Free Shipping in India | And Internationally above Rs.19999

Kota Cotton|Applique

Filter

2 Items

Set Descending Direction
  1. Green Pure Applique Kota Cotton Saree Green Pure Applique Kota Cotton Saree
  2. White Pure Handloom Preet Dabu Kota Cotton Saree
    -58%
    White Pure Handloom Preet Dabu Kota Cotton Saree
    Special Price ₹5,399.00 Regular Price ₹12,998.00

2 Items

Set Descending Direction

The eye-catching appeal of Appliqué worked sarees

Adornment has always been since traditional times, used for beautifying fabrics in some way or the other. Simple to elaborate, average to exceptional, colourful embroidery or exquisite miniature thread work, adornment has always been used to decorate fabrics. Exclusive or otherwise, the additional decorating feature is an essential inclusion for fabrics that creates the extra appeal that gives the fabric its worth. The more complex it is, the more it enhances the worth of the fabric.

One such attractive adornment since a long, long time has been appliqué work.

  • 'Applique', is a French term, for a technique by which the decorative effect is obtained by superposing patches of coloured fabrics on a basic fabric mostly of contrasting colour or texture, the edges of the patches being sewn in some form of stitchery. The attaching could be by stitching, or gluing the patch on the larger fabric. The edges of the patch may have the ends folded under or left as they are. The attaching is done by straight stitch, satin stich or reverse Appliqué. Embroidery machines have taken over what earlier used to be done by hand. Its application is best suited for any work that has to be viewed from a distance such as banners. Appliqué is also used for school badges.
  • It is distinct from what is known as patch work in which small pieces of cut fabrics are usually joined side by side to make a large piece of fabric or for repairing a damaged fabric. Though the form is not unknown in other parts of India, it is Odisha and specially in Pipli that the appliqué craft has a living and active tradition continuing over centuries.
  • During the Mughal period, the art of appliqué became a royal medium of fashioning elegant and delicate textile products. Muslin fabrics had fine architectural jal patterns to create a wonderful designer fabric, a fine example of appliqué technique. Appliqué is used extensively in quilting. E.g. the Ralli quilts of India use appliqué.
  • Applied pieces usually have their edges folded under, and are then attached by any of the following:
  • Straight stitch, typically 20-30mm in from the edge.
  • Satin stitch, all around, overlapping the edge. The patch may be glued or straight stitched on first to ensure positional stability and a neat edge.
  • Reverse appliqué: several layers of material are stitched together, parts of the upper layers are cut away, and the edges are stitched down. The largest cuts are made in the topmost layer.
  • Patterns could be symmetrical geometrical designs or innovative combinations of artistic arrangements.
  • There are two ways that a pattern can come up on a fabric. Becoming one with the weave during the weaving process or prepared on a separate cloth and attached to the base fabric. It is the latter way of adorning the fabric that is simpler to do and affix, which has opened up a new line of stylish designer fabrics – known as appliqué worked fabrics.
  • By using different patches of fabric, beautiful forms of floral and animal designs are prepared for different products and apparel. By piecing cloth together like in quilts, different patterns are made by applying cloth of different colors. Multicolored covering of jigsaw pieces formed of geometrical shapes creating a visual treat, is the impression one gets while seeing an applique or patchwork. Colorful and vivid shapes and forms of fabric patched together or on another surface creates attractive and vibrant designer fabrics.
  • Appliqué work in India was once mainly practised in Pipli, Odisha, especially for banners during the Lord Jagannatha Rath Yatra. But today it also finds use as adornment on large canvas fabrics like the saree. The same principle of affixing patches is followed as was earlier but with designs that are modern, abstract and trendy that appeal to the market.
  • The motifs for the Kalamkari cotton Appliqué work sarees as you can see online may be white or coloured with the fabric body of contrasting colour and could have intricate appliqué work embroidery and mirror work in saree designs also to make it highly ornamental. Motifs generally are elephant, parrot, peacock, duck, creepers, flowers such as lotus and jasmine. Half moon, Sun and Rahu (mythical Rakshasa) are also popular subjects.
  • Colours used are limited to red, green, blue, brown and black. Today it is not limited to that. Designs are aplenty and appliques could be dazzling white on white, warm to cool hues, and bright neon to pastel depending upon the artist’s fancy. Also contrasts are followed but with a wide range of colours and hues. There is a shift to chemical colours without insistence on organic dyes alone. Patterns and motifs while still including traditional ones have now become more varied and colourful.
  • Appliqué work designs for cotton sarees that you see online are created by two differing techniques. Based on the way it is done or style adopted, the colours used, the composition and even the pattern forms chosen, the source can be identified by those familiar with appliqué work.
  • Simple applique is created by drawing on a fabric, cutting out the drawing and then stitching on to the base fabric, plain or with printed designs. The advantage of this system is that it is simple, and symmetrical and asymmetrical shapes may be cut out to form the designs on the base fabric. Stitching can be done in a variety of stitches that in addition to fixing becomes an additional decorative feature.
  • The more elaborate and laborious form is the Reverse appliqué where the surface fabric forms the shape and design contrasted to the top fabric in appliqué. e.g. small abstract designer patterns on a fabric, animal motifs and vegetation on a home courtyard scene are examples of reverse appliqué work - original and creative artistry by traditional craftsmen.
  • No! Appliqué and patch work, are two techniques which developed mainly for domestic purposes but have become popular in fashion adornments in fabrics. Let us distinguish between the two.
  • The art of decorating a base cloth by applying fabric on fabric with the edges sewn down by stitching can be termed as appliqué. The applique could have any large design or pattern in symmetrical shape, and generally forms a central theme on the base fabric. The appliqué and base are generally contrast coloured for heightened effect.
  • Patchwork on the other hand is the art of sewing little patches of geometric shaped decorated fabric lengths to form a textile pattern like a designer border. Patches are meant for attachment to the edges and easily distinguished as appendages to the main garment.
  • Appliqué work in India, once mainly practised in Pipli, Odisha, for banners during the Lord Jagannatha Rath Yatra is also one of the oldest and finest traditional crafts on large fabrics in Gujarat and Odisha.
  • Today it also finds use as adornment on canvas fabrics like the handloom saree, salwar kameez etc. The same principle of affixing patches is followed as was earlier but with designs that are modern, abstract and trendy that appeal to the market.
  • Tastes have brought in innovative ideas and designs that appeal to current day women of fashion.
  • Contrasts are followed for the attatchment and base fabric but with a wide range of colours and hues.
  • There is a shift to chemical colours without insistence on organic dyes alone.
  • Patterns and motifs while still including traditional ones have now become more varied and colourful.
  • Once done by hand, there are embroidery machines that have taken over to reduce the time taken for large and detailed appliqués that are then firmly stuck over the base fabric or lightly stuck and hand stitched at the edges of the design.
  • With the changing times the craft has also adopted itself to the needs of modern man. Among the more popular applique items today are garden umbrellas, a variant of chhati with wooden or aluminium stands, shoulder bags, ladies hand bags, wall hangings, lamp shades, bed covers, pillow covers, letter pouches, etc.
