Free Shipping in India | And Internationally above Rs.19999

Mangalgiri|Applique

Filter

1 Item

Set Descending Direction
  1. Cream-Pink Pure Mangalagiri Applique  Cotton Saree
    -80%
    Cream-Pink Pure Mangalagiri Applique Cotton Saree
    Special Price ₹1,199.00 Regular Price ₹5,998.00

1 Item

Set Descending Direction

The eye-catching appeal of Appliqué worked sarees

Adornment has always been since traditional times, used for beautifying fabrics in some way or the other. Simple to elaborate, average to exceptional, colourful embroidery or exquisite miniature thread work, adornment has always been used to decorate fabrics. Exclusive or otherwise, the additional decorating feature is an essential inclusion for fabrics that creates the extra appeal that gives the fabric its worth. The more complex it is, the more it enhances the worth of the fabric.

One such attractive adornment since a long, long time has been appliqué work.

  • 'Applique', is a French term, for a technique by which the decorative effect is obtained by superposing patches of coloured fabrics on a basic fabric mostly of contrasting colour or texture, the edges of the patches being sewn in some form of stitchery. The attaching could be by stitching, or gluing the patch on the larger fabric. The edges of the patch may have the ends folded under or left as they are. The attaching is done by straight stitch, satin stich or reverse Appliqué. Embroidery machines have taken over what earlier used to be done by hand. Its application is best suited for any work that has to be viewed from a distance such as banners. Appliqué is also used for school badges.
  • It is distinct from what is known as patch work in which small pieces of cut fabrics are usually joined side by side to make a large piece of fabric or for repairing a damaged fabric. Though the form is not unknown in other parts of India, it is Odisha and specially in Pipli that the appliqué craft has a living and active tradition continuing over centuries.
  • During the Mughal period, the art of appliqué became a royal medium of fashioning elegant and delicate textile products. Muslin fabrics had fine architectural jal patterns to create a wonderful designer fabric, a fine example of appliqué technique. Appliqué is used extensively in quilting. E.g. the Ralli quilts of India use appliqué.
  • Applied pieces usually have their edges folded under, and are then attached by any of the following:
  • Straight stitch, typically 20-30mm in from the edge.
  • Satin stitch, all around, overlapping the edge. The patch may be glued or straight stitched on first to ensure positional stability and a neat edge.
  • Reverse appliqué: several layers of material are stitched together, parts of the upper layers are cut away, and the edges are stitched down. The largest cuts are made in the topmost layer.
  • Patterns could be symmetrical geometrical designs or innovative combinations of artistic arrangements.
  • There are two ways that a pattern can come up on a fabric. Becoming one with the weave during the weaving process or prepared on a separate cloth and attached to the base fabric. It is the latter way of adorning the fabric that is simpler to do and affix, which has opened up a new line of stylish designer fabrics – known as appliqué worked fabrics.
  • By using different patches of fabric, beautiful forms of floral and animal designs are prepared for different products and apparel. By piecing cloth together like in quilts, different patterns are made by applying cloth of different colors. Multicolored covering of jigsaw pieces formed of geometrical shapes creating a visual treat, is the impression one gets while seeing an applique or patchwork. Colorful and vivid shapes and forms of fabric patched together or on another surface creates attractive and vibrant designer fabrics.
  • Appliqué work in India was once mainly practised in Pipli, Odisha, especially for banners during the Lord Jagannatha Rath Yatra. But today it also finds use as adornment on large canvas fabrics like the saree. The same principle of affixing patches is followed as was earlier but with designs that are modern, abstract and trendy that appeal to the market.
  • The motifs for the Kalamkari cotton Appliqué work sarees as you can see online may be white or coloured with the fabric body of contrasting colour and could have intricate appliqué work embroidery and mirror work in saree designs also to make it highly ornamental. Motifs generally are elephant, parrot, peacock, duck, creepers, flowers such as lotus and jasmine. Half moon, Sun and Rahu (mythical Rakshasa) are also popular subjects.
  • Colours used are limited to red, green, blue, brown and black. Today it is not limited to that. Designs are aplenty and appliques could be dazzling white on white, warm to cool hues, and bright neon to pastel depending upon the artist’s fancy. Also contrasts are followed but with a wide range of colours and hues. There is a shift to chemical colours without insistence on organic dyes alone. Patterns and motifs while still including traditional ones have now become more varied and colourful.
