We are open and delivering worldwide! Safe, Timely & Efficient

Kota|Batik

Filter

4 Items

Set Descending Direction

4 Items

Set Descending Direction

Batik prints – the traditional craft of beautifying fabrics that has evolved into an exotic art

If one were to say that Batik is a play with colors, one need not be wrong. A wave of fresh breeze, novel and catchy, Batik prints are eye-catching for their picturesque white designs on coloured canvas. A lot of white floral art work seemingly painted on a contrastingly dark background, either on the entire portion or sections of the saree, would most probably make it a Batik printed fabric.

Batik started as a handicraft and reached the status of an art. The versatility of Batik makes it a good hobby for an enthusiast, a medium of expression for an artist, a way of decorating dresses or even an avenue for earning a decent livelihood. Sales in big cities of India are good and it is being exported to countries like UK, USA and Japan.

What can batik be termed as? Is it an art, a craft, or simply a beautiful process? Well, truly speaking one could say all three rolled into one.
  • It is art because what is produced is a work of wonder and beauty from honing basic knowhow to a fine art through becoming highly proficient at something through practice.
  • It is a craft because it involves an exercise of the human skill for achieving something artistic and decorative.
  • It is a process since steps have to be undergone according to a system of rules and principles, methodically and with care to produce a desired result.
  • Batik is an art medium and methodology for creating design, usually on cloth, by applying wax to portions of the material, dyeing the fabric, then removing the wax. This gives outcomes of vibrant colors and incredible designs. A more difficult variant is the Pen Batik, a more intricately applied art with special tools that follows the same principles of using wax resist and dyeing, but is more painstaking and with exquisite outcomes.
  • The conventional Batik process has a resist or a physical block in some form or the other to prevent desired areas on the fabric from being penetrated by dye. Generally wax is used as a resist in Batik. The block printed areas where resists are in place, come out as un-dyed areas in the dyed fabric. It could remain that way or further these un-dyed areas could be coloured differently in repeat wax dye process. This can be repeated several times at the same place or different places with wax-dye process time and again for every subsequent colour change.
  • Batik can be done with various types of dye & wax on cotton, silk and other natural fabrics. Cotton is easy to work with and generally gives best results. Repeated waxing and dyeing over the same place gets newer overlapping results. The idea in multi-layer colouring is to start with lighter shades of the dye and proceed to deeper ones. Here care is taken that wax resist is neither light nor heavy since lighter would mean possible penetration of dye onto resist area and heavy would mean the wax will not resist properly and could cause patches or dye spreads when removed.
  • The rarer type of Batik is Pen Batik. Fine designs are made on the fabric using ‘Tjanting’ tools. Batik with a Tjanting pen technique is more intricate. The Tjanting Pen is a wooden handled tool with a tiny metal cup with a tiny spout, out of which the wax seeps. After the last dyeing, the fabric is hung up to dry. Then it is dipped in a solvent to dissolve the wax, or ironed between paper towels or newspapers to absorb the wax and reveal the deep rich colors and the fine crinkle lines that give the formed batik its character. This traditional method of batik making is called batik tulis. The Tjanting Pen technique allows for thin and finely controlled lines of wax to be laid out as resists over a designated area.
  • Molten wax at a certain temperature is carefully put on the design lines with Batik dropper pen. A lot of care has to be taken since too thin a layer could give way to colour dye through surface cracks. Temperature of the wax is normally kept between 200 and 230 degrees.
  • In both the cases boiling water is used to melt away the wax. After the entire resist dyeing process is over, and the wax has melted away in hot water, a neatly dyed plain or designer fabric is available.
  • Batik is akin to the tie & dye process art with a slight difference. Instead of tying the fabric at various points, wax is used as resists in the specified areas of the design. Wax is easily removed and the process assumes a neat finish. The colors used in batik for the beautiful creative designs on the fabric, make the products look stunning. The artistic freedom that is available makes for a lot of unusual imagery that has captured the imagination of the market. Moreover, the colors used are very durable and what once was exclusive, is seen on everyday clothing as well.
    There are 4 popularly known methods for creating Batik in India.
  • In the splash method, the wax is splashed or poured on to the cloth.
  • The screen-printing method involves a stencil.
  • The hand-painting one is by a Kalamkari pen.