  • Similarly, Applique items are also being used in combination with other handicrafts to produce composite products. An interesting use is the superimpposition of applique on grass mats and used as partitions.
  • Though earlier the art form was restricted to darji caste, today it is practised by non-caste members, notably by some young Muslim boys.
  • Unlike many other handicrafts, applique items are attractive artefacts of daily use apart from being decorative. They are also comparatively cheaper.
  • Modern consumer embroidery machines quickly stitch appliqué designs by following a program.
  • The programs have a minimum complexity of two thread colors, meaning the machine stops during stitching to allow the user to switch threads.
  • First, the fabric that will be the background and the appliqué fabric are affixed into the machine's embroidery hoop. The program is run and the machine makes a loose basting stitch over both layers of fabric.
  • Next, the machine stops for a thread change, or other pre-programmed break.
  • The user then cuts away the excess appliqué fabric from around the basting stitch.
  • Following this, the machine continues on program, automatically sewing the satin stitches and any decorative stitching over the appliqué for best results
  • Just to give an idea, this is how the appliqué is created for the temple canopy.
  • The basic material for applique is cloth. If more than one of the same cut motifs is required, a stencil is used.
  • These cut and specially prepared motifs are then superposed on a base cloth in predetermined layout and sequence. The edges of the motifs are turned in and skillfully stitched onto the base cloth or stitched by embroidery or without turning as necessary.
  • The specially prepared motifs may be coloured or white. The base cloth is usually coloured. Some of the specially prepared motifs have exclusive embroidery work and some have mirror work. In heavy canopies, the base cloth is additionally supported by a back cloth for strength.
  • The stitching process varies from item to item and come under six broad categories, namely, (1) bakhia, (2) taropa, (3) ganthi, (4) chikana, (5) button-hole and (6) ruching.
  • Sometimes emroidered patterns are also used and in a few items mirror work is also incorporated. The layout of various motifs and patterns vary according to the shape of the piece. The canopy has a large centre piece which may be a square. This centre piece is then bounded by several borders of different widths, one outside the other, till the edge is reached.
  • In the umbrella and Chhati the inner field is arranged in circles, each circle having patches of one motif placed side by side. Patterns are laid in the same way as the shape of the Tarasa, with a large motif or two placed at the centre. The layout for covers for horses consists of a series of concentric strips in the portion which covers the neck, each strip having patches of one motif, while the portions which fall on either side of the body are plain, having border all round with or without a motif at the centre of the plain field.
  • The motifs used are fairly varied yet fixed and cosist of stylised representations of flora and fauna as well as a few mythical figures. Of the more common of these motifs are the elephant, parrot, peacock, ducks, creepers, trees, flowers like lotus, jasmine, half-moon, the Sun and Rahu (a mythical demon who devours the sun).
  • Just as there are a few fixed motifs only a limited number of colors are used in the traditional applique craft. These are green, red, blue, ochre and black. The creative urge of the craftsmen however are released in the endlessly various combination of motifs as well in the mixing of these limited colors. While there has been very little change in the use of motifs, there has been a trend towards greater experimentation in colour combinations.
  • Superimposition of coloured cloths on grey marking cloth is quite common today as the use of cloth of all colors and hues.
  • One could buy based on applique work designs on sarees seen on local manufacturer's Facebook page. But I would venture to suggest Unnati Silks. It has been associated with handlooms since 1980 and has varieties made across 21 states of India, under one roof.
    Oh! Quite a variety and range of appliqué work sarees for you to choose from. You could have Chanderi sicos in dark shades having floral patch appliqué work patchwork designs and patches for sarees, with small attractive borders and zari filled designer pallu with a beautiful appliqué patch to complement the rest of the saree.
  • Fresh look plain malmal cotton sarees with small floral appliqué patches distributed evenly across the saree.
  • Arni silk sarees with rich plain glossy shine but having an appliqué work pallu that is mesmerizing.
  • Kerala Kasavu with that evergreen fresh look but with an additional floral patch heightening the appeal of the saree.
  • Dupion art silk saree with appliqué work patch all over and large appliqué work design spread over the pallu.
  • There are many more such variations that beckon the attention of the online visitor.
