We are open and delivering worldwide! Safe, Timely & Efficient

Mangalgiri|Handloom Cotton|Weaving

Filter

10 Items

Set Descending Direction
  1. Green-Red Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree Green-Red Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Green-Red Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  2. Yellow-Blue Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Yellow-Blue Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  3. Orange Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Orange Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  4. Yellow Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Yellow Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹2,040.00 Regular Price ₹4,798.00
  5. Black Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Black Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹2,040.00 Regular Price ₹4,798.00
  6. Red Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Red Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹2,040.00 Regular Price ₹4,798.00
  7. Green Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree Green Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Green Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  8. Yellow-Blue Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree Yellow-Blue Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Yellow-Blue Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  9. Green-Yellow Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree Green-Yellow Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Green-Yellow Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00
  10. Green Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    -57%
    Green Pure Handloom Pavni Mangalagiri Cotton Saree
    Special Price ₹1,870.00 Regular Price ₹4,398.00

10 Items

Set Descending Direction

Weaving – A craft involving the making of fabrics from yarn threads

Weaving is a way of producing fabric. There are many types of looms for weaving fabrics which are operated by hand and known as handlooms. Mass production of fabrics nowadays is through power looms or automatic looms. There are two distinct sets of threads known as warp (longitudinal lay on the loom or machine used for weaving) and weft (the lateral threads that are interlaced with the warp at right angles).
  • The interstices or crossing of the threads determines the characteristic of the weave.
  • The yarn count and number of warp and filling yarns to the square inch determine the closeness or looseness of a weave.
  • Woven fabrics may also be varied by the proportion of warp yarns to filling yarns. Some effects are achieved by the selection of yarns or by the combination of yarns.
  • There are three basic weaves - the plain weave, the satin weave and the twill weave. Sometimes, an arrangement is also incorporated, for weaving a pattern or design, within a main weave, known as, jacquard.
    Weaving involves the following basic stages before the completed fabric is obtained.
  • The selection of yarn for the fabric which could be natural fibres like cotton, jute, silk or artificial like georgette, chiffon, polyester, nylon etc. or blends of both types.
  • The spinning of yarn to make it into thread needed for the weaving. Spinning could involve rolling or twisting of more than one yarn fibre into a single thread for strength.
  • The separation of the thread, which is by reeling it onto a frame for the warp, and onto small reels or shuttles or bobbins for the weft to interlace with the warp threads for the weave.
  • The weaving process, for the movement of the threads, across and forth, for completing the fabric.
  • Dyeing has now become an integral part of the weaving process since it is very rare for plain threads to be simply woven without any colouring done. Dyeing of threads is mostly done prior to the weave though you could have the woven fabric dyed after weaving too. Colours chosen are natural vegetable and organic dyes or chemical dyes, though the latter is mostly used nowadays on account of being cheaper and more easily available.
  • The saree is a traditional Indian fabric preferred by most women in India and is a national heritage. It is made by weaving either by traditional methods or by modern looms. There are very many centres for the weaving of ethnic sarees across India. Kanjivaram, Dharmavaram, Arani, Mysore, Bangalore, Coimbatore, Madurai, Narayanpet, Uppada, Gadwal, Venkatagiri, Pochampally, Rasipuram, Mangalagiri, Chettinad, Banaras, Kota, Bhagalpur, Sambalpur, Bomkai, Chanderi, Maheshwar, Rajkot, Aurangabad, Lucknow, Murshidabad, Baluchar, are well known for their unique weaves. There are other places also in Bengal, Odisha, Kashmir, Punjab, Chattisgarh, Meghalaya, Nagaland, Assam which boast of skill and finesse when it comes to traditional varieties in fabrics in silk, cotton, sico, jute, linen, etc.

    Plain Weave – Plain weave is the most basic of the three types. When weaving plain weave, the warp and weft are aligned which forms a simple criss-cross pattern. Each weft thread crosses the warp threads by going alternately, first over one warp, then under the next and so on. The next weft goes under the warp that the neighboring weft went over, and again so on.

    Twill - A type of textile weave that has a pattern of diagonal parallel ribs. This technique is done when the weft thread crosses over one or more warp threads and then under two or more warp threads and so on. Next weft does the same but some warps later so it creates the characteristic diagonal pattern. Twill has different front and back sides which are called “technical face” and “technical back”.

    Satin - A weave that typically has a glossy surface and a dull back. It is a warp-faced weaving technique in which warp yarns are "floated" over weft yarns, which means that warp goes over much more wefts than in twill which makes its surface very soft.

