Georgette half half sarees with the Leheria Prints on both but with different patterns and that to on contrast colours. The alternating patterns all across the length is a mesmerizing sight.
  • A third variety has plain art saree with a single motif distributed sparsely but the Pallu having the Leheria pattern in a nice colourful spread.
  • Who is not familiar with the arty designs of shibori on fabric? From the Japanese word ‘shiboru’ meaning to “wring, squeeze or press”, it involves embellishing textiles by shaping cloth and securing it before the application of color or dye. The manipulations made to the fabric prior to the application of dye are called resists, since they partially or fully cover the intended areas and prevent them from getting colored, while the rest of the portions do. An age old tradition, the tie & dye has survived till this day, as one of the oldest, finest and most widely used techniques for coloring, the world over. India is one of the leading countries in the use of the tie and dye method for fabrics.

    Tell me more!

  • Shibori is used to designate a particular group of resist-dyed textiles, the word emphasizing the action performed on cloth prior to the process of manipulation.
  • An arty craft, Shibori is said to have originated in Japan and Indonesia somewhere in the 8th century.
  • Shibori includes a number of labor-intensive resist techniques including stitching elaborate patterns and tightly gathering the stitching before dyeing, forming intricate designs for fabrics.
  • Shibori could also be created by wrapping the fabric around a core of rope, wood or other material, and binding it tightly with string or thread before dyeing. The areas of the fabric that are against the core or under the binding would remain un-dyed.
  • Resists are created by the folding, twisting, pleating, or crumpling of the fabric or garment to be colored and binding with string or rubber bands, before application of dye(s). The dye is prevented from penetrating portions that are not meant to be coloured, thereby acquiring the design or pattern through the non-coloured portions.
  • Since the resists used are softer in comparison to the more sharp-edged resists of stencil, paste and wax, the shibori comes out as a pattern of soft or blurry-edged sketches.
  • The dyer in no manner curbs the materials, but allows freedom to the design to express itself fully thereby allowing an element of the unexpected to always be present.
  • In India shibori was first introduced by literature Nobel laureate Rabindranath Tagore, famed for his interest in reviving and reinventing the traditional arts and crafts of the country apart from his expertise in Bengali literature.
  • Shibori is practiced in the urban villages of Delhi, craft clusters of Rajasthan and Bhuj in Gujarat.
  • Most artisans use the rope-tied technique of shibori wherein a rope is tied to a bundle of fabric. Only the area that does not have the rope gets colored, while parts under it resists.
  • This method of tie-and-dye is a coarser variant of the shibori process that has been explained earlier.
  • The shibori process consists of four monitored stages - design, stitching, tightening and dyeing.

    Design
  • The design is first conceptualized. The basic motif of the design would have both linear and non-linear patterns, is arranged as an array of combinations within the basic framework. The chosen design gets transferred on paper or a computer page and ultimately onto a plastic sheet.
  • The plastic sheet is run through a sewing machine without thread. A stencil is created with uniform tiny holes all along the outline of the design. The stencil is then laid on a natural unbleached cloth while a duster dipped in kerosene and silver solution is pressed along it. The solution from the duster seeps through the tiny holes marking the design on the cloth. The kerosene used only to serve as a binder evaporates shortly. The silver stain is easily removed by washing the cloth. Thus the design is readied.
  • Stitching

  • The next level in the process is stitching since the coloring can be done only after the shaping of the cloth is done. With the marking done on the fabric, a running stitch is manually made with needle and thread along the design. After the natural fabric has been transcribed with the design, at the two ends of the thread a small piece of cloth is attached that allows the thread to be pulled from both the ends, thus crushing the fabric.
  • Tightening

  • This is an important part in the process. Here, two people are required, one for holding the cloth, the other for pulling the two ends of the thread in opposite directions. The cloth along the thread gets compressed and a knot is then made to bind the cloth, not allowing the color to seep into it (the area compressed by the knot) at the time of dyeing.
  • The right amount of pressure is required to tie the knot as a loose loop could allow the color to percolate into the knot onto the area where the color is not required. When the coloring is done, the entire area on the fabric gets colored other than the spot within the knot which is referred to as a stitch-resist dying technique.
  • Dyeing

  • The tightening completed, the fabric is soaked in a mild soap solution for some time. Thereafter, it is dipped in a bath for dyeing.
  • The bath is prepared in the following manner: the material to liquid ratio (MLR) is maintained in the region of 1:20. e.g. 1 kg of fabric or yarn against 20 litres of water.
  • For the concentration of the color, a 5 per cent description refers to 50 g of color (or any other chemical) to be dissolved in 20 litres of water for 1 kg of fabric or yarn.
  • Apart from indigo, all the other colors are ‘hot processes’, i.e. they require water to be mildly heated while the dyeing process is on. For all the colors, the cloth / yarn is to be kept in the bath roughly for 45 minutes.
  • In natural dyeing, in order to increase the absorption of color as well as for fastness, the concentration of dye should be increased incrementally. e.g. once the 5 per cent indigo bath is ready and the fabric/yarn has been immersed in it, if a darker shade is required then more indigo should be added slowly (1-2 per cent) till the desired shade is achieved. For the various colors, chemicals are mixed with water and indigo and atmospheric reaction with them yields different results as desired.
  • In this process, after the design is transferred onto a natural unbleached fabric and the stitching is completed, the cloth is first dipped into a vat containing the lighter shade of indigo.
  • After the cloth has dried, tightening is done. It is then submerged in a vessel containing the darker shade of indigo. The area around the tightened thread gets crinkled and compressed and does not allow the color to leak in, hence allowing that portion to maintain the original lighter shade.
  • In the shibori technique, the closer the stitches that are tightened into a knot, the larger will be the area where the color does not seep in since the fabric resists the dye all along the stitches.
  • Well! Since the fabric that has been processed using the shibori technique will bear pinpricks where the design was stitched in, if held against the light, the minute holes made by the needle should be visible.
  • However, the normal dyed cloth passed off as authentic shibori and having printed dyed dots representing the stitch marks would not allow light to pass through.
  • Cotton is a widely preferred natural fibre material for good results of tie & dye since it is a good plain weave of simple lattice of closely placed yarn threads. It is soft, smooth textured, light, airy, sheer and very comfortable as a fabric for daily wear and long durations. The wavy spreads of Leheriya and the criss cross color bands in Shibori make for an impressive collection of traditional weaves in trendy stylish displays.
  • You have lovely sarees in Kota cotton, Bandhani art silk, satin silk, georgette, chanderi sico, chiffon etc. You have a whole lot of vibrant, exciting, designs that fill the mind, titillate the senses.
  • लेहेरिया के, शब्द लेहर अर्थ लहर से आता है, चूंकि टाई और डाई प्रक्रिया सफेद कपड़ों पर लागू होती है, जिसके परिणामस्वरूप चमकीले रंग की जटिल लहर या लेहर डिजाइन तैयार होते हैं। लेहरिया काम रेशम या सूती कपड़े पर और पगड़ी और साड़ी जैसे लंबे और चौड़े कैनवस पर किया जाता है।
  • इस प्रक्रिया में फैब्रिक को रोल करना और एक कोने से विपरीत सेलेव में तिरछे रोल किए गए कपड़े पर विभिन्न स्थानों पर बांधना शामिल है।
  • सेलवेज कपड़े के प्रत्येक पंक्ति लंबाई के अंत में कपड़ा (सीधा धागा से बायीं ओर धागा) से थ्रेड को वापस करने के परिणामस्वरूप कपड़े में स्वयं तैयार किनारों होता है जो कपड़े को खोलना या भुरभुरा होने से बचाता है।
  • इस लुढ़के कपड़े को तब सामान्य टाई और चमकीले रंगों में डाई प्रक्रिया के अनुसार रंगा जाता है।
  • जब रंगाई के बाद कपड़े को खोल दिया जाता है, तो यह एक डिजाइन में कपड़े के अंतराल पर बहुत सारी धारियां या अन्य आकार छोड़ देता है।
  • कपड़े की लंबाई भर में रंगीन पट्टियों के असंख्य बनाने के लिए, यदि आवश्यक हो तो कई टाई और डाई प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। इंडिगो का उपयोग प्रक्रिया के अंतिम कुछ चरणों में किया जाता है।
  • असाधारण डिजाइनों के रंगीन हड़ताली परिणामों को बनाने के लिए रंगाई करने से पहले रिसर की तह और बांधने की विधि में लेहरिया की अपील निहित है। मोथरा एक विशेष 'मसूर की डिजाइन' है, जो लोकप्रिय और विपरीत दिशा में सामने वाले पहले चरण के फिर से रोलिंग द्वारा प्राप्त की गई है और विकर्ण छोर पर बंधी हुई प्रतिरोध और डाई प्रक्रिया को दोहराती है। परिणामी चेकर डिजाइन में नियमित अंतराल पर बिना रंग के क्षेत्र होते हैं जो एक दाल के आकार के होते हैं।
  • लेहरिया पगड़ी राजस्थान और भारत के कुछ अन्य हिस्सों में बहुत लोकप्रिय हैं। लेहरिया साड़ी और सलवार कमीज ने अपने अनूठे डिजाइनर प्रिंट के साथ फैशन की दुनिया को लुभाया है।
  • मैं Unnati Silks को खरीदने के लिए सलाह दूंगा लेहरिया प्रिंटसाड़ी ऑनलाइन। आप बहुत आकर्षक कीमतों पर थोक या खुदरा खरीद सकते हैं।
    उन्नावती सिल्क्स में लेहरिया प्रिंट की साड़ियों की विविधता दिलचस्प है।
  • आपके पास आधे आधे साड़ी हैं जहाँ एक आधे में जरी आम की बूटियाँ होंगी और दूसरी आधी में टाई एंड डाई के कुछ पैटर्न होंगे। पूरक डिजाइनर पल्लू में एक हिस्सा सादा होगा और दूसरा हिस्सा बंदिनी डिजाइन का होगा।
  • जॉर्जेट आधा आधा साड़ी दोनों पर लेहेरिया प्रिंट्स के साथ लेकिन अलग-अलग पैटर्न के साथ और इसके विपरीत रंगों पर। सभी लंबाई में बारी-बारी से पैटर्न एक आकर्षक दृश्य है।
  • तीसरी किस्म में सादी कला की साड़ी होती है, जिसमें एक भी आकृति होती है, लेकिन पल्लू में लेहरिया पैटर्न होता है, जो रंगीन रूप में फैला होता है।
  • कपड़े पर शिबोरी के आर्टी डिजाइन से कौन परिचित नहीं है? जापानी शब्द 'शिबोरु' का अर्थ है "शिकन, निचोड़ना या दबाना", इसमें कपड़े को आकार देकर और रंग या रंग के आवेदन से पहले इसे सुरक्षित करके वस्त्रों को सजाना शामिल है। डाई के अनुप्रयोग से पहले कपड़े में किए गए जोड़तोड़ को रेसिस्ट कहा जाता है, क्योंकि वे आंशिक रूप से या पूरी तरह से इच्छित क्षेत्रों को कवर करते हैं और उन्हें रंगे होने से रोकते हैं, जबकि बाकी हिस्से करते हैं। एक पुरानी पुरानी परंपरा, टाई एंड डाई इस दिन तक जीवित रही है, रंग भरने के लिए सबसे पुरानी, ​​बेहतरीन और सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों में से एक है। भारत कपड़े के लिए टाई और डाई विधि के उपयोग में अग्रणी देशों में से एक है।

