We are open and delivering worldwide! Safe, Timely & Efficient

Kota|Laheriya-Shibori

Filter

1 Item

Set Descending Direction

1 Item

Set Descending Direction

Sensational waves in fabrics created by the Leheria Prints and Shibori

Bandhani or Bandhej is a tie & dye art that originally began in Kutch district of Gujarat. Tie & dye involves creating resists by tying threads tightly at selected points which could number from a few to several hundreds or even thousands based upon the complexity of the design intended, before dyeing the fabric. The tied part does not get dyed and when the threads are removed and the fabric spreads out the design becomes evident by a light coloured design on a dark coloured background. Leheria or Leheriya and Shibori are part of this larger traditional art known as Bandhani.
Leheria comes from the word Leher meaning wave, since the tie and dye process applied to white fabrics, results in brightly coloured complex wave or Leher designs. Leheria work is done on silk or cotton fabric and on long and broad canvases like turbans and sarees.
  • The process involves rolling the fabric and tying resists at various spots on the cloth rolled diagonally from one corner to the opposite selvage.
  • Selvage is the self finished edges in a fabric as a result of looping back the thread from the weft (perpendicular thread to the waft threads) at the end of each row length of the fabric that prevents the fabric from unravelling or fraying.
  • This rolled fabric is then dyed according to the usual tie and dye process in bright colours.
  • When the fabric is unfolded after dyeing, it leaves a lot of stripes or other shapes at intervals across the fabric in a design.
  • Several tie and dye processes are undergone if required, to create a myriad of colourful stripes across the fabric length. Indigo is used in the last few stages of the process.
  • The appeal of Leheria lies in the way the folding and tying of resists is manipulated before dyeing to create colourful striking outcomes of extraordinary designs. Mothara is a special ‘lentil design’, popular and achieved by the re-rolling of the unfolded first stage in the opposite direction and the resist tied at the diagonal end and repeating the dye process. The resulting checkered design has un-dyed areas at regular intervals which are the size of a lentil.
  • Leheria turbans are very popular in Rajasthan and some other parts of India. Leheria Sarees and salwar kameez have wooed the fashion world with their unique designer prints.
  • I would recommend Unnati Silks for buying Leheria Prints sarees online. You could buy wholesale or retail at very attractive prices.
    The variety of Leheria Prints sarees at Unnati Silks is interesting.
  • You have half half sarees where one half would have zari mango bootis and the other half would be covered by some pattern in Tie & Dye. The complementary designer pallu would have a portion plain and the other part having Bandhini designs.
  • Georgette half half sarees with the Leheria Prints on both but with different patterns and that to on contrast colours. The alternating patterns all across the length is a mesmerizing sight.
  • A third variety has plain art saree with a single motif distributed sparsely but the Pallu having the Leheria pattern in a nice colourful spread.
  • Who is not familiar with the arty designs of shibori on fabric? From the Japanese word ‘shiboru’ meaning to “wring, squeeze or press”, it involves embellishing textiles by shaping cloth and securing it before the application of color or dye. The manipulations made to the fabric prior to the application of dye are called resists, since they partially or fully cover the intended areas and prevent them from getting colored, while the rest of the portions do. An age old tradition, the tie & dye has survived till this day, as one of the oldest, finest and most widely used techniques for coloring, the world over. India is one of the leading countries in the use of the tie and dye method for fabrics.

    Tell me more!

  • Shibori is used to designate a particular group of resist-dyed textiles, the word emphasizing the action performed on cloth prior to the process of manipulation.
  • An arty craft, Shibori is said to have originated in Japan and Indonesia somewhere in the 8th century.
  • Shibori includes a number of labor-intensive resist techniques including stitching elaborate patterns and tightly gathering the stitching before dyeing, forming intricate designs for fabrics.
  • Shibori could also be created by wrapping the fabric around a core of rope, wood or other material, and binding it tightly with string or thread before dyeing. The areas of the fabric that are against the core or under the binding would remain un-dyed.
  • Resists are created by the folding, twisting, pleating, or crumpling of the fabric or garment to be colored and binding with string or rubber bands, before application of dye(s). The dye is prevented from penetrating portions that are not meant to be coloured, thereby acquiring the design or pattern through the non-coloured portions.
  • Since the resists used are softer in comparison to the more sharp-edged resists of stencil, paste and wax, the shibori comes out as a pattern of soft or blurry-edged sketches.
  • The dyer in no manner curbs the materials, but allows freedom to the design to express itself fully thereby allowing an element of the unexpected to always be present.
  • In India shibori was first introduced by literature Nobel laureate Rabindranath Tagore, famed for his interest in reviving and reinventing the traditional arts and crafts of the country apart from his expertise in Bengali literature.
  • Shibori is practiced in the urban villages of Delhi, craft clusters of Rajasthan and Bhuj in Gujarat.
  • Most artisans use the rope-tied technique of shibori wherein a rope is tied to a bundle of fabric. Only the area that does not have the rope gets colored, while parts under it resists.
  • This method of tie-and-dye is a coarser variant of the shibori process that has been explained earlier.
  • The shibori process consists of four monitored stages - design, stitching, tightening and dyeing.

