New on Unnati - Exquisite Handloom Maheshwar's :Shop Now

Maheshwari|Ajrakh

Filter

4 Items

Set Descending Direction

4 Items

Set Descending Direction

Ajrakh Printing – a very old tradition of creating blue-dominated fabrics that continues wonderfully

One of the most ancient in the traditional art of printing on fabrics, Ajrak prints are a distinguishable form of wood block printing that seems to find its roots or influences in the Indus Valley Civilization. Sindh in Pakistan and neighbouring districts of Kutch in Gujarat and Barmer in Rajasthan are where this amazing print art originally began and continues to flourish till this day, though other districts in Gujarat and Rajasthan have also become familiar with this craft and begun practicing.
Ajrak or Ajrakh is from the Persian word Azrak meaning indigo or blue. A tradition of coloring clothes that prospered, Ajrakh sarees has its origin on the banks of the river Indus, the Ajrak effort is a ‘celebration of Nature’. Blue and red are the pre-dominant colors with other substances found in Nature also contributing to colors like yellow, black, brown, so you get more variety. That is what the Ajrakh saree is all about, a traditional offshoot of Ajrakh fabrics that has now become part of a fashion trend that has generated tremendous interest because of the exotic prints in fast natural colors that are brought out.
  • Early settlers in Sindh and India in 3300 BC, who lived along the Indus river, found its water conducive for the growth of cotton and indigo plants. Cotton was a fabric that had good adhesion quality, the indigo color so plentifully available formed a new way of coloring fabrics. A heavy Mughal influence in motifs combined with the traditional printing with blocks, saw it evolve as a parallel form of printing in the 17th century.
  • The British Raj further encouraged this art on seeing some communities in Gujarat excel in it. Before the earthquake in January, 2001, Dhamadka was a central hub in Bhuj, Gujarat. Its destruction gave rise to a newly formed Govt. and private combined initiative named Ajrakhpur that continues the tradition as before. The current day form of Ajrakh printing is a by-product of various influences, very slightly modified to changing market tastes.
  • Yes! Once only natural dyes were used, now eco-friendly synthetic dyes are also used for economy.
  • When from substances of nature, the color red was discovered, it also lent its presence with the blue, by itself at first and then combined with the blue on the same fabric and within designs also.
  • This has long continued as a celebration of Mother Nature where blue and red, the pre-dominant colors, represent the Sky and Mother Earth. The motifs generally chosen comprise shapes like the stars, flowers and other elements that are part of Nature.
  • Traditional colors of Ajrak prints were deep, intense and represented qualities of Nature. Colors came from elements in nature, like indigo or blue from the indigo plant, red from alizarin found in roots of madder plants, black from molasses and millet flour with the addition of tamarind seeds to thicken the color or dye.
  • Today lack of availability has forced the use of synthetic, eco-friendly dyes also, bringing in colors like orange, yellow and rust which create vibrancy.
  • All motifs in Ajrak printing are built around a central point and repeated across the fabric in a grid-like manner. Thus a design of horizontal, vertical and diagonal lines make up beautiful intended designs.
  • Ajrak prints have found their way on turbans, waist sashes, shawls, dupattas, chaddars, sarees, home furnishings and shawls. The range keeps widening as and when it catches the fancy of the traditional practitioners of the art and the designer industry.