  • The Plain weave that is also called Tabby Weave is the simplest and most common of the three basic textile weaves. Made by passing each filling (weft) yarn over and under each warp yarn, with each row alternating, a lot of intersections are produced. Since the warp and weft threads cross at right angles, they are aligned to form a simple criss-cross pattern.
  • Plain-weave fabrics that are not printed or given a surface finish have no right or wrong side. They do not ravel easily but tend to wrinkle and have less absorbency than other weaves.
  • The visual effect of plain weave may be varied by combining yarns of different origins, thickness, texture, twist, or colour. Fabrics range in weight from sheer to heavy and include such types as organdy, muslin, taffeta, shantung, canvas, and tweed.
  • Examples of fabrics made in plain weave include muslin and taffeta.
  • The plain weave is essentially strong and hard-wearing, and is used for fashion and furnishing fabrics.
  • Balanced plain weaves are fabrics in which the warp and weft are made of threads of the same weight (size) and the same number of ends per inch as picks per inch.
  • Basket weave is a variation of plain weave in which two or more threads are bundled and then woven as one in the warp or weft, or both.
  • A balanced plain weave can be identified by its checkerboard-like appearance. It is also known as one-up-one-down weave or over and under pattern. Examples of fabric with plain weave are chiffon, organza, percale and taffeta.
    Plain Weaves have a host of end uses that range from heavy and coarse canvas and blankets made of thick yarns to the lightest and finest cambric and muslins made in extremely fine yarns. The Plain weave also finds extensive use in the making of blankets, canvas, dhothis, sarees, shirting, suiting, etc.
    Plain Weave is one of the most fundamental fabric weaves available. Most other types of weave are just variations of the plain weave. Plain weave is created using warp threads and a weft thread. The warp threads are spaced out evenly and held down at either end by a loom. The weft yarn is then interwoven between these warp yarns. The weave pattern for plain weave is ‘One under one over.’ This means that the weft goes over one warp yarn and under the next. This repeats until the whole fabric is done.
    Plain weave can be recognized by its checkerboard effect. This is usually a balanced weave which means that yarns of the same weight, not necessarily the same yarns are used for both the warp and weft, creating a fabric with a uniform appearance and the same properties in the warp and weft yarns. Plain weave can be woven with different colours to create colour woven fabrics, such as striped fabrics and they can be printed or have other finishes applied to them.
    Plain weave fabrics can be anything form heavyweight to sheer, depending on the types of yarns used and the tightness of the weave. Examples of fabrics made using a plain weave are Taffeta, Organza, Chiffon, Canvas, Tweed and Muslim. All of these fabrics are very different in terms of weight and appearance but are all made using the same weave.
  • No right or wrong side
  • No lengthwise of crosswise stretch, only stretch is on the bias
  • Doesn’t fray as easily as other weaves
  • Creases easily
  • Less absorbent than other weaves
  • Fabrics range in weight from sheer to heavy, depending on the yarns used
  • Versatile
  • Flexible
  • Tightest weave structure
  • Strong
  • Hard-wearing
  • Durable
  • Some of the plain woven fabrics are available in the market under the following names.
  • Sheeting - medium to heavy weight plain weave fabric. It is mostly used for upholstery, bed covers etc.