  • 'एप्लाइक', एक फ्रांसीसी शब्द है, एक ऐसी तकनीक के लिए जिसके द्वारा सजावटी प्रभाव रंगीन कपड़ों के पैच को एक मूल कपड़े पर प्राप्त किया जाता है, जिसमें ज्यादातर विपरीत रंग या बनावट होती है, पैच के किनारों को किसी न किसी प्रकार की सिलाई में सिल दिया जाता है। अटैचमेंट सिलाई द्वारा हो सकता है, या बड़े कपड़े पर पैच को gluing कर सकता है। पैच के किनारों के नीचे के छोर मुड़े हुए हो सकते हैं या वे जैसे हैं वैसे ही रह सकते हैं। अटैचमेंट स्ट्रेट स्टिच, साटन स्टिच या रिवर्स अप्लीक द्वारा किया जाता है। कढ़ाई मशीनों ने संभाल लिया है जो पहले हाथ से किया जाता था। इसका एप्लिकेशन किसी भी काम के लिए सबसे उपयुक्त है जिसे बैनरों जैसी दूरी से देखना पड़ता है। Appliqué का उपयोग स्कूल बैज के लिए भी किया जाता है।
  • यह उस कार्य से अलग है जिसे पैच वर्क के रूप में जाना जाता है जिसमें कपड़े के छोटे टुकड़ों को आमतौर पर एक बड़े कपड़े का टुकड़ा बनाने या क्षतिग्रस्त कपड़े की मरम्मत के लिए कंधे से कंधा मिलाकर जोड़ा जाता है। यद्यपि यह रूप भारत के अन्य हिस्सों में अज्ञात नहीं है, यह ओडिशा और विशेष रूप से पिपली में है कि तालियों के शिल्प में सदियों से जारी एक जीवित और सक्रिय परंपरा है।
  • मुगल काल के दौरान, आकर्षक और नाजुक वस्त्र उत्पादों को बनाने के लिए तालियों की कला एक शाही माध्यम बन गई। मलमल के कपड़ों में एक शानदार डिजाइनर कपड़े बनाने के लिए बढ़िया वास्तुशिल्प पैटर्न था, जो कि तालियों की तकनीक का एक बेहतरीन उदाहरण था। Appliqué का उपयोग बड़े पैमाने पर रजाई बनाने में किया जाता है। उदाहरण के लिए, भारत के रल्ली रजाई तालियों का उपयोग करते हैं।
  • लागू टुकड़ों में आमतौर पर उनके किनारे मुड़े होते हैं, और फिर निम्नलिखित में से किसी एक द्वारा संलग्न होते हैं:
  • सीधे सिलाई, आमतौर पर किनारे से 20-30 मिमी।
  • साटन सिलाई, चारों ओर, ओवरलैपिंग एज। पैच को सघन या सीधा किया जा सकता है ताकि स्थिति स्थिरता और एक साफ बढ़त सुनिश्चित हो सके।
  • रिवर्स अप्लीक्यू: सामग्री की कई परतों को एक साथ सिला जाता है, ऊपरी परतों के हिस्सों को काट दिया जाता है, और किनारों को नीचे सिला जाता है। सबसे बड़ी कटौती सबसे ऊपरी परत में की जाती है।
  • पैटर्न सममित ज्यामितीय डिजाइन या कलात्मक व्यवस्था के अभिनव संयोजन हो सकते हैं।
  • दो तरीके हैं जो एक पैटर्न कपड़े पर आ सकते हैं। बुनाई की प्रक्रिया के दौरान बुनाई के साथ एक बन गया या एक अलग कपड़े पर तैयार किया गया और बेस कपड़े से जुड़ा हुआ था। यह कपड़े को अनुरक्षित करने का सबसे बाद का तरीका है जो करने और करने के लिए सरल है, जिसने स्टाइलिश डिजाइनर कपड़ों की एक नई लाइन खोली है - जिसे एपलाइक के रूप में जाना जाता है।
  • कपड़े के विभिन्न पैच का उपयोग करके, विभिन्न उत्पादों और परिधानों के लिए फूलों और जानवरों के डिजाइन के सुंदर रूप तैयार किए जाते हैं। रजाई की तरह कपड़े को एक साथ जोड़कर अलग-अलग पैटर्न अलग-अलग रंगों के कपड़े लगाकर बनाए जाते हैं। दृश्य उपचार बनाने वाले ज्यामितीय आकृतियों से बने आरा टुकड़ों के बहुरंगी आवरण, वह आभास होता है, जो किसी की प्रशंसा या चिथड़े को देखते हुए मिलता है। रंगीन और ज्वलंत आकार और कपड़े के रूपों को एक साथ या किसी अन्य सतह पर चिपकाए जाने से आकर्षक और जीवंत डिजाइनर कपड़े बनते हैं।
  • भारत में मुख्य रूप से पिपली, ओडिशा में विशेष रूप से भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान बैनर के लिए तालियां बजाने का काम किया जाता था। लेकिन आज यह साड़ी की तरह बड़े कैनवास के कपड़ों पर अलंकरण के रूप में भी उपयोग होता है। पैच चिपकाए जाने के उसी सिद्धांत का पालन किया जाता है जैसा कि पहले था लेकिन उन डिजाइनों के साथ जो आधुनिक, सार और फैशनेबल हैं जो बाजार में अपील करते हैं।  
  • कलामकारी कॉटन अप्पलीके वर्क की साड़ियों के रूप में आप ऑनलाइन देख सकती हैं, इसके विपरीत रंग के फैब्रिक बॉडी के साथ सफेद या रंगीन हो सकते हैं और इसमें साड़ी डिजाइनों में जटिल वर्क कढ़ाई और मिरर वर्क हो सकता है, जो इसे अत्यधिक सजावटी बनाने के लिए है। मोती आमतौर पर हाथी, तोता, मोर, बतख, लता, फूल जैसे कमल और चमेली होते हैं। आधा चाँद, सूर्य और राहु (पौराणिक रक्षा) भी लोकप्रिय विषय हैं।
  • उपयोग किए जाने वाले रंग लाल, हरे, नीले, भूरे और काले रंग तक सीमित हैं। आज यह यहीं तक सीमित नहीं है। डिजाइन सहायक हैं और appliques कलाकार की कल्पना पर निर्भर करता है, चमकदार से गर्म, शांत hues को गर्म, और उज्ज्वल नीयन से पेस्टल तक चमकदार हो सकता है। इसके अलावा विरोधाभासों का पालन किया जाता है लेकिन रंग और रंग की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ। अकेले कार्बनिक रंगों पर जोर दिए बिना रासायनिक रंगों में बदलाव होता है। पैटर्न और रूपांकनों जबकि पारंपरिक लोगों सहित अभी भी अधिक विविध और रंगीन हो गए हैं।
  •  
  • सूती साड़ियों के लिए आप जो ऑनलाइन काम करती हैं, उसके लिए Appliqué वर्क डिज़ाइन दो अलग-अलग तकनीकों द्वारा बनाए गए हैं। जिस तरह से यह किया जाता है या शैली को अपनाया जाता है उसके आधार पर, रंगों का उपयोग किया जाता है, रचना और यहां तक ​​कि पैटर्न के रूपों को चुना जाता है, स्रोत को उन लोगों द्वारा पहचाना जा सकता है जो तालमेल के काम से परिचित हैं।
  • साधारण पिपली एक कपड़े पर ड्राइंग, ड्राइंग को काटकर और फिर बेस फैब्रिक, सादे या मुद्रित डिजाइन के साथ सिलाई पर बनाई गई है। इस प्रणाली का लाभ यह है कि यह सरल है, और बेस कपड़े पर डिजाइन बनाने के लिए सममित और विषम आकार काटे जा सकते हैं। सिलाई को विभिन्न प्रकार के टांके में किया जा सकता है जो फिक्सिंग के अतिरिक्त एक अतिरिक्त सजावटी विशेषता बन जाता है।
  • अधिक विस्तृत और श्रमसाध्य रूप रिवर्स रिवर्स है जहां सतह कपड़े एप्लाइके में शीर्ष कपड़े के विपरीत आकार और डिजाइन बनाता है। उदाहरण के लिए, कपड़े पर छोटे सार डिजाइनर पैटर्न, जानवरों के रूपांकनों और एक घर के आंगन के दृश्य पर वनस्पति, पारंपरिक शिल्पकारों द्वारा मूल और रचनात्मक कलात्मकता के विपरीत कार्य के उदाहरण हैं। 
  • नहीं न! Appliqué and पैच वर्क, दो तकनीकें हैं जो मुख्य रूप से घरेलू उद्देश्यों के लिए विकसित की गई हैं, लेकिन कपड़ों में फैशन अलंकरण में लोकप्रिय हो गई हैं। हम दोनों में अंतर करते हैं।
  • सिलाई द्वारा नीचे किनारों के साथ कपड़े पर कपड़े को लगाकर बेस कपड़े को सजाने की कला को सराहनीय कहा जा सकता है। एप्लाइड सममित आकार में कोई भी बड़ा डिज़ाइन या पैटर्न हो सकता है, और आमतौर पर बेस कपड़े पर एक केंद्रीय विषय बनता है। तालियां और आधार आम तौर पर ऊंचे प्रभाव के लिए विपरीत रंग के होते हैं।