  • The scratch and starch resist is one more method.
  • The art may have come from Indonesia and China in some age. But from the time it has come to India, it has evolved with its own nuances and styles to become independent of the original and evolved an identity of its own.
  • The history of Indian batik can be traced as far back as 2000 years. Indians were conversant with the resist method of printing designs on cotton fabrics long before any other nation had even tried it. Rice starch and wax were initially used for printing on fabrics. It is believed that after initial popularity of batik in the past, the tedious process of dyeing and waxing caused the slight decline of batik in India till a reversal in recent times.
  • There are several countries known for their batik creations, starting with India where it originated. After that it moved to Indonesia, Malaysia, Sri Lanka, Thailand and the West. Today countries like Indonesia, Japan, China, Azerbaijan, Philippines, Egypt, Nigeria, Senegal and  Singapore are countries where the Batik as an art is also flourishing.
  • Due to globalization and industrialization, which introduced automated techniques, new breeds of batik, known as batik cap and batik print emerged, and the traditional batik, which incorporates the hand written wax-resist dyeing technique is known now as batik tulis or literally meaning 'Written Batik'.
  • Contemporary batik, while owing much to the past, is markedly different from the more traditional and formal styles. For example, the artist may use etching, discharge dyeing, stencils, different tools for waxing and dyeing, or wax recipes with different resist values. They may work with silk, cotton, wool, leather, paper, or even wood and ceramics.
  • Depending on the quality of the art work, craftsmanship, and fabric quality, batik can be priced from several dollars (for fake poor quality batik) to several thousand dollars.
  • Batik can be seen in furnishing fabrics, heavy canvas wall hangings, tablecloths and household accessories.
  • Batik techniques are used by famous artists to create batik paintings, which grace many homes and offices.
  • Modern batik is livelier and brighter in the form of murals, wall hangings, paintings, household linen and scarves.
  • The market has increased in the last decade and there is more product diversification and one can see batik on clothes, home furnishings, fabric and paintings. Beads and mirrors are also added to the fabric to give it a more decorative look.
  • Batik is popular in India and there are very many websites that sell them online. Unnati Silks has a unique collection of various types of batik sarees. The other day there was this lady I met searching for latest unique batik sarees & jacket designs, printed on linen, silk, cotton for batik wedding sarees wholesale. I did not hesitate when suggesting that she try Unnati Silks.
    Well, you have the conventional Batik process created Batik prints on sarees. You have also the Tjanting pen process created designs on sarees. There has been a good many experiments of Batik done on different fabrics other than cotton which is generally preferred for batik to turn out good. Let me give you examples.
  • Bengal is famous for its handloom silk sarees. Fine, smooth, of good texture, airy and light on the body, the Bengal Silk Saree is preferred for almost any occasion from daily casual to traditional occasions, social functions to grand parties and weddings. If you do online shopping for printed batik sarees through images and prices on manufacturers Facebook page in West Bengal, you could get some very nice sarees to chose from. Alternatively you have the Unnati Silks website, where you get almost anything in handloom Batik printed sarees at attractive prices.
  • It is a marvellous fabric that shows up designs and adornments in a vibrancy and luster that is most endearing. Batik has been tried out most successfully in designs covering most of the body, plain and lightly distributed in motifs supplemented by a decorative border and pallu. Floral forays, light and spaced motif experiments to the positively dense or heavily color filled imagery are variations of the Batik theme. You could buy beautiful batik work and hand batik print georgette silk and cotton sarees in online shopping wholesale or retail at attractive prices from anywhere in India.
  • There is a plant with shoots on a space filled canvas, there are colorful object filled placements seemingly random but studied closely show a pattern emerge, there are the extremely plain versions but attractive by way of body color and decorative border, but all of them having one thing in common – the beautifully executed Batik in brilliance and vibrancy. Backed by the Silk Mark label, the Bengal Batik Silk fabric gets an additional legal backing to the even otherwise genuine handloom claim.
  • The Kota Cotton Saree is translucent muslin, much preferred for its light weight, softness and airy comfort. Known for its smooth texture the Kota Cotton Saree is woven in a manner designed to produce check patterns on the fabric. If the Kota Cotton is a endearing fabric and you bring the unique and enchanting designs of Batik onto it, you have a lyrical quality to it.