  • Lawn - Light, thin fabric, made slightly stiff and crease-resistant by finishing. It is used in making dresses, blouses and handkerchiefs.
  • Muslin - light weight to medium weight stiff, unbleached and unfinished plain woven cloth. It is used in making designer sample garments. Finished muslins are used in sheets, furnishing etc.
  • Poplin - medium plain weave fabric having finer warp and thick weft. It is used in making petticoats, pyjamas, blouses etc.
  • Canvas - heavy weight densely woven plain grey (unfinished) fabric. It is used in making working cloth, jump suits and industrial clothes.
  • Casement - plain weave cloth with lesser twist in warp and weft. It is used in making furnishing, embroidery work, table linen etc.
  • Organdy - light weight, crisp, sheer, shining white cotton fabric, which is produced by using fine (thin) warp and weft yarn. It is given a special chemical finish. It is used in making dress materials.
  • Cambric - soft, smooth closely woven (compact) fabric, which is given a finish on the upper surface of the fabric to give a glazed (shining) effect. It is used in making dress materials, children’s dresses, table linen etc.
  • Chambray - plain, medium to heavy weight, woven fabric with coloured warp and white weft. It can be in plain, strips or check designs. It is used in making, work suits, overalls, men’s suits etc.
  • Gingham - medium to light weight plain weave fabric of open texture having different coloured warps and wefts. They vary in qualities according to the yarn used, fastness of colour, weaves and weight. They are used for making house dresses, aprons, curtains etc.
  • Voile - sheer light-weight fabric, highly twisted, using double fine combed yarn in warp and weft. This gives a crisp body and good draping quality. It is used in making blouses, bedspreads, summer dresses, children’s wear etc.
  • Georgette - sheer light-weight fabric with double yarn, highly twisted in S and Z directions, in warp and weft. It gives a sand-like rough appearance on the surface of the fabric. It is used in making saris and women’s wear.
  • Rubia - highly twisted, using double fine yarn warp and weft fabric, plain textured (appearance) which gives a transparent look. It is used in making saris and blouses.
  • थ्रेड्स के इंटरस्टिस या क्रॉसिंग बुनाई की विशेषता निर्धारित करते हैं।
  • यार्न की संख्या और ताना और यार्न को वर्ग इंच तक भरने से एक बुनाई की निकटता या ढीलापन निर्धारित होता है।
  • बुना हुआ कपड़े यार्न को भरने के लिए ताना यार्न के अनुपात से भिन्न हो सकते हैं। कुछ प्रभाव यार्न के चयन या यार्न के संयोजन से प्राप्त होते हैं।
  • तीन मूल बुनाई हैं - सादा बुनाई, साटन बुनाई और टवील बुनाई। कभी-कभी, एक पैटर्न या डिज़ाइन बुनाई के लिए एक व्यवस्था भी शामिल की जाती है, मुख्य बुनाई के भीतर, जिसे जैक्वार्ड के रूप में जाना जाता है।
    बुनाई में पूर्ण कपड़े प्राप्त करने से पहले निम्नलिखित बुनियादी चरण शामिल हैं।
  • कपड़े के लिए यार्न का चयन जो प्राकृतिक फाइबर जैसे कपास, जूट, रेशम या कृत्रिम जैसे जॉर्जेट, शिफॉन, पॉलिएस्टर, नायलॉन आदि या दोनों प्रकार के मिश्रण हो सकते हैं।
  • बुनाई के लिए आवश्यक धागा बनाने के लिए यार्न की कताई। स्पिनिंग में ताकत के लिए एक ही धागे में एक से अधिक यार्न फाइबर का रोलिंग या ट्विस्टिंग शामिल हो सकता है।
  • थ्रेड का पृथक्करण, जो इसे ताने के लिए एक फ्रेम पर रीलिंग के द्वारा होता है, और छोटे रीलों या शटल्स या बोबिन्स पर वेट के लिए ताना धागे के साथ जिल्द के लिए।
  • बुनाई की प्रक्रिया, कपड़े को पूरा करने के लिए धागे के आंदोलन के लिए, आगे और पीछे।
  • रंगाई अब बुनाई की प्रक्रिया का एक अभिन्न अंग बन गई है क्योंकि सादे धागे के लिए यह बहुत दुर्लभ है कि बिना किसी रंग के बस बुना जाए। धागे की रंगाई ज्यादातर बुनाई से पहले की जाती है, हालांकि आप बुने हुए कपड़े को बुनाई के बाद भी रंग सकते हैं। चुने गए रंग प्राकृतिक सब्जी और जैविक रंग या रासायनिक रंग हैं, हालांकि बाद वाले का उपयोग आजकल सस्ता और आसानी से उपलब्ध होने के कारण किया जाता है।