  • Appliqué work designs for cotton sarees that you see online are created by two differing techniques. Based on the way it is done or style adopted, the colours used, the composition and even the pattern forms chosen, the source can be identified by those familiar with appliqué work.
  • Simple applique is created by drawing on a fabric, cutting out the drawing and then stitching on to the base fabric, plain or with printed designs. The advantage of this system is that it is simple, and symmetrical and asymmetrical shapes may be cut out to form the designs on the base fabric. Stitching can be done in a variety of stitches that in addition to fixing becomes an additional decorative feature.
  • The more elaborate and laborious form is the Reverse appliqué where the surface fabric forms the shape and design contrasted to the top fabric in appliqué. e.g. small abstract designer patterns on a fabric, animal motifs and vegetation on a home courtyard scene are examples of reverse appliqué work - original and creative artistry by traditional craftsmen.
  • No! Appliqué and patch work, are two techniques which developed mainly for domestic purposes but have become popular in fashion adornments in fabrics. Let us distinguish between the two.
  • The art of decorating a base cloth by applying fabric on fabric with the edges sewn down by stitching can be termed as appliqué. The applique could have any large design or pattern in symmetrical shape, and generally forms a central theme on the base fabric. The appliqué and base are generally contrast coloured for heightened effect.
  • Patchwork on the other hand is the art of sewing little patches of geometric shaped decorated fabric lengths to form a textile pattern like a designer border. Patches are meant for attachment to the edges and easily distinguished as appendages to the main garment.
  • Appliqué work in India, once mainly practised in Pipli, Odisha, for banners during the Lord Jagannatha Rath Yatra is also one of the oldest and finest traditional crafts on large fabrics in Gujarat and Odisha.
  • Today it also finds use as adornment on canvas fabrics like the handloom saree, salwar kameez etc. The same principle of affixing patches is followed as was earlier but with designs that are modern, abstract and trendy that appeal to the market.
  • Tastes have brought in innovative ideas and designs that appeal to current day women of fashion.
  • Contrasts are followed for the attatchment and base fabric but with a wide range of colours and hues.
  • There is a shift to chemical colours without insistence on organic dyes alone.
  • Patterns and motifs while still including traditional ones have now become more varied and colourful.
  • Once done by hand, there are embroidery machines that have taken over to reduce the time taken for large and detailed appliqués that are then firmly stuck over the base fabric or lightly stuck and hand stitched at the edges of the design.
  • With the changing times the craft has also adopted itself to the needs of modern man. Among the more popular applique items today are garden umbrellas, a variant of chhati with wooden or aluminium stands, shoulder bags, ladies hand bags, wall hangings, lamp shades, bed covers, pillow covers, letter pouches, etc.
  • Similarly, Applique items are also being used in combination with other handicrafts to produce composite products. An interesting use is the superimpposition of applique on grass mats and used as partitions.
  • Though earlier the art form was restricted to darji caste, today it is practised by non-caste members, notably by some young Muslim boys.
  • Unlike many other handicrafts, applique items are attractive artefacts of daily use apart from being decorative. They are also comparatively cheaper.
  • Modern consumer embroidery machines quickly stitch appliqué designs by following a program.
  • The programs have a minimum complexity of two thread colors, meaning the machine stops during stitching to allow the user to switch threads.
  • First, the fabric that will be the background and the appliqué fabric are affixed into the machine's embroidery hoop. The program is run and the machine makes a loose basting stitch over both layers of fabric.
  • Next, the machine stops for a thread change, or other pre-programmed break.
  • The user then cuts away the excess appliqué fabric from around the basting stitch.
  • Following this, the machine continues on program, automatically sewing the satin stitches and any decorative stitching over the appliqué for best results
  • Just to give an idea, this is how the appliqué is created for the temple canopy.
  • The basic material for applique is cloth. If more than one of the same cut motifs is required, a stencil is used.
  • These cut and specially prepared motifs are then superposed on a base cloth in predetermined layout and sequence. The edges of the motifs are turned in and skillfully stitched onto the base cloth or stitched by embroidery or without turning as necessary.
  • The specially prepared motifs may be coloured or white. The base cloth is usually coloured. Some of the specially prepared motifs have exclusive embroidery work and some have mirror work. In heavy canopies, the base cloth is additionally supported by a back cloth for strength.