  • Lovely floral compositions in vibrant Batik red, enigmatic figurine fantasy in green Batik, blocks of a shapely pattern neatly arrayed in light brown Batik – on the pallu or end piece, are some of the many and more captivating designer offerings in Kota Batik cotton sarees.
  • The body of these sarees have the randomly strewn straw design that acts beautifully for a filler on a plain expanse. The focus of the Batik designs is concentrated on the pallu and the border. The changes in shades of the same color on the background mesh of the Kota fabric sets of a nice Batik designer pattern throughout, that would not have been possible on a plain fine weave. The voids in designs due to the batik characteristic combined with the underlying mesh pattern gives that beautiful designer effect that again would not be possible if was a plain weave.
  • In the Pen Batik variety you have, the more special pen Batik sarees. Batik prints are generally light coloured designs on dark coloured backgrounds and the spread of Batik printed sarees in pure handloom cottons in the dark shades of bright colours have single or double colour backgrounds that make the contrasts all the more appealing. Designs range from simple spread motifs on plain backdrops, to floral arrangements or abstract designs spread across the entire saree on single coloured background or half half saree in dual colour.
  • If you have been shopping for linen batik print sarees, batik print work cotton, silk sarees in Hyderabad, then you must visit the srores of Unnati Silks, which luckily for you is at two places in Hyderabad. You could check out on their website for the range and prices with images and order to be delivered home free of cost anywhere in India
  • अगर कोई यह कहे कि बाटिक रंगों के साथ एक नाटक है, तो गलत होने की जरूरत नहीं है। ताजी हवा, उपन्यास और आकर्षक लहर की एक लहर, बाटिक प्रिंट रंगीन कैनवास पर अपने सुरम्य सफेद डिजाइनों के लिए आंखों को पकड़ने वाला है। साड़ी के पूरे हिस्से या वर्गों पर एक सफेद रंग की पुष्प कला का एक बहुत ही विपरीत रूप से काले रंग की पृष्ठभूमि पर चित्रित किया गया है, जो संभवतः इसे एक बाटिक मुद्रित कपड़े बना देगा।
  • बाटिक एक हस्तकला के रूप में शुरू हुआ और एक कला की स्थिति तक पहुंच गया। बाटिक की बहुमुखी प्रतिभा इसे एक उत्साही के लिए एक अच्छा शौक, एक कलाकार के लिए अभिव्यक्ति का एक माध्यम, सजाने के कपड़े का एक तरीका या यहां तक कि एक सभ्य आजीविका कमाने के लिए एक अवसर है। भारत के बड़े शहरों में बिक्री अच्छी है और इसे यूके, यूएसए और जापान जैसे देशों में निर्यात किया जा रहा है।
  • बैटिक को क्या कहा जा सकता है? क्या यह एक कला, एक शिल्प या बस एक सुंदर प्रक्रिया है? ठीक है, वास्तव में एक बोल तीनों एक में लुढ़का सकता है।