  • The entire process of applying the prints on the fabric undergoes several stages of dyeing and washing the fabric with various natural dyes and mordants such as harda, lime, alizarin, indigo and even camel dung.
  • The raw fabric in full length is pulled exhaustively through the river many times, scoured, beaten, steamed, mordanted, printed with resist mud pastes from the banks of the river, covered with powdered camel dung and ground rice husks; dyed in deep madder and indigo.
  • Since there are very limited colors in the Ajrak Prints, it is made up for through a vast range of unique patterns formed from precisely stamped block prints. Measuring about 2.5 to 3.0 metres in length, the Ajrakh print is very precisely replicated on both sides of the fabric in a process known as ‘resist printing’.
  • Done through accurately carved wooden blocks that have minute and exquisitely detailed patterns etched out in their under surface, the repeated patterning requires a fair amount of skill to create the patterns accurately.
  • But more than anything else is the manner in which the prints appear after the entire process stages are over. There is vibrancy, and there is luster, that comes after the very many washes that take place in the Indus river. The quality of the river water is so very unique that the outcomes are on account of its special chemical properties that make the prints fast and durable.
  • The Ajrak print is employed within a grid, the repetitive pattern creating a web-like design or the central jaal. Apart from this jaal, border designs are also employed in the fabric. These borders are aligned both vertically and horizontally and frame the central field, distinguishing one ajrak from another. The lateral ends are printed using a wider, double margin in order to differentiate the layouts of borders.
  • Traditional colors of Ajrak prints were deep, intense and represented qualities of Nature. Colors came from elements in nature, like indigo or blue from the indigo plant, red from alizarin found in roots of madder plants, black from molasses and millet flour with the addition of tamarind seeds to thicken the color or dye.
  • Today lack of availability has forced the use of synthetic, eco-friendly dyes also, bringing in colors like orange, yellow and rust which create vibrancy.
  • Unlike other processes of printing on cloth, where the colour is applied directly to the cloth, in Ajrak block printing, the fabric is first printed with a resist paste and then dyed. The process is repeated again and again with different kinds of dyes, to eventually achieve the final pattern in the deep red and blue hues. This gradual process is also very time consuming, as the longer an artisan waits before beginning the next step, the more vivid the final print becomes. Thus, the entire process can take upto two weeks resulting in the creation of the beautiful eye-catching patterns of the Ajrak.
  • Water is vital to the production of Ajrak cloth. Artisans take the cloth through a process that can involve over thirty separate steps as first the cloth is prepared, then mordanted, then dyed. Through each stage the character of the water will influence everything – from the shades of the colours themselves to the success or failure of the entire process.
  • Common colours used while making these patterns may include but are not limited to blue, red, black, yellow and green.
  • It seems a king once grew so fond of his bedspread that he insisted his maids to let it stay on his bed for one more day, he muttered “aj ke din rakh”, the phrase which went on to be used to name that uniquely printed fabric as Ajrakh.
  • It is also believed that the fabric derived its name from the sanskrit word ‘A-jharat’ or ‘that which does not fade’. ‘Azrak’, the Arabic word for blue could have also played a role in its etymology because of extensive use of indigo in the process.