  • The stitching process varies from item to item and come under six broad categories, namely, (1) bakhia, (2) taropa, (3) ganthi, (4) chikana, (5) button-hole and (6) ruching.
  • Sometimes emroidered patterns are also used and in a few items mirror work is also incorporated. The layout of various motifs and patterns vary according to the shape of the piece. The canopy has a large centre piece which may be a square. This centre piece is then bounded by several borders of different widths, one outside the other, till the edge is reached.
  • In the umbrella and Chhati the inner field is arranged in circles, each circle having patches of one motif placed side by side. Patterns are laid in the same way as the shape of the Tarasa, with a large motif or two placed at the centre. The layout for covers for horses consists of a series of concentric strips in the portion which covers the neck, each strip having patches of one motif, while the portions which fall on either side of the body are plain, having border all round with or without a motif at the centre of the plain field.
  • The motifs used are fairly varied yet fixed and cosist of stylised representations of flora and fauna as well as a few mythical figures. Of the more common of these motifs are the elephant, parrot, peacock, ducks, creepers, trees, flowers like lotus, jasmine, half-moon, the Sun and Rahu (a mythical demon who devours the sun).
  • Just as there are a few fixed motifs only a limited number of colors are used in the traditional applique craft. These are green, red, blue, ochre and black. The creative urge of the craftsmen however are released in the endlessly various combination of motifs as well in the mixing of these limited colors. While there has been very little change in the use of motifs, there has been a trend towards greater experimentation in colour combinations.
  • Superimposition of coloured cloths on grey marking cloth is quite common today as the use of cloth of all colors and hues.
  • One could buy based on applique work designs on sarees seen on local manufacturer's Facebook page. But I would venture to suggest Unnati Silks. It has been associated with handlooms since 1980 and has varieties made across 21 states of India, under one roof.
    Oh! Quite a variety and range of appliqué work sarees for you to choose from. You could have Chanderi sicos in dark shades having floral patch appliqué work patchwork designs and patches for sarees, with small attractive borders and zari filled designer pallu with a beautiful appliqué patch to complement the rest of the saree.
  • Fresh look plain malmal cotton sarees with small floral appliqué patches distributed evenly across the saree.
  • Arni silk sarees with rich plain glossy shine but having an appliqué work pallu that is mesmerizing.
  • Kerala Kasavu with that evergreen fresh look but with an additional floral patch heightening the appeal of the saree.
  • Dupion art silk saree with appliqué work patch all over and large appliqué work design spread over the pallu.
  • There are many more such variations that beckon the attention of the online visitor.
  • 'एप्लाइक', एक फ्रांसीसी शब्द है, एक ऐसी तकनीक के लिए जिसके द्वारा सजावटी प्रभाव रंगीन कपड़ों के पैच को एक मूल कपड़े पर प्राप्त किया जाता है, जिसमें ज्यादातर विपरीत रंग या बनावट होती है, पैच के किनारों को किसी न किसी प्रकार की सिलाई में सिल दिया जाता है। अटैचमेंट सिलाई द्वारा हो सकता है, या बड़े कपड़े पर पैच को gluing कर सकता है। पैच के किनारों के नीचे के छोर मुड़े हुए हो सकते हैं या वे जैसे हैं वैसे ही रह सकते हैं। अटैचमेंट स्ट्रेट स्टिच, साटन स्टिच या रिवर्स अप्लीक द्वारा किया जाता है। कढ़ाई मशीनों ने संभाल लिया है जो पहले हाथ से किया जाता था। इसका एप्लिकेशन किसी भी काम के लिए सबसे उपयुक्त है जिसे बैनरों जैसी दूरी से देखना पड़ता है। Appliqué का उपयोग स्कूल बैज के लिए भी किया जाता है।
  • यह उस कार्य से अलग है जिसे पैच वर्क के रूप में जाना जाता है जिसमें कपड़े के छोटे टुकड़ों को आमतौर पर एक बड़े कपड़े का टुकड़ा बनाने या क्षतिग्रस्त कपड़े की मरम्मत के लिए कंधे से कंधा मिलाकर जोड़ा जाता है। यद्यपि यह रूप भारत के अन्य हिस्सों में अज्ञात नहीं है, यह ओडिशा और विशेष रूप से पिपली में है कि तालियों के शिल्प में सदियों से जारी एक जीवित और सक्रिय परंपरा है।
  • मुगल काल के दौरान, आकर्षक और नाजुक वस्त्र उत्पादों को बनाने के लिए तालियों की कला एक शाही माध्यम बन गई। मलमल के कपड़ों में एक शानदार डिजाइनर कपड़े बनाने के लिए बढ़िया वास्तुशिल्प पैटर्न था, जो कि तालियों की तकनीक का एक बेहतरीन उदाहरण था। Appliqué का उपयोग बड़े पैमाने पर रजाई बनाने में किया जाता है। उदाहरण के लिए, भारत के रल्ली रजाई तालियों का उपयोग करते हैं।
  • लागू टुकड़ों में आमतौर पर उनके किनारे मुड़े होते हैं, और फिर निम्नलिखित में से किसी एक द्वारा संलग्न होते हैं:
  • सीधे सिलाई, आमतौर पर किनारे से 20-30 मिमी।
  • साटन सिलाई, चारों ओर, ओवरलैपिंग एज। पैच को सघन या सीधा किया जा सकता है ताकि स्थिति स्थिरता और एक साफ बढ़त सुनिश्चित हो सके।
  • रिवर्स अप्लीक्यू: सामग्री की कई परतों को एक साथ सिला जाता है, ऊपरी परतों के हिस्सों को काट दिया जाता है, और किनारों को नीचे सिला जाता है। सबसे बड़ी कटौती सबसे ऊपरी परत में की जाती है।