    कपड़े पर शिबोरी के आर्टी डिजाइन से कौन परिचित नहीं है? जापानी शब्द 'शिबोरु' का अर्थ है "शिकन, निचोड़ना या दबाना", इसमें कपड़े को आकार देकर और रंग या रंग के आवेदन से पहले इसे सुरक्षित करके वस्त्रों को सजाना शामिल है। डाई के अनुप्रयोग से पहले कपड़े में किए गए जोड़तोड़ को रेसिस्ट कहा जाता है, क्योंकि वे आंशिक रूप से या पूरी तरह से इच्छित क्षेत्रों को कवर करते हैं और उन्हें रंगे होने से रोकते हैं, जबकि बाकी हिस्से करते हैं। एक पुरानी पुरानी परंपरा, टाई एंड डाई इस दिन तक जीवित रही है, रंग भरने के लिए सबसे पुरानी, ​​बेहतरीन और सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों में से एक है। भारत कपड़े के लिए टाई और डाई विधि के उपयोग में अग्रणी देशों में से एक है।

    मुझे और बताएँ!

  • शिबोरी का उपयोग प्रतिरोध-रंग के वस्त्रों के एक विशेष समूह को नामित करने के लिए किया जाता है, यह शब्द हेरफेर की प्रक्रिया से पहले कपड़े पर की गई कार्रवाई पर जोर देता है।
  • कहा जाता है कि शिबोरी को 8में जापान और इंडोनेशिया में उत्पन्न किया गयावीं शताब्दीथा।
  • शिबोरी में कई श्रम-गहन प्रतिरोध तकनीकों को शामिल किया गया है जिसमें विस्तृत पैटर्न को सिलाई करना और रंगाई से पहले सिलाई को कसकर इकट्ठा करना, कपड़ों के लिए जटिल डिजाइन बनाना शामिल है।
  •  
  • शिबोरी भी रस्सी, लकड़ी या अन्य सामग्री के एक कोर के चारों ओर कपड़े लपेटकर बनाया जा सकता है, और रंगाई से पहले इसे स्ट्रिंग या धागे से कसकर बांध दिया जा सकता है। कपड़े के क्षेत्र जो कोर के खिलाफ या बंधन के तहत हैं, वे रंगे नहीं रहेंगे।
  • रेजिस्टेंस को डाई (एस) के उपयोग से पहले, स्ट्रिंग या रबर बैंड के साथ रंगीन या परिधान के रूप में बाँधने, मोड़ने, चढ़ाना, या कपड़े को उखाड़ने के लिए बनाया जाता है। डाई को रंगीन भागों में घुसने से रोका जाता है जो रंगीन नहीं होते हैं, जिससे गैर-रंगीन भागों के माध्यम से डिजाइन या पैटर्न प्राप्त होता है।
  • चूँकि इस्तेमाल किए गए रेसिस्टर्स स्टैंसिल, पेस्ट और मोम के अधिक तेज धार वाले रेसिस्ट की तुलना में नरम होते हैं, शिबोरी नरम या धुंधले-धार वाले स्केच के पैटर्न के रूप में सामने आती है।
  • डायर किसी भी तरह से सामग्री पर अंकुश नहीं लगाता है, लेकिन डिजाइन को पूरी तरह से व्यक्त करने की स्वतंत्रता देता है जिससे अप्रत्याशित तत्व हमेशा मौजूद रह सकता है।
  • भारत में शिबोरी पहली बार साहित्य नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा पेश की गई थी, जो बंगाली साहित्य में अपनी विशेषज्ञता के अलावा देश की पारंपरिक कलाओं और शिल्पों को पुनर्जीवित करने और उनकी रुचि के लिए प्रसिद्ध थी।
  • शिबोरी का प्रचलन दिल्ली के शहरी गाँवों, राजस्थान के शिल्प समूहों और गुजरात के भुज में है।
  • अधिकांश कारीगर शिबोरी की रस्सी से बंधी तकनीक का उपयोग करते हैं, जिसमें रस्सी को कपड़े के एक बंडल से बांधा जाता है। केवल वह क्षेत्र, जिसमें रस्सी नहीं होती है, रंगीन हो जाता है, जबकि इसके नीचे के हिस्सों का विरोध होता है।
  • टाई-एंड-डाई की यह विधि शिबोरी प्रक्रिया का एक मोटे संस्करण है जिसे पहले समझाया जा चुका है।
  • शिबोरी प्रक्रिया में चार निगरानी चरण होते हैं - डिजाइन, सिलाई, कसने और रंगाई।

     

    डिजाइन

  • डिजाइन पहली अवधारणा है। डिजाइन के मूल मूल भाव में रैखिक और गैर-रेखीय दोनों पैटर्न होंगे, बुनियादी ढांचे के भीतर संयोजन की एक सरणी के रूप में व्यवस्थित है। चुने हुए डिजाइन को कागज या एक कंप्यूटर पेज पर और अंत में एक प्लास्टिक शीट पर स्थानांतरित किया जाता है।
  • प्लास्टिक की शीट को बिना सिलाई मशीन के माध्यम से चलाया जाता है। एक स्टैंसिल सभी छोटे छेदों के साथ डिज़ाइन की रूपरेखा के साथ बनाया गया है। इसके बाद स्टैंसिल को एक प्राकृतिक अपरकलित कपड़े पर रखा जाता है, जबकि एक डस्टर को मिट्टी के तेल में डुबोया जाता है और इसके साथ चांदी का घोल दबाया जाता है। डस्टर से समाधान कपड़े पर डिजाइन को चिह्नित करने वाले छोटे छेद के माध्यम से रिसता है। मिट्टी के तेल का उपयोग केवल एक बांधने की मशीन के रूप में किया जाता है जो शीघ्र ही वाष्पित हो जाता है। कपड़े धोने से चांदी का दाग आसानी से निकल जाता है। इस प्रकार डिजाइन को पढ़ा जाता है।
  •  

    सिलाई

  • प्रक्रिया में अगले स्तर सिलाई है क्योंकि रंग को केवल कपड़े के आकार के बाद किया जा सकता है। कपड़े पर किए गए अंकन के साथ, एक चल सिलाई मैन्युअल रूप से सुई और धागे के साथ डिजाइन के साथ बनाई गई है। प्राकृतिक कपड़े को डिजाइन के साथ स्थानांतरित करने के बाद, धागे के दोनों सिरों पर कपड़े का एक छोटा टुकड़ा जुड़ा होता है जो धागे को दोनों छोर से खींचने की अनुमति देता है, इस प्रकार कपड़े को कुचल दिया जाता है।
  •  

