Express Free Shipping In India | Worldwide above Rs.20000

Cotton Printed

67 Items

Set Descending Direction
  1. Orange Pure Krisha Summer Cotton Saree
  2. Blue Pure Krisha Summer Cotton Saree
  3. Brown Pure Krisha Summer Cotton Saree
  4. Blue Pure Krisha Summer Cotton Saree
  5. Red Pure Krisha Summer Cotton Saree
  6. Blue Pure Krisha Summer Cotton Saree
  7. Black Pure Krisha Summer Cotton Saree
  8. Ivory Pure Krisha Summer Cotton Saree
  9. Ivory Pure Krisha Summer Cotton Saree
  10. Brown Pure Krisha Summer Cotton Saree
  11. Ivory Pure Krisha Summer Cotton Saree
  12. Ivory Pure Krisha Summer Cotton Saree
  13. Orange Pure Krisha Summer Cotton Saree
  14. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  15. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  16. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  17. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  18. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  19. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  20. Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  21. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  22. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  23. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  24. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  25. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  26. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  27. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  28. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  29. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  30. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  31. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  32. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  33. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  34. Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  35. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  36. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  37. Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  38. Blue Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Blue Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  39. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  40. Violet Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Violet Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  41. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  42. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  43. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  44. Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  45. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  46. Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  47. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  48. Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Ivory Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  49. Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  50. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  51. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  52. Violet Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Violet Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  53. Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  54. Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  55. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  56. Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  57. Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Pink Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  58. Grey Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Grey Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  59. Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Green Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  60. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  61. Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Red Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  62. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  63. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  64. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  65. Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Cream Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  66. Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Brown Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00
  67. Blue Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Blue Pure Krisha Cotton Saree with Block Prints
    Special Price ₹1,099.00 Regular Price ₹1,299.00

67 Items

Set Descending Direction

Cotton printed sarees – keeping cool while looking wonderful

Cotton, a soft breathable natural fibre fabric, absorbs body perspiration quickly, is good to print on, has good color retention, and is moderately strong and durable. Designer prints are the order of the day and lapped up by an eager market. There are floral, geometric, scenery, scenes from epics, wildlife and other themes that are popular and cotton fabrics offer beautiful canvas for innovative experiments in trending design, colour, patterns and motifs with traditional styles.
  • Pure handloom cotton sarees of Gadwal, Uppada, Mangalagiri, Venkatagiri, Kota, Gicha, Narayanpet, Rasipuram, Chanderi, Assam, Bengal, Odisha, Kerala, Chettinad, Coimbatore are known for their traditional weaving patterns, motifs and beautiful colors.
  • Rajasthani or Jaipuri prints, hand block prints, batik prints are stylish and have been tried out successfully on the south cotton saree. Bagru, Dabu, Bagh block printing are traditional yet brought out extraordinary results in a wide range of colours on cotton fabrics.
Block printing is a printing process that has traditionally evolved from the rural areas of Gujarat and Rajasthan, and reached new levels of fine printing on large canvas fabrics like the saree, thanks to the conventional blocks that take up large areas of the continuous cloth in one go, and the marvellous wonder, the hand-block.
No longer is this art restricted to the areas of origin, but spread wide and far across different parts of India. No wonder you get the taste of something new every now and then from the marvelous craft.
While block printing is an art of immense possibilities, its brilliance is showcased in fabrics that provide a suitable canvas to experiment. Cotton has been the most popular so far, but there are others like silk, georgette etc. that have responded well too.

Block Printing once upon a time was practiced in rural hamlets on cloth like turbans, sarees, have now come to see better days when the world has sat up to take notice. Tracings were made of designs, transferred by conventional means onto the block and then using them onto make good impressions on the fabric laid out in long lengths on flat surfaces. The flat printing surface being quite large, the impressions laid side by side and correctly would result in a continuous design such as a floral landscape or a continuous geometrical pattern, the length of the saree.

The limitation of Block printing lay in a small variety of designs and patterns that the block contained that could be impressed on the fabric. Though quickly done and simple in method of doing, sufficient weight has to be applied uniformly on the block to get an even impression of the design to be transferred. Being large the dipping in colour had to be carefully done to avoid dripping and spoiling the fabric to be printed.

Hand block printing is a revolution of sorts which offers the advantages of little effort, maneuverability, lack of wastage of colour, uniform application, multi-variant designs on the same fabric and the greatest advantage of all - miniature designs replicated sharp and distinct on the fabric
Hand block printing is practised in India mainly for Sarees and dress materials. Hand block printing is popular on account of its simplicity and ease of execution since the prints on the Sarees are sharp, accurate and provide finely detailed results. It is still a popular way of printing in Gujarat and Rajasthan on account of the fine and intricate designs in use in those regions. It has subsequently spread to other parts of Rajasthan, Andhra Pradesh, Gujarat and Madhya Pradesh.

Have you ever wondered how those beautiful floral sketches or the finely detailed abstract prints in characteristic colours could be so sharp and distinctly produced on the traditional sarees? Not the slightest hint of colour spreading onto adjoining areas and the dot distinctively reproduced as a dot and not turning into a large bindi.

The practitioners of block printing are simple folk, the outcomes of their efforts, extremely outstanding abstract patterns. In fact the ease of hand block printing allows multiple variations of design and pattern on the same saree. There are instances of 50 plus different patterns printed at varied angles in different positions and varying block sizes on the same saree.

The blocks used for the printing are made of wood, well planed and smoothly flat. Made of Pear wood, plane wood or sycamore they are two to three inches thick, of different sizes and reinforced by two or more wood pieces of deal or pine. The different pieces or blocks are pieced together in grooves to fit snugly in each other and glued together. The fabric for the prints is laid out on flat tables and the hand block printing done. Earlier dyes used were natural and vegetable colours. But today with synthetic dyes easily available, much cheaper comparatively and easy in usage, they are widely preferred.