  • The fabrics unearthed at sites like Fustat in Egypt are believed to be Ajrakh sourced from India. The craft was mastered by the civilizations, which flourished around the Indus River in Sindh area. The river provided both a site for washing the fabric and the water needed to grow Indigo. An idol of a King Priest, excavated at a site in Mohenjo-Daro shows him draped in this fabric, which depicts the earliest use of Ajrakh. It had a trefoil pattern printed on the garment believed to be the ‘Kakkar’ or cloud pattern in Ajrakh printing. Similar geometry of the trefoil is evident in the present Ajrakh patterns.
  • Legend has it that Ajrakh printers are descendants of King Rama. ‘Kshatriya’ (Hindu term for the warriors) became ‘Khatri’ and they came to Kutch from Sindh around 400 years ago. As per the records, Kutch ruler Rao Bharmaljiinvited craftsmen to meet the growing needs of the people and the royal court.
  • The ethnic practitioners and experts in the field come to know about the quality of the fabric from the pungency of the smell that emanates from the stored fabric, somewhat like mango pickle.
  • All motifs in Ajrak printing are built around a central point and repeated across the fabric in a grid-like manner. Thus a design of horizontal, vertical and diagonal lines make up beautiful intended designs.
  • Ajrak prints have found their way on turbans, waist sashes, shawls, dupattas, chaddars, sarees, home furnishings and shawls. The range keeps widening as and when it catches the fancy of the traditional practitioners of the art.
  • Indian fashion designers have effortlessly fused traditional ajrak with modern tastes. The skull motif once popular in both high-end and high-street fashion, have featured in a line of ajrak printed jackets capturing the fancy of the market successfully in projecting innovative ideas.
  • Unlike other processes of printing on cloth, where the colour is applied directly to the cloth, in Ajrak block printing, the fabric is first printed with a resist paste and then dyed. The process is repeated again and again with different kinds of dyes, to eventually achieve the final pattern in the deep red and blue hues. This gradual process is also very time consuming, as the longer an artisan waits before beginning the next step, the more vivid the final print becomes. Thus, the entire process can take upto two weeks resulting in the creation of the beautiful eye-catching patterns of the Ajrak.
  • This craft had been on a decline for some time, because modern, quicker methods of printing and bright chemical dyes were replacing the natural, muted colours and the slow and careful process of printing this traditional textile. But with efforts of the master craftsmen and increasing awareness among the urban people, the Ajrakh craft has once again gained visibility among the urban population.
  • I could suggest several online websites, one of the more reputed ones being Unnati Silks, which has been associated with handlooms since 1980. You would get your choicest of Ajrakh sarees both at their offline stores at Hyderabad or could order them online, wholesale or retail, at attractive prices.
  • Unnati Silk’s love for Ajrakh stems from the fact that there is a passion and a persistent relationship with Nature from the inception of Unnati’s journey that makes it partial to such traditional forms that have especially weathered the battering force of time. Ajrakh printing happens to be one such favourite.
  • For the lovers of Ajrakh prints you have the designer Ajrakh printed sarees, lovely kurtas and tunics as well as fabric cloth with unique designs for your own imaginative end uses.
  • Unnati Silks recognizes the worth of Ajrakh, and sees in it the soul of Nature’s creativity that inspires beautiful permutations and combinations.