    कसना

  • इस प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यहां, दो लोगों की आवश्यकता होती है, एक कपड़े को पकड़ने के लिए, दूसरा विपरीत दिशाओं में धागे के दोनों सिरों को खींचने के लिए। धागे के साथ कपड़ा सिकुड़ जाता है और फिर एक गाँठ कपड़े को बांधने के लिए बनाई जाती है, रंगाई के समय रंग को उसमें (गाँठ द्वारा संकुचित क्षेत्र) को रिसने की अनुमति नहीं देता है।
  • गाँठ बाँधने के लिए दबाव की सही मात्रा की आवश्यकता होती है क्योंकि ढीले लूप रंग को उस क्षेत्र में गाँठ में घुसने की अनुमति दे सकता है जहां रंग की आवश्यकता नहीं है। जब रंगाई की जाती है, तो कपड़े पर पूरा क्षेत्र गाँठ के भीतर स्पॉट के अलावा रंगीन हो जाता है जिसे सिलाई-विरोध मरने की तकनीक के रूप में संदर्भित किया जाता है।
  •    

    रंगाई

  • पूरी हो गई है, कपड़े को कुछ समय के लिए हल्के साबुन के घोल में भिगोया जाता है। इसके बाद, यह रंगाई के लिए स्नान में डूबा हुआ है।
  • स्नान निम्नलिखित तरीके से तैयार किया गया है: 1:20 के क्षेत्र में तरल अनुपात (एमएलआर) की सामग्री को बनाए रखा जाता है। जैसे 20 लीटर पानी के मुकाबले 1 किलो कपड़ा या धागा।
  • रंग की सघनता के लिए, 5 प्रतिशत का वर्णन 50 ग्राम रंग (या किसी अन्य रसायन) को 20 लीटर पानी में 1 किलोग्राम कपड़े या धागे में भंग करने के लिए संदर्भित करता है।
  • इंडिगो के अलावा, अन्य सभी रंग 'हॉट प्रोसेस' हैं, अर्थात रंगाई प्रक्रिया के दौरान उन्हें हल्के गर्म होने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। सभी रंगों के लिए, कपड़े / धागे को लगभग 45 मिनट तक स्नान में रखना है।
  • प्राकृतिक रंगाई में, रंग के अवशोषण के साथ-साथ तेजी के लिए, डाई की एकाग्रता में वृद्धि के लिए वृद्धिशील रूप से बढ़ाया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, एक बार 5 प्रतिशत इंडिगो स्नान तैयार हो गया है और कपड़े / धागे को इसमें डुबो दिया गया है, यदि एक गहरे रंग की छाया की आवश्यकता होती है, तो वांछित छाया प्राप्त होने तक अधिक इंडिगो को धीरे-धीरे (1-2 प्रतिशत) जोड़ा जाना चाहिए। विभिन्न रंगों के लिए, रसायनों को पानी और इंडिगो के साथ मिलाया जाता है और उनके साथ वायुमंडलीय प्रतिक्रिया से वांछित परिणाम अलग-अलग मिलते हैं।
  • इस प्रक्रिया में, डिज़ाइन को प्राकृतिक रूप से तैयार किए गए कपड़े पर स्थानांतरित कर दिया जाता है और सिलाई पूरी हो जाती है, कपड़े को पहले इंडिगो के लाइटर शेड से युक्त एक वैट में डुबोया जाता है।
  • कपड़े सूख जाने के बाद, कसने का काम किया जाता है। यह तब एक बर्तन में डूब जाता है जिसमें इंडिगो की गहरी छाया होती है। कड़ा हुआ धागा के आसपास का क्षेत्र सिकुड़ जाता है और संकुचित हो जाता है और रंग को रिसाव नहीं होने देता है, इसलिए उस हिस्से को मूल हल्का छाया बनाए रखने की अनुमति देता है।
  • शिबोरी तकनीक में, टांके के करीब जो एक गाँठ में कड़ा होता है, उतना बड़ा क्षेत्र होगा जहां रंग टपकता नहीं है क्योंकि कपड़े टांके के साथ डाई को फिर से तैयार करता है।
  • कुंआ! चूंकि कपड़े जो कि शिबोरी तकनीक का उपयोग करके संसाधित किया गया है, वे पिनपिक्स को सहन करेंगे जहां डिजाइन को सिले किया गया था, अगर प्रकाश के खिलाफ आयोजित किया जाता है, तो सुई द्वारा बनाए गए मिनट के छेद दिखाई देने चाहिए।
  • हालांकि, सामान्य रंगे कपड़े प्रामाणिक शिबोरी के रूप में बंद हो गए और सिलाई के निशान का प्रतिनिधित्व करने वाले रंगे हुए डॉट्स होने से प्रकाश को गुजरने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • टाई और डाई के अच्छे परिणामों के लिए कपास एक व्यापक रूप से पसंदीदा प्राकृतिक फाइबर सामग्री है क्योंकि यह बारीकी से लगाए गए धागे के सरल जाली का एक अच्छा सादा बुनाई है। यह नरम, चिकनी बनावट, हल्का, हवादार, सरासर है और दैनिक पहनने और लंबी अवधि के लिए कपड़े के रूप में बहुत आरामदायक है। लेहेरिया के लहराती फैलाव और शिबोरी में क्रिस क्रॉस कलर बैंड पारंपरिक स्टाइलिश प्रदर्शनों में पारंपरिक बुनाई के प्रभावशाली संग्रह के लिए बनाते हैं।
  • कोटा कॉटन, बंधनी आर्ट सिल्क, साटन सिल्क, जॉर्जेट, चंदेरी सीको, शिफॉन आदि में आपकी प्यारी साड़ियाँ हैं। आपके पास बहुत सारी जीवंत, रोमांचक और मन को लुभाने वाली डिज़ाइन हैं, जो इंद्रियों को ख़त्म कर देती हैं।
  • Social fabric of the nation – the Indian saree

    The Indian saree is a garment from ancient times, worn by girls or ladies or women of all ages. Saree is Indian tradition that has over the passage of time been much explored and experimented with, to transform it from a traditional attire of need to a fashion fabric of appeal. The Indian saree is made up of three essential sections or areas - the body of the fabric, the borders and the loose portion of the saree, hanging over the shoulder, known as the pallu or end piece.

    All that can be done to improve the look of the fabric is within this limited area. Yet every product is slightly different from the previous, there is something novel or innovative to be discovered in each. If one were to refer to a well-researched read with good material on saris of India book or pdf that can tell about saris of India, its tradition and beyond, one can easily visualize the tremendous potential that the rectangular piece of cloth known as saree or sari holds.