The construction of the hand block is filled with metal pieces to allow for very small detailing to be etched in the block. So small stars and very minute designs otherwise not possible, are available for beautification of the fabric. Detailed yet distinctive, colourful but sharply made out, free hand lines that are finely sketched; block printing has revoutionized the concept of fine prints. An art that has made miniature depictions a reality!

Block prints are made on fabrics through printing by hand using wooden blocks with handles or grips. It is also loosely termed as hand printing or painting.This is the only method by which extremely fine detailed designs are transferred to the fabric. Motifs that are generally popular are that of flowers, fruits, trees, birds, Buta, Kalga, Bel and floral designs and geometrical shapes.

Since block prints require prints to be made in varied colours there are several blocks of different designs kept in readiness. Blocks are dipped in finely mixed colour dye baths and pressed upon the fabric and a slight tap is made before removing it so that the print is uniform.

The Saree is covered with intricate Butta and other motifs. Flowers, fruits, trees, birds, geometrical designs and figurative pattern are some of the popular motifs in block printed sarees. Block prints on various fabrics like pure cotton, pure silk, crepe, georgette, chiffon and super net make them look elegant.

Hand Blocks are made commonly from wood like sycamore, plane or pear wood, though wood of other varieties also could be used. The thickness is expected to be at least two or three inches to guard against warping. Additional precaution is also taken by backing it with deal or pine strips. The block is made by creating tongues and grooves to fit in each other snugly and gluing under pressure to make it seem like a homogeneous block.

The block is smooth planed and the printing surface is smooth and flat. The design to be incorporated is etched out after applying lamp black and oil on the design and transferring it to the block surface. To achieve fine clear edges of the design the outline of the design on the block is coloured and then the etching is done.

Metal copper pieces are wedged into the hollowed out design on the block to prevent caving in of pieces or edges becoming blunt due to the block used continuously with reasonably applied pressure over the laid out fabric. Sometimes coppering is done by heating the block with the copper strips inside and then removed when the block gets cold. The resulting block would have extremely fine edges and detailing as a single piece of wood.

Earlier dyes used were organic dyes and vegetable colours. But today with synthetic dyes easily available, much cheaper comparatively and easy in usage, they are widely preferred.

Very small detailing can be etched and preserved in the block by special provisions. So small stars and very minute designs otherwise not possible, are available for the beautification of the fabric. Flowers, fruits, trees, birds, geometrical designs and figurative pattern are some of the popular motifs in block printed sarees.

Block prints have been successfully reproduced on various fabrics like pure cotton, pure silk, crepe, georgette, chiffon and supernet to make them look elegant.

Unnati Silks has been with handlooms since 1980 and the traditional printing techniques of Bagru, Dabu and Bagh on cotton sarees is seen to decorate a whole lot of well-woven traditional handloom sarees. You could shop online with Unnati Silks and get a very good idea about the variety and range of cotton printed sarees that it has.

Unnati Silks has an exclusive section devoted to block prints. Having in-house talent of master weavers and craftsmen of traditional styles pan India, and a modern printing unit with researchers and talented fashion designers, there is constant experimentation since four decades, with fusion fabrics. And the outcomes have been sensational. Kota Masurias, Chanderi sicos, Banarasi Tussars, Mangalagiri handloom cottons, Rajasthani handlooms, South Cottons – you name it and they are there in the list of fabrics adorned by the sensational new-wave block prints.

Block printing is a traditional art, the modern designs and patterns are new. Fusion brings together tradition and current tastes in an amalgam of fine fresh detailed and sharp prints that has captured the imagination of the market and revolutionized fashion.