    Design
  • The design is first conceptualized. The basic motif of the design would have both linear and non-linear patterns, is arranged as an array of combinations within the basic framework. The chosen design gets transferred on paper or a computer page and ultimately onto a plastic sheet.
  • The plastic sheet is run through a sewing machine without thread. A stencil is created with uniform tiny holes all along the outline of the design. The stencil is then laid on a natural unbleached cloth while a duster dipped in kerosene and silver solution is pressed along it. The solution from the duster seeps through the tiny holes marking the design on the cloth. The kerosene used only to serve as a binder evaporates shortly. The silver stain is easily removed by washing the cloth. Thus the design is readied.
  • Stitching

  • The next level in the process is stitching since the coloring can be done only after the shaping of the cloth is done. With the marking done on the fabric, a running stitch is manually made with needle and thread along the design. After the natural fabric has been transcribed with the design, at the two ends of the thread a small piece of cloth is attached that allows the thread to be pulled from both the ends, thus crushing the fabric.
  • Tightening

  • This is an important part in the process. Here, two people are required, one for holding the cloth, the other for pulling the two ends of the thread in opposite directions. The cloth along the thread gets compressed and a knot is then made to bind the cloth, not allowing the color to seep into it (the area compressed by the knot) at the time of dyeing.
  • The right amount of pressure is required to tie the knot as a loose loop could allow the color to percolate into the knot onto the area where the color is not required. When the coloring is done, the entire area on the fabric gets colored other than the spot within the knot which is referred to as a stitch-resist dying technique.
  • Dyeing