  • यह कला है क्योंकि जो कुछ भी उत्पन्न होता है वह अभ्यास के माध्यम से किसी चीज़ में अत्यधिक कुशल बनने के लिए बुनियादी ज्ञान को एक उत्कृष्ट कला के रूप में सम्मानित करने से आश्चर्य और सौंदर्य का काम है। 
  • यह एक शिल्प है क्योंकि इसमें कुछ कलात्मक और सजावटी हासिल करने के लिए मानव कौशल का एक अभ्यास शामिल है।
  • यह एक प्रक्रिया है क्योंकि नियमों और सिद्धांतों की एक प्रणाली के अनुसार कदम उठाना पड़ता है, विधिपूर्वक और देखभाल के साथ वांछित परिणाम उत्पन्न करने के लिए।
  • बाटिक एक कला माध्यम है और आमतौर पर कपड़े बनाने के लिए, सामग्री के कुछ हिस्सों में मोम को लगाकर, कपड़े को रंगकर, फिर मोम को हटाकर कला माध्यम बनाया जाता है। यह जीवंत रंगों और अविश्वसनीय डिजाइनों के परिणाम देता है। एक और अधिक कठिन संस्करण पेन बाटिक है, विशेष उपकरणों के साथ अधिक जटिल रूप से लागू कला है जो मोम प्रतिरोध और रंगाई का उपयोग करने के समान सिद्धांतों का पालन करता है, लेकिन अधिक श्रमसाध्य और उत्तम परिणामों के साथ है।
  • कपड़े पर वांछित क्षेत्रों को रोकने के लिए पारंपरिक बाटिक प्रक्रिया में किसी न किसी रूप में एक प्रतिरोध या एक भौतिक अवरोध होता है। आम तौर पर मोम का इस्तेमाल बाटिक में एक प्रतिरोध के रूप में किया जाता है। ब्लॉक प्रिंट किए गए क्षेत्र जहां रेसिस्ट जगह में हैं, रंगे कपड़े में संयुक्त राष्ट्र के रंगे हुए क्षेत्रों के रूप में बाहर आते हैं। यह इस तरह से रह सकता है या आगे इन गैर-रंगे क्षेत्रों को दोहराने वाले डाई की प्रक्रिया में अलग तरह से रंगा जा सकता है। इसे एक ही स्थान पर या वैक्स-डाई प्रक्रिया के समय के साथ अलग-अलग स्थानों पर और बाद में हर बाद के रंग परिवर्तन के लिए दोहराया जा सकता है।
  • बाटिक विभिन्न प्रकार के डाई और मोम के साथ कपास, रेशम और अन्य प्राकृतिक कपड़ों पर किया जा सकता है। कपास के साथ काम करना आसान है और आम तौर पर सर्वोत्तम परिणाम देता है। एक ही स्थान पर बार-बार वैक्सिंग और रंगाई करने से नए अतिव्यापी परिणाम मिलते हैं। मल्टी-लेयर कलरिंग में विचार डाई के लाइटर शेड्स से शुरू करना है और गहराई तक जाना है। यहाँ इस बात का ध्यान रखा जाता है कि मोम का प्रतिरोध न तो हल्का हो और न ही भारी हो क्योंकि लाइटर का मतलब होता है कि प्रतिरोध क्षेत्र पर डाई का प्रवेश संभव हो और भारी का मतलब होगा कि मोम ठीक से विरोध नहीं करेगा और हटाने पर पैच या डाई फैल सकता है।
  • बाटिक का दुर्लभ प्रकार पेन बाटिक है। Ant तंजंटिंग ’टूल्स के उपयोग से कपड़े पर बारीक डिजाइन बनाए जाते हैं। Tjanting कलम तकनीक के साथ बाटिक अधिक जटिल है। Tjanting Pen एक लकड़ी का एक छोटा सा टोंटी वाला धातु का कप है, जिसमें से मोम रिसता है। अंतिम रंगाई के बाद, कपड़े को सूखने के लिए लटका दिया जाता है। फिर मोम को घोलने के लिए इसे विलायक में डुबोया जाता है, या मोम को सोखने के लिए कागज़ के तौलिये या अखबारों के बीच इस्त्री किया जाता है और गहरे धूसर रंगों और महीन क्रिंकल रेखाओं को प्रकट करता है जो गठित बैटिक को उसका चरित्र प्रदान करता है।मेकिंग के इस पारंपरिक तरीके कोकहा जाता है बैटिकबैटिक ट्यूलिस। Tjanting Pen तकनीक मोम की पतली और बारीक नियंत्रित रेखाओं को एक निर्दिष्ट क्षेत्र पर प्रतिरोधक के रूप में रखने की अनुमति देती है।