  • There is evidence of fabric prints dating as far back as the 4th century BC. The first common method of textile printing originated in China, where examples of woodblock printing from 220 AD have been discovered.
  • Both block printing and screen-printing slowly became popular throughout Asia, India and then Europe. During this time little changed in the printing production process as it travelled around the globe.
  • In the early 17thcentury the East India Company began to ship printed cotton to England. Unable to produce the designs they wanted themselves, the English also commissioned specific patterns, plainer than the traditional Indian style, to be printed and brought back to Britain. It wasn’t until 1676 that a French refugee set up England’s first print works near to the city of London.
  • During the 18thcentury the popularity of Calico printing spread rapidly, with new print-works opening in Switzerland, Germany and later Britain. And it was the French that became most renowned for their artistic patterns and craftsmanship, so popular that they would be copied all over Europe.
  • During the industrial revolution these method became mechanized, and cylinder or roller printing was developed. Similar to block printing, but with engraved rollers that could print up to six different colours at once – far faster than anything that had gone before.
  • In the 1960s, artist and inventor Michael Vasilantone developed a rotary machine based on screen-printing that was quicker than the traditional flat bed method.
  • And today things are even faster – with digital textile printing, using rapid ink jets that not only make the process quicker but also far easier to produce one-off designs.
  • The human love of pattern and symmetry draws us to beautiful textile prints and we want to wear them. For centuries we have been cutting, rolling, pressing and dyeing to make both fabric and its wearer look more beautiful.
    Silk makes an excellent print base, compared to other fabrics. Because it is so pure, no bleaching or other preparations are required before it is printed on.
  • Different methods of printing come with their own unique peculiarities and problems. Printing on to fabric, especially fine ones, means there is a risk of stretching, and the porosity of the material will also affect the finished result.
  • The warp and weft of fabric takes dye differently, so different methods of printing will have different effects on the same fabric.
  • Dyes and inks need to be highly suited to the fabric they are being applied to, not just for the look of the garment, the vibrancy, the detail, but also the water fastness, resistance to abrasion, light, and detergents.
  • These days, there are often 5 or 6 ‘seasons’ in the fashion calendar. Couple this with demand for more choice of colour and patterns, and printers need to turn their textiles around quickly.
  • It’s important to be versatile enough to meet the demands of ‘mass customization’ with shorter print runs and an emphasis on maximizing efficiency and flexibility.
  • Digital printing is the method that best suits this demand – it is economical, fast, and has a low ecological impact – and stands up to the consumer driver of mass customization
  • From the entire quantity of cotton cloth desired sizes for colouring are cut. This is based on the nature of the fabric; saree, bedspread, dupatta or whatever, according to the individual measurements provided and in the numbers specified.
  • The two-fold process of dyeing and block printing then begins.
  • The fabric is pre-washed and soaked for several hours together to allow for dirt, oil and other contaminants to separate out.
  • The smearing of the fabric or cloth to be dyed, is with Fuller’s Earth, brought from the riverside.
  • It is then dipped in turmeric water. Fuller’s Earth washed away imparts a creamish colour to the fabric.
  • Then it is soaked in the solution of Harda or fruit of the myrobalan plant and dried in the sun which gives it a yellowish cream hue.
  • This is the unique feature of Bagru Prints and the process is instrumental for the colour fastness of the Print dyes that would be applied subsequently.
  • The fabric is then printed with natural dyes or colorants which are derived from plants and animals. Different blocks with different colours are used for the different parts of the overall design.
  • Since a majority of the natural dyes are from plants, Bagru Prints are also referred to as ‘eco-friendly’ prints
  • .
  • The primary colours are available from the following substances. Blue is available from Indigo, with desired shade got from increasing the concentration or diluting it. Green is available through indigo mixed with pomegranate. Red is through the Madder Root, while yellow is from turmeric.
  • After the fabric is completely block printed it is dried and later put in vats of boiling water containing alum and other agents. The solution with fabric in it is constantly stirred to prevent sticking to any portion of the vessel.
  • The process is complete with the fabric being washed again to remove excess colour and any other sticking impurities.
  • Hand Block Printing using natural colours is done mostly on fabrics such as sarees, quilts, bed covers, though pillow covers, turbans and other smaller items of cloth are also taken up. Themes are generally floral prints, geometrical shapes etc.
  • Bagru prints are done on off-white, ivory white or beige background sarees. Motifs of circular designs, flowers, fruits, birds create allure on fabrics like crepe, georgette, chiffon, silk, cotton.
  • Exotic Bagru prints are quite popular on south handloom cotton saris woven with zari borders.
  • Dabu Printing is an age old ethnic tradition that has stood the test of time as a unique way of dyeing and printing. Practised mostly in Rajasthan, it has churned out extraordinary fabrics of brilliant colours and mind-blowing designs that have left modern pundits dumbstruck.
  • Dabu printing is a unique art form. This mud-resist hand-block printing is practiced mostly in the state of Rajasthan, India. Cotton is received in large bundles for dyeing and printing.
  • Based on the order, the bundles are opened out and different sizes are measured and cut based on the fabric. Sarees would have 7 metres, dupattas 2.5 metres and so on.
  • Each fabric is pre-washed and soaked for about 24 hours to remove starch, oil, dust, or any other contaminants which could prevent proper dyeing and printing.
  • Then the fabric is block printed with Dabu, and laid to dry in the sun. Once the mud is dry, the fabric is immersed in a dye, and again laid to dry in the sun.
  • The process could sometimes be repeated for repeated dabu printing on top of the dyed fabric to create further layers of resist and again dye it in darker shades of the dye.
  • Finally the fabric is washed to remove all traces of the dabu mud, revealing the resist area to be the original colour. The fabric is again dried in the sun and is ready to be packaged and sold.
  • Dabu printed sarees undergo a rigorous process that involves a lot of not so easily available and costly natural dyes and vegetable pastes.
  • Printed motifs like boota (corn stalk), surajmukhi or sunflower, animals and geometrical patterns are popular subjects.
  • Pure cotton, pure silk, chiffon, crepe, georgette and super net sarees have all shown good results with Dabu prints.
  • There are a lot of light hued and pastel coloured sarees in the exclusive range of cotton printed sarees to buy online. There are extraordinary fine cotton creations that are enthralling and fill the senses.
  • You have block printed cotton sares that are complemented by embroidery and mirror work on the borders and an elegant designer block printed pallu.
  • There are sensational light coloured block prints on dark backgrounds with a resham border and block printed designer pallu,
  • Floral block printed sarees that have mango bootis and fancy prints on the pallu, Floral block printed sarees with zari borders or naksi borders.
  • There are exclusive reverse printed sarees in a setting of flowery patterns, and of course geometrical pattern sarees in light and dark shades.
  • गडवाल, उप्पाडा, मंगलगिरि, वेंकटगिरी, कोटा, गिचा, नारायणपेट, रासीपुरम, चंदेरी, असम, बंगाल, ओडिशा, केरल, चेट्टीनाड, कोयम्बटूर की शुद्ध हथकरघा सूती साड़ियों को उनके पारंपरिक बुनाई पैटर्न, रूपांकनों और सुंदर रंगों के लिए जाना जाता है।