  • Ajrakh modal silk sarees are available at very few of the prominent sites. But I know of the reputed Unnati Silks with its vast collection of most handloom variety sarees known in India and many others would definitely be featuring the Ajrakh modal silk sarees range in its collection. You could definitely buy the Ajrakh block print sarees in modal silk, cotton ajrakh sarees, the Ajrakh Bandhani printed cotton silk sarees, the ajrakh print Chanderi silk sarees, the ajrakh mulmul cotton and the ajrakh linen sarees online at attractive prices wholesale while shopping in India.
    अजरक या अजरख फारसी शब्द अजरक से है जिसका अर्थ इंडिगो या नीला है। समृद्ध होने वाले कपड़े रंगने की एक परंपरा, अजरख साड़ियों का उद्गम सिंधु नदी के तट पर हुआ है, अजरक प्रयास एक 'प्रकृति का उत्सव' है। नीला और लाल रंग प्रकृति में पाए जाने वाले अन्य पदार्थों के साथ पूर्व-प्रमुख रंग हैं, जो पीले, काले, भूरे जैसे रंगों में योगदान करते हैं, इसलिए आप अधिक विविधता रखते हैं। यह वही है जो अजरख साड़ी के बारे में है, अजरख वस्त्रों की एक पारंपरिक ऑफशूट, जो अब एक फैशन ट्रेंड का हिस्सा बन गई है, जो कि बाहर निकलने वाले तेज प्राकृतिक रंगों में विदेशी प्रिंटों की वजह से जबरदस्त रुचि पैदा हुई है।
  • सिंध और भारत में 3300 ईसा पूर्व में बसने वाले, जो सिंधु नदी के किनारे रहते थे, ने कपास और इंडिगो पौधों के विकास के लिए इसका पानी अनुकूल पाया। कॉटन एक ऐसा कपड़ा था जिसमें अच्छे आसंजन गुण होते थे, इंडिगो रंग इतना भरपूर रूप से उपलब्ध कपड़ों के रंग का एक नया तरीका था।
  • मुगलों में भारी मुगल प्रभाव ने पारंपरिक छपाई को ब्लॉकों के साथ जोड़कर देखा, यह 17में मुद्रण के समानांतर स्वरूप के रूप में विकसितवीं शताब्दीहुआ।
  • ब्रिटिश राज ने आगे इस कला को गुजरात में कुछ समुदायों को देखने के लिए प्रोत्साहित किया।
  • जनवरी, 2001 में भूकंप से पहले, धमाका गुजरात के भुज में एक केंद्रीय केंद्र था। इसके विनाश ने एक नवगठित सरकार को जन्म दिया। और अजरखपुर नाम की निजी संयुक्त पहल जो परंपरा को पहले की तरह जारी रखे हुए है। अजरख प्रिंटिंग का वर्तमान दिन विभिन्न प्रभावों का एक उप-उत्पाद है, जो बदलते बाजार के स्वाद के लिए थोड़ा संशोधित है।
  • हाँ! एक बार केवल प्राकृतिक रंगों का उपयोग किया जाता था, अब अर्थव्यवस्था के लिए पर्यावरण के अनुकूल सिंथेटिक रंगों का भी उपयोग किया जाता है।
  • जब प्रकृति के पदार्थों से, रंग लाल की खोज की गई थी, तो उसने नीले रंग के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज की, पहले खुद से और फिर उसी कपड़े पर नीले रंग के साथ और डिजाइनों में भी मिलाया।
  • यह लंबे समय से मदर नेचर के उत्सव के रूप में जारी है, जहां नीले और लाल, पूर्व-प्रमुख रंग, आकाश और धरती का प्रतिनिधित्व करते हैं। आम तौर पर चुने गए रूपांकनों में तारे, फूल और अन्य तत्व जैसे आकार होते हैं जो प्रकृति का हिस्सा होते हैं।
  • अजरक प्रिंट के पारंपरिक रंग प्रकृति के गहरे, गहन और प्रतिनिधित्व वाले गुण थे। रंग प्रकृति में तत्वों से आते हैं, जैसे इंडिगो प्लांट से इंडिगो या नीला, मैडर पौधों की जड़ों में पाया जाने वाला लाल, रंग और डाई को गाढ़ा करने के लिए इमली के बीजों को मिलाकर गुड़ और बाजरा के आटे से काला।
  • आज उपलब्धता की कमी ने सिंथेटिक, पर्यावरण के अनुकूल रंगों का उपयोग करने के लिए मजबूर किया है, जो नारंगी, पीले और जंग जैसे रंगों में लाते हैं जो जीवंतता पैदा करते हैं।
  • अजरक मुद्रण में सभी रूपांकनों को एक केंद्रीय बिंदु के चारों ओर बनाया जाता है और कपड़े की तरह ग्रिड में दोहराया जाता है। इस प्रकार क्षैतिज, ऊर्ध्वाधर और विकर्ण रेखाओं का एक डिज़ाइन सुंदर इच्छित डिज़ाइन बनाता है।
  • अजरक प्रिंट्स ने पगड़ी, कमर की साड़ी, शॉल, दुपट्टे, चूडिय़ां, साड़ी, घर के सामान और शॉल पर अपना रास्ता खोज लिया है। जब यह कला और डिजाइनर उद्योग के पारंपरिक चिकित्सकों के फैंस को पकड़ लेता है, तो यह सीमा चौड़ी हो जाती है।
  • कपड़े पर प्रिंट को लागू करने की पूरी प्रक्रिया विभिन्न प्राकृतिक रंगों और हार्डा, चूने, एलिज़रीन, इंडिगो और यहां तक कि ऊंट के गोबर से कपड़े धोने और धोने के कई चरणों से गुजरती है।
  • पूरी लंबाई के कच्चे कपड़े को नदी के माध्यम से कई बार, खींचा, पीटा, उबला हुआ, पिघलाया जाता है, नदी के किनारे से मिट्टी के पाटों के प्रतिरोध के साथ मुद्रित किया जाता है, पाउडर ऊंट गोबर और जमीन चावल की भूसी के साथ कवर किया जाता है; गहरे मैडेर और इंडिगो में रंगे।