  • एक निश्चित तापमान पर पिघला हुआ मोम सावधानी से बाटिक ड्रॉपर पेन के साथ डिजाइन लाइनों पर डाला जाता है। बहुत सी देखभाल करनी पड़ती है क्योंकि बहुत पतली परत सतह की दरारों के माध्यम से रंग डाई को रास्ता दे सकती है। मोम का तापमान सामान्य रूप से 200 और 230 डिग्री के बीच रखा जाता है।
  • दोनों मामलों में उबलते पानी का उपयोग मोम को पिघलाने के लिए किया जाता है। संपूर्ण प्रतिरोध रंगाई प्रक्रिया समाप्त होने के बाद, और मोम गर्म पानी में पिघल गया है, एक बड़े करीने से रंगे सादे या डिजाइनर कपड़े उपलब्ध हैं।
  • बाटिक एक मामूली अंतर के साथ टाई और डाई प्रक्रिया कला के समान है। विभिन्न बिंदुओं पर कपड़े बांधने के बजाय, मोम का उपयोग डिजाइन के निर्दिष्ट क्षेत्रों में रेसिस्ट के रूप में किया जाता है। मोम को आसानी से हटा दिया जाता है और प्रक्रिया एक साफ खत्म मान लेती है। कपड़े पर सुंदर रचनात्मक डिजाइन के लिए बैटिक में इस्तेमाल किए गए रंग, उत्पादों को तेजस्वी बनाते हैं। जो कलात्मक स्वतंत्रता उपलब्ध है, वह बहुत सारी असामान्य कल्पना के लिए बनाती है जिसने बाजार की कल्पना को पकड़ लिया है। इसके अलावा, उपयोग किए जाने वाले रंग बहुत टिकाऊ होते हैं और जो एक बार अनन्य था, वह रोजमर्रा के कपड़ों पर भी देखा जाता है।
    भारत में बाटिक बनाने के 4 लोकप्रिय तरीके हैं।
  • छप विधि में, मोम को छीला जाता है या कपड़े पर डाला जाता है।
  • स्क्रीन-प्रिंटिंग विधि में एक स्टैंसिल शामिल है।
  • हाथ की पेंटिंग एक कलमकारी पेन द्वारा बनाई गई है।
  • खरोंच और स्टार्च प्रतिरोध एक और विधि है।
  • कला किसी जमाने में इंडोनेशिया और चीन से आई होगी। लेकिन जब से यह भारत में आया है, यह अपनी स्वयं की बारीकियों और शैलियों के साथ विकसित हुआ है ताकि मूल से स्वतंत्र हो और अपनी खुद की एक पहचान विकसित कर सके।
  • भारतीय बैटिक के इतिहास का पता लगाया जा सकता है कि 2000 साल पहले तक। किसी अन्य राष्ट्र ने भी इसे आजमाया था, इससे पहले कि लंबे समय से सूती कपड़ों पर डिजाइन के प्रतिरोध के तरीके के साथ भारतीय बातचीत कर रहे थे। चावल के स्टार्च और मोम का इस्तेमाल शुरू में कपड़ों पर छपाई के लिए किया जाता था। यह माना जाता है कि अतीत में बैटिक की शुरुआती लोकप्रियता के बाद, रंगाई और वैक्सिंग की थकाऊ प्रक्रिया ने भारत में हाल के दिनों में उलटफेर तक बैटिक की मामूली गिरावट का कारण बना।
  • ऐसे कई देश हैं जो अपनी बैटिक कृतियों के लिए जाने जाते हैं, भारत से शुरू करते हैं जहां इसकी उत्पत्ति हुई थी। उसके बाद यह इंडोनेशिया, मलेशिया, श्रीलंका, थाईलैंड और पश्चिम में चला गया। आज इंडोनेशिया, जापान, चीन, अजरबैजान, फिलीपींस, मिस्र, नाइजीरिया, सेनेगल और सिंगापुर जैसे देश ऐसे देश हैं जहां कला के रूप में बाटिक भी फल-फूल रहा है।
  • वैश्वीकरण और औद्योगिकीकरण के कारण, जिसने स्वचालित तकनीकों को पेश किया, बैटिक की नई नस्लें, जिसे बैटिक कैप और बैटिक प्रिंट के रूप में जाना जाता है, और पारंपरिक बैटिक, जिसमें हाथ से लिखी जाने वाली मोम-प्रतिरोध रंगाई तकनीक शामिल है, को अब बैटिक ट्यूल या शाब्दिक अर्थ के रूप में जाना जाता है। लिखा हुआ बाटिक ’।