  • पैटर्न सममित ज्यामितीय डिजाइन या कलात्मक व्यवस्था के अभिनव संयोजन हो सकते हैं।
  • दो तरीके हैं जो एक पैटर्न कपड़े पर आ सकते हैं। बुनाई की प्रक्रिया के दौरान बुनाई के साथ एक बन गया या एक अलग कपड़े पर तैयार किया गया और बेस कपड़े से जुड़ा हुआ था। यह कपड़े को अनुरक्षित करने का सबसे बाद का तरीका है जो करने और करने के लिए सरल है, जिसने स्टाइलिश डिजाइनर कपड़ों की एक नई लाइन खोली है - जिसे एपलाइक के रूप में जाना जाता है।
  • कपड़े के विभिन्न पैच का उपयोग करके, विभिन्न उत्पादों और परिधानों के लिए फूलों और जानवरों के डिजाइन के सुंदर रूप तैयार किए जाते हैं। रजाई की तरह कपड़े को एक साथ जोड़कर अलग-अलग पैटर्न अलग-अलग रंगों के कपड़े लगाकर बनाए जाते हैं। दृश्य उपचार बनाने वाले ज्यामितीय आकृतियों से बने आरा टुकड़ों के बहुरंगी आवरण, वह आभास होता है, जो किसी की प्रशंसा या चिथड़े को देखते हुए मिलता है। रंगीन और ज्वलंत आकार और कपड़े के रूपों को एक साथ या किसी अन्य सतह पर चिपकाए जाने से आकर्षक और जीवंत डिजाइनर कपड़े बनते हैं।
  • भारत में मुख्य रूप से पिपली, ओडिशा में विशेष रूप से भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान बैनर के लिए तालियां बजाने का काम किया जाता था। लेकिन आज यह साड़ी की तरह बड़े कैनवास के कपड़ों पर अलंकरण के रूप में भी उपयोग होता है। पैच चिपकाए जाने के उसी सिद्धांत का पालन किया जाता है जैसा कि पहले था लेकिन उन डिजाइनों के साथ जो आधुनिक, सार और फैशनेबल हैं जो बाजार में अपील करते हैं।  
  • कलामकारी कॉटन अप्पलीके वर्क की साड़ियों के रूप में आप ऑनलाइन देख सकती हैं, इसके विपरीत रंग के फैब्रिक बॉडी के साथ सफेद या रंगीन हो सकते हैं और इसमें साड़ी डिजाइनों में जटिल वर्क कढ़ाई और मिरर वर्क हो सकता है, जो इसे अत्यधिक सजावटी बनाने के लिए है। मोती आमतौर पर हाथी, तोता, मोर, बतख, लता, फूल जैसे कमल और चमेली होते हैं। आधा चाँद, सूर्य और राहु (पौराणिक रक्षा) भी लोकप्रिय विषय हैं।
  • उपयोग किए जाने वाले रंग लाल, हरे, नीले, भूरे और काले रंग तक सीमित हैं। आज यह यहीं तक सीमित नहीं है। डिजाइन सहायक हैं और appliques कलाकार की कल्पना पर निर्भर करता है, चमकदार से गर्म, शांत hues को गर्म, और उज्ज्वल नीयन से पेस्टल तक चमकदार हो सकता है। इसके अलावा विरोधाभासों का पालन किया जाता है लेकिन रंग और रंग की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ। अकेले कार्बनिक रंगों पर जोर दिए बिना रासायनिक रंगों में बदलाव होता है। पैटर्न और रूपांकनों जबकि पारंपरिक लोगों सहित अभी भी अधिक विविध और रंगीन हो गए हैं।
  •  
  • सूती साड़ियों के लिए आप जो ऑनलाइन काम करती हैं, उसके लिए Appliqué वर्क डिज़ाइन दो अलग-अलग तकनीकों द्वारा बनाए गए हैं। जिस तरह से यह किया जाता है या शैली को अपनाया जाता है उसके आधार पर, रंगों का उपयोग किया जाता है, रचना और यहां तक ​​कि पैटर्न के रूपों को चुना जाता है, स्रोत को उन लोगों द्वारा पहचाना जा सकता है जो तालमेल के काम से परिचित हैं।
  • साधारण पिपली एक कपड़े पर ड्राइंग, ड्राइंग को काटकर और फिर बेस फैब्रिक, सादे या मुद्रित डिजाइन के साथ सिलाई पर बनाई गई है। इस प्रणाली का लाभ यह है कि यह सरल है, और बेस कपड़े पर डिजाइन बनाने के लिए सममित और विषम आकार काटे जा सकते हैं। सिलाई को विभिन्न प्रकार के टांके में किया जा सकता है जो फिक्सिंग के अतिरिक्त एक अतिरिक्त सजावटी विशेषता बन जाता है।
  • अधिक विस्तृत और श्रमसाध्य रूप रिवर्स रिवर्स है जहां सतह कपड़े एप्लाइके में शीर्ष कपड़े के विपरीत आकार और डिजाइन बनाता है। उदाहरण के लिए, कपड़े पर छोटे सार डिजाइनर पैटर्न, जानवरों के रूपांकनों और एक घर के आंगन के दृश्य पर वनस्पति, पारंपरिक शिल्पकारों द्वारा मूल और रचनात्मक कलात्मकता के विपरीत कार्य के उदाहरण हैं। 
  • नहीं न! Appliqué and पैच वर्क, दो तकनीकें हैं जो मुख्य रूप से घरेलू उद्देश्यों के लिए विकसित की गई हैं, लेकिन कपड़ों में फैशन अलंकरण में लोकप्रिय हो गई हैं। हम दोनों में अंतर करते हैं।
  • सिलाई द्वारा नीचे किनारों के साथ कपड़े पर कपड़े को लगाकर बेस कपड़े को सजाने की कला को सराहनीय कहा जा सकता है। एप्लाइड सममित आकार में कोई भी बड़ा डिज़ाइन या पैटर्न हो सकता है, और आमतौर पर बेस कपड़े पर एक केंद्रीय विषय बनता है। तालियां और आधार आम तौर पर ऊंचे प्रभाव के लिए विपरीत रंग के होते हैं।
  • दूसरी ओर पैचवर्क एक डिजाइनर सीमा की तरह कपड़ा पैटर्न बनाने के लिए ज्यामितीय आकार के कपड़े की लंबाई के छोटे पैच को सिलाई करने की कला है। पैच किनारों के लिए लगाव के लिए हैं और आसानी से मुख्य परिधान के उपांग के रूप में प्रतिष्ठित हैं।
  • भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान बैनर के लिए मुख्य रूप से पिपली, ओडिशा में अभ्यास किया जाता है।
  • आज यह कैनवास के कपड़े जैसे कि हैंडलूम साड़ी, सलवार कमीज आदि पर अलंकरण के रूप में भी उपयोग किया जाता है। पैच चिपकाए जाने के उसी सिद्धांत का पालन किया जाता है जैसा कि पहले था लेकिन उन डिजाइनों के साथ जो आधुनिक, सार और फैशनेबल हैं जो बाजार में अपील करते हैं।
  • स्वाद ने नए विचारों और डिजाइनों को लाया है जो फैशन की वर्तमान महिलाओं से अपील करते हैं।
  • कन्ट्रास्ट और बेस फैब्रिक के लिए कंट्रास्ट का पालन किया जाता है, लेकिन रंगों और ह्यूज की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ।
  • अकेले कार्बनिक रंगों पर जोर दिए बिना रासायनिक रंगों में बदलाव होता है।
  • पैटर्न और रूपांकनों जबकि पारंपरिक लोगों सहित अभी भी अधिक विविध और रंगीन हो गए हैं।
  • एक बार हाथ से किए जाने के बाद, ऐसी कढ़ाई मशीनें होती हैं जो बड़े और विस्तृत रूप से लिए गए समय को कम करने के लिए ले ली जाती हैं जो तब बेस फैब्रिक पर मजबूती से अटक जाती हैं या डिजाइन के किनारों पर हल्के से चिपक जाती हैं और हाथ से सिले जाती हैं।
  •  
  • बदलते समय के साथ शिल्प ने भी आधुनिक मनुष्य की जरूरतों को अपनाया है। और अधिक लोकप्रिय पिपली वस्तुओं में आज उद्यान छाते, लकड़ी या एल्यूमीनियम खड़ा है, कंधे बैग, महिलाओं के हाथ बैग, दीवार के पर्दे, दीपक रंगों, बिस्तर कवर, तकिया कवर, पत्र के पाउच, आदि के साथ chhati का एक प्रकार हैं