    राजस्थानी या जयपुरी प्रिंट, हाथ ब्लॉक प्रिंट, बैटिक प्रिंट स्टाइलिश हैं और दक्षिण सूती साड़ी पर सफलतापूर्वक आज़माए गए हैं। बगरू, डब्बू, बाग ब्लॉक छपाई पारंपरिक हैं फिर भी सूती कपड़ों पर रंगों की एक विस्तृत श्रृंखला में असाधारण परिणाम सामने आए हैं।

    ब्लॉक प्रिंटिंग एक मुद्रण प्रक्रिया है जो परंपरागत रूप से गुजरात और राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों से विकसित हुई है, और साड़ी जैसे बड़े कैनवास के कपड़ों पर ठीक छपाई के नए स्तर तक पहुंच गई है, पारंपरिक ब्लॉक के लिए धन्यवाद जो एक में लगातार कपड़े के बड़े क्षेत्रों को लेते हैं। जाओ, और अद्भुत आश्चर्य, हाथ-ब्लॉक।
    अब यह कला मूल के क्षेत्रों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि भारत के विभिन्न हिस्सों में व्यापक और दूर तक फैली हुई है। कोई आश्चर्य नहीं कि आपको अद्भुत शिल्प से हर बार कुछ नया करने का स्वाद मिलता है।
    जबकि ब्लॉक प्रिंटिंग अत्यधिक संभावनाओं की एक कला है, इसकी चमक कपड़ों में दिखाई देती है जो प्रयोग करने के लिए एक उपयुक्त कैनवास प्रदान करती है। कपास अब तक सबसे लोकप्रिय रहा है, लेकिन रेशम, जॉर्जेट आदि जैसे अन्य भी हैं जिन्होंने अच्छी प्रतिक्रिया दी है।

    एक समय में ब्लॉक प्रिंटिंग का उपयोग ग्रामीण हैमलेटों में किया जाता था जैसे कि पगड़ी, साड़ी, अब दुनिया को ध्यान में लेने के लिए बैठ गए हैं। ट्रेसिंग डिज़ाइन से बने थे, जिन्हें ब्लॉक पर पारंपरिक साधनों द्वारा स्थानांतरित किया गया था और फिर उन्हें सपाट सतहों पर लंबी लंबाई में कपड़े पर अच्छे छाप बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। फ्लैट प्रिंटिंग की सतह काफी बड़ी है, छापों को एक साथ रखा गया है और सही ढंग से एक निरंतर डिजाइन का परिणाम होगा जैसे कि एक पुष्प परिदृश्य या एक सतत ज्यामितीय पैटर्न, साड़ी की लंबाई।

    ब्लॉक प्रिंटिंग की सीमा छोटे प्रकार के डिज़ाइन और पैटर्न में होती है जिसमें ब्लॉक निहित होता है जो कपड़े पर प्रभावित हो सकता है। हालांकि जल्दी से किया और करने की विधि में सरल, पर्याप्त वजन को हस्तांतरण पर समान रूप से लागू किया जाना है ताकि डिजाइन को स्थानांतरित किया जा सके। रंग में बड़ी सूई होने के कारण सावधानी से किया जाना चाहिए ताकि टपकने और कपड़े को खराब होने से बचाया जा सके।

    हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग एक तरह की क्रांति है जो थोड़े से प्रयास, गतिशीलता, रंग की बर्बादी में कमी, एक ही कपड़े पर एक समान अनुप्रयोग, बहु-प्रकार के डिजाइन और सभी का सबसे बड़ा लाभ प्रदान करती है - लघु डिजाइनों को तेजी से और विशिष्ट रूप से दोहराया जाता है। कपड़ा
    भारत में मुख्य रूप से साड़ी और ड्रेस सामग्री के लिए हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग का अभ्यास किया जाता है। हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग अपनी सादगी और निष्पादन में आसानी के कारण लोकप्रिय है क्योंकि साड़ियों पर प्रिंट तेज, सटीक हैं और बारीक विस्तृत परिणाम प्रदान करते हैं। यह अभी भी गुजरात और राजस्थान में उन क्षेत्रों में उपयोग किए जाने वाले बढ़िया और जटिल डिजाइन के कारण छपाई का एक लोकप्रिय तरीका है। यह बाद में राजस्थान, आंध्र प्रदेश, गुजरात और मध्य प्रदेश के अन्य हिस्सों में फैल गया।

    क्या आपने कभी सोचा है कि कैसे सुंदर रंगों में उन खूबसूरत फूलों के स्केच या बारीक विस्तृत सार प्रिंट पारंपरिक साड़ियों पर इतने तेज और विशिष्ट रूप से निर्मित हो सकते हैं? आस-पास के क्षेत्रों में फैलने वाले रंग का मामूली संकेत नहीं है और डॉट को विशिष्ट रूप से एक डॉट के रूप में पुन: पेश किया जाता है और एक बड़े बिंदी में नहीं बदल जाता है।

    ब्लॉक प्रिंटिंग के अभ्यासी सरल लोक हैं, उनके प्रयासों के परिणाम, अत्यंत उत्कृष्ट सार पैटर्न। वास्तव में हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग में आसानी एक ही साड़ी पर डिजाइन और पैटर्न के कई रूपों की अनुमति देती है। एक ही साड़ी पर विभिन्न पदों और अलग-अलग ब्लॉक आकारों में 50 से अधिक विभिन्न पैटर्न मुद्रित होते हैं।