  • चूँकि अजरक प्रिंट्स में बहुत सीमित रंग होते हैं, इसलिए यह ठीक मोहरदार प्रिंटों से निर्मित एक विशाल रेंज के लिए बनाया गया है। लगभग 2.5 से 3.0 मीटर की लंबाई में मापने, अजरख प्रिंट को कपड़े के दोनों किनारों पर 'विरोध मुद्रण' के रूप में जाना जाता है।
  • सटीक रूप से नक्काशीदार लकड़ी के ब्लॉक के माध्यम से किया गया है जिसमें मिनट और उत्कृष्ट रूप से विस्तृत पैटर्न हैं जो उनकी सतह के नीचे खोदे गए हैं, दोहराए गए पैटर्न को पैटर्न को सही ढंग से बनाने के लिए उचित मात्रा में कौशल की आवश्यकता है।
  • लेकिन पूरी प्रक्रिया के चरणों के खत्म होने के बाद प्रिंट के तरीके के अलावा और कुछ भी नहीं है। जीवंतता है, और चमक है, जो सिंधु नदी में होने वाली बहुत सारी राख के बाद आती है। नदी के पानी की गुणवत्ता इतनी अनूठी है कि इसके विशेष रासायनिक गुणों के कारण परिणाम सामने आते हैं जो प्रिंट को तेज और टिकाऊ बनाते हैं।
  • अजरक प्रिंट एक ग्रिड के भीतर नियोजित होता है, एक वेब-डिज़ाइन या केंद्रीय जाल बनाने वाला दोहराव पैटर्न। इस जाल के अलावा, सीमा डिजाइन कपड़े में भी कार्यरत हैं। इन सीमाओं को दोनों लंबवत और क्षैतिज रूप से संरेखित किया जाता है और केंद्रीय क्षेत्र को फ्रेम करता है, एक अर्क को दूसरे से अलग करता है। पार्श्व छोर सीमाओं के लेआउट को अलग करने के लिए एक व्यापक, दोहरे मार्जिन का उपयोग करके मुद्रित किए जाते हैं।
  • अजरक प्रिंट के पारंपरिक रंग प्रकृति के गहरे, गहन और प्रतिनिधित्व वाले गुण थे। रंग प्रकृति में तत्वों से आते हैं, जैसे इंडिगो प्लांट से इंडिगो या नीला, मैडर पौधों की जड़ों में पाया जाने वाला लाल, रंग और डाई को गाढ़ा करने के लिए इमली के बीजों को मिलाकर गुड़ और बाजरा के आटे से काला।
  • आज उपलब्धता की कमी ने सिंथेटिक, पर्यावरण के अनुकूल रंगों का उपयोग करने के लिए मजबूर किया है, जो नारंगी, पीले और जंग जैसे रंगों में लाते हैं जो जीवंतता पैदा करते हैं।
  • कपड़े पर छपाई की अन्य प्रक्रियाओं के विपरीत, जहां रंग सीधे कपड़े पर लागू होता है, अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग में, कपड़े को पहले एक प्रतिरोध पेस्ट के साथ मुद्रित किया जाता है और फिर रंगा जाता है। प्रक्रिया को विभिन्न प्रकार के रंगों के साथ बार-बार दोहराया जाता है, अंत में गहरे लाल और नीले रंग में अंतिम पैटर्न को प्राप्त करने के लिए। यह क्रमिक प्रक्रिया भी बहुत समय लेने वाली होती है, क्योंकि अगले चरण की शुरुआत से पहले कारीगर जितनी देर प्रतीक्षा करता है, उतना ही अधिक अंतिम प्रिंट बन जाता है। इस प्रकार, पूरी प्रक्रिया को दो सप्ताह तक का समय लग सकता है जिसके परिणामस्वरूप अजरक के सुंदर आंख को पकड़ने वाले पैटर्न का निर्माण होगा।
  • पानी अजरक कपड़े के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण है। कारीगर कपड़े को एक ऐसी प्रक्रिया के माध्यम से लेते हैं जिसमें तीस अलग-अलग चरणों को शामिल किया जा सकता है क्योंकि पहले कपड़ा तैयार किया जाता है, फिर पिघलाया जाता है, फिर रंगा जाता है। प्रत्येक चरण के माध्यम से पानी का चरित्र सब कुछ प्रभावित करेगा - रंगों के रंगों से खुद को पूरी प्रक्रिया की सफलता या विफलता के लिए।
  • इन पैटर्नों को बनाते समय उपयोग किए जाने वाले सामान्य रंगों में शामिल हो सकते हैं, लेकिन ये नीले, लाल, काले, पीले और हरे रंग तक सीमित नहीं हैं।
  • ऐसा लगता है कि एक राजा एक बार अपने बिस्तर पर इतना बड़ा हो गया कि उसने अपनी नौकरानियों से आग्रह किया कि वह इसे एक और दिन अपने बिस्तर पर रहने दे, उसने “अज की दिन राख” को मुहावरा दिया, जिस वाक्यांश का इस्तेमाल उस नाम को करने के लिए किया गया था अजरख के रूप में कपड़े।
  • यह भी माना जाता है कि कपड़े का नाम संस्कृत के शब्द 'ए-जरात' या 'जो फीका नहीं पड़ता' से लिया गया है। 'अजरक', नीले रंग के लिए अरबी शब्द भी प्रक्रिया में इंडिगो के व्यापक उपयोग के कारण इसकी व्युत्पत्ति में एक भूमिका निभा सकता था।
  • माना जाता है कि मिस्र में फ़ुस्सट जैसी जगहों पर फैले कपड़ों को भारत से अजरख कहा जाता है। शिल्प को सभ्यताओं द्वारा महारत हासिल थी, जो सिंध क्षेत्र में सिंधु नदी के आसपास पनपी थी। नदी ने कपड़े धोने के लिए एक साइट प्रदान की और इंडिगो को विकसित करने के लिए आवश्यक पानी। मोहनजो-दारो में एक साइट पर खुदाई की गई एक राजा पुजारी की एक मूर्ति उसे इस कपड़े में लिपटी हुई दिखाई देती है, जिसमें अजरख के शुरुआती उपयोग को दर्शाया गया है। यह एक ट्रेफिल पैटर्न पर मुद्रित परिधान था जिसे माना जाता था कि 'कक्कड़' या अजरख मुद्रण में क्लाउड पैटर्न है। ट्रेफिल की समान ज्यामिति वर्तमान अजरख पैटर्न में स्पष्ट है।