  • समकालीन बैटिक, अतीत के लिए बहुत अधिक होने के कारण, अधिक पारंपरिक और औपचारिक शैलियों से अलग है। उदाहरण के लिए, कलाकार अलग-अलग प्रतिरोध मूल्यों के साथ नक़्क़ाशी, निर्वहन रंगाई, स्टेंसिल, वैक्सिंग और रंगाई के लिए विभिन्न उपकरण या मोम व्यंजनों का उपयोग कर सकता है। वे रेशम, कपास, ऊन, चमड़े, कागज, या लकड़ी और चीनी मिट्टी की चीज़ें के साथ काम कर सकते हैं।
  • कला के काम की गुणवत्ता, शिल्प कौशल और कपड़े की गुणवत्ता के आधार पर, बैटिक की कीमत कई डॉलर (नकली खराब गुणवत्ता वाले बैटिक) से कई हजार डॉलर तक हो सकती है।
  • बाटिक को कपड़े, भारी कैनवस की दीवार पर लटकने, मेज़पोश और घरेलू सामान में देखा जा सकता है।
  • बैटिक तकनीकों का उपयोग प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा बैटिक पेंटिंग बनाने के लिए किया जाता है, जो कई घरों और कार्यालयों को प्रसन्न करता है।
  • आधुनिक बैटिक भित्ति चित्र, भित्ति चित्र, पेंटिंग, घरेलू लिनन और स्कार्फ के रूप में जीवंत और शानदार है।
  • पिछले दशक में बाजार में वृद्धि हुई है और अधिक उत्पाद विविधता है और कोई भी कपड़े, घरेलू सामान, कपड़े और चित्रों पर बैटिक देख सकता है। इसे और अधिक सजावटी रूप देने के लिए कपड़े में बीड्स और मिरर भी मिलाए जाते हैं।
  • बाटिक भारत में लोकप्रिय है और बहुत सारी वेबसाइटें हैं जो उन्हें ऑनलाइन बेचती हैं। Unnati Silks में विभिन्न प्रकार की बैटिक साड़ियों का एक अनूठा संग्रह है। दूसरे दिन यह महिला थी जिसे मैं नवीनतम अद्वितीय बैटिक साड़ियों और जैकेट डिजाइनों के लिए खोज कर रहा था, जो बैटन शादी की साड़ियों के थोक के लिए लिनन, रेशम, कपास पर मुद्रित थे। मुझे यह सुझाव देने में कोई संकोच नहीं हुआ कि वह उन्नावती सिल्क्स की कोशिश करती है।
    ठीक है, आपके पास पारंपरिक बाटिक प्रक्रिया है जो साड़ियों पर बाटिक प्रिंट बनाती है। आपके पास साड़ियों पर तंजिंग पेन प्रक्रिया निर्मित डिज़ाइन भी हैं। कॉटन के अलावा विभिन्न फैब्रिक पर किए गए बाटिक के कई अच्छे प्रयोग हुए हैं, जिन्हें आमतौर पर बैटिक के लिए पसंद किया जाता है। मैं आपको उदाहरण देता हूं।
  • बंगाल अपनी हथकरघा सिल्क साड़ियों के लिए प्रसिद्ध है। शरीर पर अच्छी बनावट, हवादार और हवादार, महीन, चिकना, बंगाल सिल्क साड़ी दैनिक अवसरों से लेकर पारंपरिक अवसरों, सामाजिक समारोहों से लेकर भव्य पार्टियों और शादियों तक लगभग किसी भी अवसर के लिए पसंद की जाती है। यदि आप पश्चिम बंगाल में निर्माताओं के फेसबुक पेज पर छवियों और कीमतों के माध्यम से मुद्रित बैटिक साड़ियों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, तो आप कुछ बहुत अच्छी साड़ियों को चुन सकते हैं। वैकल्पिक रूप से आपके पास Unnati Silks वेबसाइट है, जहाँ आपको आकर्षक कीमतों पर हथकरघा बाटिक प्रिंटेड साड़ियों में लगभग कुछ भी मिलता है।