    मुद्रण के लिए उपयोग किए जाने वाले ब्लॉक लकड़ी से बने होते हैं, अच्छी तरह से योजनाबद्ध और सुचारू रूप से फ्लैट होते हैं। नाशपाती की लकड़ी, विमान की लकड़ी या गूलर से बने होते हैं, वे अलग-अलग आकार के दो से तीन इंच मोटे होते हैं, और सौदा या देवदार के दो या अधिक लकड़ी के टुकड़ों द्वारा प्रबलित होते हैं। अलग-अलग टुकड़ों या ब्लॉकों को खांचे में एक-दूसरे में एक दूसरे के साथ फिट करने के लिए pieced किया जाता है और एक साथ चिपकाया जाता है। प्रिंट के लिए कपड़े फ्लैट टेबल पर रखे जाते हैं और हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग की जाती है। पहले इस्तेमाल किए जाने वाले रंजक प्राकृतिक और वनस्पति रंग थे। लेकिन आज सिंथेटिक रंगों के साथ आसानी से उपलब्ध, तुलनात्मक रूप से सस्ता और उपयोग में आसान है, वे व्यापक रूप से पसंद किए जाते हैं।

    हाथ ब्लॉक का निर्माण धातु के टुकड़ों से भरा हुआ है ताकि ब्लॉक में बहुत छोटी डिटेलिंग की जा सके। तो छोटे सितारे और बहुत मिनट के डिजाइन अन्यथा संभव नहीं हैं, कपड़े के सौंदर्यीकरण के लिए उपलब्ध हैं। विस्तृत अभी तक विशिष्ट, रंगीन लेकिन तेजी से बनाया गया, मुफ्त हाथ की रेखाएं जो बारीक स्केच की जाती हैं; ब्लॉक प्रिंटिंग ने बारीक प्रिंट की अवधारणा को फिर से उभारा है। एक कला जिसने लघु चित्रण को एक वास्तविकता बना दिया है!

    ब्लॉक प्रिंट कपड़ों पर हैंडल या ग्रिप्स के साथ लकड़ी के ब्लॉक का उपयोग करके छपाई के माध्यम से किया जाता है। इसे हाथ से छपाई या पेंटिंग के रूप में भी जाना जाता है। यह एकमात्र तरीका है जिसके द्वारा कपड़े पर बेहद महीन विस्तृत डिज़ाइन स्थानांतरित किए जाते हैं। आम तौर पर लोकप्रिय होने वाले मोती फूल, फल, पेड़, पक्षी, बूटा, कलगा, बेल और फूलों के डिजाइन और ज्यामितीय आकार के होते हैं।

    चूँकि ब्लॉक प्रिंट के लिए विभिन्न रंगों में प्रिंट की आवश्यकता होती है, इसलिए विभिन्न डिज़ाइनों के कई ब्लॉक तत्परता से रखे जाते हैं। ब्लॉक को पतले मिश्रित रंग डाई स्नान में डुबोया जाता है और कपड़े पर दबाया जाता है और इसे हटाने से पहले एक मामूली नल बनाया जाता है ताकि प्रिंट एक समान हो।