  • The tightening completed, the fabric is soaked in a mild soap solution for some time. Thereafter, it is dipped in a bath for dyeing.
  • The bath is prepared in the following manner: the material to liquid ratio (MLR) is maintained in the region of 1:20. e.g. 1 kg of fabric or yarn against 20 litres of water.
  • For the concentration of the color, a 5 per cent description refers to 50 g of color (or any other chemical) to be dissolved in 20 litres of water for 1 kg of fabric or yarn.
  • Apart from indigo, all the other colors are ‘hot processes’, i.e. they require water to be mildly heated while the dyeing process is on. For all the colors, the cloth / yarn is to be kept in the bath roughly for 45 minutes.
  • In natural dyeing, in order to increase the absorption of color as well as for fastness, the concentration of dye should be increased incrementally. e.g. once the 5 per cent indigo bath is ready and the fabric/yarn has been immersed in it, if a darker shade is required then more indigo should be added slowly (1-2 per cent) till the desired shade is achieved. For the various colors, chemicals are mixed with water and indigo and atmospheric reaction with them yields different results as desired.
  • In this process, after the design is transferred onto a natural unbleached fabric and the stitching is completed, the cloth is first dipped into a vat containing the lighter shade of indigo.
  • After the cloth has dried, tightening is done. It is then submerged in a vessel containing the darker shade of indigo. The area around the tightened thread gets crinkled and compressed and does not allow the color to leak in, hence allowing that portion to maintain the original lighter shade.
  • In the shibori technique, the closer the stitches that are tightened into a knot, the larger will be the area where the color does not seep in since the fabric resists the dye all along the stitches.
  • Well! Since the fabric that has been processed using the shibori technique will bear pinpricks where the design was stitched in, if held against the light, the minute holes made by the needle should be visible.
  • However, the normal dyed cloth passed off as authentic shibori and having printed dyed dots representing the stitch marks would not allow light to pass through.
  • Cotton is a widely preferred natural fibre material for good results of tie & dye since it is a good plain weave of simple lattice of closely placed yarn threads. It is soft, smooth textured, light, airy, sheer and very comfortable as a fabric for daily wear and long durations. The wavy spreads of Leheriya and the criss cross color bands in Shibori make for an impressive collection of traditional weaves in trendy stylish displays.
  • You have lovely sarees in Kota cotton, Bandhani art silk, satin silk, georgette, chanderi sico, chiffon etc. You have a whole lot of vibrant, exciting, designs that fill the mind, titillate the senses.
  • लेहेरिया के, शब्द लेहर अर्थ लहर से आता है, चूंकि टाई और डाई प्रक्रिया सफेद कपड़ों पर लागू होती है, जिसके परिणामस्वरूप चमकीले रंग की जटिल लहर या लेहर डिजाइन तैयार होते हैं। लेहरिया काम रेशम या सूती कपड़े पर और पगड़ी और साड़ी जैसे लंबे और चौड़े कैनवस पर किया जाता है।
  • इस प्रक्रिया में फैब्रिक को रोल करना और एक कोने से विपरीत सेलेव में तिरछे रोल किए गए कपड़े पर विभिन्न स्थानों पर बांधना शामिल है।
  • सेलवेज कपड़े के प्रत्येक पंक्ति लंबाई के अंत में कपड़ा (सीधा धागा से बायीं ओर धागा) से थ्रेड को वापस करने के परिणामस्वरूप कपड़े में स्वयं तैयार किनारों होता है जो कपड़े को खोलना या भुरभुरा होने से बचाता है।
  • इस लुढ़के कपड़े को तब सामान्य टाई और चमकीले रंगों में डाई प्रक्रिया के अनुसार रंगा जाता है।
  • जब रंगाई के बाद कपड़े को खोल दिया जाता है, तो यह एक डिजाइन में कपड़े के अंतराल पर बहुत सारी धारियां या अन्य आकार छोड़ देता है।
  • कपड़े की लंबाई भर में रंगीन पट्टियों के असंख्य बनाने के लिए, यदि आवश्यक हो तो कई टाई और डाई प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। इंडिगो का उपयोग प्रक्रिया के अंतिम कुछ चरणों में किया जाता है।
  • असाधारण डिजाइनों के रंगीन हड़ताली परिणामों को बनाने के लिए रंगाई करने से पहले रिसर की तह और बांधने की विधि में लेहरिया की अपील निहित है। मोथरा एक विशेष 'मसूर की डिजाइन' है, जो लोकप्रिय और विपरीत दिशा में सामने वाले पहले चरण के फिर से रोलिंग द्वारा प्राप्त की गई है और विकर्ण छोर पर बंधी हुई प्रतिरोध और डाई प्रक्रिया को दोहराती है। परिणामी चेकर डिजाइन में नियमित अंतराल पर बिना रंग के क्षेत्र होते हैं जो एक दाल के आकार के होते हैं।
  • लेहरिया पगड़ी राजस्थान और भारत के कुछ अन्य हिस्सों में बहुत लोकप्रिय हैं। लेहरिया साड़ी और सलवार कमीज ने अपने अनूठे डिजाइनर प्रिंट के साथ फैशन की दुनिया को लुभाया है।
  • मैं Unnati Silks को खरीदने के लिए सलाह दूंगा लेहरिया प्रिंटसाड़ी ऑनलाइन। आप बहुत आकर्षक कीमतों पर थोक या खुदरा खरीद सकते हैं।
    उन्नावती सिल्क्स में लेहरिया प्रिंट की साड़ियों की विविधता दिलचस्प है।
  • आपके पास आधे आधे साड़ी हैं जहाँ एक आधे में जरी आम की बूटियाँ होंगी और दूसरी आधी में टाई एंड डाई के कुछ पैटर्न होंगे। पूरक डिजाइनर पल्लू में एक हिस्सा सादा होगा और दूसरा हिस्सा बंदिनी डिजाइन का होगा।
  • जॉर्जेट आधा आधा साड़ी दोनों पर लेहेरिया प्रिंट्स के साथ लेकिन अलग-अलग पैटर्न के साथ और इसके विपरीत रंगों पर। सभी लंबाई में बारी-बारी से पैटर्न एक आकर्षक दृश्य है।
  • तीसरी किस्म में सादी कला की साड़ी होती है, जिसमें एक भी आकृति होती है, लेकिन पल्लू में लेहरिया पैटर्न होता है, जो रंगीन रूप में फैला होता है।
  • कपड़े पर शिबोरी के आर्टी डिजाइन से कौन परिचित नहीं है? जापानी शब्द 'शिबोरु' का अर्थ है "शिकन, निचोड़ना या दबाना", इसमें कपड़े को आकार देकर और रंग या रंग के आवेदन से पहले इसे सुरक्षित करके वस्त्रों को सजाना शामिल है। डाई के अनुप्रयोग से पहले कपड़े में किए गए जोड़तोड़ को रेसिस्ट कहा जाता है, क्योंकि वे आंशिक रूप से या पूरी तरह से इच्छित क्षेत्रों को कवर करते हैं और उन्हें रंगे होने से रोकते हैं, जबकि बाकी हिस्से करते हैं। एक पुरानी पुरानी परंपरा, टाई एंड डाई इस दिन तक जीवित रही है, रंग भरने के लिए सबसे पुरानी, ​​बेहतरीन और सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों में से एक है। भारत कपड़े के लिए टाई और डाई विधि के उपयोग में अग्रणी देशों में से एक है।