  • दूसरी ओर पैचवर्क एक डिजाइनर सीमा की तरह कपड़ा पैटर्न बनाने के लिए ज्यामितीय आकार के कपड़े की लंबाई के छोटे पैच को सिलाई करने की कला है। पैच किनारों के लिए लगाव के लिए हैं और आसानी से मुख्य परिधान के उपांग के रूप में प्रतिष्ठित हैं।
  • भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान बैनर के लिए मुख्य रूप से पिपली, ओडिशा में अभ्यास किया जाता है।
  • आज यह कैनवास के कपड़े जैसे कि हैंडलूम साड़ी, सलवार कमीज आदि पर अलंकरण के रूप में भी उपयोग किया जाता है। पैच चिपकाए जाने के उसी सिद्धांत का पालन किया जाता है जैसा कि पहले था लेकिन उन डिजाइनों के साथ जो आधुनिक, सार और फैशनेबल हैं जो बाजार में अपील करते हैं।
  • स्वाद ने नए विचारों और डिजाइनों को लाया है जो फैशन की वर्तमान महिलाओं से अपील करते हैं।
  • कन्ट्रास्ट और बेस फैब्रिक के लिए कंट्रास्ट का पालन किया जाता है, लेकिन रंगों और ह्यूज की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ।
  • अकेले कार्बनिक रंगों पर जोर दिए बिना रासायनिक रंगों में बदलाव होता है।
  • पैटर्न और रूपांकनों जबकि पारंपरिक लोगों सहित अभी भी अधिक विविध और रंगीन हो गए हैं।
  • एक बार हाथ से किए जाने के बाद, ऐसी कढ़ाई मशीनें होती हैं जो बड़े और विस्तृत रूप से लिए गए समय को कम करने के लिए ले ली जाती हैं जो तब बेस फैब्रिक पर मजबूती से अटक जाती हैं या डिजाइन के किनारों पर हल्के से चिपक जाती हैं और हाथ से सिले जाती हैं।
  •  
  • बदलते समय के साथ शिल्प ने भी आधुनिक मनुष्य की जरूरतों को अपनाया है। और अधिक लोकप्रिय पिपली वस्तुओं में आज उद्यान छाते, लकड़ी या एल्यूमीनियम खड़ा है, कंधे बैग, महिलाओं के हाथ बैग, दीवार के पर्दे, दीपक रंगों, बिस्तर कवर, तकिया कवर, पत्र के पाउच, आदि के साथ chhati का एक प्रकार हैं
  • इसी प्रकार, समग्र उत्पादों का उत्पादन करने के लिए अन्य हस्तशिल्प के साथ संयोजन में Applique वस्तुओं का भी उपयोग किया जा रहा है। एक दिलचस्प उपयोग घास के मटके पर पिपली का सुपरिंपोजिशन है और विभाजन के रूप में उपयोग किया जाता है।
  • हालांकि पहले कला का स्वरूप दारजी जाति तक ही सीमित था, लेकिन आज गैर-जाति के सदस्यों द्वारा इसका अभ्यास किया जाता है, विशेष रूप से कुछ मुस्लिम लड़कों द्वारा।
  • कई अन्य हस्तशिल्पों के विपरीत, सजावटी वस्तुओं के सजावटी होने के अलावा दैनिक उपयोग के आकर्षक सामान हैं। वे तुलनात्मक रूप से सस्ते भी हैं। 
  • आधुनिक उपभोक्ता कढ़ाई मशीन एक कार्यक्रम का पालन करके तेजी से appliqué डिजाइनों को सिलाई करते हैं।
  • कार्यक्रमों में दो थ्रेड रंगों की एक न्यूनतम जटिलता है, जिसका अर्थ है कि सिलाई के दौरान मशीन थ्रेड को स्विच करने की अनुमति देती है।
  • सबसे पहले, फैब्रिक जो बैकग्राउंड होगा और एपलिक्क फैब्रिक को मशीन की कढ़ाई घेरा में चिपका दिया जाएगा। कार्यक्रम चलाया जाता है और मशीन कपड़े की दोनों परतों पर एक ढीली बस्टिंग स्टिक बनाती है।
  • अगला, मशीन थ्रेड परिवर्तन, या अन्य पूर्व-क्रमिक विराम के लिए बंद हो जाती है।
  • उपयोगकर्ता फिर स्टैकिंग स्टिक के चारों ओर से अतिरिक्त एपलाइक कपड़े को काट देता है।
  • इसके बाद, मशीन प्रोग्राम पर जारी रहती है, स्वचालित रूप से साटन टांके को सिलाई करती है और सर्वश्रेष्ठ परिणामों के लिए तालियों पर कोई सजावटी सिलाई होती
  • बस एक विचार देने के लिए, यह कैसे मंदिर चंदवा के लिए appliqué बनाया जाता है।
  • पिपली के लिए मूल सामग्री कपड़ा है। यदि एक से अधिक कटे हुए रूपांकनों की आवश्यकता होती है, तो एक स्टैंसिल का उपयोग किया जाता है।
  • ये कट और विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों को पूर्वनिर्धारित लेआउट और अनुक्रम में एक बेस कपड़े पर लगाया जाता है। रूपांकनों के किनारों को बारी-बारी से आधार के कपड़े पर सिलाई की जाती है या कढ़ाई द्वारा सिलाई की जाती है या आवश्यकतानुसार घुमाया जाता है।
  • विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों को रंगीन या सफेद हो सकता है। बेस कपड़ा आमतौर पर रंगीन होता है। कुछ विशेष रूप से तैयार किए गए रूपांकनों में विशेष कढ़ाई का काम होता है और कुछ में दर्पण का काम होता है। भारी canopies में, बेस कपड़े को अतिरिक्त रूप से ताकत के लिए पीछे के कपड़े द्वारा समर्थित किया जाता है।
  • सिलाई प्रक्रिया आइटम से आइटम में भिन्न होती है और छह व्यापक श्रेणियों के अंतर्गत आती है, अर्थात् (1) बखिया, (2) टैरोपा, (3) गांठी, (4) चिकाना, (5) बटन-छेद और (6) रुचिंग।
  • कभी-कभी उत्सर्जित पैटर्न का भी उपयोग किया जाता है और कुछ वस्तुओं में दर्पण का काम भी शामिल होता है। विभिन्न आकृति और पैटर्न का लेआउट टुकड़ा के आकार के अनुसार भिन्न होता है। चंदवा में एक बड़ा केंद्र टुकड़ा है जो एक वर्ग हो सकता है। यह केंद्र टुकड़ा तब तक अलग-अलग चौड़ाई की कई सीमाओं से घिरा होता है, जब तक कि किनारे तक नहीं पहुंच जाता है।
  • छतरी और छटी में आंतरिक क्षेत्र को मंडलियों में व्यवस्थित किया गया है, प्रत्येक सर्कल में एक तरफ एक आकृति के पैच रखे गए हैं। पैटर्न को उसी तरह से रखा जाता है जैसे तरासा के आकार का, जिसमें एक बड़ा रूपांकन या दो केंद्र में रखा गया हो। घोड़ों के लिए कवर के हिस्से के हिस्से में संकेंद्रित स्ट्रिप्स की एक श्रृंखला होती है, जो गर्दन को कवर करती है, प्रत्येक पट्टी में एक आकृति के पैच होते हैं, जबकि शरीर के दोनों ओर गिरने वाले हिस्से सादे होते हैं, जिनके साथ या बिना सभी तरफ सीमा होती है मैदान के केंद्र में एक आकृति।
  • उपयोग किए गए रूपांकनों में अभी तक काफी विविधता है और वनस्पतियों और जीवों की शैली के निरूपण के साथ-साथ कुछ पौराणिक आकृतियों का संग्रह है। इनमें से अधिक सामान्य रूप से हाथी, तोता, मोर, बत्तख, लता, वृक्ष, कमल, चमेली, अर्धचंद्र, सूर्य और राहु (एक पौराणिक दानव सूर्य को नष्ट करने वाले) हैं।
  • जिस तरह कुछ निश्चित रूपांकनों के होते हैं, केवल पारंपरिक अप्लाइक शिल्प में सीमित संख्या में रंगों का उपयोग किया जाता है। ये हरे, लाल, नीले, गेरू और काले हैं। शिल्पकारों के रचनात्मक आग्रह को हालांकि इन सीमित रंगों के मिश्रण में रूपांकनों के विभिन्न संयोजन में जारी किया जाता है। जबकि रूपांकनों के उपयोग में बहुत कम परिवर्तन हुआ है, रंग संयोजन में अधिक से अधिक प्रयोग की ओर रुझान हुआ है।