    Many types of saris are worn in India. From the plain, simple coloured and lightly adorned cotton and silk blends worn by many women in their daily routine, to the jazzy stylish heavily decorated silks with all sorts of finery and additive features known as fashion and special wear or ready to wear sarees, meant for exclusive occasions such as weddings, grand parties or social invites to be ordered from India online.
  • Saree fabric material could be cotton, silk, jute, nylon, rayon, Georgette, chiffon, satin etc. or blends. There is no dearth of traditional handloom varieties and modern art silks and current tastes have encouraged brilliant fusion experiments of the two to evolve a new range of splendid never-before-seen fabrics having trending designs and patterns incorporated in the conventional handloom weaves.
  • Silks have always been a favourite with women because of the rich look, airy comfort and the exclusiveness in price compared to other fabrics. Especially costly pure silk sarees that range from 15000 rupees onwards to touch a lakh and above, are jealously guarded, worn with caution and care exercised at every step, to be worn for grand exclusive occasions only.
  • Cottons are preferred for summer or hot weather conditions and for long continuous spells of wearing. Light in weight, very airy, comfortable, cottons come in light shades and medium coloured hues and very preferred for casual outings, office, daily wear since they are not as costly as silks.
  • You have pure silk centres of Mysore, Dharmavaram, Kanjeevaram along with other notable places like Narayanpet, Pochampally, Uppada, Venkatagiri, Rasipuram, Arani, Coimbatore and some others with their own brands of silk fabrics in the Southern part of India. The Northern part has Banaras, Chanderi, Kota, Chattisgarh, Bhagalpur and others. Rajasthan and Gujarat in the West, with Eastern Orissa, West Bengal and the North Eastern belt. All these have traditionally evolved their individual styles and existed harmoniously for a long time.
  • Inspiring breath-taking weaves of good texture, fine thread counts, beautiful patterns and motifs displayed in a myriad of colours have seamlessly included the modern saree-wearer’s likes and preferences in new colour shades, embellishments on the saree, abstract and fancy prints, without sacrificing the essence of the ethnic quality.
  • There is a healthy mix even of different regions wherein the saree could have the attractive and appealing features of different traditional styles. Such as the modern designer prints being block printed on the body, the attach border having exquisite embroidery and the pallu portraying scenes from nature in eco-colours, hand painted in tribal art.
  • India has many handloom weaving, dyeing and printing locations of ethnic excellence in the four corners of the country. Side by side and also overwhelming it is the modern mass production device called the power loom which though quick serving and time saving cannot have the craftsmanship and finish of the traditional handloom.
  • IT has also helped in the design of extraordinary patterns sensational colour combinations. Transfer of prints directly from the printer onto fabric has also become a reality for one or two fabric types.
  • Rich in variety excellence in weaving, A.P. Handlooms have a niche presence in handlooms sector. Uppada handloom cottons, with their Jamdani pattern, Uppada pure silks covered in zari finery, Gadwal sarees with rich border, different pallu and gold or silver zari brocades. Mangalagiri handlooms are pure durable cotton yarns with nizam borders and rich zari work. The Venkatagiri weaves in cotton with Jamdani weave & pure silk brocade woven with gold or silver zari threads, the Narayanpet block printed cotton sarees known for their contrast borders, shimmering effect and pallu work, the Dharmavaram silk sarees famous for their inevitable presence in most south Indian marriages are distinctive silk weaves of simple patterns in two colors, are elegant for regular use. Pochampally handloom cluster is known for its unique tie & dye ikat weaves.
  • Assam Sarees, in cotton and silk, light on the body, needing little to maintain, beautiful patterns, elegant borders and multi-coloured hues, make them a feast for the eyes. The Assam Muga Silk variety with floral designs, zari borders and embroidered patches are a connoisseur’s delight. The soft tussar silks of Bhagalpur with silk available from the forests of Jharkhand, Chattisgarh Sarees, famous for the special use of the painting techniques of block batik and dabu where organic dyes are used with tribal painting artwork, which also has Ari embroidery, jaali or net embroidery in geometric or floral design as a prevalent feature. You have the traditional Patan Patola and the simpler single ikat Patola weaves of Rajkot in sico and cotton with enchanting block prints and the exquisite kutch or kutchhi embroidery. You also have the Gharchola Panetar tie & dye sarees from the state of Gujarat.
  • Karnataka provides the world class Mysore silks, the unique Bangalore silks, the Dharwad cottons and the exquisite kasuti embroidery. Jammu & Kashmir contributes the soft pashmina silk and cotton sarees with Kashida embroidery, Kerala its fine Kasavu cottons in dazzling white or cream with golden borders, you have the silk and cotton sensations from Chanderi and Maheshwari in Madhya Pradesh, Maharashtra with its dazzling Paithanis, the exotic Warli Painted sarees and the colourful Ganga Jamuna sarees and Manipur with its colourful and designer handlooms.
  • Then you have Meghalaya with its finely woven designer sarees having captivating designs and motifs in silk and organza, the simple but tastefully woven elegant cottons of Nagaland with attractive patterns, the special Sambalpuri ikats, the shiny Bomkai silks, and the soft handlooms of Odisha. Punjab gives its quality cotton handlooms and the Phulkari weave, Rajasthan its Bagru and Dabu block prints, the soft and smooth Kota Dorias and the playful Bandhani patterns.
  • Tamil Nadu is a major hub of handlooms and where you find soft and smooth fine cottons of Coimbatore, Madurai, Chettinad, exceptionally fine silks of Kanchipuram, Arani, Samudrika, Rasipuram, Uttar Pradesh has the pure silks of Banaras, the designer supernets of Banaras, the handloom cottons of Banaras, and of course the exquisite embroidery of the Lucknowi sarees. West Bengal has on display its Baluchari silks, the exquisite Jamdhani weave technique, the amazing thread work of Kantha, the fine muslins of Dhaka cotton, and the exceptional Tant handlooms.
  • You could come across a carried assemblage of different varieties of saree like plain cotton silk half saree, soft silk and linen saree collection of sarees, party wear lehenga cotton saree
  • Whether sari has a meaning or not is not known to us but the history of sari-like drapery is traced back to the Indus Valley Civilisation, which flourished during 2800–1800 BCE around the northwestern part of the Indian subcontinent. From this initial drape, over time with changes and more changes it arrived to be in the present form, which has been prevalent over a long time now. Only the one who wears saris knowns what freedom of movement is that I am talk about.
    Naturally the traditional pure silk pattu sarees are best for a wedding because of the royal look, the shine and shimmer, the designs, embroidery, brocade attachments, latest silk saree blouse designs and other finery that go with it which would make the bride look a princess, the ladies all around part of the royal attendance. For the South Indian bridal saree for bride, the red kanchipuram silk wedding pattu saree with blouse designs for silk wedding saree would be a smashing hit. Pure silk yellow saree draper with lovely saree blouse designs matching wedding silk sarees for girls could be another lovely choice.
    The blouse for the saree is generally cut out from a rectangular piece of cloth 80 cm. x 1 metre on an average. The range varies from 0.6 meters to 1 meter, depending upon the body shape, size of the sleeve desired, blouse length etc.
    Sarees could cost anywhere from a few hundred rupees for plain unadorned ones to beyond a lakh rupees for the ones that are traditionally acknowledged for their weaving finesse, exquisite adornments, costly additions, ethnic designs and the like.
    While there are examples of Indian saree ladies designers like Shaina N.C. creating a record of sorts with knowing 70 plus styles of draping the saree, more and more ideas are being added every now and then by various individuals that keep increasing the number of styles that could be used to drape a saree.
    There are several reasons why the saree fall becomes necessary.
  • Many fabrics if left by themselves lack the tensile strength to keep them in place and would be prone to stretching and tearing.
  • The saree hem if left with loose threads would entangle with the footwear or come under the feet, additionally leading to scraping with the ground or hard surfaces and coming to ruin.
  • In flowy, fluid and light-weight fabrics, spreading or flying off when tied was a common problem. Pleating also used to be difficult, especially keeping them in place for long.
  • The extra fabric lends stiffness and weight which prevents all the above deficiencies that would have prevailed otherwise.
  • Attractive blouse designs for the plain saree, the plain saree with new design adornment or a lightly adorned saree with hot designer saree blouses, are all part of a plan for enhancing the saree look. Colors, designs, patterns, motifs are part of the weaving design that create the differences between product and product.
  • They provide the basic attraction that ensures the interest in the product. But with a whole range of colored sarees and lots of patterns and designs to choose from, there crept in an air of expectedness and anticipation after a time. Something different that could ensure that each product could have similar display yet differentiated by the unknown factor.
  • This was when adornments or additions, traditional yet novel to the market were brilliantly introduced to evolve outcomes that ranged from pleasant surprise to wonder and amazement at the effect that they caused for women in a handloom saree.
  • Saree wearing images, of models in new designer sarees, are available to view online. There are different sections on the website that deal with sarees according to fabric, sarees according to variety, sarees according to cost, color and further fine distinctions that the site might wish to have. E.g. When doing online saree shopping on websites one can choose designer party wear lehenga from images. Suppose you were doing online shopping for designer Banarasi silk sarees. You would be able to check for latest Banarasi net silk designer sarees, ready made saree designs for wedding sarees in India, designer blouses and new designer blouse designs for wedding pattu saree etc., and a host of other features and information about the Banarasi range of sarees.
    Traditional art and craftsmanship is all about beauty and enhancement where the average is raised to extraordinary.
  • You have Appliqué work that refers to the technique by which patterns are created by attaching a smaller coloured patch onto a larger base fabric mostly of contrasting colour or texture. The attaching could be by stitching, or gluing the patch on the larger fabric.
  • There are the Bootis or Buttis, that are repeated motifs or patterns hand woven, embroidered or printed onto handloom sarees. They enhance the beauty of any fabric on which they are added. Hand woven Bootis were earlier woven by needles of different sizes based on the size and number of bootis to be woven. The Chanderi Saree especially makes the use of Bootis as a compulsory adorning feature.
  • You have the Tie & Dye process that involves creating resists by tying threads tightly at selected points which could number from a few to several hundreds or even thousands based upon the complexity of the design intended, before dyeing the fabric. The tied part does not get dyed and when the threads are removed and the fabric spreads out the design becomes evident by a light coloured design on a dark coloured background.
  • Using ‘resists’ for making designs on a fabric, the conventional Batik process has a resist or a physical block in some form or the other to prevent desired areas on the fabric from being penetrated by the initial dye. Generally wax is used as a resist in Batik. The rarer type of Batik is Pen Batik. Fine designs are made on the fabric using ‘Tjanting’ tools. Pen Batik is a little more painstaking comparatively on account of fine detailing to be taken done by hand
  • Dabu printing is a unique art form that has mud-resist hand-block printing that has amazed even the fashion pundits.
  • Chikankari is intricate embroidery on sarees and salwar kameez. An art form where, the design or pattern print is transferred to the cloth, Chikankari was practiced on fabrics like muslin, silk etc. initially only with white thread. Today even colored thread is used.
  • Zardozi is metal embroidery done on various fabrics like sarees using gold or silver colour coated copper wire along with a silk thread.
  • Kantha Work, is embroidery work done on sarees, with a running stitch on them in the form of motifs.
  • Kasuti is a traditional form of embroidery in Karnataka, India. Kasuti work is very intricate and involves putting a large number of stitches by hand on traditional cotton and silk sarees.
  • Kashida is embroidery done in the Kashmir valley and draws its subjects from nature and its offerings like leaves, floral arrangements, fruits, nuts etc. to be displayed as motifs.
  • The Kutch embroidery and the Parsi Gara embroidery that are akin to the Kasuti but practiced in Gujarat. The execution of the miniature designs in thread work, truly baffle, while the vibrancy of the colored patterns are extremely eye-catching.
  • The Bagru Hand block printing of Rajasthan is itself very popular on account of its simplicity and ease of execution but which results in prints on the Saris that are sharp, accurate and finely detailed.
  • There are many more such wonders that traditional practitioners have given modern India. They are spread across the country, sometimes in very remote corners too. It is their innovative skills and dedication to the art that has given India something to boast of with pride.