  • बताइए साड़ीकी अधिकांश महिलाओं द्वारा पसंद किया जाने वाला एक पारंपरिक भारतीय कपड़ा है और एक राष्ट्रीय धरोहर है। यह पारंपरिक तरीकों से या आधुनिक करघे द्वारा बुनाई द्वारा बनाया गया है। भारत भर में जातीय साड़ियों की बुनाई के लिए बहुत सारे केंद्र हैं। कांजीवरम, धर्मावरम, अरणी, मैसूर, बैंगलोर, कोयम्बटूर, मदुरै, नारायणपेट, उप्पाडा, गडवाल, वेंकटगिरी, पोचमपल्ली, रासीपुरम, मंगलगिरी, चेट्टीगढ़, बनारस, कोटा, भागलपुर, संबलपुर, बंबकाई, चंदेरी, महेश्वर, राजकोट, औरंगाबाद, राजकोट मुर्शिदाबाद, बालूचर, अपनी अनूठी बुनाई के लिए प्रसिद्ध हैं। बंगाल, ओडिशा, कश्मीर, पंजाब, छत्तीसगढ़, मेघालय, नगालैंड, असम में अन्य स्थान भी हैं जो रेशम, कपास, साक, जूट, लिनन, आदि में पारंपरिक किस्मों की बात आती है, जो कौशल और चालाकी का घमंड करते हैं।
  • सादा बुनाई - सादा बुनाई तीन प्रकारों में सबसे बुनियादी है। सादे बुनाई करते समय, ताना और बाना गठबंधन किया जाता है जो एक सरल criss- क्रॉस पैटर्न बनाता है। प्रत्येक बाने का धागा बारी-बारी से जाकर पहले एक ताने पर, फिर अगले वगैरह से ताना धागे को पार करता है। अगला बाना ताना के तहत चला जाता है कि पड़ोसी बाने पर चला गया, और फिर से ऐसा ही हुआ।
  •  
  • टवील - एक प्रकार का कपड़ा बुनाई जिसमें विकर्ण समानांतर पसलियों का एक पैटर्न होता है। यह तकनीक तब की जाती है जब वेट थ्रेड एक या एक से अधिक ताना धागे को पार करता है और फिर दो या दो से अधिक ताना धागे वगैरह के तहत। अगला बाना वही करता है लेकिन बाद में कुछ ताना होता है इसलिए यह चारित्रिक विकर्ण पैटर्न बनाता है। टवील के अलग-अलग मोर्चे और बैक साइड हैं जिन्हें "तकनीकी चेहरा" और "तकनीकी बैक" कहा जाता है। 
  • साटन - एक ऐसी बुनाई जिसमें आमतौर पर चमकदार सतह होती है और सुस्त होती है। यह एक ताना-बाना बुनने की तकनीक है जिसमें ताना-बाना से अधिक यार्न को "मंगाई" किया जाता है, जिसका अर्थ है कि ताना टवील की तुलना में बहुत अधिक वजनी होता है जो इसकी सतह को बहुत नरम बनाता है। 
  • प्लेन जिसेभी कहा जाता वेवटैबी वीव है, तीन मूल कपड़ा बुनाई का सबसे सरल और सबसे आम है। प्रत्येक रस्सा सूत के ऊपर और नीचे प्रत्येक भरने (बाने) के धागे को पार करके, प्रत्येक पंक्ति बारी-बारी से बनाया जाता है, बहुत सारे चौराहों का उत्पादन होता है। चूंकि ताना और बाने के धागे समकोण पर पार करते हैं, वे एक साधारण क्रि-क्रॉस पैटर्न बनाने के लिए संरेखित होते हैं।
  • सादे-बुने हुए कपड़े जिन्हें मुद्रित नहीं किया जाता है या सतह को खत्म करने का कोई सही या गलत पक्ष नहीं है। वे आसानी से नहीं उठाते हैं, लेकिन शिकन करते हैं और अन्य बुनाई की तुलना में कम अवशोषित होते हैं।
  • सादा बुनाई के दृश्य प्रभाव विभिन्न उत्पत्ति, मोटाई, बनावट, मोड़ या रंग के यार्न को मिलाकर भिन्न हो सकते हैं। कपड़े वजन से लेकर भारी तक के होते हैं और इसमें ओर्गांडी, मलमल, तफ़ता, शान्तुंग, कैनवास और ट्वीड जैसे प्रकार शामिल होते हैं।
  • सादे बुनाई में बने कपड़ों के उदाहरणों में मलमल और तफ़ता शामिल हैं।
  • सादा कपड़ा अनिवार्य रूप से मजबूत और कठोर होता है, और इसका उपयोग फैशन और प्रस्तुत कपड़ों के लिए किया जाता है।
  • बैलेंस्ड प्लेन वेव्स ऐसे फैब्रिक होते हैं जिनमें ताना और बाना एक ही वजन (आकार) के धागों से बना होता है और प्रति इंच के समान ही इंच प्रति इंच होता है।
  • टोकरी की बुनाई सादे बुनाई की एक भिन्नता है जिसमें दो या अधिक धागे बांध दिए जाते हैं और फिर ताना या बाने या दोनों में से एक के रूप में बुना जाता है।
  • एक संतुलित सादे बुनाई को उसके चेकरबोर्ड जैसी उपस्थिति से पहचाना जा सकता है। इसे वन-अप-वन-डाउन बुनाई या ओवर और अंडर पैटर्न के रूप में भी जाना जाता है। सादे बुनाई के साथ कपड़े के उदाहरण शिफॉन, ऑर्गेना, पर्केल और तफ़ता हैं।
    प्लेन वीवर्स में एक अंतिम उपयोग होता है जो भारी और मोटे कैनवस और मोटे यार्न से बने कंबल से लेकर सबसे हल्के और बेहतरीन कैम्ब्रिक और बेहद महीन यार्न में बने मसलिन का उपयोग करता है। प्लेन बुनाई कंबल, कैनवास, धोती, साड़ी, शर्टिंग, सूटिंग आदि के निर्माण में भी व्यापक उपयोग करती है।
    प्लेन वेव उपलब्ध सबसे मौलिक कपड़े बुनाई में से एक है। अधिकांश अन्य प्रकार की बुनाई सादे बुनाई की विविधताएं हैं। सादे धागे का उपयोग ताना धागे और एक अजीब धागे से किया जाता है। ताना धागे समान रूप से बाहर फैलाए जाते हैं और एक करघा के दोनों छोर पर रखे जाते हैं। वेट यार्न इन ताना यार्न के बीच इंटरव्यू होता है। सादे बुनाई के लिए बुनाई पैटर्न 'एक के नीचे एक' है। इसका मतलब यह है कि कपड़ा एक ताना यार्न पर और अगले के नीचे चला जाता है। यह तब तक दोहराता है जब तक कि पूरा कपड़ा न हो जाए।