  • सभी रंगों और रंगों के कपड़े के उपयोग के रूप में ग्रे अंकन कपड़े पर रंगीन कपड़े का सुपरिंपोजिशन आज बहुत आम है।
  • एक स्थानीय निर्माता के फेसबुक पेज पर देखी जाने वाली साड़ियों पर काम के डिजाइन के आधार पर खरीद सकता है।
  • लेकिन मैं सुझाव देने के लिए उद्यम करूंगा उन्नाती सिल्क्स। यह 1980 से हथकरघा से जुड़ा है और भारत के 21 राज्यों में एक ही छत के नीचे इसकी किस्में हैं।
  • ओह! आपके लिए चुनने के लिए कई किस्म और सराहनीय काम की साड़ी।
  • आप साड़ी के लिए फ्लोरल पैच अप्लीकेशंस वर्क पैचवर्क डिज़ाइन और पैच वाली चंदेरी सिक्स को छोटे आकर्षक बॉर्डर और जरी से भरे डिज़ाइनर पल्लू के साथ खूबसूरत साड़ी पैच के साथ कर सकते हैं, बाकी साड़ी को कॉम्प्लीमेंट करने के लिए। 
  • साड़ी के पार समान रूप से बांटे गए छोटे-छोटे फूलों से सजी-धजी मैपल कॉटन साड़ियों में फ्रेश लुक प्लेन मलमल कॉटन साड़ी।
  • अमीर सादे चमकदार चमकदार साड़ी के साथ अरनी सिल्क की साड़ी लेकिन एक आकर्षक काम पल्लू है जो मंत्रमुग्ध कर रहा है।
  • केरल कसावा उस सदाबहार ताजा लुक के साथ लेकिन साड़ी की अपील को बढ़ाते हुए एक अतिरिक्त पुष्प पैच के साथ।
  • पिपलू में फैले दुपट्टे के काम के साथ डुप्लीकेट सिल्क सिल्क की साड़ी और चारों ओर बड़े-बड़े काम के डिज़ाइन।
  • ऐसे कई और बदलाव हैं जो ऑनलाइन आगंतुक का ध्यान आकर्षित करते हैं।
  • Walk light in the breezy Kota sarees with exquisite hand block prints

    A traditional fabric offering from the land of the desert, Rajasthan, a work of pure silk and cotton known as the the ‘Kota Doria’, or Kota Handloom Saree, it is a patient and devoted effort that yields exquisite outcomes.

    Kota Doria has cotton in the warp and silk in the weft to yield a special combination that gives the binding strength of cotton and the lustre of silk. Fine textured, light and airy the Kota Doria sarees are translucent muslin fabrics, very comfortable to wear in hot climes.

    Take the checkered weave of a Kota saree, the popular pattern since age old times. The delicately wrought checks locally known as khats are generally of pure cotton with golden Zari threads woven in square patterns being a popular variety. Variations in borders and a whole array of bright colours and shades like pink, blue, saffron, orange etc. applied to traditional prints and beautiful embroidery work together create stunning effects that make this fabric sensational. The speciality of the Kota Doria apart from the fineness of the weave lies in the colour usage and combinations.
  • Block prints and the cotton fabric are made for each other. Finer the cotton weave, better is the outcome of the block printing, because cotton is known for its good adhesion qualities. Kota handloom cotton, an established name in fine cotton fabrics, known for its good texture and the unique checkered pattern appearing in the natural weave, makes for a good fabric to display unique experiments with the hand block.
  • The Kota Cotton Saree is translucent muslin, much preferred for its light weight, softness and airy comfort. The Kota Cotton Saree is woven in a manner designed to produce check patterns on the fabric. The square shaped checks come within the weave when the warp and the weft are employed in a special combination of cotton threads to form the extremely fine checkered pattern. The standard Kota Doria Saree is woven in white and later dyed in different colours.
  • The Masuria Silks are grand affairs of pure silk, gold and silver threads of Zari. The Katan Pure Silk Weaves are adorned with beautiful Jaipuri prints, traditional motifs, fancy zari or printed borders, exquisite embroidery work on the pallu, making them an exclusive must-have.
  • Other worthy creations are the designer Kota Katan Silk Saree richly woven in Meena work and with suitable accompaniments and the Dabu block prints on Stylish Kota Saree.
  • There are certain distinctive features that stand out in the genuine Kota Doria.
  • While the whole fabric is soft to touch there are certain points that have a ‘serrated’ feel where the yarns are a bit closer
  • Being handloom woven on traditional pit looms, the edges of the fabric are slightly uneven and noticeable. This gets compensated by the extraordinarily smooth texture of the woven motifs that do not have loose ends on their back side, making them virtually durable for the lifetime of the fabric.
  • The initial and subsequent washes of the saree distinguish the real from the spurious. The genuine Kota Doria would have the Khats getting more and more pronounced.
  • Made by handlooms, a knot here or a loose thread there after a time makes it the genuine stuff.
  • Initially woven in white, the saree is then dyed and washed separately in different colours one after the other. Where designs are involved you have the threads dyed in vegetable or azoic dyes prior to the weaving.
  • Woven on a traditional pit loom designed to produce check patterns on the fabric, the square shaped checks or ‘Khats’ are smeared with onion juice and rice paste to make the yarn strong and durable.
  • Cotton for the Kota Saree once came from Madhya Pradesh while the silk came from Karnataka. Today many other places supply these fabric materials.
  • Once upon a time these handloom sarees were woven in Mysore. The weavers subsequently migrated and settled in Kota, Rajasthan. Hence the name Kota-Masuria, also. There was a time when weaving was done mostly by women, while the dyeing of threads was taken care of by men. Over time almost everybody in the family got included to contribute their mite in the making of the Kota Doria.