  • किंवदंती है कि अजरख प्रिंटर राजा राम के वंशज हैं। 'क्षत्रिय' (योद्धाओं के लिए हिंदू शब्द) 'खत्री' बन गए और वे लगभग 400 साल पहले सिंध से कच्छ आए थे। अभिलेखों के अनुसार, कच्छ शासक राव भारमलजी ने शिल्पकारों को लोगों और शाही दरबार की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए।
  • क्षेत्र में जातीय चिकित्सकों और विशेषज्ञों को संग्रहित कपड़े से निकलने वाली गंध की तीक्ष्णता से कपड़े की गुणवत्ता के बारे में पता चलता है, आम के अचार की तरह।
  • अजरक मुद्रण में सभी रूपांकनों को एक केंद्रीय बिंदु के चारों ओर बनाया जाता है और कपड़े की तरह ग्रिड में दोहराया जाता है। इस प्रकार क्षैतिज, ऊर्ध्वाधर और विकर्ण रेखाओं का एक डिज़ाइन सुंदर इच्छित डिज़ाइन बनाता है।
  • अजरक प्रिंट्स ने पगड़ी, कमर की साड़ी, शॉल, दुपट्टे, चूडिय़ां, साड़ी, घर के सामान और शॉल पर अपना रास्ता खोज लिया है। जब यह कला के पारंपरिक चिकित्सकों के फैंस को पकड़ लेता है, तो यह सीमा चौड़ी हो जाती है।
  • भारतीय फैशन डिजाइनरों ने आसानी से आधुनिक स्वाद के साथ पारंपरिक अजरक को फ्यूज किया है। एक बार उच्च अंत और उच्च-स्ट्रीट फैशन दोनों में लोकप्रिय खोपड़ी की आकृति ने, अजरक प्रिंट वाली जैकेटों की एक पंक्ति में चित्रित किया है, जो नवीन विचारों को पेश करने में बाजार के प्रशंसकों को सफलतापूर्वक कैप्चर कर रहे हैं।
  • कपड़े पर छपाई की अन्य प्रक्रियाओं के विपरीत, जहां रंग सीधे कपड़े पर लागू होता है, अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग में, कपड़े को पहले एक प्रतिरोध पेस्ट के साथ मुद्रित किया जाता है और फिर रंगा जाता है। प्रक्रिया को विभिन्न प्रकार के रंगों के साथ बार-बार दोहराया जाता है, अंत में गहरे लाल और नीले रंग में अंतिम पैटर्न को प्राप्त करने के लिए। यह क्रमिक प्रक्रिया भी बहुत समय लेने वाली होती है, क्योंकि अगले चरण की शुरुआत से पहले कारीगर जितनी देर प्रतीक्षा करता है, उतना ही अधिक अंतिम प्रिंट बन जाता है। इस प्रकार, पूरी प्रक्रिया को दो सप्ताह तक का समय लग सकता है जिसके परिणामस्वरूप अजरक के सुंदर आंख को पकड़ने वाले पैटर्न का निर्माण होगा।
  • यह शिल्प कुछ समय के लिए गिरावट पर था, क्योंकि मुद्रण और उज्ज्वल रासायनिक रंगों के आधुनिक, तेज, प्राकृतिक, मौन रंगों और इस पारंपरिक वस्त्र को मुद्रित करने की धीमी और सावधान प्रक्रिया की जगह ले रहे थे। लेकिन मास्टर कारीगरों के प्रयासों और शहरी लोगों में बढ़ती जागरूकता के साथ, अजरख शिल्प ने शहरी आबादी के बीच एक बार फिर से दृश्यता प्राप्त की है।
  • मैं कई ऑनलाइन वेबसाइटों का सुझाव दे सकता था, उन्नीति सिल्क्स होने वाले अधिक प्रतिष्ठित लोगों में से एक, जो 1980 के बाद से हथकरघा के साथ जुड़ा हुआ है। आपको हैदराबाद में अपने ऑफलाइन स्टोर पर अजरख साड़ियों की अपनी पसंद मिल जाएगी या ऑनलाइन, थोक या खुदरा ऑर्डर कर सकते हैं। आकर्षक कीमतों पर।
  • अजरख के लिए उन्नाव सिल्क का प्रेम इस तथ्य से उपजा है कि उन्नाव की यात्रा के आरंभ से प्रकृति के साथ एक जुनून और एक निरंतर संबंध है जो इसे ऐसे पारंपरिक रूपों के लिए आंशिक बनाता है जो विशेष रूप से समय की पिटाई बल का सामना करते हैं। अजरख छपाई एक ऐसी पसंदीदा है।
  • अजरख प्रिंट के प्रेमियों के लिए आपके पास डिजाइनर अजरख प्रिंट की साड़ी, प्यारे कुर्ते और ट्यूनिक्स के साथ-साथ अपने खुद के कल्पनाशील अंत उपयोगों के लिए अनूठे डिजाइनों के साथ कपड़े का कपड़ा है।
  • उन्नाती सिल्क्स अजरख के मूल्य को पहचानता है, और इसमें प्रकृति की रचनात्मकता की आत्मा को देखता है जो सुंदर क्रमपरिवर्तन और संयोजनों को प्रेरित करता है।
  • अजरख मोडल सिल्क की साड़ियाँ बहुत ही प्रमुख स्थलों पर उपलब्ध हैं। लेकिन मैं भारत में जानी जाने वाली सबसे हथकरघा किस्म की साड़ियों के विशाल संग्रह के साथ प्रतिष्ठित उन्नाती सिल्क्स के बारे में जानता हूं और कई अन्य लोग निश्चित रूप से अपने संग्रह में अजरख मोडल सिल्क साड़ियों की रेंज की विशेषता होगी। आप निश्चित रूप से अजरख ब्लॉक प्रिंट की साड़ियों को मोडल सिल्क, सूती अजरख की साड़ियों में खरीद सकते हैं, अजरख बंधनी मुद्रित सूती रेशम की साड़ियों में, अजरख प्रिंट चंदेरी रेशम की साड़ियों में, आजुक मुल्मुल कपास और अजरख लिनेन की साड़ियों को भारत में ऑनलाइन खरीदारी करते समय आकर्षक कीमतों पर थोक में खरीद सकते हैं। ।