    प्लेन बुनाई को इसके चेकबोर्ड प्रभाव से पहचाना जा सकता है। यह आमतौर पर एक संतुलित बुनाई होती है, जिसका अर्थ है कि एक ही वजन के यार्न, जरूरी नहीं कि एक ही यार्न का उपयोग ताना और कपड़ा दोनों के लिए किया जाता है, एक समान उपस्थिति के साथ एक कपड़े का निर्माण और ताना और बाने यार्न में समान गुण। रंग के बुने हुए कपड़े, जैसे कि धारीदार कपड़े बनाने के लिए विभिन्न रंगों के साथ बुना हुआ बुना जा सकता है और उन्हें मुद्रित किया जा सकता है या उन पर अन्य परिष्करण किए जा सकते हैं।
    सादे बुनाई के कपड़े कुछ भी हेवीवेट हो सकते हैं जो कि इस्तेमाल किए गए यार्न के प्रकार और बुनाई की जकड़न पर निर्भर करता है। सादे कपड़े का उपयोग करके बनाए गए कपड़ों के उदाहरण तफ़ता, ऑर्गेंज़ा, शिफॉन, कैनवस, ट्वीड और मुस्लिम हैं। ये सभी कपड़े वजन और उपस्थिति के मामले में बहुत अलग हैं, लेकिन सभी एक ही बुनाई का उपयोग करके बनाए गए हैं।
  • कोई सही या गलत पक्ष नहीं
  • क्रॉसवर्ड खिंचाव की कोई लंबाई नहीं, केवल पूर्वाग्रह पर खिंचाव है
  • अन्य बुनाई के रूप में आसानी से नहीं बांधता है
  • आसानी से घट जाती है
  • अन्य बुनाई की तुलना में कम शोषक
  • कपड़े वजन से लेकर भारी तक, यार्न के उपयोग के आधार पर
  • बहुमुखी
  • लचीला
  • सबसे तंग बुनाई संरचना
  • मजबूत
  • हार्ड पहने हुए
  • टिकाऊ
  • सादे बुने हुए कपड़ों में से कुछ निम्नलिखित नामों के तहत बाजार में उपलब्ध हैं।
  • चादर - मध्यम से भारी वजन सादे कपड़े। इसका उपयोग ज्यादातर असबाब, बेड कवर आदि के लिए किया जाता है। इसका उपयोग कपड़े, ब्लाउज और रूमाल बनाने में किया जाता है।
  • मलमल - हल्के वजन से मध्यम वजन के कड़े, बिना कटे और अधूरे सादे बुने हुए कपड़े। इसका उपयोग डिजाइनर नमूना वस्त्र बनाने में किया जाता है। तैयार मलमल का उपयोग चादरों, फर्निशिंग आदि में किया जाता है।
  • पॉपलिन - मध्यम सादे बुनाई वाले कपड़े में महीन ताना और मोटा कपड़ा होता है। इसका उपयोग पेटीकोट, पायजामा, ब्लाउज आदि बनाने में किया जाता है।
  • कैनवस - भारी वजन घनी बुने हुए सादे ग्रे (अधूरे) कपड़े। इसका उपयोग कामकाजी कपड़े, जंप सूट और औद्योगिक कपड़े बनाने में किया जाता है।
  • ख़िड़की - ताना और बाने में कम मरोड़ के साथ सादे कपड़े। इसका उपयोग फर्निशिंग, कढ़ाई का काम, टेबल लिनन आदि बनाने में किया जाता है।
  • ऑर्गैंडी - हल्के वजन, कुरकुरा, सरासर, चमकते हुए सफेद सूती कपड़े, जो कि महीन (पतले) ताना और बाने के धागे का उपयोग करके बनाया जाता है। इसे एक विशेष रासायनिक फिनिश दिया जाता है। इसका उपयोग पोशाक सामग्री बनाने में किया जाता है।
  • कैम्ब्रिक - मुलायम, चिकना बारीकी से बुना हुआ (कॉम्पैक्ट) फैब्रिक, जिसे फैब्रिक (चमकदार) प्रभाव देने के लिए कपड़े की ऊपरी सतह पर फिनिश दिया जाता है। इसका उपयोग पोशाक सामग्री, बच्चों के कपड़े, टेबल लिनन आदि बनाने में किया जाता है।
  • चाम्बे - सादा, मध्यम से भारी वजन, रंगीन ताना और सफेद कपड़ा के साथ बुने हुए कपड़े। यह प्लेन, स्ट्राइप्स या चेक डिज़ाइन में हो सकता है। इसका उपयोग मेकिंग, वर्क सूट, चौग़ा, पुरुषों के सूट आदि में किया जाता है। गिंगहैम - मध्यम से हल्के वज़न के खुले कपड़े की बुनावट, जिसमें अलग-अलग रंग का ताना-बाना होता है। वे उपयोग किए गए यार्न, रंग की तेजी, बुनाई और वजन के अनुसार गुणों में भिन्न होते हैं। वे घर के कपड़े, एप्रन, पर्दे आदि बनाने के लिए उपयोग किए जाते हैं।
  • वाइल - सरासर हल्के वजन के कपड़े, अत्यधिक मुड़, ताना और बाने में डबल कंघी यार्न का उपयोग करते हुए। यह एक कुरकुरा शरीर और अच्छी draping गुणवत्ता देता है। इसका उपयोग ब्लाउज, बेडस्प्रेड्स, गर्मियों के कपड़े, बच्चों के कपड़े आदि बनाने में किया जाता है।
  • जॉर्जेट - डबल यार्न के साथ सरासर हल्के वजन के कपड़े, एस और जेड दिशाओं में अत्यधिक मुड़, ताना और बाने में। यह कपड़े की सतह पर रेत जैसी खुरदरी उपस्थिति देता है। इसका इस्तेमाल साड़ी और महिलाओं के पहनने में किया जाता है।
  • रुबिया - डबल ट्विस्ट यार्न ताना और बाने कपड़े, सादे बनावट (उपस्थिति) का उपयोग करते हुए अत्यधिक मुड़, जो एक पारदर्शी रूप देता है। इसका उपयोग साड़ी और ब्लाउज बनाने में किया जाता है।
  •  