    साड़ी जटिल बूटा और अन्य रूपांकनों के साथ कवर किया गया है। ब्लॉक प्रिंटेड साड़ियों में फूल, फल, पेड़, पक्षी, ज्यामितीय डिजाइन और आलंकारिक पैटर्न कुछ लोकप्रिय रूपांकन हैं। प्योर कॉटन, प्योर सिल्क, क्रेप, जॉर्जेट, शिफॉन और सुपर नेट जैसे कई फैब्रिक पर ब्लॉक प्रिंट्स उन्हें एलिगेंट लुक देते हैं।
  • हैंड ब्लॉक्स आमतौर पर लकड़ी से बने होते हैं जैसे गूलर, विमान या नाशपाती की लकड़ी, हालांकि अन्य किस्मों की लकड़ी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। थरथराहट से बचाव के लिए मोटाई कम से कम दो या तीन इंच होने की उम्मीद है। अतिरिक्त एहतियात भी इसे सौदा या पाइन स्ट्रिप्स के साथ समर्थन करके लिया जाता है। ब्लॉक जीभ और खांचे बनाकर एक दूसरे में फिट होने के लिए बनाया गया है और दबाव में gluing करके इसे एक सजातीय ब्लॉक जैसा लगता है।
  • ब्लॉक चिकनी योजनाबद्ध है और छपाई की सतह चिकनी और सपाट है। शामिल किए जाने वाले डिजाइन को डिजाइन पर दीपक काले और तेल को लागू करने और इसे ब्लॉक सतह पर स्थानांतरित करने के बाद खोदा जाता है। डिजाइन के ठीक स्पष्ट किनारों को प्राप्त करने के लिए ब्लॉक पर डिजाइन की रूपरेखा रंगीन होती है और फिर नक़्क़ाशी की जाती है।
  • ब्लॉक किए गए कपड़े पर यथोचित रूप से लागू दबाव के साथ लगातार इस्तेमाल किए जाने वाले ब्लॉक के कारण टुकड़ों या किनारों को कुंद होने से रोकने के लिए ब्लॉक पर धातु के तांबे के टुकड़ों को खोखला आउट डिज़ाइन में लगाया जाता है। कभी-कभी तांबे को अंदर की तांबे की स्ट्रिप्स के साथ ब्लॉक को गर्म करके कॉपरिंग किया जाता है और फिर ब्लॉक को ठंडा होने पर हटा दिया जाता है। परिणामी ब्लॉक में लकड़ी के एक टुकड़े के रूप में बेहद महीन किनारों और विवरण होगा।
  • पहले इस्तेमाल की जाने वाली डाई जैविक रंग और वनस्पति रंग थे। लेकिन आज सिंथेटिक रंगों के साथ आसानी से उपलब्ध, तुलनात्मक रूप से सस्ता और उपयोग में आसान है, वे व्यापक रूप से पसंद किए जाते हैं।
  • विशेष प्रावधानों द्वारा ब्लॉक में बहुत छोटी डिटेलिंग खोदी और संरक्षित की जा सकती है। तो छोटे सितारे और बहुत मिनट के डिजाइन अन्यथा संभव नहीं हैं, कपड़े के सौंदर्यीकरण के लिए उपलब्ध हैं। ब्लॉक प्रिंटेड साड़ियों में फूल, फल, पेड़, पक्षी, ज्यामितीय डिजाइन और आलंकारिक पैटर्न कुछ लोकप्रिय रूपांकन हैं।
  • ब्लॉक प्रिंट्स को सफलतापूर्वक विभिन्न कपड़ों जैसे कि प्योर कॉटन, प्योर सिल्क, क्रेप, जॉर्जेट, शिफॉन और सुपरनैट पर तैयार किया गया है ताकि वे खूबसूरत दिखें।
  • उन्नाती सिल्क्स 1980 के बाद से हथकरघा के साथ रहा है और कॉटन साड़ियों पर बगरू, डब्बू और बाग की पारंपरिक छपाई तकनीक पूरी तरह से बुने हुए पारंपरिक हथकरघा साड़ियों को सजाने के लिए देखी जाती है। आप Unnati सिल्क्स के साथ ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं और कपास मुद्रित साड़ियों की विविधता और रेंज के बारे में बहुत अच्छा विचार प्राप्त कर सकते हैं।
  • Unnati Silks में ब्लॉक प्रिंट के लिए समर्पित एक विशेष खंड है। मास्टर बुनकरों और पारंपरिक शैलियों के शिल्पकारों की भारत में प्रतिभा, और शोधकर्ताओं और प्रतिभाशाली फैशन डिजाइनरों के साथ एक आधुनिक मुद्रण इकाई होने के बाद, चार दशकों से लगातार प्रयोग किया जाता है, जिसमें संलयन कपड़े हैं। और परिणाम सनसनीखेज रहे हैं। कोटा मसुरियास, चंदेरी सिसोस, बनारसी टसर, मंगलगिरी हैंडलूम कॉटन, राजस्थानी हैंडलूम, साउथ कॉटन - आप इसे नाम देते हैं और वे सनसनीखेज नए-लहर ब्लॉक प्रिंटों से सजे कपड़ों की सूची में हैं।
  • ब्लॉक प्रिंटिंग एक पारंपरिक कला है, आधुनिक डिजाइन और पैटर्न नए हैं। फ्यूजन परंपरा और वर्तमान स्वाद को एक साथ लाता है जिसमें ठीक ताजा विस्तृत और तेज प्रिंट का एक मिश्रण होता है जिसने बाजार की कल्पना पर कब्जा कर लिया है और फैशन में क्रांति ला दी है।
  • फैब्रिक प्रिंट के साक्ष्य हैं जो चौथी शताब्दी ईसा पूर्व के रूप में हैं। कपड़ा छपाई की पहली आम विधि चीन में उत्पन्न हुई, जहां 220 ईस्वी से वुडब्लॉक प्रिंटिंग के उदाहरण खोजे गए हैं।
  • दोनों मुद्रण और स्क्रीन-प्रिंटिंगधीरे-धीरे पूरे एशिया, भारत और फिर यूरोप में लोकप्रिय हो गए। इस समय के दौरान मुद्रण उत्पादन प्रक्रिया में थोड़ा बदलाव आया क्योंकि इसने दुनिया भर में यात्रा की।