    Royalty and Grandeur of Maheshwari Handlooms

    Heard of Maheshwar? Large town of Madhya Pradesh in Khargone distict, both a historic place as well as an ancient place of pilgrimage, its Maheshwar fort was built during Emperor Akbar’s rule and later the town developed around it during Rani Ahilyabai’s rule in the 18th century. The Holkar dynasty made its capital since then right up to the 19th century.

    It was Rani Ahilyabai who invited weavers from Hyderabad, Mandav and other princely states to come and practice their craft at Maheshwar.

    She encouraged them by buying their goods and gifting to visiting dignitaries to Maheshwar so that the weavers would benefit. This created the tradition of weaving in Maheshwar and the Maheshwari handloom saree came into existence.

    • Distinctive features of the Maheshwari Saree are its light weight, shiny lustre, and a fine display of colours, with brilliant motifs, an attractive Pallu and a border to match.
    • The Pallu of the Maheshwari saree is particularly noted for the colourful stripes in varied colours such as green, pink, magenta, mauve, violet etc. which lend the fabric a mesmerising look.
    • The border is also adorned by trendy designs and themes such as the Maheshwar fort and similar subjects.
    • The unique feature of a Maheshwari saree is its reversible border. The border is designed in such a way that both sides of the saree can be worn. This is locally known as ‘Bugdi’.
    • The designs in the Maheshwari sarees have been inspired by the detailing on the walls of the Fort of Maheshwar. The popular designs used in these sarees, were inspired from the designs on the fort walls. ‘Mat’ pattern, the ‘Chameli flower’ pattern, the ‘Brick’ pattern as well as the ‘Diamond’ pattern were initial and found instant popularity. These designs are found on Maheshwari sarees even today.
    • Originally, the Maheshwari saree was made of pure silk. Then in course of time, sarees began to be made in pure cotton and with a mixture of silk and cotton (silk yarn in the warp and cotton in the weft). Nowadays, wool is also being used in the production of Maheshwari silk and cotton sarees. These sarees are extremely light in weight.
    • Maheshwari handloom sarees were initially made only in dark shades like red, maroon, black, purple and green. Today, these sarees are also being made in lighter shades and gold and silver zari threads are being made use of, liberally.
    • Usually, vegetable dyes are used in the preparation of these sarees.
    Essentially there are six stages of Design, procurement of raw materials, dyeing of the yarn, preparing the warp and weft for weaving, the actual weaving of the Maheshwari handloom saree and the finishing or packing of the saree to be dispatched.
    Maheshwari Sarees at Unnati Silks are a feast for the eyes. Here are a few examples:
    • Sarees having plain colored fields with striking golden zari borders,
    • Sarees with dark backgrounds flanked by multicolor borders, classy neon sarees with striking zari,
    • striped pattern sarees with lovely large motifs on the pallu, sarees with elegant geometrical block printed motifs with a zari patti border. Etc.
    • Maheswari silk sarees are decorated with thread embroidery, kundans and beads.
    • In addition, the Handloom Mark and Silk Mark provide the assurance that the customer has only to make the necessary choices as regards, design, color and price, there being not a shadow of doubt regards the product being genuine.
    • A traditional fabric that has stood the test of time the Maheshwari saree continues to build on its reputation of being one of the finest handloom sarees in the country.
    यह रानी अहिल्याबाई थीं जिन्होंने हैदराबाद, मांडव और अन्य रियासतों से बुनकरों को आमंत्रित किया था कि वे महेश्वर में अपने शिल्प का अभ्यास करें। उसने अपना सामान खरीदकर और महेश्वर के गणमान्य व्यक्तियों को भेंट करने के लिए प्रोत्साहित किया ताकि बुनकरों को लाभ हो। इसने महेश्वर में बुनाई की परंपरा बनाई और माहेश्वरी हथकरघा साड़ी अस्तित्व में आई।
    • माहेश्वरी साड़ी की विशिष्ट विशेषताएं इसके हल्के वजन, चमकदार चमक, और रंगों का एक अच्छा प्रदर्शन, शानदार रूपांकनों के साथ, एक आकर्षक पल्लू और मैच करने के लिए एक सीमा है।
    • माहेश्वरी साड़ी के पल्लू को विशेष रूप से विभिन्न रंगों जैसे कि हरे, गुलाबी, मैजेंटा, मौवे, वायलेट आदि में रंगीन पट्टियों के लिए जाना जाता है जो कपड़े को एक आकर्षक लुक देते हैं।
    • सीमा भी ट्रेंडी डिजाइन और महेश्वर किले और इसी तरह के विषयों जैसे विषयों से सजी है।
    • माहेश्वरी साड़ी की अनूठी विशेषता इसकी प्रतिवर्ती सीमा है। बॉर्डर को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि साड़ी के दोनों किनारों को पहना जा सकता है। यह स्थानीय रूप से 'बुगड़ी' के रूप में जाना जाता है।
    • माहेश्वरी साड़ियों के डिजाइन महेश्वर के किले की दीवारों पर विस्तार से प्रेरित हैं। इन साड़ियों में उपयोग किए जाने वाले लोकप्रिय डिजाइन, किले की दीवारों पर डिजाइनों से प्रेरित थे। 'मैट ’पैटर्न, eli चमेली फूल’ पैटर्न,' ब्रिक ’पैटर्न के साथ-साथ 'डायमंड’ पैटर्न प्रारंभिक थे और उन्हें तत्काल लोकप्रियता मिली। ये डिज़ाइन आज भी माहेश्वरी साड़ियों पर पाए जाते हैं।
    • मूल रूप से, माहेश्वरी साड़ी शुद्ध रेशम से बनी थी। फिर समय के साथ, साड़ियों को शुद्ध कपास में और रेशम और कपास (ताना में रेशम का धागा और बाने में सूत) के मिश्रण के साथ बनाया जाने लगा। आजकल, ऊन का उपयोग माहेश्वरी रेशम और कपास की साड़ियों के उत्पादन में भी किया जा रहा है। ये साड़ी वजन में बेहद हल्की होती हैं।
    • माहेश्वरी हैंडलूम साड़ियों को शुरुआत में केवल लाल, मैरून, काले, बैंगनी और हरे जैसे गहरे रंगों में बनाया गया था। आज, इन साड़ियों को हल्के रंगों में भी बनाया जा रहा है और सोने और चांदी के जरी के धागों का उपयोग उदारतापूर्वक किया जा रहा है।
    • आमतौर पर इन साड़ियों की तैयारी में वेजिटेबल डाई का इस्तेमाल किया जाता है।