    Rooted in Tradition – The Weaves of Mangalagiri

    Mangalagiri of Guntur district, Andhra Pradesh, India, is between Vijayawada and Guntur on National Highway No. 5. Mangalagiri means “Auspicious Hill”. During the Vijayanagara rule it was known as Mangala Nilayam and then later came to be known as Totadri. Mangalagiri happens to be known for quality sarees of traditional finesse of cotton, cotton-silk or mercerized cotton, with their heavy gold thread or Zari borders, Nizam designs and striking colour combinations.

    • Usually Mangalgiri handlooms are made in cotton, cotton silk or mercerized cotton.
    • South handloom Mangalgiri cotton sarees are famous for their tightly woven structure, well knit borders, fine stripes and checks. Traditional nizam designs are exclusively used in pure mangalagiri cotton saris.
    • The sarees of Mangalagiri are unique with a heavy zari border and simple mono-striped pallu of solid or striped zari threads. The count in a handloom fabric means the number of threads per square inch. The count used in weaving determines the softness or hardness of the fabric. In the Mangalgiri saree the count 80 – 80 is used for soft woven fabric and 40 – 60 for hard varieties.
    • Heavy gold thread or zari borders, traditional Nizam designs, and simple mono-striped or multi-colour striped pallus adorn the Mangalagiri handloom saree.
    • Various motifs like leaf, mango, parrot, gold coin that have appeal adorn the Mangalagiri cotton saree.
    • Printing work and embroidery designs which enhance looks tremendously are synonymous with the Mangalagiri cotton saree.
    • There are some features unique to the Mangalgiri Saree.
      • The soft and comfortable all-season fabric generally does not have designs on the body.
      • It also is known for not having gaps in its weave.
      • There is a rare missing thread variety of the Mangalagiri saree that is not commonly found.
    • Mangalagiri sarees have a crisp finish.
    Let me explain the manner in which the Mangalagiri weaver works.
    • A trait that sets the weavers of Mangalagiri weavers from most is their unceasing devotion to their craft. Having a clear idea about market trends they have organized themselves into family groups and co-operative societies. Thus through their joint efforts they are able to cater to the taste of the market with innovative designs and mesmerizing patterns.
    • There is a healthy capacity of the weavers to experiment. Initially zari was only used for lining the borders. Today it not only adorns borders but engages motifs and designs on the pallu as well.
    • Ikat tie & dye has been tried out successfully on the Mangalagiri handloom cottons, increasing their visibility, widening their reach.
    • The weavers use basic designs but incorporate some striking colour combinations such as baby pink with a magenta border, maroon with mustard stripes, olive green with navy blue and so on. The success of such experiments bolsters them to try other combinations as well.
    • Another speciality of Mangalgiri is the nizam border. The nizam border typically has tiny zari gopurs (temple tops), which run through the borders of many fabrics. Especially in shot cotton fabrics, they create magic. The weavers map out the warp yarns and then use different colours on the weft to create double shaded fabrics. If the warp threads are yellow, and the weft threads green, red, or orange, the end result is greenish-yellow, sunset orange, or a deep yellow fabric.
    • Mangalgiri cotton is available in a breathtaking array of colours. It is available as plain fabric, shot cotton, stripes, checks and special weaves. Almost everything is woven on the handlooms - dress materials, shirt pieces, double-coloured duppattas (stoles), butis (small woven motifs), stripes, checks, and sarees in an assortment of counts.
    • Mangalgiri offers an unmatched range of textile styles from a single weaving cluster. The fabrics are in high demand by designers, boutique owners, garment manufacturers, exporters and even furniture manufacturers.

    Geographical Indication status has been granted to the Mangalagiri in 2013, a blessing for the beleaguered Mangalagiri weavers. The GI certification which is granted only after various inspections and scrutiny, where the authorities of intellectual properties wing verify whether the product possesses distinctive qualities, is found to be made according to traditional methods, or enjoys a certain reputation due to its geographical origin.

    Mangalagiri handlooms and fabrics have already secured a logo registered for the product and grant of GI has further helped boost its market.

    There is a brilliant collection of Mangalagiri line of fabrics at Unnati Silks. Sarees that bear a new look, provide a fresh feel. Mangalagiri sarees are known for their eye-catching variety.
    • You have mirror badla work evenly distributed over the field, you have elegant borders to match the tone.
    • There are patterns of color stripes, large color bands, with lovely plain colored borders to match.
    • You have lovely patli pallu sarees in half half, with wide borders and decorated with floral scapes.
    • Ganga Jamuna border sarees with the typical but still popular temple border lined across the length, sarees with abstract art, floral, thematic hand paintings .
    • There are prints, patterned shapes, lovely zari borders, designer pallus with zari or multicolor linings.
    • There are bright hued sarees with light and dark self color bands, striped pallus that set off a style.
    • There are the dark colored ones with wide golden zari borders and an additional temple pattern inner border that gives it lots of appeal.
    • There are innovative prints, there are unique patterns, there are floral motifs, there are abstract shaped designer motifs – a whole lot of innovative and revolutionary facelifts to the ordinary plain background.

    The temple town of Mangalagiri dates back to 1520. The Gajapathi rulers of Kalinga (ancient Odisha) lost it to the Vijayanagara empire. Many years later in 1807, Raja Vasireddy Venkatadri Nayudu had a temple constructed here whose lofty gopuram is considered an architectural marvel to this day and bears a testimony of the planning and sculpting of that age.