  • There is nothing like a handloom saree when it comes to variety and look. Finely woven fabric, there is interplay of design and pattern, motif and border, embroidery and painting or other interchangeable permutations and combinations, that each product is unique, each item as distinctive as the next.
  • People dress for occasions and for the Indian woman the saree offers her a mind-boggling range to choose from.
  • Wedding wear - Weddings are a way of life in India. Wedding wear sarees are fabrics of finery and trappings that include traditional bridal wear sarees. Bridal sarees, bridesmaid sarees, saris worn by women of the family, relatives and guests attending the ceremonies are all resplendent silk wedding sarees of different varieties and styles. Customs vary across India; the wedding sari remains a common feature. You could buy a fancy designer saree with designer blouse such as silk pattu sarees of south India and the pure silks with traditional decorative finery and decorative zari work in pure gold and silver for wedding, online. Hand-woven Silk sarees, attractive, trending Designer sarees are included in wedding purchases when people shop sarees online.

    Party wear - Parties in India are occasions for fun, enjoyment and social exchange. Women also take it as an opportunity to display their latest purchases in Indian saris. Grand Parties demand long presence, easy movement, maintenance of look, all the time. When comfort with appearance is prime, pattus or pure silk sarees, light, airy and with a lot of zari work would be a good choice. For informal parties, designer art silks and attractive block printed cottons with additional adornment would suit. In crowded environs, fancy cotton sari avatars would always be a good choice with their brilliant floral designs or batik prints.

    Office wear - The Indian office wear saree gives comfort, maintains shape and appearance all day. Fancy, exclusive fabrics with latest designer patterns and abstract modern prints with exquisite embellishments are trending office sarees. Office sarees serve for daily use at schools, colleges, small offices and large corporate offices too.

    Casual wear – The concept of casual wear is for daily and regular use, as wear for outings, informal social calls etc. The casual saree no longer remains plain and unadorned irrespective of how simple its use could be. The body of the saris could have printed designs, woven patterns or just a plain setting.

    Over and above this with change of hairstyles on different types of sarees, experimenting with hairstyle color matching with saree, adding accessories like belt (check for how to wear a designer saree with a belt online), clutch, earrings, necklaces and what not, the Indian woman would simply dazzle everybody within range.