    अनिवार्य रूप से डिजाइन के छह चरण हैं, कच्चे माल की खरीद, सूत की रंगाई, बुनाई के लिए ताना और कपड़ा तैयार करना, माहेश्वरी हथकरघा साड़ी की वास्तविक बुनाई और साड़ी के परिष्करण या पैकिंग को भेजा जाना है।

      महेश्वरी साड़ियों को ऑनलाइन करती है उन्नावती सखियों पर माहेश्वरी साड़ियों को उन्नीस सिल्क्स आंखों के लिए एक दावत है। यहाँ कुछ उदाहरण दिए गए हैं:
    • साड़ी के रंग वाले खेत जो हड़ताली सुनहरी ज़री की सीमाओं के,
    • साथ हैं, गहरे रंग की पृष्ठभूमि वाली साड़ीबहुरंगी सीमाओं से गुँथी हुई,ज़री के साथ उत्तम दर्जे की नीयन साड़ी,
    • धारीदारपल्लू पर प्यारे बड़े रूपांकनों के साथ धारीदार पैटर्न की साड़ियाँ,
    • सुरुचिपूर्ण ज्यामितीय ब्लॉक वाली साड़ी। एक ज़री पटटी सीमा के साथ रूपांकनों। आदि माहेश्वरी सिल्क साड़ियों को धागे की कढ़ाई, कुंदन और मोतियों से सजाया जाता है।
    • इसके अलावा, हैंडलूम मार्क और सिल्क मार्क यह आश्वासन देते हैं कि ग्राहक के पास केवल संबंध, डिजाइन, रंग और कीमत के रूप में आवश्यक विकल्प बनाने के लिए है, इसमें संदेह की छाया नहीं है कि उत्पाद वास्तविक है।
    • माहेश्वरी साड़ी को समय की कसौटी पर कसने वाला एक पारंपरिक कपड़ा देश की बेहतरीन हथकरघा साड़ियों में से एक है।