    Somewhere then Mangalagiri came under attack by the Golconda Nawabs who stayed on for a long time. Many an attack at different times in history was made, that caused Mangalagiri to be plundered heavily. But during the Vijayanagar rule, the temples of Narayana Swamy had also been built and which gives the place a holy reverence to this day.

    • आमतौर पर मंगलगिरी के हैंडलूम सूती, सूती रेशम या मर्करीकृत कपास में बनाए जाते हैं।
    • दक्षिण हथकरघा मंगलगिरी सूती साड़ियाँ अपनी कसी हुई बुना संरचना, अच्छी तरह से बुनने वाली सीमाओं, महीन धारियों और जाँच के लिए प्रसिद्ध हैं। पारंपरिक निज़ाम डिज़ाइन विशेष रूप से शुद्ध मंगलगिरी सूती साड़ियों में उपयोग किया जाता है।
    • मंगलगिरि की साड़ी एक भारी ज़री की सीमा और ठोस या धारीदार ज़री धागों के साधारण मोनो-धारीदार पल्लू के साथ अद्वितीय हैं। एक हैंडलूम कपड़े में गिनती का अर्थ है प्रति वर्ग इंच धागे की संख्या। बुनाई में उपयोग की जाने वाली गिनती कपड़े की कोमलता या कठोरता को निर्धारित करती है। मंगलगिरी साड़ी में गिनती 80 - 80 मुलायम बुने हुए कपड़े के लिए और 40 - 60 कड़ी किस्मों के लिए की जाती है।
    • भारी सोने के धागे या जरी की सीमाएँ, पारंपरिक निज़ाम के डिज़ाइन, और साधारण मोनो-धारीदार या बहु-रंग की धारीदार पल्लू, मंगलगिरी हथकरघा साड़ी में सजी।
    • पत्ता, आम, तोता, सोने का सिक्का जैसे विभिन्न रूपांकनों ने अपील की है जो मंगलगिरी कपास की साड़ी को सुशोभित करते हैं।
    • छपाई का काम और कढ़ाई के डिजाइन जो काफी बढ़ जाते हैं, वे मंगलगिरि सूती साड़ी के पर्याय हैं।
    • मंगलगिरि साड़ी के लिए कुछ विशेषताएं अनूठी हैं।
    • नरम और आरामदायक ऑल-सीजन फैब्रिक में आमतौर पर शरीर पर डिजाइन नहीं होते हैं।
    • यह भी अपनी बुनाई में अंतराल नहीं होने के लिए जाना जाता है।
    • मंगलागिरी साड़ी की एक दुर्लभ गायब किस्म है जो आमतौर पर नहीं पाई जाती है।
    • मंगलागिरी साड़ियों का एक कुरकुरा अंत होता है।
    • मंगलगिरि बुनकर के काम करने के तरीके के बारे में बताता हूं।
    • एक विशेषता जो सबसे अधिक मंगलगिरी के बुनकरों को बुनती है, उनके शिल्प के प्रति उनकी अटूट श्रद्धा है। बाजार के रुझान के बारे में स्पष्ट विचार रखने के बाद, उन्होंने खुद को पारिवारिक समूहों और सहकारी समितियों में संगठित किया है। इस प्रकार अपने संयुक्त प्रयासों के माध्यम से वे अभिनव डिजाइन और मंत्रमुग्ध करने वाले पैटर्न के साथ बाजार के स्वाद को पूरा करने में सक्षम हैं।
    • बुनकरों के लिए प्रयोग करने की एक स्वस्थ क्षमता है। शुरुआत में ज़री का इस्तेमाल केवल सीमाओं को चमकाने के लिए किया जाता था। आज यह न केवल सीमाओं को सुशोभित करता है बल्कि पल्लू पर रूपांकनों और डिजाइनों को भी उकेरता है।
    • मंगलागिरी हैंडलूम कॉटन्स पर इकत टाई एंड डाई को सफलतापूर्वक आजमाया गया है, जिससे उनकी दृश्यता में वृद्धि हुई है, जिससे उनकी पहुंच बढ़ गई है।
    • बुनकर बुनियादी डिजाइनों का उपयोग करते हैं, लेकिन कुछ हड़ताली रंग संयोजनों को शामिल करते हैं जैसे कि मैजेंटा बॉर्डर के साथ बेबी पिंक, सरसों की पट्टियों के साथ मैरून, नेवी ब्लू के साथ ऑलिव ग्रीन और इसी तरह। इस तरह के प्रयोगों की सफलता उन्हें अन्य संयोजनों के रूप में भी आज़माती है।
    • मंगलगिरि की एक और खासियत निज़ाम सीमा है। निज़ाम बॉर्डर में आम तौर पर छोटे जरी के गोपुर (मंदिर के सबसे ऊपर) होते हैं, जो कई कपड़ों की सीमाओं के माध्यम से चलते हैं। विशेष रूप से शॉट सूती कपड़ों में, वे जादू पैदा करते हैं। बुनकर ताना-बाना बुनते हैं और फिर डबल छायांकित कपड़े बनाने के लिए अलग-अलग रंगों का उपयोग करते हैं। यदि ताना धागे पीले होते हैं, और कपड़ा हरे, लाल या नारंगी रंग का होता है, तो अंतिम परिणाम हरा-पीला, सूर्यास्त नारंगी या गहरा पीला कपड़ा होता है।
    • मंगलगिरि कपास रंगों की एक लुभावनी सरणी में उपलब्ध है। यह सादे कपड़े, शॉट कपास, धारियों, चेक और विशेष बुनाई के रूप में उपलब्ध है। लगभग सब कुछ हथकरघों पर बुना जाता है - ड्रेस सामग्री, शर्ट के टुकड़े, दोहरे रंग के दुपट्टे (स्टोल), ब्यूटिस (छोटे बुने हुए रूपांकनों), धारियों, चेकों और साड़ियों की गिनती में।
    • मंगलगिरि एक एकल बुनाई क्लस्टर से कपड़ा शैलियों की एक बेजोड़ श्रृंखला प्रदान करता है। कपड़े डिजाइनरों, बुटीक मालिकों, परिधान निर्माताओं, निर्यातकों और यहां तक कि फर्नीचर निर्माताओं द्वारा उच्च मांग में हैं।