    कपड़े पर शिबोरी के आर्टी डिजाइन से कौन परिचित नहीं है? जापानी शब्द 'शिबोरु' का अर्थ है "शिकन, निचोड़ना या दबाना", इसमें कपड़े को आकार देकर और रंग या रंग के आवेदन से पहले इसे सुरक्षित करके वस्त्रों को सजाना शामिल है। डाई के अनुप्रयोग से पहले कपड़े में किए गए जोड़तोड़ को रेसिस्ट कहा जाता है, क्योंकि वे आंशिक रूप से या पूरी तरह से इच्छित क्षेत्रों को कवर करते हैं और उन्हें रंगे होने से रोकते हैं, जबकि बाकी हिस्से करते हैं। एक पुरानी पुरानी परंपरा, टाई एंड डाई इस दिन तक जीवित रही है, रंग भरने के लिए सबसे पुरानी, ​​बेहतरीन और सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों में से एक है। भारत कपड़े के लिए टाई और डाई विधि के उपयोग में अग्रणी देशों में से एक है।

    मुझे और बताएँ!

  • शिबोरी का उपयोग प्रतिरोध-रंग के वस्त्रों के एक विशेष समूह को नामित करने के लिए किया जाता है, यह शब्द हेरफेर की प्रक्रिया से पहले कपड़े पर की गई कार्रवाई पर जोर देता है।
  • कहा जाता है कि शिबोरी को 8में जापान और इंडोनेशिया में उत्पन्न किया गयावीं शताब्दीथा।
  • शिबोरी में कई श्रम-गहन प्रतिरोध तकनीकों को शामिल किया गया है जिसमें विस्तृत पैटर्न को सिलाई करना और रंगाई से पहले सिलाई को कसकर इकट्ठा करना, कपड़ों के लिए जटिल डिजाइन बनाना शामिल है।
  •  
  • शिबोरी भी रस्सी, लकड़ी या अन्य सामग्री के एक कोर के चारों ओर कपड़े लपेटकर बनाया जा सकता है, और रंगाई से पहले इसे स्ट्रिंग या धागे से कसकर बांध दिया जा सकता है। कपड़े के क्षेत्र जो कोर के खिलाफ या बंधन के तहत हैं, वे रंगे नहीं रहेंगे।
  • रेजिस्टेंस को डाई (एस) के उपयोग से पहले, स्ट्रिंग या रबर बैंड के साथ रंगीन या परिधान के रूप में बाँधने, मोड़ने, चढ़ाना, या कपड़े को उखाड़ने के लिए बनाया जाता है। डाई को रंगीन भागों में घुसने से रोका जाता है जो रंगीन नहीं होते हैं, जिससे गैर-रंगीन भागों के माध्यम से डिजाइन या पैटर्न प्राप्त होता है।
  • चूँकि इस्तेमाल किए गए रेसिस्टर्स स्टैंसिल, पेस्ट और मोम के अधिक तेज धार वाले रेसिस्ट की तुलना में नरम होते हैं, शिबोरी नरम या धुंधले-धार वाले स्केच के पैटर्न के रूप में सामने आती है।
  • डायर किसी भी तरह से सामग्री पर अंकुश नहीं लगाता है, लेकिन डिजाइन को पूरी तरह से व्यक्त करने की स्वतंत्रता देता है जिससे अप्रत्याशित तत्व हमेशा मौजूद रह सकता है।
  • भारत में शिबोरी पहली बार साहित्य नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा पेश की गई थी, जो बंगाली साहित्य में अपनी विशेषज्ञता के अलावा देश की पारंपरिक कलाओं और शिल्पों को पुनर्जीवित करने और उनकी रुचि के लिए प्रसिद्ध थी।
  • शिबोरी का प्रचलन दिल्ली के शहरी गाँवों, राजस्थान के शिल्प समूहों और गुजरात के भुज में है।
  • अधिकांश कारीगर शिबोरी की रस्सी से बंधी तकनीक का उपयोग करते हैं, जिसमें रस्सी को कपड़े के एक बंडल से बांधा जाता है। केवल वह क्षेत्र, जिसमें रस्सी नहीं होती है, रंगीन हो जाता है, जबकि इसके नीचे के हिस्सों का विरोध होता है।
  • टाई-एंड-डाई की यह विधि शिबोरी प्रक्रिया का एक मोटे संस्करण है जिसे पहले समझाया जा चुका है।
  • शिबोरी प्रक्रिया में चार निगरानी चरण होते हैं - डिजाइन, सिलाई, कसने और रंगाई।