  • यह एक अद्भुत कपड़े है जो एक जीवंतता और चमक में डिजाइन और अलंकरण को दर्शाता है जो सबसे अधिक प्रिय है। बाटिक को शरीर के अधिकांश भाग को कवर करने वाले डिजाइनों में सबसे अधिक सफलतापूर्वक आजमाया गया है, एक सजावटी सीमा और पल्लू द्वारा पूरक रूपांकनों में सादे और हल्के ढंग से वितरित किया गया है। फ्लोरल फोर्सेस, हल्के और फैले हुए आकृति के प्रयोग सकारात्मक रूप से घने या भारी रंग से भरे इमेजरी, बाटिक थीम के रूपांतर हैं। आप भारत में कहीं से भी आकर्षक दामों पर सुंदर बैटिक वर्क और हैंड बैटिक प्रिंट जॉर्जेट सिल्क और कॉटन साड़ी ऑनलाइन शॉपिंग होलसेल या रिटेल में खरीद सकते हैं।
  • अंतरिक्ष से भरे कैनवस पर शूट के साथ एक पौधा होता है, रंग-बिरंगी वस्तु भरी हुई प्लेसमैंट प्रतीत होती है, लेकिन बेतरतीब ढंग से दिखाई देती है, लेकिन एक पैटर्न उभर कर आता है, शरीर के रंग और सजावटी बॉर्डर के साथ बेहद सादे संस्करण हैं लेकिन आकर्षक हैं आम तौर पर एक बात - शानदार और जीवंतता में सुंदर रूप से बाटिक। सिल्क मार्क लेबल के आधार पर, बंगाल बाटिक सिल्क फैब्रिक को एक अतिरिक्त कानूनी समर्थन मिलता है, अन्यथा वास्तविक हथकरघा दावा भी।
  • कोटा कॉटन साड़ी पारभासी मलमल है, जो अपने हल्के वजन, कोमलता और हवादार आराम के लिए बहुत पसंद की जाती है। अपनी चिकनी बनावट के लिए जाना जाने वाला कोटा कॉटन साड़ी कपड़े पर चेक पैटर्न बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यदि कोटा कॉटन एक लुभावना कपड़ा है और आप इस पर बाटिक की अनूठी और आकर्षक डिजाइन लाते हैं, तो आपके पास इसकी एक गीतात्मक गुणवत्ता है।
  • हरे रंग के बाटिक में जीवंत बाटिक लाल, गूढ़ आलंकारिक कल्पना में प्यारी पुष्प रचनाएँ, हल्के भूरे रंग के बाटिक में बड़े करीने से उभरे पैटर्न के ब्लॉक - पल्लू या अंत के टुकड़े पर, कोटा बाटिक सूती साड़ियों में कई और अधिक लुभावना डिजाइनर प्रसाद हैं।
  • इन साड़ियों के शरीर में बेतरतीब ढंग से बिखरे हुए पुआल के डिजाइन होते हैं जो एक सादे विस्तार पर भराव के लिए खूबसूरती से कार्य करते हैं। बाटिक डिजाइन का ध्यान पल्लू और सीमा पर केंद्रित है। पूरे एक अच्छे बाटिक डिजाइनर पैटर्न के कोटा फैब्रिक सेट के बैकग्राउंड मेश पर एक ही रंग के शेड्स में बदलाव, यह एक सादे महीन बुनाई पर संभव नहीं होगा। अंतर्निहित जाल पैटर्न के साथ संयुक्त बैटिक विशेषता के कारण डिजाइन में voids उस सुंदर डिजाइनर प्रभाव को देते हैं जो एक सादे बुनाई होने पर फिर से संभव नहीं होगा।
  • आपके पास जो पेन बाटिक वैरायटी है, उसमें ज्यादा खास पेन बाटिक साड़ी है। बाटिक प्रिंट आम तौर पर गहरे रंग की पृष्ठभूमि पर हल्के रंग के डिजाइन होते हैं और चमकीले रंगों के गहरे रंगों में शुद्ध हथकरघा कॉटन में बाटिक मुद्रित साड़ियों के प्रसार में एकल या दोहरे रंग की पृष्ठभूमि होती है जो सभी अधिक आकर्षक बनाती हैं। डिजाइन सादे पृष्ठभूमि पर साधारण प्रसार रूपांकनों से लेकर, पुष्प व्यवस्था या अमूर्त डिजाइन एकल रंग की पृष्ठभूमि पर पूरे साड़ी या दोहरे रंग में आधा साड़ी में फैले हुए हैं।
  • अगर आप हैदराबाद में लिनेन बैटिक प्रिंट की साड़ियों, बटिक प्रिंट वर्क की सूती, सिल्क की साड़ियों की खरीदारी कर रहे हैं, तो आपको उन्नावी सिल्क्स के किनारों पर जाना चाहिए, जो आपके लिए सौभाग्य से हैदराबाद में दो स्थानों पर है। आप भारत में कहीं भी मुफ्त में चित्रों और ऑर्डर के साथ उनकी वेबसाइट की रेंज और कीमतों की जांच कर सकते हैं