  • For all such questions, the answer is simple. Unnati Silks is a saga of 'HANDLOOMS FOR WOMEN' that began in 1980. Four decades since it has transformed from a single shop entity to become a family enterprise with extended arms and global operations.
  • Being Customer - Centric, Unnati Silks anticipates, innovates and provides with a strong belief that each and every customer is special. An experience of four decades in silk and cotton textiles Unnati has carved out a niche presence for itself in being the manufacturer, wholesaler, retailer and exporter of genuine silk cotton handlooms like sarees, salwar suits, kurtas, kurtis and other Indian ethnic fabrics. This has thereby created for it, a sizable domestic market from across the country and overseas.
  • Having a product range that is varied and vast, handwoven and handcrafted, the devotion and dedication of talented ethnic artisans from across 21 states of India comes through in the products on display.
  • Art Silk, Chiffon, Cotton, Cotton Silk, Crape, Dupion, Georgette, Gicha, Handloom, Jacquard, Jute, Katan Silk, Kora Silk, Kota, Net, Organza, Pure Silk, Satin Silk, Sico, Silk Blend, Supernet, Tusser Silk, Chanderi, Patola, Kerala, Mysore silk etc. are just some of the different fabrics and varieties that Unnati Silks has to offer.
  • Soft feel, rich thread work, attractive motifs and patterns, contrast borders in a wide range of vibrant colors, designs, conventional and trendy, prints symmetrical and abstract, and many other options are exercised to evolve fresh-feel novel lines of fine handloom weaves that are unique and inspirational.
  • Old or no longer used saris can be re-fashioned to make good clothes and clothing. Some of the best curtains, skirts, are made from used or second hand saris. I like the idea of decorating a portion of the walls with mum's designer saris that she no longer uses. There are certain websites that offer saris for sale gallery online with images of saris and customer service for correct fit to re-style them to salwar suits. You could try to re-fashion a simple design saree to make a stylish lehenga or a churidar from the saree.
    भारत में कई तरह की साड़ियां पहनी जाती हैं। सादे, सरल रंग और हल्के से सजी कॉटन और सिल्क के मिश्रणों को कई महिलाओं ने अपनी दिनचर्या में पहना, जज़ीज़ स्टाइलिश भारी रूप से सजाए गए सभी प्रकार के महीन और योगात्मक विशेषताओं के साथ, जिन्हें फैशन और विशेष पहनने या साड़ी पहनने के लिए तैयार किया जाता है, का मतलब है शादियों, भव्य पार्टियों या सामाजिक निमंत्रण जैसे विशेष अवसरों के लिए भारत से ऑनलाइन ऑर्डर किया जा सकता है।
  • साड़ी कपड़े सामग्री कपास, रेशम, जूट, नायलॉन, रेयान, जॉर्जेट, शिफॉन, साटन आदि या मिश्रण हो सकती है। पारंपरिक हथकरघा किस्मों और आधुनिक कला सिल्क्स की कोई कमी नहीं है और वर्तमान स्वाद ने दोनों के शानदार संलयन प्रयोगों को प्रोत्साहित किया है ताकि पारंपरिक हस्तनिर्मित बुनाई में शामिल किए गए ट्रेंडिंग डिजाइन और पैटर्न वाले शानदार कपड़े पहले कभी नहीं देखे जा सकें। 
  •  
  • अन्य कपड़ों की तुलना में अमीर दिखने, हवादार आराम और कीमत में विशिष्टता के कारण सिल्क्स हमेशा महिलाओं के साथ पसंदीदा रहे हैं। विशेष रूप से महँगी सिल्क की साड़ियाँ, जिनकी कीमत 15000 रुपये से लेकर एक लाख और उससे अधिक तक होती है, को बहुत सावधानी से पहना जाता है, हर कदम पर सावधानी और सावधानी के साथ पहना जाता है, केवल भव्य विशेष अवसरों के लिए पहना जाता है। 
  • गर्मियों या गर्म मौसम की स्थिति के लिए और लंबे समय तक पहनने के मंत्र के लिए कॉटन पसंद किए जाते हैं। वजन में हल्की, बहुत हवादार, आरामदायक, कुटिया हल्के रंगों और मध्यम रंग के रंगों में आती है और कैजुअल आउटिंग, ऑफिस, दैनिक पहनने के लिए बहुत पसंद की जाती है क्योंकि ये उतने महंगे नहीं होते जितने कि सिल्क्स।
  • आपके पास भारत के दक्षिणी भाग में मैसूर, धर्मवारम, कांजीवरम के साथ-साथ अन्य उल्लेखनीय स्थानों जैसे नारायणपेट, पोचमपल्ली, उप्पाडा, वेंकटगिरी, रासीपुरम, अरानी, ​​कोयम्बटूर और कुछ अन्य रेशम केंद्रों के अपने-अपने रेशम केंद्र हैं। उत्तरी भाग में बनारस, चंदेरी, कोटा, छत्तीसगढ़, भागलपुर और अन्य हैं। पूर्वी उड़ीसा, पश्चिम बंगाल और उत्तर पूर्वी बेल्ट के साथ पश्चिम में राजस्थान और गुजरात। इन सभी ने परंपरागत रूप से अपनी व्यक्तिगत शैलियों को विकसित किया है और लंबे समय तक सामंजस्यपूर्ण रूप से अस्तित्व में है।
  • अच्छी बनावट के प्रेरक सांस लेने वाले कपड़े, महीन धागे की गिनती, सुंदर पैटर्न और रंगों के असंख्य नमूने प्रदर्शित किए गए हैं, जिसमें आधुनिक साड़ी पहनने वाले की पसंद और नए रंग के रंगों में प्राथमिकताएं शामिल हैं, साड़ी, अमूर्त और फैंसी प्रिंट पर अलंकरण, बिना जातीय गुणवत्ता का सार त्याग।
  • विभिन्न क्षेत्रों में भी एक स्वस्थ मिश्रण है, जिसमें साड़ी विभिन्न पारंपरिक शैलियों की आकर्षक और आकर्षक विशेषताएं हो सकती है। जैसे कि आधुनिक डिज़ाइनर प्रिंट्स को शरीर पर प्रिंट किया जा रहा है, अति सुंदर कढ़ाई वाली बॉर्डर अटैच है और आदिवासी कला में रंगे हुए इको-कलर्स में प्रकृति से पल्लू का चित्रण है।
  • भारत में देश के चारों कोनों में जातीय उत्कृष्टता के कई हथकरघा बुनाई, रंगाई और छपाई के स्थान हैं। अगल-बगल और यह भी भारी है यह आधुनिक बड़े पैमाने पर उत्पादन उपकरण है जिसे पावर लूम कहा जाता है, हालांकि त्वरित सेवा और समय की बचत के लिए पारंपरिक हथकरघा की शिल्प कौशल और परिष्करण नहीं हो सकता है।
  • आईटी ने असाधारण पैटर्न सनसनीखेज रंग संयोजन के डिजाइन में भी मदद की है। कपड़े पर प्रिंटर से सीधे प्रिंट का स्थानांतरण भी एक या दो कपड़े प्रकार के लिए एक वास्तविकता बन गया है।
  • बुनाई में विविधता में समृद्ध, एपी हैंडलूम में हथकरघा क्षेत्र में एक आला मौजूदगी है। उप्पाडा हैंडलूम कॉटन्स, उनके जामदानी पैटर्न के साथ, उप्पड़ा शुद्ध जरी की गद्दियों में ढंका हुआ, गडवाल साड़ी के साथ समृद्ध बॉर्डर, अलग पल्लू और सोने या चांदी के जरी ब्रोकेड के साथ। मंगलगिरी हैंडलूम, निज़ाम बॉर्डर और रिच ज़री वर्क के साथ प्योर ड्यूरेबल कॉटन यार्न हैं। वेंकटगिरि कपास में जमदानी बुनाई और सोने या चांदी के जरी के धागों से बुने हुए शुद्ध रेशमी ब्रोकेड के साथ बुनती है, नारायणपेट ब्लॉक प्रिंटेड सूती साड़ियों को उनकी विपरीत सीमाओं, झिलमिलाता प्रभाव और पल्लू के काम के लिए जाना जाता है, धर्मवरम सिल्क की साड़ी सबसे दक्षिण में अपनी अपरिहार्य उपस्थिति के लिए प्रसिद्ध है। भारतीय विवाह दो रंगों में सरल पैटर्न के विशिष्ट रेशम बुनाई हैं, नियमित उपयोग के लिए सुरुचिपूर्ण हैं। पोचमपल्ली हैंडलूम क्लस्टर अपनी अनूठी टाई और डाई इकत बुनाई के लिए जाना जाता है।
  • असम साड़ियों, कपास और रेशम में, शरीर पर प्रकाश, बनाए रखने के लिए बहुत कम, सुंदर पैटर्न, सुरुचिपूर्ण सीमाओं और बहुरंगी रंग की जरूरत होती है, उन्हें आंखों के लिए एक दावत बनाते हैं। पुष्प डिजाइन, जरी बॉर्डर और कशीदाकारी पैच के साथ असम मुगा सिल्क किस्म एक पारखी की खुशी है। झारखंड के जंगलों से उपलब्ध रेशम के साथ भागलपुर के नरम टसर सिल्ट, छत्तीसगढ़ साड़ी, ब्लॉक बैटिक और दब्बू की पेंटिंग तकनीकों के विशेष उपयोग के लिए प्रसिद्ध है, जहां आदिवासी चित्रकला कलाकृति के साथ कार्बनिक रंगों का उपयोग किया जाता है, जिसमें एरी कढ़ाई, जौली या प्रचलित विशेषता के रूप में ज्यामितीय या पुष्प डिजाइन में शुद्ध कढ़ाई। आपके पास पारंपरिक पाटन पटोला और सरल एकल ikat पटोला बुनाई के राजकोट और कपास में करामाती ब्लॉक प्रिंट और उत्तम कच्छ या कच्छी कढ़ाई है। आपके पास गुजरात राज्य से घरोला पनेटर टाई और डाई साड़ियाँ भी हैं।
  • कर्नाटक विश्व स्तर के मैसूर सिल्क्स, अद्वितीय बैंगलोर सिल्क्स, धारवाड़ कॉटन और उत्तम कासुती कढ़ाई प्रदान करता है। जम्मू और कश्मीर काश्मिदा कढ़ाई के साथ नरम पश्मीना रेशम और सूती साड़ियों का योगदान देता है, केरल इसकी खूबसूरत कासावु सुनहरे बालों वाली सीमाओं के साथ चमकदार या क्रीम में है, आपको चंदेरी और माहेश्वरी से मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में अपनी चकाचौंध पैठानियों के साथ रेशम और कपास की संवेदनाएं हैं। विदेशी वारली पेंटेड साड़ी और रंगीन गंगा जमुना साड़ी और मणिपुर अपने रंगीन और डिजाइनर हथकरघे के साथ।
  • तब आपके पास मेघालय की बारीक बुनावट वाली डिज़ाइनर साड़ियाँ हैं, जिनमें रेशम और ऑर्गेज़ा में आकर्षक डिज़ाइन और रूपांकन हैं, आकर्षक पैटर्न के साथ नागालैंड के सरल लेकिन सुस्वादु तरीके से बुना हुआ आकर्षक कॉटन, विशेष संबलपुरी इकाट्स, चमकदार बोम्काई सिल्क्स, और ओडिशा के नरम हैंडलूम। पंजाब अपने गुणवत्ता वाले सूती हथकरघे और फुलकारी बुनाई, राजस्थान अपने बगरू और डब्बू ब्लॉक प्रिंट, नरम और चिकनी कोटा डोरियास और चंचल बंधनी पैटर्न देता है।