     

    डिजाइन

  • डिजाइन पहली अवधारणा है। डिजाइन के मूल मूल भाव में रैखिक और गैर-रेखीय दोनों पैटर्न होंगे, बुनियादी ढांचे के भीतर संयोजन की एक सरणी के रूप में व्यवस्थित है। चुने हुए डिजाइन को कागज या एक कंप्यूटर पेज पर और अंत में एक प्लास्टिक शीट पर स्थानांतरित किया जाता है।
  • प्लास्टिक की शीट को बिना सिलाई मशीन के माध्यम से चलाया जाता है। एक स्टैंसिल सभी छोटे छेदों के साथ डिज़ाइन की रूपरेखा के साथ बनाया गया है। इसके बाद स्टैंसिल को एक प्राकृतिक अपरकलित कपड़े पर रखा जाता है, जबकि एक डस्टर को मिट्टी के तेल में डुबोया जाता है और इसके साथ चांदी का घोल दबाया जाता है। डस्टर से समाधान कपड़े पर डिजाइन को चिह्नित करने वाले छोटे छेद के माध्यम से रिसता है। मिट्टी के तेल का उपयोग केवल एक बांधने की मशीन के रूप में किया जाता है जो शीघ्र ही वाष्पित हो जाता है। कपड़े धोने से चांदी का दाग आसानी से निकल जाता है। इस प्रकार डिजाइन को पढ़ा जाता है।
  •  

    सिलाई

  • प्रक्रिया में अगले स्तर सिलाई है क्योंकि रंग को केवल कपड़े के आकार के बाद किया जा सकता है। कपड़े पर किए गए अंकन के साथ, एक चल सिलाई मैन्युअल रूप से सुई और धागे के साथ डिजाइन के साथ बनाई गई है। प्राकृतिक कपड़े को डिजाइन के साथ स्थानांतरित करने के बाद, धागे के दोनों सिरों पर कपड़े का एक छोटा टुकड़ा जुड़ा होता है जो धागे को दोनों छोर से खींचने की अनुमति देता है, इस प्रकार कपड़े को कुचल दिया जाता है।
  •  

    कसना

  • इस प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यहां, दो लोगों की आवश्यकता होती है, एक कपड़े को पकड़ने के लिए, दूसरा विपरीत दिशाओं में धागे के दोनों सिरों को खींचने के लिए। धागे के साथ कपड़ा सिकुड़ जाता है और फिर एक गाँठ कपड़े को बांधने के लिए बनाई जाती है, रंगाई के समय रंग को उसमें (गाँठ द्वारा संकुचित क्षेत्र) को रिसने की अनुमति नहीं देता है।
  • गाँठ बाँधने के लिए दबाव की सही मात्रा की आवश्यकता होती है क्योंकि ढीले लूप रंग को उस क्षेत्र में गाँठ में घुसने की अनुमति दे सकता है जहां रंग की आवश्यकता नहीं है। जब रंगाई की जाती है, तो कपड़े पर पूरा क्षेत्र गाँठ के भीतर स्पॉट के अलावा रंगीन हो जाता है जिसे सिलाई-विरोध मरने की तकनीक के रूप में संदर्भित किया जाता है।
  •    