  • इसी प्रकार, समग्र उत्पादों का उत्पादन करने के लिए अन्य हस्तशिल्प के साथ संयोजन में Applique वस्तुओं का भी उपयोग किया जा रहा है। एक दिलचस्प उपयोग घास के मटके पर पिपली का सुपरिंपोजिशन है और विभाजन के रूप में उपयोग किया जाता है।
  • हालांकि पहले कला का स्वरूप दारजी जाति तक ही सीमित था, लेकिन आज गैर-जाति के सदस्यों द्वारा इसका अभ्यास किया जाता है, विशेष रूप से कुछ मुस्लिम लड़कों द्वारा।
  • कई अन्य हस्तशिल्पों के विपरीत, सजावटी वस्तुओं के सजावटी होने के अलावा दैनिक उपयोग के आकर्षक सामान हैं। वे तुलनात्मक रूप से सस्ते भी हैं। 
  • आधुनिक उपभोक्ता कढ़ाई मशीन एक कार्यक्रम का पालन करके तेजी से appliqué डिजाइनों को सिलाई करते हैं।
  • कार्यक्रमों में दो थ्रेड रंगों की एक न्यूनतम जटिलता है, जिसका अर्थ है कि सिलाई के दौरान मशीन थ्रेड को स्विच करने की अनुमति देती है।
  • सबसे पहले, फैब्रिक जो बैकग्राउंड होगा और एपलिक्क फैब्रिक को मशीन की कढ़ाई घेरा में चिपका दिया जाएगा। कार्यक्रम चलाया जाता है और मशीन कपड़े की दोनों परतों पर एक ढीली बस्टिंग स्टिक बनाती है।
  • अगला, मशीन थ्रेड परिवर्तन, या अन्य पूर्व-क्रमिक विराम के लिए बंद हो जाती है।
  • उपयोगकर्ता फिर स्टैकिंग स्टिक के चारों ओर से अतिरिक्त एपलाइक कपड़े को काट देता है।
  • इसके बाद, मशीन प्रोग्राम पर जारी रहती है, स्वचालित रूप से साटन टांके को सिलाई करती है और सर्वश्रेष्ठ परिणामों के लिए तालियों पर कोई सजावटी सिलाई होती
  • बस एक विचार देने के लिए, यह कैसे मंदिर चंदवा के लिए appliqué बनाया जाता है।
  • पिपली के लिए मूल सामग्री कपड़ा है। यदि एक से अधिक कटे हुए रूपांकनों की आवश्यकता होती है, तो एक स्टैंसिल का उपयोग किया जाता है।
  • ये कट और विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों को पूर्वनिर्धारित लेआउट और अनुक्रम में एक बेस कपड़े पर लगाया जाता है। रूपांकनों के किनारों को बारी-बारी से आधार के कपड़े पर सिलाई की जाती है या कढ़ाई द्वारा सिलाई की जाती है या आवश्यकतानुसार घुमाया जाता है।
  • विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों को रंगीन या सफेद हो सकता है। बेस कपड़ा आमतौर पर रंगीन होता है। कुछ विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों में विशेष कढ़ाई का काम होता है और कुछ में दर्पण का काम होता है। भारी canopies में, बेस कपड़े को अतिरिक्त रूप से ताकत के लिए पीछे के कपड़े द्वारा समर्थित किया जाता है।
  • सिलाई प्रक्रिया आइटम से आइटम में भिन्न होती है और छह व्यापक श्रेणियों के अंतर्गत आती है, अर्थात् (1) बखिया, (2) टैरोपा, (3) गांठी, (4) चिकाना, (5) बटन-छेद और (6) रुचिंग।
  • कभी-कभी उत्सर्जित पैटर्न का भी उपयोग किया जाता है और कुछ वस्तुओं में दर्पण का काम भी शामिल होता है। विभिन्न आकृति और पैटर्न का लेआउट टुकड़ा के आकार के अनुसार भिन्न होता है। चंदवा में एक बड़ा केंद्र टुकड़ा है जो एक वर्ग हो सकता है। यह केंद्र टुकड़ा तब तक अलग-अलग चौड़ाई की कई सीमाओं से घिरा होता है, जब तक कि किनारे तक नहीं पहुंच जाता है।
  • छतरी और छटी में आंतरिक क्षेत्र को मंडलियों में व्यवस्थित किया गया है, प्रत्येक सर्कल में एक तरफ एक आकृति के पैच रखे गए हैं। पैटर्न को उसी तरह से रखा जाता है जैसे तरासा के आकार का, जिसमें एक बड़ा रूपांकन या दो केंद्र में रखा गया हो। घोड़ों के लिए कवर के हिस्से के हिस्से में संकेंद्रित स्ट्रिप्स की एक श्रृंखला होती है, जो गर्दन को कवर करती है, प्रत्येक पट्टी में एक आकृति के पैच होते हैं, जबकि शरीर के दोनों ओर गिरने वाले हिस्से सादे होते हैं, जिनके साथ या बिना सभी तरफ सीमा होती है मैदान के केंद्र में एक आकृति।
  • उपयोग किए गए रूपांकनों में अभी तक काफी विविधता है और वनस्पतियों और जीवों की शैली के निरूपण के साथ-साथ कुछ पौराणिक आकृतियों का संग्रह है। इनमें से अधिक सामान्य रूप से हाथी, तोता, मोर, बत्तख, लता, वृक्ष, कमल, चमेली, अर्धचंद्र, सूर्य और राहु (एक पौराणिक दानव सूर्य को नष्ट करने वाले) हैं।
  • जिस तरह कुछ निश्चित रूपांकनों के होते हैं, केवल पारंपरिक अप्लाइक शिल्प में सीमित संख्या में रंगों का उपयोग किया जाता है। ये हरे, लाल, नीले, गेरू और काले हैं। शिल्पकारों के रचनात्मक आग्रह को हालांकि इन सीमित रंगों के मिश्रण में रूपांकनों के विभिन्न संयोजन में जारी किया जाता है। जबकि रूपांकनों के उपयोग में बहुत कम परिवर्तन हुआ है, रंग संयोजन में अधिक से अधिक प्रयोग की ओर रुझान हुआ है।
  • सभी रंगों और रंगों के कपड़े के उपयोग के रूप में ग्रे अंकन कपड़े पर रंगीन कपड़े का सुपरिंपोजिशन आज बहुत आम है।
  • एक स्थानीय निर्माता के फेसबुक पेज पर देखी जाने वाली साड़ियों पर काम के डिजाइन के आधार पर खरीद सकता है।
  • लेकिन मैं सुझाव देने के लिए उद्यम करूंगा उन्नाती सिल्क्स। यह 1980 से हथकरघा से जुड़ा है और भारत के 21 राज्यों में एक ही छत के नीचे इसकी किस्में हैं।
  • ओह! आपके लिए चुनने के लिए कई किस्म और सराहनीय काम की साड़ी।
  • आप साड़ी के लिए फ्लोरल पैच अप्लीकेशंस वर्क पैचवर्क डिज़ाइन और पैच वाली चंदेरी सिक्स को छोटे आकर्षक बॉर्डर और जरी से भरे डिज़ाइनर पल्लू के साथ खूबसूरत साड़ी पैच के साथ कर सकते हैं, बाकी साड़ी को कॉम्प्लीमेंट करने के लिए। 
  • साड़ी के पार समान रूप से बांटे गए छोटे-छोटे फूलों से सजी-धजी मैपल कॉटन साड़ियों में फ्रेश लुक प्लेन मलमल कॉटन साड़ी।
  • अमीर सादे चमकदार चमकदार साड़ी के साथ अरनी सिल्क की साड़ी लेकिन एक आकर्षक काम पल्लू है जो मंत्रमुग्ध कर रहा है।
  • केरल कसावा उस सदाबहार ताजा लुक के साथ लेकिन साड़ी की अपील को बढ़ाते हुए एक अतिरिक्त पुष्प पैच के साथ।
  • पिपलू में फैले दुपट्टे के काम के साथ डुप्लीकेट सिल्क सिल्क की साड़ी और चारों ओर बड़े-बड़े काम के डिज़ाइन।
  • ऐसे कई और बदलाव हैं जो ऑनलाइन आगंतुक का ध्यान आकर्षित करते हैं।
  • Rooted in Tradition – The Weaves of Mangalagiri