  • For the sake of economy, weavers take up three Sarees of the same design at a time. The setting-up of the threads is complicated and time-consuming and could take up to a day. More complicated the design, more the time taken for setting-up. It takes close to a week to complete three saris in the basic pattern.
  • The GI registration under the Geographical Registration Act 1999 has been accorded in 2005 and is based upon this unique character on fabrics made in the geographical region of Kota. The distinct square checks pattern of Kota Doria has been its brand hallmark.
  • It sure is. Kota Dorias have had a long journey in history up to the present time. It has seen many changes and fashion designers have seen it as a fabric that offers large scope for innovation. Kota Dorias are known for their light hues and vibrant colours that are like the fresh breeze from the desert. With enchanting motifs and mesmerizing floral block prints and the fine use of zari borders, the Kota cottons usher in a new wave of fashion that is attractive and enthralling.
  • The Kota silks are even more spruced up with dynamic neon hues, enticing fusion patch borders of differing styles like the Chanderi Patch with the Sambalpuri border or the Banarasi patch borders with the Chanderi border on a designer floral spread, that make them highly sought after.
  • The Kota sarees both in silk and in cotton, are known for their good workmanship and are popular in the market. So many of the big shops in metros, big cities and towns would have these sarees to sell and would feature it on their websites. I know of Unnati Silks, a reputed name in handlooms since 1980, definitely has the Kota Dorias. You get Kota sarees in silk and cotton both in wholesale and in retail at very attractive prices, with door delivery to most places in India.
  • Not so long back, Unnati Silks conducted an experiment in block prints. Usually the hand block printing is done with fine carved hand blocks made of quality wood. The quality of prints that come out are sharp in the detail, however complex the design may be, if the etching in the bottom surface of the wooden block is done finely. This time round the blocks used have been of finely cut metal with a sieve for colors arrangement. And the results have been astounding.The edges are so distinctly visible and the outlines so sharp on the outside and even within the detailing that it is a feast for the eyes. The arrangement for the colors to be transferred to the fabric has worked extraordinarily well allowing no scope for any sort of color spread or smudging. The use of different colors within a motif, or closely placed design elements of different colors have come out distinct and even. The overall effect is simply awesome to the delight of the wearer and a captivating sight for onlookers.
  • The Kota handloom cotton weave has been a good choice as a fabric for the special block printing. Block prints when they initially came to be known revolutionized the concept of printing. Easily manoeuvrable, wieldy, precise and a task that did not require too much skill and completed quickly, the process appealed that much more could be achieved by way of this simple technique than by the use of automated processes within the limitations. Very small detailing can be etched and preserved in the block by special provisions. So small stars and very minute designs otherwise not possible, are available for the beautification of the fabric. Flowers, fruits, trees, birds, geometrical designs and figurative patterns are some of the popular motifs in block printed sarees.
  • When large masses of colour occur in a pattern, the corresponding parts on the block are usually cut in outline, the object being filled in between the outlines with felt, which not only absorbs the colour better, but gives a much more even impression than it is possible to obtain with a large surface of wood. When finished, the block presents the appearance of flat relief carving, the design standing out like letterpress type.
  • Why don’t you try Unnati Silks which is known for attractive prices both in wholesale and retail? It has tremendous variety. Whether you are thinking of buying latest designer embroidered Kota Doria muslin silk cotton zari sarees of Rajasthan online with competitive price or buying the latest designer and fancy Kota Doria cotton and Kota silk sarees from Rajasthani saree manufacturers and wholesalers, it is all possible at one trusted place, namely Unnati Silks.
  • For a start you could be online shopping for silk organza with pure zari and tissue wholesale Rajasthan Kota sarees in Jaipur with images and prices to choose from. You could also explore to buy latest plain pure soft tissue kota silk sarees with plain mirror work checking images and price in manufacturers facebook page when wholesale online shopping. You could also be shopping online for Banarasi pure zari, Kora silk and Jaipur Kota silk sarees. Further you could check out for buying printed designer Kota silk and silk cotton sarees wholesale online shopping from popular websites in India.