  • तमिलनाडु हथकरघा का एक प्रमुख केंद्र है और जहाँ आपको कोयम्बटूर, मदुरै, चेट्टीनाड के नरम और चिकने महीन कॉटन मिलते हैं, जिनमें असाधारण रूप से कांचीपुरम, अरनी, समुद्रिका, रासीपुरम, उत्तर प्रदेश में बनारस के डिज़ाइनर सुपरनेट्स बनारस के शुद्ध सिल्क्स हैं। , बनारस की हथकरघा झोपड़ी और निश्चित रूप से लखनऊ की साड़ियों की उत्तम कढ़ाई। पश्चिम बंगाल में अपने बालूचरी सिल्क्स, उत्तम जामदानी बुनाई तकनीक, कांथा के अद्भुत धागे का काम, ढाका कपास के बारीक मसलिन और असाधारण तांत हथकरघा प्रदर्शित करते हैं।
  • आप साड़ी की विभिन्न किस्मों जैसे सादी सूती रेशम की आधी साड़ी, मुलायम रेशम और साड़ी के लिनन की साड़ी संग्रह, पार्टी पहनने lehenga सूती साड़ी का एक संयोजन भर में आ सकता है
  • चाहे साड़ी का एक अर्थ होता है या नहीं हमें ज्ञात नहीं है लेकिन टी।वह की साड़ी की तरह चिलमन सिंधु घाटी सभ्यता है, जो भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर पश्चिमी भाग के चारों ओर 2800-1800 ईसा पूर्व के दौरान विकसित हुई करने के लिए वापस पता लगाया है इतिहास  इस प्रारंभिक आवरण से, समय के साथ परिवर्तन और अधिक परिवर्तन के साथ यह वर्तमान स्वरूप में आ गया है, जो लंबे समय से प्रचलित है। केवल साड़ी पहनने वाले को पता है कि आंदोलन की स्वतंत्रता क्या है कि मैं किस बारे में बात कर रहा हूं।
    स्वाभाविक रूप से पारंपरिक शुद्ध रेशम पटु साड़ी शाही लुक, चमक और झिलमिलाहट, डिजाइन, कढ़ाई, ब्रोकेड अटैचमेंट, नवीनतम रेशम साड़ी ब्लाउज डिजाइन और अन्य बारीकियों के कारण सबसे अच्छी होती है जो दुल्हन के साथ दिखती हैं। राजकुमारी, शाही उपस्थिति के चारों ओर देवियाँ। दुल्हन के लिए दक्षिण भारतीय दुल्हन साड़ी के लिए, रेशम की साड़ी के लिए ब्लाउज डिजाइन वाली लाल कांचीपुरम रेशम शादी की पट्टू साड़ी एक मुंहतोड़ हिट होगी। प्योर सिल्क येलो साड़ी ड्रैपर के साथ प्यारे साड़ी ब्लाउज़ डिज़ाइन जो लड़कियों के लिए शादी की सिल्क साड़ियों से मेल खाते हैं, एक और प्यारा विकल्प हो सकता है।
    साड़ी के लिए ब्लाउज आम तौर पर कपड़े के एक आयताकार टुकड़े से 80 सेमी बाहर काटा जाता है। x 1 मीटर औसतन। सीमातक भिन्न होती है 0.6 मीटर से 1 मीटर, जो शरीर के आकार, आस्तीन के आकार, वांछित ब्लाउज की लंबाई आदि पर निर्भर करती है।
    साड़ियों को सादा अनजाने लोगों के लिए कुछ सौ रुपये से कहीं भी खर्च किया जा सकता है, जो परंपरागत रूप से उनके बुनाई चालाकी, अति सुंदर श्रंगार, महंगे परिवर्धन, जातीय डिजाइन और पसंद के लिए एक लाख रुपये से परे हैं।
    जबकि भारतीय साड़ी महिलाओं के उदाहरण हैं जैसे कि शाइना एनसी 70 से अधिक शैलियों को जानने के साथ साड़ी को लपेटने का एक रिकॉर्ड बना रही है, हर व्यक्ति में अब और अधिक विचार जोड़े जा रहे हैं और विभिन्न व्यक्तियों द्वारा शैलियों की संख्या में वृद्धि जारी है एक साड़ी पहनने के लिए इस्तेमाल किया।
    साड़ी के गिरने के कई कारण हैं।
  • कई कपड़े अगर खुद से रह जाते हैं, तो उन्हें बनाए रखने के लिए तन्यता की कमी होती है और खिंचाव और फटने का खतरा होता है।
  • साड़ी हेम यदि ढीले धागे के साथ छोड़ दी जाती है तो वह फुटवियर के साथ उलझ जाएगी या पैरों के नीचे आ जाएगी, इसके अलावा जमीन या कठोर सतहों के साथ खुरचना और खंडहर में आना।
  • प्रवाह में, तरल पदार्थ और हल्के वजन वाले कपड़े, जब बंधे होते हैं तो फैलते या उड़ते हैं जो एक आम समस्या थी। विशेष रूप से उन्हें लंबे समय तक रखने के लिए, प्लटिंग करना भी मुश्किल था।
  • अतिरिक्त कपड़े कठोरता और वजन देता है जो उपरोक्त सभी कमियों को रोकता है जो अन्यथा प्रबल होता।
  • प्लेन साड़ी के लिए अट्रैक्टिव ब्लाउज़ डिज़ाइन, नए डिज़ाइन के श्रंगार के साथ प्लेन साड़ी या हॉट डिज़ाइनर साड़ी ब्लाउज़ के साथ हल्के से सजी साड़ी, साड़ी लुक को बढ़ाने के लिए सभी एक योजना का हिस्सा हैं। रंग, डिजाइन, पैटर्न, रूपांकनों बुनाई डिजाइन का हिस्सा हैं जो उत्पाद और उत्पाद के बीच अंतर पैदा करते हैं।
  • वे मूल आकर्षण प्रदान करते हैं जो उत्पाद में रुचि सुनिश्चित करता है। लेकिन रंग की साड़ियों की एक पूरी श्रृंखला और बहुत सारे पैटर्न और डिजाइनों से चुनने के लिए, एक समय के बाद अपेक्षितता और प्रत्याशा की हवा में क्रेप। कुछ अलग जो यह सुनिश्चित कर सकता है कि प्रत्येक उत्पाद अज्ञात कारक द्वारा अभी तक समान प्रदर्शन कर सकता है।
  • यह तब था जब श्रंगार या परिवर्धन, बाजार में पारंपरिक अभी तक उपन्यास को शानदार परिणामों से विकसित करने के लिए पेश किया गया था, जो सुखद आश्चर्य से लेकर आश्चर्य और विस्मय के प्रभाव तक थे, जो कि एक हथकरघा साड़ी में महिलाओं के लिए थे।
  •  नई डिजाइनर साड़ियों में मॉडल की साड़ी पहने हुए चित्र, ऑनलाइन देखने के लिए उपलब्ध हैं। वेबसाइट पर अलग-अलग खंड हैं जो कपड़े के हिसाब से साड़ियों के साथ काम करते हैं, विभिन्न प्रकार के हिसाब से साड़ी, लागत के अनुसार साड़ी, रंग और आगे के महीन भेदों के कारण हो सकते हैं। उदा। वेबसाइटों पर ऑनलाइन साड़ी खरीदारी करते समय कोई भी चित्र से डिजाइनर पार्टी वियर लहंगा चुन सकता है। मान लीजिए आप डिजाइनर बनारसी सिल्क साड़ियों की ऑनलाइन खरीदारी कर रहे थे। आप नवीनतम बनारसी नेट सिल्क डिजाइनर साड़ियों, भारत में शादी की साड़ियों के लिए तैयार साड़ी डिजाइन, डिजाइनर ब्लाउज और शादी के लिए नए डिजाइनर ब्लाउज डिजाइन साड़ी आदि की जांच कर सकेंगे, और अन्य विशेषताओं और बनारसी रेंज के बारे में जानकारी की मेजबानी करेंगे। साड़ियों का।
    पारंपरिक कला और शिल्प कौशल सुंदरता और वृद्धि के बारे में है जहां औसत को असाधारण रूप से बढ़ाया जाता है।
  • आपके पास Appliqué का काम है जो उस तकनीक को संदर्भित करता है जिसके द्वारा बड़े बेस फैब्रिक पर छोटे रंग के पैच को जोड़कर पैटर्न बनाया जाता है, जिसमें ज्यादातर विपरीत रंग या बनावट होती है। अटैचमेंट सिलाई द्वारा हो सकता है, या बड़े कपड़े पर पैच को gluing कर सकता है।
  • बूटिस या बटिस हैं, जो बार-बार मोटिफ या पैटर्न हाथ से बुने जाते हैं, हथकरघा साड़ियों पर कढ़ाई या मुद्रित होते हैं। वे किसी भी कपड़े की सुंदरता को बढ़ाते हैं जिस पर उन्हें जोड़ा जाता है। हाथ से बुने बूटिस पहले बुने जाने वाले बूटियों के आकार और संख्या के आधार पर विभिन्न आकारों की सुइयों द्वारा बुने जाते थे। चंदेरी साड़ी विशेष रूप से बूटियों के उपयोग को अनिवार्य सहायक सुविधा के रूप में बनाती है।
  • आपके पास टाई एंड डाई प्रक्रिया है जिसमें चयनित बिंदुओं पर कसकर धागे बांधने से रेसिस्ट तैयार करना शामिल है जो कि कपड़े को रंगने से पहले, इच्छित डिजाइन की जटिलता के आधार पर कुछ से लेकर कई सैकड़ों या हजारों तक हो सकता है। बंधा हुआ हिस्सा रंगे नहीं जाता है और जब थ्रेड्स हटा दिए जाते हैं और कपड़े बाहर फैल जाते हैं तो डिजाइन गहरे रंग की पृष्ठभूमि पर हल्के रंग के डिजाइन से स्पष्ट हो जाता है।
  • कपड़े पर डिजाइन बनाने के लिए 'रेसिस्ट' का उपयोग करते हुए, पारंपरिक बाटिक प्रक्रिया में किसी न किसी रूप में एक प्रतिरोध या एक भौतिक अवरोध होता है, जो कपड़े पर वांछित क्षेत्रों को प्रारंभिक डाई द्वारा घुसने से रोकने के लिए होता है। आम तौर पर मोम का इस्तेमाल बाटिक में एक प्रतिरोध के रूप में किया जाता है। बाटिक का दुर्लभ प्रकार पेन बाटिक है। Ant तंजंटिंग ’टूल्स के उपयोग से कपड़े पर बारीक डिजाइन बनाए जाते हैं। पेन बाटिक थोड़ा और ठीक ब्यौरा के कारण अपेक्षाकृत श्रमसाध्य हाथ से किया ले जाया जा रहा है
  • डब्बू प्रिंटिंग एक अनूठी कला है जिसमें कीचड़-प्रतिरोध वाले हाथ-ब्लॉक प्रिंटिंग होती है जिसने फैशन पंडितों को भी चकित कर दिया है।
  • चिकनकारी साड़ियों और सलवार कमीज पर जटिल कढ़ाई है। एक कला रूप जहाँ, डिज़ाइन या पैटर्न प्रिंट को कपड़े में स्थानांतरित किया जाता है, चिकनकारी का अभ्यास कपड़े जैसे मलमल, रेशम आदि पर शुरू में केवल सफेद धागे से किया जाता था। आज भी रंगीन धागे का उपयोग किया जाता है।
  • जरदोजी धातु की कढ़ाई है जिसे विभिन्न कपड़ों पर किया जाता है जैसे कि रेशमी धागे के साथ सोने या चांदी के रंग के लेपित तांबे के तार का उपयोग किया जाता है।
  • कांथा वर्क, साड़ियों पर की जाने वाली कढ़ाई का काम है, जो मोटिफ्स के रूप में उन पर चलती है।
  • कसुती कर्नाटक, भारत में कढ़ाई का एक पारंपरिक रूप है। कसौटी का काम बहुत जटिल है और इसमें पारंपरिक कपास और रेशम की साड़ियों पर बड़ी संख्या में टाँके लगाना शामिल है।
  • काशिदा कश्मीर घाटी में की जाने वाली कढ़ाई है और प्रकृति से इसके विषयों को आकर्षित करती है और पत्ते, पुष्प व्यवस्था, फल, मेवे आदि को प्रसाद के रूप में प्रदर्शित किया जाता है।
  • कच्छ कढ़ाई और पारसी गारा कढ़ाई जो कासुती के समान है लेकिन गुजरात में प्रचलित है। थ्रेड वर्क में लघु डिजाइनों का निष्पादन, वास्तव में चकरा देने वाला है, जबकि रंगीन पैटर्न की जीवंतता बेहद आंख को पकड़ने वाली है।
  • राजस्थान का बगरू हैंड ब्लॉक मुद्रण अपनी सादगी और निष्पादन में आसानी के कारण बहुत लोकप्रिय है, लेकिन इसके परिणामस्वरूप सरियों पर प्रिंट तेज, सटीक और बारीक विस्तृत हैं।
  • ऐसे और भी कई अजूबे हैं जो पारंपरिक चिकित्सकों ने आधुनिक भारत को दिए हैं। वे देश भर में फैले हुए हैं, कभी-कभी बहुत दूरदराज के कोनों में भी। यह उनका नवीन कौशल और कला के प्रति समर्पण है जिसने भारत को गर्व के साथ गर्व करने के लिए कुछ दिया है।