    Mangalagiri of Guntur district, Andhra Pradesh, India, is between Vijayawada and Guntur on National Highway No. 5. Mangalagiri means “Auspicious Hill”. During the Vijayanagara rule it was known as Mangala Nilayam and then later came to be known as Totadri. Mangalagiri happens to be known for quality sarees of traditional finesse of cotton, cotton-silk or mercerized cotton, with their heavy gold thread or Zari borders, Nizam designs and striking colour combinations.

    • Usually Mangalgiri handlooms are made in cotton, cotton silk or mercerized cotton.
    • South handloom Mangalgiri cotton sarees are famous for their tightly woven structure, well knit borders, fine stripes and checks. Traditional nizam designs are exclusively used in pure mangalagiri cotton saris.
    • The sarees of Mangalagiri are unique with a heavy zari border and simple mono-striped pallu of solid or striped zari threads. The count in a handloom fabric means the number of threads per square inch. The count used in weaving determines the softness or hardness of the fabric. In the Mangalgiri saree the count 80 – 80 is used for soft woven fabric and 40 – 60 for hard varieties.
    • Heavy gold thread or zari borders, traditional Nizam designs, and simple mono-striped or multi-colour striped pallus adorn the Mangalagiri handloom saree.
    • Various motifs like leaf, mango, parrot, gold coin that have appeal adorn the Mangalagiri cotton saree.
    • Printing work and embroidery designs which enhance looks tremendously are synonymous with the Mangalagiri cotton saree.
    • There are some features unique to the Mangalgiri Saree.
      • The soft and comfortable all-season fabric generally does not have designs on the body.
      • It also is known for not having gaps in its weave.
      • There is a rare missing thread variety of the Mangalagiri saree that is not commonly found.
    • Mangalagiri sarees have a crisp finish.
    Let me explain the manner in which the Mangalagiri weaver works.
    • A trait that sets the weavers of Mangalagiri weavers from most is their unceasing devotion to their craft. Having a clear idea about market trends they have organized themselves into family groups and co-operative societies. Thus through their joint efforts they are able to cater to the taste of the market with innovative designs and mesmerizing patterns.
    • There is a healthy capacity of the weavers to experiment. Initially zari was only used for lining the borders. Today it not only adorns borders but engages motifs and designs on the pallu as well.
    • Ikat tie & dye has been tried out successfully on the Mangalagiri handloom cottons, increasing their visibility, widening their reach.
    • The weavers use basic designs but incorporate some striking colour combinations such as baby pink with a magenta border, maroon with mustard stripes, olive green with navy blue and so on. The success of such experiments bolsters them to try other combinations as well.
    • Another speciality of Mangalgiri is the nizam border. The nizam border typically has tiny zari gopurs (temple tops), which run through the borders of many fabrics. Especially in shot cotton fabrics, they create magic. The weavers map out the warp yarns and then use different colours on the weft to create double shaded fabrics. If the warp threads are yellow, and the weft threads green, red, or orange, the end result is greenish-yellow, sunset orange, or a deep yellow fabric.
    • Mangalgiri cotton is available in a breathtaking array of colours. It is available as plain fabric, shot cotton, stripes, checks and special weaves. Almost everything is woven on the handlooms - dress materials, shirt pieces, double-coloured duppattas (stoles), butis (small woven motifs), stripes, checks, and sarees in an assortment of counts.
    • Mangalgiri offers an unmatched range of textile styles from a single weaving cluster. The fabrics are in high demand by designers, boutique owners, garment manufacturers, exporters and even furniture manufacturers.