    रंगाई

  • पूरी हो गई है, कपड़े को कुछ समय के लिए हल्के साबुन के घोल में भिगोया जाता है। इसके बाद, यह रंगाई के लिए स्नान में डूबा हुआ है।
  • स्नान निम्नलिखित तरीके से तैयार किया गया है: 1:20 के क्षेत्र में तरल अनुपात (एमएलआर) की सामग्री को बनाए रखा जाता है। जैसे 20 लीटर पानी के मुकाबले 1 किलो कपड़ा या धागा।
  • रंग की सघनता के लिए, 5 प्रतिशत का वर्णन 50 ग्राम रंग (या किसी अन्य रसायन) को 20 लीटर पानी में 1 किलोग्राम कपड़े या धागे में भंग करने के लिए संदर्भित करता है।
  • इंडिगो के अलावा, अन्य सभी रंग 'हॉट प्रोसेस' हैं, अर्थात रंगाई प्रक्रिया के दौरान उन्हें हल्के गर्म होने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। सभी रंगों के लिए, कपड़े / धागे को लगभग 45 मिनट तक स्नान में रखना है।
  • प्राकृतिक रंगाई में, रंग के अवशोषण के साथ-साथ तेजी के लिए, डाई की एकाग्रता में वृद्धि के लिए वृद्धिशील रूप से बढ़ाया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, एक बार 5 प्रतिशत इंडिगो स्नान तैयार हो गया है और कपड़े / धागे को इसमें डुबो दिया गया है, यदि एक गहरे रंग की छाया की आवश्यकता होती है, तो वांछित छाया प्राप्त होने तक अधिक इंडिगो को धीरे-धीरे (1-2 प्रतिशत) जोड़ा जाना चाहिए। विभिन्न रंगों के लिए, रसायनों को पानी और इंडिगो के साथ मिलाया जाता है और उनके साथ वायुमंडलीय प्रतिक्रिया से वांछित परिणाम अलग-अलग मिलते हैं।
  • इस प्रक्रिया में, डिज़ाइन को प्राकृतिक रूप से तैयार किए गए कपड़े पर स्थानांतरित कर दिया जाता है और सिलाई पूरी हो जाती है, कपड़े को पहले इंडिगो के लाइटर शेड से युक्त एक वैट में डुबोया जाता है।
  • कपड़े सूख जाने के बाद, कसने का काम किया जाता है। यह तब एक बर्तन में डूब जाता है जिसमें इंडिगो की गहरी छाया होती है। कड़ा हुआ धागा के आसपास का क्षेत्र सिकुड़ जाता है और संकुचित हो जाता है और रंग को रिसाव नहीं होने देता है, इसलिए उस हिस्से को मूल हल्का छाया बनाए रखने की अनुमति देता है।
  • शिबोरी तकनीक में, टांके के करीब जो एक गाँठ में कड़ा होता है, उतना बड़ा क्षेत्र होगा जहां रंग टपकता नहीं है क्योंकि कपड़े टांके के साथ डाई को फिर से तैयार करता है।
  • कुंआ! चूंकि कपड़े जो कि शिबोरी तकनीक का उपयोग करके संसाधित किया गया है, वे पिनपिक्स को सहन करेंगे जहां डिजाइन को सिले किया गया था, अगर प्रकाश के खिलाफ आयोजित किया जाता है, तो सुई द्वारा बनाए गए मिनट के छेद दिखाई देने चाहिए।
  • हालांकि, सामान्य रंगे कपड़े प्रामाणिक शिबोरी के रूप में बंद हो गए और सिलाई के निशान का प्रतिनिधित्व करने वाले रंगे हुए डॉट्स होने से प्रकाश को गुजरने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • टाई और डाई के अच्छे परिणामों के लिए कपास एक व्यापक रूप से पसंदीदा प्राकृतिक फाइबर सामग्री है क्योंकि यह बारीकी से लगाए गए धागे के सरल जाली का एक अच्छा सादा बुनाई है। यह नरम, चिकनी बनावट, हल्का, हवादार, सरासर है और दैनिक पहनने और लंबी अवधि के लिए कपड़े के रूप में बहुत आरामदायक है। लेहेरिया के लहराती फैलाव और शिबोरी में क्रिस क्रॉस कलर बैंड पारंपरिक स्टाइलिश प्रदर्शनों में पारंपरिक बुनाई के प्रभावशाली संग्रह के लिए बनाते हैं।
  • कोटा कॉटन, बंधनी आर्ट सिल्क, साटन सिल्क, जॉर्जेट, चंदेरी सीको, शिफॉन आदि में आपकी प्यारी साड़ियाँ हैं। आपके पास बहुत सारी जीवंत, रोमांचक और मन को लुभाने वाली डिज़ाइन हैं, जो इंद्रियों को ख़त्म कर देती हैं।