    2013 में मंगलागिरि को भौगोलिक संकेत दिया गया था, जो धनी मंगलगिरी बुनकरों के लिए एक आशीर्वाद है। जीआई प्रमाणन जो विभिन्न निरीक्षणों और जांच के बाद ही दिया जाता है, जहां बौद्धिक गुणों के अधिकारी यह सत्यापित करते हैं कि उत्पाद में विशिष्ट गुण हैं या नहीं, यह पारंपरिक तरीकों के अनुसार बनाया गया है, या इसकी भौगोलिक उत्पत्ति के कारण एक निश्चित प्रतिष्ठा प्राप्त है।

    मंगलगिरी के हैंडलूम और कपड़ों ने पहले ही उत्पाद के लिए पंजीकृत लोगो को सुरक्षित कर लिया है और जीआई के अनुदान ने इसके बाजार को बढ़ावा देने में मदद की है।

    उन्नावती सिल्क्स में कपड़ों की मंगलगिरी लाइन का शानदार संग्रह है। साड़ी जो एक नया रूप धारण करती है, एक ताज़ा एहसास प्रदान करती है। मंगलागिरी साड़ियों को उनकी आंख को पकड़ने वाली विविधता के लिए जाना जाता है।
    • आपके पास क्षेत्र में समान रूप से वितरित दर्पण बैडला कार्य है, टोन से मेल खाने के लिए आपके पास सुरुचिपूर्ण सीमाएं हैं।
    • रंग पट्टियों के पैटर्न, बड़े रंग के बैंड, सुंदर सादे रंग की सीमाओं के साथ मेल खाते हैं।
    • आपके पास आधे हिस्से में सुंदर पटली पल्लू साड़ी है, जिसमें चौड़े बॉर्डर हैं और फूलों की क्यारियों से सजाया गया है।
    • गंगा जमुना सीमा साड़ी के साथ विशिष्ट, लेकिन अभी भी लोकप्रिय मंदिर सीमा लंबाई में पंक्तिबद्ध, अमूर्त कला, पुष्प, विषयगत हाथ चित्रों के साथ साड़ी।
    • इसमें प्रिंट्स, पैटर्न वाली आकृतियाँ, प्यारी ज़री की बॉर्डर, ज़री या मल्टीकलर लाइनिंग के साथ डिज़ाइनर पल्लू हैं।
    • लाइट और डार्क सेल्फ कलर बैंड, धारीदार पल्लू के साथ उज्ज्वल हाइट वाली साड़ियाँ हैं जो एक स्टाइल को सेट करती हैं।
    • चौड़े सुनहरे ज़री के बॉर्डर और एक अतिरिक्त मंदिर पैटर्न आंतरिक सीमा के साथ गहरे रंग के होते हैं जो इसे बहुत अपील करते हैं।
    • अभिनव प्रिंट हैं, अद्वितीय पैटर्न हैं, पुष्प रूपांकनों हैं, अमूर्त आकार के डिजाइनर रूपांकनों हैं - साधारण सादे पृष्ठभूमि के लिए अभिनव और क्रांतिकारी पहलुओं की एक पूरी बहुत कुछ।

    का मंदिर शहर मंगलगिरि 1520 की है। कलिंग (प्राचीन ओडिशा) के गजपति शासकों ने इसे विजयनगर साम्राज्य में खो दिया था। कई साल बाद 1807 में, राजा वासिरेड्डी वेंकटाद्री नायुडू ने यहां एक मंदिर का निर्माण करवाया था, जिसके बुलंद गोपुरम को आज तक का स्थापत्य चमत्कार माना जाता है और उस युग की योजना और मूर्तिकला का प्रमाण है।

    कहीं-कहीं मंगलगिरि गोलकुंडा नवाबों के कब्जे में आया, जो लंबे समय तक रहे। इतिहास में अलग-अलग समय पर कई हमले हुए, जिससे मंगलगिरि को भारी लूट का सामना करना पड़ा। लेकिन विजयनगर शासन के दौरान, नारायण स्वामी के मंदिरों का निर्माण भी किया गया था और जो इस स्थान को आज तक एक पवित्र श्रद्धा देता है।