    वैरायटी और लुक आने पर हैंडलूम साड़ी जैसा कुछ नहीं है। बारीक बुने हुए कपड़े, डिजाइन और पैटर्न, आकृति और सीमा, कढ़ाई और पेंटिंग या अन्य विनिमेय क्रमपरिवर्तन और संयोजन का परस्पर संयोजन है, कि प्रत्येक उत्पाद अद्वितीय है, प्रत्येक आइटम अगले के रूप में विशिष्ट है। 

    लोग मौकों के लिए कपड़े पहनते हैं और भारतीय महिला के लिए साड़ी उसे चुनने के लिए एक मनमौजी रेंज प्रदान करती है।

    >शादी का जोड़ा - भारत में शादी एक जीवन शैली है। वेडिंग वियर साड़ियां महीन और ट्रेपिंग के फैब्रिक हैं जिनमें पारंपरिक ब्राइडल वियर साड़ियां शामिल हैं। दुल्हन की साड़ी, दुल्हन की साड़ी, परिवार की महिलाओं द्वारा पहनी जाने वाली साड़ियाँ, रिश्तेदारों और समारोहों में शामिल होने वाले मेहमान सभी विभिन्न किस्मों और शैलियों की रेशम की शादी की साड़ी हैं। भारत भर में रिवाज अलग-अलग हैं; शादी की साड़ी एक सामान्य विशेषता बनी हुई है। आप दक्षिण भारत की रेशम पेटू साड़ियों जैसे डिजाइनर ब्लाउज के साथ एक फैंसी डिजाइनर साड़ी खरीद सकते हैं और शादी के लिए शुद्ध सोने और चांदी में पारंपरिक सजावटी बारीकियों और सजावटी जरी के काम के साथ शुद्ध रेशम, ऑनलाइन। हाथ से बुने हुए सिल्क साड़ियों, आकर्षक, ट्रेंडिंग डिजाइनर साड़ियों को शादी की खरीदारी में शामिल किया जाता है जब लोग ऑनलाइन साड़ियों की दुकान करते हैं।

    पार्टी वियर -पार्टी भारत मेंमौज-मस्ती, आनंद और सामाजिक आदान-प्रदान के अवसर हैं। महिलाएं इसे भारतीय साड़ियों में अपनी नवीनतम खरीद प्रदर्शित करने के अवसर के रूप में भी लेती हैं। ग्रैंड पार्टियां लंबे समय से उपस्थिति, आसान आंदोलन, लुक के रखरखाव, हर समय मांग करती हैं। जब उपस्थिति के साथ आराम मुख्य, पेटीस या शुद्ध रेशम साड़ियों, प्रकाश, हवादार और बहुत सारे जरी के काम के साथ एक अच्छा विकल्प होगा। अनौपचारिक पार्टियों के लिए, डिजाइनर आर्ट सिल्क्स और अतिरिक्त श्रंगार के साथ आकर्षक ब्लॉक प्रिंटेड कॉटन सूट करेंगे। भीड़ भरे वातावरण में, फैंसी सूती साड़ी अवतार हमेशा अपने शानदार पुष्प डिजाइन या बैटिक प्रिंट के साथ एक अच्छा विकल्प होगा।

    ऑफिस वियर - भारतीय कार्यालय की साड़ी पहनने से आराम मिलता है, पूरे दिन आकृति और उपस्थिति बनी रहती है। नवीनतम डिजाइनर पैटर्न के साथ फैंसी, अनन्य कपड़े और अति सुंदर एम्बेलिशमेंट्स के साथ अमूर्त आधुनिक प्रिंट्स, कार्यालय की साड़ियों का चलन है। स्कूल, कॉलेजों, छोटे कार्यालयों और बड़े कॉरपोरेट कार्यालयों में भी दैनिक उपयोग के लिए कार्यालय की साड़ियाँ उपलब्ध हैं।

    कैजुअल वियरकैजुअल वियर -की अवधारणा दैनिक और नियमित उपयोग के लिए है, जैसा कि आउटिंग, अनौपचारिक सोशल कॉल्स आदि के लिए पहनें। कैज़ुअल साड़ी अब सादी नहीं रह गई है और चाहे वह कितनी भी सरल क्यों न हो। साड़ियों के शरीर में मुद्रित डिजाइन, बुने हुए पैटर्न या सिर्फ एक सादे सेटिंग हो सकती है।

    विभिन्न प्रकार की साड़ियों पर केशविन्यास के बदलाव के साथ, ऊपर और ऊपर, साड़ी के साथ केश विन्यास के रंग के साथ प्रयोग करना, बेल्ट जैसे सामान जोड़ना (ऑनलाइन बेल्ट के साथ एक डिजाइनर साड़ी पहनने के लिए जांच), क्लच, झुमके, हार और क्या नहीं, भारतीय महिला बस हर किसी को सीमा के भीतर चकाचौंध कर देगी।

  • ऐसे सभी प्रश्नों के लिए, उत्तर सरल है। Unnati Silks 'की एक गाथा है HANDLOOMS FOR WOMEN'शुरू हुई जो 1980 मेंथी। चार दशकों से यह एक एकल दुकान इकाई से बदलकर विस्तारित हथियारों और वैश्विक अभियानों के साथ एक पारिवारिक उद्यम बन गया है।
  • होने के नाते ग्राहक- Centric, Unnati Silks प्रत्याशित, नवाचार करता है और एक मजबूत विश्वास प्रदान करता है कि प्रत्येक और प्रत्येक ग्राहक विशेष है।अनुभव चार दशकों के रेशम और सूती वस्त्र उद्योग मेंने उन्नाव मेंकेहोने में खुद के लिए एक आला उपस्थिति की नक्काशी की है निर्माता, थोक व्यापारी, खुदरा विक्रेता और निर्यातक असली रेशम सूती हैंडल जैसे साड़ी, सलवार सूट, कुर्ते, कुर्तियां और अन्य भारतीय जातीय वस्त्रों। इसने इसके लिए देश भर और विदेशों से एक बड़ा घरेलू बाजार बनाया है। 
  • एक उत्पाद रेंज कि अलग है और विशाल,करने के बाद हाथ से बुने और दस्तकारी,भक्ति और प्रतिभाशालीके समर्पण जातीय कारीगरों में से भारत के 21 राज्यों प्रदर्शन पर उत्पादों में के माध्यम से आता है।
  • कला रेशम, शिफॉन, कपास, कपास रेशम, क्रेप, डुपियन, जॉर्जेट, गिचा, हथकरघा, जैक्वार्ड, जूट, कटान सिल्क, कोरा सिल्क, कोटा, नेट, ऑर्गन्ज़ा, शुद्ध रेशम, साटन सिल्क, सीको, रेशम मिश्रण, सुपरनैट, टसर सिल्क, चंदेरी, पटोला, केरल, मैसूर सिल्क आदि कुछ अलग-अलग फैब्रिक और किस्में हैं, जिन्हें उन्नाती सिल्क्स को पेश करना है।
  • नरम लग रहा है, अमीर धागा काम, आकर्षक रूपांकनों और पैटर्न, जीवंत रंगों की एक विस्तृत श्रृंखला में कंट्रास्ट बॉर्डर, डिजाइन, पारंपरिक और फैशनेबल, प्रिंट सममित और अमूर्त, और कई अन्य विकल्पों का उपयोग ठीक हथकरघा बुनाई की ताजा महसूस उपन्यास लाइनों को विकसित करने के लिए किया जाता है। यह अद्वितीय और प्रेरणादायक हैं।
  • पुराने या अब इस्तेमाल नहीं की जाने वाली साड़ियों को अच्छे कपड़े और कपड़े बनाने के लिए फिर से तैयार किया जा सकता है। कुछ बेहतरीन पर्दे, स्कर्ट, इस्तेमाल या दूसरे हाथ की साड़ियों से बनाए जाते हैं। मुझे मम की डिजाइनर साड़ियों के साथ दीवारों के एक हिस्से को सजाने का विचार पसंद है जिसका वह अब उपयोग नहीं करती है। कुछ वेबसाइटें हैं जो सलवार सूट को फिर से स्टाइल करने के लिए साड़ी और ग्राहक सेवा की छवियों के साथ ऑनलाइन बिक्री गैलरी के लिए साड़ी प्रदान करती हैं। आप साड़ी से स्टाइलिश लहंगा या चूड़ीदार बनाने के लिए एक साधारण डिजाइन की साड़ी को फिर से फैशन करने की कोशिश कर सकती हैं।