  • Online shopping is a delightful experience since you have the entire collection with images and price before you, can take your time to select, get your shopping cart delivered to your doorstep with easy and varied payment options.
  • Definitely you would be able to, since Kota sarees are famous all over India and even overseas. While you would get variety in these cities, wholesale pricing would be so attractive. You could try to buy the latest Kota silk and plain silk cotton designer sarees with Kalamkari with attractive wholesale prices at the Unnati Silks stores in Hyderabad.
    If you were to buy a variety of Rajasthan floral designer Kota tissue silk & Kota silk cotton Kalamkari embroidered sarees, with zari border and mirror work embroidery, wholesale, you would get a diverse collection of attractive sarees to purchase from at very cheap prices.
    एक कोटा साड़ी के चेकर की बुनाई, पुराने समय से लोकप्रिय पैटर्न ले लो। स्थानीय स्तर पर खाट के रूप में जाना जाने वाला नाजुक सूखा चेक आमतौर पर एक लोकप्रिय किस्म होने के साथ चौकोर पैटर्न में बुने हुए सुनहरे ज़री धागों के साथ शुद्ध कपास के होते हैं। सीमाओं में विविधता और चमकीले रंगों और रंगों जैसे गुलाबी, नीले, केसरिया, नारंगी आदि की पूरी श्रृंखला पारंपरिक प्रिंट और सुंदर कढ़ाई के काम के साथ लागू होती है जो आश्चर्यजनक प्रभाव पैदा करती हैं जो इस कपड़े को सनसनीखेज बनाती हैं। कोटा डोरिया की ख़ासियत बुनाई की सुंदरता के अलावा रंग के उपयोग और संयोजन में निहित है।
  • ब्लॉक प्रिंट और सूती कपड़े एक दूसरे के लिए बने हैं। कपास की बुनाई को बेहतर बनाएं, ब्लॉक प्रिंटिंग का परिणाम बेहतर है, क्योंकि कपास अपने अच्छे आसंजन गुणों के लिए जाना जाता है। कोटा हथकरघा कपास, ठीक सूती कपड़ों में एक स्थापित नाम, जो अपनी अच्छी बनावट के लिए जाना जाता है और प्राकृतिक बुनाई में दिखाई देने वाला अनूठा चेकर पैटर्न, हाथ ब्लॉक के साथ अद्वितीय प्रयोगों को प्रदर्शित करने के लिए एक अच्छा कपड़ा बनाता है।
  • कोटा कॉटन साड़ी पारभासी मलमल है, जो अपने हल्के वजन, कोमलता और हवादार आराम के लिए बहुत पसंद की जाती है। कोटा कॉटन साड़ी को कपड़े पर चेक पैटर्न बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। चौकोर आकार के चेक बुनाई के भीतर आते हैं जब ताना और बाने को सूती धागे के एक विशेष संयोजन में नियोजित किया जाता है ताकि बेहद बारीक चेकर पैटर्न बनाया जा सके। मानक कोटा डोरिया साड़ी को सफेद और बाद में विभिन्न रंगों में रंगा जाता है।
  • मसुरिया सिलिक्स ज़री के शुद्ध रेशम, सोने और चांदी के धागे के भव्य मामले हैं। कटान प्योर सिल्क वीवर्स सुंदर जयपुरी प्रिंट्स, पारंपरिक रूपांकनों, फैंसी जरी या प्रिंटेड बॉर्डर, पल्लू पर उत्तम कढ़ाई के काम से सजी हैं, जो उन्हें एक विशेष रूप से जरूरी है।
  • अन्य योग्य रचनाएँ डिजाइनर कोटा कटान सिल्क साड़ी हैं जो मीना काम में बड़े पैमाने पर बुना जाता है और उपयुक्त कोटा और स्टाइलिश कोटा साड़ी पर डब्बू ब्लॉक प्रिंट करता है।
  • कुछ विशिष्ट विशेषताएं हैं जो वास्तविक कोटा डोरिया में हैं।
  • जबकि पूरे कपड़े को छूने के लिए नरम है वहाँ कुछ बिंदु हैं जो एक 'दाँतेदार' महसूस करते हैं जहां यार्न थोड़ा सा करीब हैं
  • पारंपरिक गड्ढे करघे पर हैंडलूम बुने जाने से कपड़े के किनारे थोड़े असमान और ध्यान देने योग्य होते हैं। यह बुने हुए रूपांकनों की असाधारण रूप से चिकनी बनावट से मुआवजा मिलता है, जो उनके पीछे की तरफ ढीले छोर नहीं होते हैं, जो उन्हें कपड़े के जीवनकाल के लिए लगभग टिकाऊ बनाते हैं।
  • साड़ी के शुरुआती और बाद के washes असली को वास्तविक से अलग करते हैं। वास्तविक कोटा डोरिया में खाट अधिक से अधिक स्पष्ट होती।
  • हथकरघा द्वारा निर्मित, यहां एक गाँठ या एक ढीला धागा एक समय के बाद इसे वास्तविक सामान बनाता है।
  • शुरू में सफेद रंग से बुने गए, साड़ी को एक के बाद एक अलग-अलग रंगों में रंगा और धोया जाता है। जहां डिजाइन शामिल हैं, आपके पास बुनाई से पहले सब्जी या एज़िक रंगों में रंगे धागे हैं।
  • कपड़े पर चेक पैटर्न का निर्माण करने के लिए डिज़ाइन किए गए एक पारंपरिक गड्ढे करघा पर बुना, चौकोर आकार के चेक या 'खट' को यार्न को मजबूत और टिकाऊ बनाने के लिए प्याज के रस और चावल के पेस्ट के साथ लिप्त किया जाता है।
  • कोटा साड़ी के लिए कपास एक बार मध्य प्रदेश से आया जबकि रेशम कर्नाटक से आया था। आज कई अन्य स्थानों पर इन कपड़े सामग्री की आपूर्ति होती है।
  • एक बार मैसूर में इन हथकरघा साड़ियों को बुना गया था। बुनकर बाद में चले गए और कोटा, राजस्थान में बस गए। इसलिए कोटा-मसुरिया नाम भी। एक समय था जब बुनाई ज्यादातर महिलाओं द्वारा की जाती थी, जबकि धागे की रंगाई पर पुरुषों द्वारा ध्यान दिया जाता था। समय के साथ, कोटा डोरिया बनाने में परिवार के लगभग सभी लोगों को अपने घुन का योगदान करने के लिए शामिल किया गया।
  • अर्थव्यवस्था के लिए, बुनकर एक समय में एक ही डिज़ाइन की तीन साड़ी लेते हैं। थ्रेड्स की स्थापना जटिल और समय लेने वाली है और एक दिन तक लग सकती है। अधिक जटिल डिजाइन, सेटिंग-अप के लिए अधिक समय। मूल पैटर्न में तीन साड़ियों को पूरा करने के लिए एक सप्ताह के करीब लगता है।
  • भौगोलिक पंजीकरण अधिनियम 1999 के तहत जीआई पंजीकरण 2005 में मान्य किया गया है और यह कोटा के भौगोलिक क्षेत्र में बने कपड़ों पर इस अद्वितीय चरित्र पर आधारित है। कोटा डोरिया के अलग-अलग स्क्वायर चेक पैटर्न इसके ब्रांड हॉलमार्क रहे हैं।
  • यह निश्चित है। कोटा डोरियस का इतिहास में वर्तमान समय तक एक लंबा सफर रहा है। इसने कई परिवर्तन देखे हैं और फैशन डिजाइनरों ने इसे एक ऐसे कपड़े के रूप में देखा है जो नवाचार के लिए बड़ी गुंजाइश प्रदान करता है। कोटा डोरियास अपने हल्के रंग और जीवंत रंगों के लिए जाना जाता है जो रेगिस्तान से ताजी हवा की तरह होते हैं। आकर्षक रूपांकनों और मंत्रमुग्ध करने वाले पुष्प ब्लॉक प्रिंट और ज़री सीमाओं के बारीक उपयोग के साथ, कोटा कॉटन फैशन की एक नई लहर में प्रवेश करता है जो आकर्षक और आकर्षक है।