    Geographical Indication status has been granted to the Mangalagiri in 2013, a blessing for the beleaguered Mangalagiri weavers. The GI certification which is granted only after various inspections and scrutiny, where the authorities of intellectual properties wing verify whether the product possesses distinctive qualities, is found to be made according to traditional methods, or enjoys a certain reputation due to its geographical origin.

    Mangalagiri handlooms and fabrics have already secured a logo registered for the product and grant of GI has further helped boost its market.

    There is a brilliant collection of Mangalagiri line of fabrics at Unnati Silks. Sarees that bear a new look, provide a fresh feel. Mangalagiri sarees are known for their eye-catching variety.
    • You have mirror badla work evenly distributed over the field, you have elegant borders to match the tone.
    • There are patterns of color stripes, large color bands, with lovely plain colored borders to match.
    • You have lovely patli pallu sarees in half half, with wide borders and decorated with floral scapes.
    • Ganga Jamuna border sarees with the typical but still popular temple border lined across the length, sarees with abstract art, floral, thematic hand paintings .
    • There are prints, patterned shapes, lovely zari borders, designer pallus with zari or multicolor linings.
    • There are bright hued sarees with light and dark self color bands, striped pallus that set off a style.
    • There are the dark colored ones with wide golden zari borders and an additional temple pattern inner border that gives it lots of appeal.
    • There are innovative prints, there are unique patterns, there are floral motifs, there are abstract shaped designer motifs – a whole lot of innovative and revolutionary facelifts to the ordinary plain background.

    The temple town of Mangalagiri dates back to 1520. The Gajapathi rulers of Kalinga (ancient Odisha) lost it to the Vijayanagara empire. Many years later in 1807, Raja Vasireddy Venkatadri Nayudu had a temple constructed here whose lofty gopuram is considered an architectural marvel to this day and bears a testimony of the planning and sculpting of that age.

    Somewhere then Mangalagiri came under attack by the Golconda Nawabs who stayed on for a long time. Many an attack at different times in history was made, that caused Mangalagiri to be plundered heavily. But during the Vijayanagar rule, the temples of Narayana Swamy had also been built and which gives the place a holy reverence to this day.

    • आमतौर पर मंगलगिरी के हैंडलूम सूती, सूती रेशम या मर्करीकृत कपास में बनाए जाते हैं।
    • दक्षिण हथकरघा मंगलगिरी सूती साड़ियाँ अपनी कसी हुई बुना संरचना, अच्छी तरह से बुनने वाली सीमाओं, महीन धारियों और जाँच के लिए प्रसिद्ध हैं। पारंपरिक निज़ाम डिज़ाइन विशेष रूप से शुद्ध मंगलगिरी सूती साड़ियों में उपयोग किया जाता है।
    • मंगलगिरि की साड़ी एक भारी ज़री की सीमा और ठोस या धारीदार ज़री धागों के साधारण मोनो-धारीदार पल्लू के साथ अद्वितीय हैं। एक हैंडलूम कपड़े में गिनती का अर्थ है प्रति वर्ग इंच धागे की संख्या। बुनाई में उपयोग की जाने वाली गिनती कपड़े की कोमलता या कठोरता को निर्धारित करती है। मंगलगिरी साड़ी में गिनती 80 - 80 मुलायम बुने हुए कपड़े के लिए और 40 - 60 कड़ी किस्मों के लिए की जाती है।
    • भारी सोने के धागे या जरी की सीमाएँ, पारंपरिक निज़ाम के डिज़ाइन, और साधारण मोनो-धारीदार या बहु-रंग की धारीदार पल्लू, मंगलगिरी हथकरघा साड़ी में सजी।
    • पत्ता, आम, तोता, सोने का सिक्का जैसे विभिन्न रूपांकनों ने अपील की है जो मंगलगिरी कपास की साड़ी को सुशोभित करते हैं।
    • छपाई का काम और कढ़ाई के डिजाइन जो काफी बढ़ जाते हैं, वे मंगलगिरि सूती साड़ी के पर्याय हैं।
    • मंगलगिरि साड़ी के लिए कुछ विशेषताएं अनूठी हैं।
    • नरम और आरामदायक ऑल-सीजन फैब्रिक में आमतौर पर शरीर पर डिजाइन नहीं होते हैं।
    • यह भी अपनी बुनाई में अंतराल नहीं होने के लिए जाना जाता है।
    • मंगलागिरी साड़ी की एक दुर्लभ गायब किस्म है जो आमतौर पर नहीं पाई जाती है।
    • मंगलागिरी साड़ियों का एक कुरकुरा अंत होता है।
    • मंगलगिरि बुनकर के काम करने के तरीके के बारे में बताता हूं।
    • एक विशेषता जो सबसे अधिक मंगलगिरी के बुनकरों को बुनती है, उनके शिल्प के प्रति उनकी अटूट श्रद्धा है। बाजार के रुझान के बारे में स्पष्ट विचार रखने के बाद, उन्होंने खुद को पारिवारिक समूहों और सहकारी समितियों में संगठित किया है। इस प्रकार अपने संयुक्त प्रयासों के माध्यम से वे अभिनव डिजाइन और मंत्रमुग्ध करने वाले पैटर्न के साथ बाजार के स्वाद को पूरा करने में सक्षम हैं।
    • बुनकरों के लिए प्रयोग करने की एक स्वस्थ क्षमता है। शुरुआत में ज़री का इस्तेमाल केवल सीमाओं को चमकाने के लिए किया जाता था। आज यह न केवल सीमाओं को सुशोभित करता है बल्कि पल्लू पर रूपांकनों और डिजाइनों को भी उकेरता है।
    • मंगलागिरी हैंडलूम कॉटन्स पर इकत टाई एंड डाई को सफलतापूर्वक आजमाया गया है, जिससे उनकी दृश्यता में वृद्धि हुई है, जिससे उनकी पहुंच बढ़ गई है।
    • बुनकर बुनियादी डिजाइनों का उपयोग करते हैं, लेकिन कुछ हड़ताली रंग संयोजनों को शामिल करते हैं जैसे कि मैजेंटा बॉर्डर के साथ बेबी पिंक, सरसों की पट्टियों के साथ मैरून, नेवी ब्लू के साथ ऑलिव ग्रीन और इसी तरह। इस तरह के प्रयोगों की सफलता उन्हें अन्य संयोजनों के रूप में भी आज़माती है।
    • मंगलगिरि की एक और खासियत निज़ाम सीमा है। निज़ाम बॉर्डर में आम तौर पर छोटे जरी के गोपुर (मंदिर के सबसे ऊपर) होते हैं, जो कई कपड़ों की सीमाओं के माध्यम से चलते हैं। विशेष रूप से शॉट सूती कपड़ों में, वे जादू पैदा करते हैं। बुनकर ताना-बाना बुनते हैं और फिर डबल छायांकित कपड़े बनाने के लिए अलग-अलग रंगों का उपयोग करते हैं। यदि ताना धागे पीले होते हैं, और कपड़ा हरे, लाल या नारंगी रंग का होता है, तो अंतिम परिणाम हरा-पीला, सूर्यास्त नारंगी या गहरा पीला कपड़ा होता है।
    • मंगलगिरि कपास रंगों की एक लुभावनी सरणी में उपलब्ध है। यह सादे कपड़े, शॉट कपास, धारियों, चेक और विशेष बुनाई के रूप में उपलब्ध है। लगभग सब कुछ हथकरघों पर बुना जाता है - ड्रेस सामग्री, शर्ट के टुकड़े, दोहरे रंग के दुपट्टे (स्टोल), ब्यूटिस (छोटे बुने हुए रूपांकनों), धारियों, चेकों और साड़ियों की गिनती में।
    • मंगलगिरि एक एकल बुनाई क्लस्टर से कपड़ा शैलियों की एक बेजोड़ श्रृंखला प्रदान करता है। कपड़े डिजाइनरों, बुटीक मालिकों, परिधान निर्माताओं, निर्यातकों और यहां तक कि फर्नीचर निर्माताओं द्वारा उच्च मांग में हैं।