  • 17की शुरुआतवींशताब्दीमें ईस्ट इंडिया कंपनी ने मुद्रित कपास को इंग्लैंड में भेजना शुरू किया। अपने द्वारा डिज़ाइन किए गए डिजाइनों का उत्पादन करने में असमर्थ, अंग्रेजी ने भी विशिष्ट पैटर्न, पारंपरिक भारतीय शैली की तुलना में सादे, मुद्रित करने और ब्रिटेन वापस लाने के लिए कमीशन किया। यह 1676 तक नहीं था कि एक फ्रांसीसी शरणार्थी ने इंग्लैंड का पहला प्रिंट लंदन शहर के पास काम किया।
  • 18दौरान,वींशताब्दी केकेलिको प्रिंटिंग की लोकप्रियता तेजी से फैली, जिसमें स्विट्जरलैंड, जर्मनी और बाद में ब्रिटेन में नए प्रिंट-कार्य खुले। और यह फ्रांसीसी था जो अपने कलात्मक पैटर्न और शिल्प कौशल के लिए सबसे प्रसिद्ध हो गया, इतना लोकप्रिय कि उन्हें पूरे यूरोप में कॉपी किया जाएगा।
  • औद्योगिक क्रांति के दौरान ये विधि यंत्रीकृत हो गई, और सिलेंडर या रोलर प्रिंटिंग विकसित की गई। ब्लॉक प्रिंटिंग के समान, लेकिन उत्कीर्ण रोलर्स के साथ जो एक ही बार में छह अलग-अलग रंगों तक प्रिंट कर सकता है - इससे पहले जो कुछ भी हुआ था उससे कहीं अधिक तेज।
  • 1960 के दशक में, कलाकार और आविष्कारक माइकल वासिलेंटन ने एक रोटरी मशीन विकसित की स्क्रीन प्रिंटिंग यह पारंपरिक फ्लैट बिस्तर विधि की तुलना में तेज था।
  • और आज चीजें और भी तेज हैं - डिजिटल टेक्सटाइल प्रिंटिंग के साथ, रैपिड इंक जेट्स का उपयोग करके जो न केवल प्रक्रिया को तेज बनाते हैं, बल्कि एकतरफा डिजाइनों का उत्पादन करने में भी आसान होते हैं।
  • पैटर्न और समरूपता का मानवीय प्रेम हमें सुंदर कपड़ा प्रिंटों की ओर आकर्षित करता है और हम उन्हें पहनना चाहते हैं। सदियों से हम कपड़े और उसके पहनने वाले दोनों को अधिक सुंदर बनाने के लिए कटिंग, रोलिंग, प्रेसिंग और रंगाई करते रहे हैं।
    अन्य कपड़ों की तुलना में रेशम एक उत्कृष्ट प्रिंट आधार बनाता है। क्योंकि यह इतना शुद्ध है, इसके छपने से पहले किसी भी विरंजन या अन्य तैयारी की आवश्यकता नहीं होती है।
  • मुद्रण के विभिन्न तरीके अपनी विशिष्ट विशिष्टता और समस्याओं के साथ आते हैं। कपड़े पर मुद्रण, विशेष रूप से ठीक वाले, का मतलब है कि खिंचाव का खतरा है, और सामग्री की छिद्रता भी समाप्त परिणाम को प्रभावित करेगी।
  • कपड़े का ताना और बाना अलग-अलग तरह से रंग लेता है, इसलिए छपाई के विभिन्न तरीकों का एक ही कपड़े पर अलग-अलग प्रभाव पड़ेगा।
  • रंगों और स्याही को उन कपड़ों के लिए अत्यधिक अनुकूल होने की आवश्यकता होती है जिन्हें वे लागू नहीं किए जा रहे हैं, न केवल परिधान, जीवंतता, विस्तार, बल्कि पानी के तेज, घर्षण, प्रकाश और डिटर्जेंट के प्रतिरोध के लिए भी।
  • इन दिनों, फैशन कैलेंडर में अक्सर 5 या 6 'सीजन' होते हैं। रंग और पैटर्न के अधिक विकल्प की मांग के साथ युगल, और प्रिंटर को अपने वस्त्रों को जल्दी से घूमने की जरूरत है।
  • छोटे प्रिंट रन और दक्षता और लचीलेपन को बढ़ाने पर जोर देने के साथ 'बड़े पैमाने पर अनुकूलन' की मांगों को पूरा करने के लिए पर्याप्त बहुमुखी होना महत्वपूर्ण है।
  • डिजिटल प्रिंटिंग वह विधि है जो इस मांग के लिए सबसे उपयुक्त है - यह किफायती, तेज है, और कम पारिस्थितिक प्रभाव है - और बड़े पैमाने पर अनुकूलन के उपभोक्ता चालक के लिए खड़ा है
  • सूती कपड़े की पूरी मात्रा से रंग के लिए वांछित आकार काट दिया जाता है। यह कपड़े की प्रकृति पर आधारित है; साड़ी, बेडस्प्रेड, दुपट्टा या जो भी, प्रदान किए गए व्यक्तिगत मापों के अनुसार और निर्दिष्ट संख्याओं में।
  • फिर रंगाई और ब्लॉक प्रिंटिंग की दो-गुना प्रक्रिया शुरू होती है।
  • गंदगी, तेल और अन्य दूषित पदार्थों को अलग करने के लिए कपड़े को एक साथ कई घंटों के लिए पूर्व-धोया और भिगोया जाता है।
  • फैब्रिक या कपड़े की रंगाई की जाने वाली, नदी के किनारे से लाई गई फुलर की पृथ्वी के साथ होती है।
  • फिर इसे हल्दी के पानी में डुबोया जाता है। फुलर की पृथ्वी ने कपड़े को क्रीमयुक्त रंग प्रदान किया।
  • फिर इसे हरबाला या मैरोबेलन पौधे के फल में भिगोया जाता है और धूप में सुखाया जाता है जो इसे एक पीलापन लिए हुए मटमैला रंग देता है।
  • यह बगरू प्रिंट्स की अनूठी विशेषता है और यह प्रक्रिया प्रिंट डाईज़ के रंग की तेज़ी के लिए महत्वपूर्ण है जो बाद में लागू की जाएगी।
  • फिर कपड़े को प्राकृतिक रंगों या रंगों के साथ मुद्रित किया जाता है जो पौधों और जानवरों से प्राप्त होते हैं। विभिन्न रंगों के साथ विभिन्न ब्लॉकों का उपयोग समग्र डिजाइन के विभिन्न भागों के लिए किया जाता है।
  • चूंकि अधिकांश प्राकृतिक डाई पौधों से हैं, इसलिए बगरू प्रिंट को 'पर्यावरण के अनुकूल' प्रिंट के रूप में भी जाना जाता है।