  • कोटा रेशम और भी अधिक गतिशील नीयन रंग के साथ सफाई करवाई कर रहे हैं, संबलपुरी की सीमा के साथ चंदेरी पैच या एक डिजाइनर पुष्प प्रसार पर चंदेरी की सीमा के साथ बनारसी पैच सीमाओं की तरह भिन्न शैलियों, कि उन्हें अत्यधिक मांग कर के विलय पैच सीमाओं आकर्षक।
  • कोटा सिल्क और कॉटन दोनों में साड़ी, अपनी अच्छी कारीगरी के लिए जाना जाता है और बाजार में लोकप्रिय है। महानगरों, बड़े शहरों और कस्बों में कई बड़ी दुकानें इन साड़ियों को बेचने के लिए होती हैं और वे इसे अपनी वेबसाइटों पर पेश करेंगे। मुझे मालूम है सिल्क्स1980 से हैंडलूम में प्रतिष्ठित नाम उन्नातीमें निश्चित रूप से कोटा डोरियास है। आपको भारत में ज्यादातर जगहों पर डोर डिलीवरी के साथ, थोक और खुदरा में, दोनों ही तरह की सिल्क और कॉटन में कोटा की साड़ियाँ मिलती हैं।
  • इतना लंबा नहीं है, Unnati Silks नेमें एक प्रयोग किया ब्लॉक प्रिंट। आमतौर पर हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग क्वालिटी वुड से बने बारीक नक्काशीदार हैंड ब्लॉक से की जाती है। प्रिंट से निकलने वाले प्रिंट की गुणवत्ता विस्तार से तेज होती है, हालांकि डिजाइन जटिल हो सकता है, अगर लकड़ी के ब्लॉक की निचली सतह में नक़्क़ाशी को बारीक किया जाए। इस बार इस्तेमाल किए गए ब्लॉक रंगों की व्यवस्था के लिए एक छलनी के साथ बारीक कटी हुई धातु के हैं। और परिणाम आश्चर्यजनक रहे हैं। किनारों इतने स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं और रूपरेखा बाहर की तरफ और यहां तक कि विस्तार के भीतर इतनी तेज है कि यह आंखों के लिए एक दावत है। रंगों को कपड़े में स्थानांतरित करने की व्यवस्था ने असाधारण रूप से अच्छी तरह से काम किया है, जिससे किसी भी प्रकार के रंग फैलाने या गलाने की कोई गुंजाइश नहीं है। एक आकृति के भीतर अलग-अलग रंगों का उपयोग, या अलग-अलग रंगों के बारीकी से डिजाइन किए गए तत्व अलग और समान रूप से सामने आए हैं। समग्र प्रभाव बस पहनने वाले की खुशी और दर्शकों के लिए एक मनोरम दृश्य के लिए भयानक है।
  • कोटा हथकरघा कपास बुनाई विशेष ब्लॉक प्रिंटिंग के लिए कपड़े के रूप में एक अच्छा विकल्प रहा है। ब्लॉक प्रिंट जब उन्हें शुरू में जाना जाता था तो मुद्रण की अवधारणा में क्रांति आ गई। आसानी से मनोबलहीन, क्षेत्ररक्षक, सटीक और एक कार्य जिसे बहुत अधिक कौशल की आवश्यकता नहीं थी और जल्दी से पूरा हुआ, इस प्रक्रिया ने अपील की कि सीमाओं के भीतर स्वचालित प्रक्रियाओं के उपयोग से इस सरल तकनीक के माध्यम से बहुत कुछ हासिल किया जा सकता है। विशेष प्रावधानों द्वारा ब्लॉक में बहुत छोटी डिटेलिंग खोदी और संरक्षित की जा सकती है। तो छोटे सितारे और बहुत मिनट के डिजाइन अन्यथा संभव नहीं हैं, कपड़े के सौंदर्यीकरण के लिए उपलब्ध हैं।में फूल, फल, पेड़, पक्षी, ज्यामितीय डिजाइन और आलंकारिक पैटर्न कुछ लोकप्रिय रूपांकन हैं ब्लॉक प्रिंटेड साड़ियों।
  • जब रंग का एक बड़ा द्रव्यमान एक पैटर्न में होता है, तो ब्लॉक पर संबंधित भागों को आम तौर पर रूपरेखा में काट दिया जाता है, वस्तु को आउटलुक के बीच में भरा हुआ महसूस किया जाता है, जो न केवल रंग को बेहतर अवशोषित करता है, बल्कि इससे कहीं अधिक छाप भी देता है। लकड़ी की एक बड़ी सतह के साथ प्राप्त करना संभव है। समाप्त होने पर, ब्लॉक फ्लैट राहत नक्काशी की उपस्थिति प्रस्तुत करता है, डिजाइन लेटरप्रेस प्रकार की तरह बाहर खड़ा है।
  • मैं ऑनलाइन हैदराबाद में सुपारी, रेशम और कपास कोटा डोरिया साड़ियों के साथ खोज और खरीदारी कर रहा हूं। मुझे वैरायटी पसंद है लेकिन मुझे लगता है कि मुझे शुद्ध ज़री कोटा सिल्क की साड़ियों की कीमत मिल रही है, जो कि थोक ऑनलाइन के लिए उच्च स्तर पर बताई गई हैं। क्या आप किसी ऐसी साइट का सुझाव दे सकते हैं, जहां मुझे वह मिल सके जो मैं थोड़ा सस्ता चाहता हूं?

    आप Unnati Silks की कोशिश क्यों नहीं करते हैं जो थोक और खुदरा दोनों में आकर्षक कीमतों के लिए जाना जाता है? इसकी जबरदस्त विविधता है। चाहे आप राजस्थान के नवीनतम डिजाइनर कढ़ाई वाली कोटा डोरिया मलमल सिल्क सूती ज़री की साड़ियों को प्रतिस्पर्धी मूल्य के साथ खरीदने की सोच रहे हों या राजस्थानी साड़ी निर्माताओं और थोक विक्रेताओं से नवीनतम डिज़ाइनर और फैंसी कोटा डोरिया सूती और कोटा रेशम की साड़ियों की खरीदारी कर रहे हों, यह सब एक भरोसे में संभव है जगह, अर्थात् उन्नाती सिल्क्स।
  • एक शुरुआत के लिए आप जयपुर में शुद्ध अंगरी और टिशू होलसेल राजस्थान कोटा साड़ी के साथ रेशम ऑर्गेना के लिए ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं। आप लेटेस्ट प्लेन प्योर सॉफ्ट टिशू कोटा सिल्क साड़ियों को प्लेन मिरर वर्क चेकिंग इमेज और कीमत के साथ मैन्युफैक्चरर्स facebook पेज पर खरीद सकते हैं, जब होलसेल शॉपिंग करते हैं। आप बनारसी शुद्ध जरी, कोरा रेशम और जयपुर कोटा रेशम साड़ियों के लिए ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं। इसके अलावा, आप भारत में लोकप्रिय वेबसाइटों से मुद्रित डिजाइनर कोटा सिल्क और रेशम सूती साड़ियों की थोक ऑनलाइन शॉपिंग खरीदने के लिए देख सकते हैं।
  • ऑनलाइन शॉपिंग एक रमणीय अनुभव है क्योंकि आपके पास चित्रों और कीमत के साथ पूरा संग्रह है, आप अपना समय चुन सकते हैं, अपनी खरीदारी की टोकरी को आसान और विविध भुगतान विकल्पों के साथ अपने दरवाजे पर पहुंचा सकते हैं।
  • निश्चित रूप से आप कर पाएंगे, क्योंकि कोटा की साड़ियां पूरे भारत में और यहां तक कि विदेशों में भी प्रसिद्ध हैं। जबकि आपको इन शहरों में विविधता मिलेगी, थोक मूल्य निर्धारण इतना आकर्षक होगा। आप हैदराबाद के उन्नावी सिल्क्स स्टोर्स पर आकर्षक थोक मूल्यों के साथ कलामकारी के साथ नवीनतम कोटा सिल्क और सादे रेशम कपास डिजाइनर साड़ियों को खरीदने की कोशिश कर सकते हैं।
    यदि आप राजस्थान पुष्प डिजाइनर कोटा ऊतक रेशम और कोटा रेशम कपास कलमकारी कढ़ाई साड़ियों की एक किस्म खरीदने के लिए थे, तो जरी बॉर्डर और मिरर वर्क कढ़ाई, थोक के साथ, आपको बहुत सस्ती कीमतों से खरीदने के लिए आकर्षक साड़ियों का विविध संग्रह मिलेगा।