    2013 में मंगलागिरि को भौगोलिक संकेत दिया गया था, जो धनी मंगलगिरी बुनकरों के लिए एक आशीर्वाद है। जीआई प्रमाणन जो विभिन्न निरीक्षणों और जांच के बाद ही दिया जाता है, जहां बौद्धिक गुणों के अधिकारी यह सत्यापित करते हैं कि उत्पाद में विशिष्ट गुण हैं या नहीं, यह पारंपरिक तरीकों के अनुसार बनाया गया है, या इसकी भौगोलिक उत्पत्ति के कारण एक निश्चित प्रतिष्ठा प्राप्त है।

    मंगलगिरी के हैंडलूम और कपड़ों ने पहले ही उत्पाद के लिए पंजीकृत लोगो को सुरक्षित कर लिया है और जीआई के अनुदान ने इसके बाजार को बढ़ावा देने में मदद की है।

    उन्नावती सिल्क्स में कपड़ों की मंगलगिरी लाइन का शानदार संग्रह है। साड़ी जो एक नया रूप धारण करती है, एक ताज़ा एहसास प्रदान करती है। मंगलागिरी साड़ियों को उनकी आंख को पकड़ने वाली विविधता के लिए जाना जाता है।
    • आपके पास क्षेत्र में समान रूप से वितरित दर्पण बैडला कार्य है, टोन से मेल खाने के लिए आपके पास सुरुचिपूर्ण सीमाएं हैं।
    • रंग पट्टियों के पैटर्न, बड़े रंग के बैंड, सुंदर सादे रंग की सीमाओं के साथ मेल खाते हैं।
    • आपके पास आधे हिस्से में सुंदर पटली पल्लू साड़ी है, जिसमें चौड़े बॉर्डर हैं और फूलों की क्यारियों से सजाया गया है।
    • गंगा जमुना सीमा साड़ी के साथ विशिष्ट, लेकिन अभी भी लोकप्रिय मंदिर सीमा लंबाई में पंक्तिबद्ध, अमूर्त कला, पुष्प, विषयगत हाथ चित्रों के साथ साड़ी।
    • इसमें प्रिंट्स, पैटर्न वाली आकृतियाँ, प्यारी ज़री की बॉर्डर, ज़री या मल्टीकलर लाइनिंग के साथ डिज़ाइनर पल्लू हैं।
    • लाइट और डार्क सेल्फ कलर बैंड, धारीदार पल्लू के साथ उज्ज्वल हाइट वाली साड़ियाँ हैं जो एक स्टाइल को सेट करती हैं।
    • चौड़े सुनहरे ज़री के बॉर्डर और एक अतिरिक्त मंदिर पैटर्न आंतरिक सीमा के साथ गहरे रंग के होते हैं जो इसे बहुत अपील करते हैं।
    • अभिनव प्रिंट हैं, अद्वितीय पैटर्न हैं, पुष्प रूपांकनों हैं, अमूर्त आकार के डिजाइनर रूपांकनों हैं - साधारण सादे पृष्ठभूमि के लिए अभिनव और क्रांतिकारी पहलुओं की एक पूरी बहुत कुछ।

    का मंदिर शहर मंगलगिरि 1520 की है। कलिंग (प्राचीन ओडिशा) के गजपति शासकों ने इसे विजयनगर साम्राज्य में खो दिया था। कई साल बाद 1807 में, राजा वासिरेड्डी वेंकटाद्री नायुडू ने यहां एक मंदिर का निर्माण करवाया था, जिसके बुलंद गोपुरम को आज तक का स्थापत्य चमत्कार माना जाता है और उस युग की योजना और मूर्तिकला का प्रमाण है।

    कहीं-कहीं मंगलगिरि गोलकुंडा नवाबों के कब्जे में आया, जो लंबे समय तक रहे। इतिहास में अलग-अलग समय पर कई हमले हुए, जिससे मंगलगिरि को भारी लूट का सामना करना पड़ा। लेकिन विजयनगर शासन के दौरान, नारायण स्वामी के मंदिरों का निर्माण भी किया गया था और जो इस स्थान को आज तक एक पवित्र श्रद्धा देता है।