  • प्राथमिक रंग निम्नलिखित पदार्थों से उपलब्ध हैं। ब्लू इंडिगो से उपलब्ध है, वांछित छाया एकाग्रता बढ़ाने या इसे पतला करने से मिला है। ग्रीन, अनार के साथ मिश्रित इंडिगो के माध्यम से उपलब्ध है। रेड मैडर रूट के माध्यम से होता है, जबकि पीला हल्दी से होता है।
  • कपड़े के पूरी तरह से ब्लॉक हो जाने के बाद उसे सुखाया जाता है और बाद में उबलते पानी में डाल दिया जाता है जिसमें फिटकरी और अन्य एजेंट होते हैं। बर्तन के किसी भी हिस्से से चिपके रहने से बचाने के लिए इसमें कपड़े से घोल को लगातार हिलाया जाता है।
  • अतिरिक्त रंग और किसी भी अन्य चिपकी अशुद्धियों को हटाने के लिए कपड़े को फिर से धोए जाने के साथ प्रक्रिया पूरी हो गई है।
  • प्राकृतिक रंगों का उपयोग करते हुए हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग ज्यादातर कपड़े जैसे साड़ी, रजाई, बेड कवर पर किया जाता है, हालांकि तकिया कवर, पगड़ी और कपड़े के अन्य छोटे सामान भी उठाए जाते हैं। विषय-वस्तु आम तौर पर पुष्प प्रिंट, ज्यामितीय आकार आदि कर रहे हैं
  • बगरू प्रिंट ऑफ-व्हाइट, आइवरी व्हाइट या बेज बैकग्राउंड साड़ियों पर किया जाता है। परिपत्र डिजाइन, फूल, फल, पक्षी के मोती क्रेप, जॉर्जेट, शिफॉन, रेशम, कपास जैसे कपड़ों पर आकर्षण बनाते हैं।
  • ज़री सीमाओं के साथ बुने हुए दक्षिण हथकरघा सूती साड़ियों पर विदेशी बगरू प्रिंट काफी लोकप्रिय हैं।
  • डब्बू प्रिंटिंग एक सदियों पुरानी जातीय परंपरा है जिसने समय की कसौटी को रंगाई और छपाई के एक अनोखे तरीके के रूप में खड़ा किया है। ज्यादातर राजस्थान में प्रैक्टिस की गई, इसने शानदार रंगों और मन को लुभाने वाले डिजाइनों के असाधारण कपड़ों पर मंथन किया है, जिसने आधुनिक पंडितों को विनम्र बना दिया है।
  • डब्बू प्रिंटिंग एक अनूठी कला है। यह कीचड़-प्रतिरोध हाथ-ब्लॉक मुद्रण का अभ्यास ज्यादातर राजस्थान, भारत के राज्य में किया जाता है। कपास को रंगाई और छपाई के लिए बड़े बंडलों में प्राप्त किया जाता है।
  • आदेश के आधार पर, बंडलों को बाहर खोला जाता है और विभिन्न आकारों को कपड़े के आधार पर मापा और काटा जाता है। साड़ियों में 7 मीटर, दुपट्टे 2.5 मीटर वगैरह होंगे।
  • स्टार्च, तेल, धूल, या किसी भी अन्य दूषित पदार्थों को हटाने के लिए प्रत्येक कपड़े को पूर्व-धोया जाता है और लगभग 24 घंटों तक भिगोया जाता है, जिससे उचित रंगाई और छपाई को रोका जा सके।
  • फिर कपड़े को डब्बू के साथ ब्लॉक किया गया, और धूप में सूखने के लिए रख दिया गया। एक बार कीचड़ सूख जाने के बाद, कपड़े को एक डाई में डुबोया जाता है, और फिर से धूप में सूखने के लिए रखा जाता है।
  • प्रतिरोध की आगे की परतें बनाने के लिए रंगे कपड़े के ऊपर बार-बार डब्बू प्रिंटिंग के लिए प्रक्रिया को दोहराया जा सकता है और फिर से इसे डाई के गहरे रंगों में रंग दें।
  • अंत में कपड़े को डब्बू कीचड़ के सभी निशान हटाने के लिए धोया जाता है, जिससे प्रतिरोध क्षेत्र का मूल रंग प्रकट होता है। कपड़े को फिर से धूप में सुखाया जाता है और पैक करके बेचने के लिए तैयार किया जाता है।
  • डब्बू मुद्रित साड़ी एक कठोर प्रक्रिया से गुजरती है जिसमें बहुत आसानी से उपलब्ध नहीं है और महंगा प्राकृतिक रंजक और वनस्पति पेस्ट शामिल हैं।
  • बूटा (मकई का डंठल), सुराजमुखी या सूरजमुखी, जानवरों और ज्यामितीय पैटर्न जैसे मुद्रित रूपांकनों लोकप्रिय विषय हैं।
  • प्योर कॉटन, प्योर सिल्क, शिफॉन, क्रेप, जॉर्जेट और सुपर नेट साड़ी सभी ने डब्बू प्रिंट के साथ अच्छे परिणाम दिखाए हैं।
  • ऑनलाइन खरीदने के लिए कॉटन प्रिंटेड साड़ियों की एक्सक्लूसिव रेंज में बहुत सारी लाइट हाइट और पेस्टल कलर्ड साड़ियां हैं। असाधारण महीन सूती रचनाएँ हैं जो रोमांचित करती हैं और इंद्रियों को भर देती हैं।
  • आपके पास प्रिंटेड कॉटन साड़ियाँ हैं जो बॉर्डर पर कढ़ाई और मिरर वर्क और एक एलिगेंट डिज़ाइनर प्रिंटेड पल्लू से पूरित हैं।
  • एक रेशमी बॉर्डर और ब्लॉक प्रिंटेड डिज़ाइनर पल्लू के साथ डार्क बैकग्राउंड पर सनसनीखेज हल्के रंग के ब्लॉक प्रिंट हैं,
  • फ्लोरल ब्लॉक प्रिंटेड साड़ी जिसमें पल्लू पर मैंगो बूटिस और फैंसी प्रिंट हैं, फ्लोरल ब्लॉक प्रिंटेड साड़ी के साथ जरी बॉर्डर या नैकसी बॉर्डर हैं।
  • फूलों के पैटर्न की एक सेटिंग में विशेष रूप से रिवर्स प्रिंटेड साड़ियां हैं, और निश्चित रूप से प्रकाश और अंधेरे रंगों में ज्यामितीय पैटर्न की साड़ी हैं।