Valentine's Day Sale Live! Get Exotic Amravathi Sea Jewels Free on orders*

Kanchipuram Silk|Brocade

Filter

5 Items

Set Descending Direction

5 Items

Set Descending Direction

From the Banks of Ganga Ghat – Luxury of Banarasi Silks

Varanasi, also known as Benaras, Banaras or Kashi, is on the banks of the holy river Ganges in Uttar Pradesh. Varanasi is considered one of the holiest cities in India and the world. Benaras is also known for its muslin and silk fabrics since centuries.

Be it a purchase or a gift from somebody, the Banarasi saree has been lovingly treasured, used sparingly on occasions and prized like a treasure by most saree-loving women. Pure Silk has been part of Indian tradition for exclusive wear since royal times, an observance carried on till this day. It is the devoted effort of the Banarasi silk saree weaver to weave pure gold and silver threads with precision and create masterpieces with the making of each and every saree. Time has not dimmed this art and the modern day weaver is as dedicated to his work as his forefathers were. No wonder the Indian masses have always considered it as something to possess during a lifetime.

The Banarasi saree is a finely woven fabric, with rich brocades in gold and silver zari, including fine designs and engravings. A relatively heavy and opulent affair, the Banarasi silk saree is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.
In an awesome display of grandeur, the Banarasi saree has always been exclusive and captivating. Very many traditional silks are available in different pockets across the country, but the Banarasi Saree has always held out on its own as a unique fabric of traditional excellence. Finely woven, with rich brocades in gold or silver zari that includes fine designs and engravings, the relatively heavy and opulent affair is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.

A royal weave since Mughal times, it is believed that migrant workers from other states settled in Banaras and carried out the weaving of such fabrics as a decent means to livelihood. Since then it has developed into a major cottage industry that has close to twelve lakh workers involved in different facets in the making of the ‘Banarasi’ saree.

The specialty of the Banarasi silk saree lies in its use of zari or rich gold and silver coloured thread work on motifs and brocades. The influence of Mughal designs is evident from the awesome floral and leafy motifs known as ‘kalga’ and ‘bel’ and outer border designs of upright leaves known as ‘Jhallar’.

In addition the heavy gold work on the brocades, the compact weaving of the basic fabric, the small detailing, metallic visual effects, the mesh pattern and the intricate embroidery work are all contributive towards making the Banarasi saree, a rich traditional offering; a pride of the nation.

The Banarasi saree acquires a royal feel from the brocades that share a part of this heirloom fabric. In earlier times the brocade was adorned by precious and semi-precious stones, but today they have been replaced by sequins and beading to give that exquisite look, unless it is a customized order.

Using the special ‘Jacquard’ arrangement, the Banarasi brocade, is woven through the special technique involving the weaving of a supplementary weft that is not part of the main weave of warp and weft. The idea is to make it seem that the pattern which comes from the supplementary weft is actually woven within the main weave.
It could take anywhere from a fortnight to a month, based on the exquisiteness of the designs, the intricacies within the weave and the fine adornments that accompany the saree. Subsequently this determines the Banarsi saree price that could be anywhere from a few thousands to a lakh of rupees.
Four to five centuries have passed and this tradition of fine weaving has neither dimmed nor lost lustre. In fact the Banarasi Silk Sarees have continued to remain as exceptional and finely sought as before. Over the years additions and introductions within the weave have never seemed out of place. Despite being woven in traditional style, the fusion elements have seamlessly merged to become a part of its rich and dazzling heritage.
While both sarees appear grand and royal, there is a distinctive difference. The Banarasi saree relies heavily on silver and gold thread brocade work whereas the Kanjeevaram saree depends more on color and combinations with plenty of accessories thrown in.
It is recognized universally that the heavier the zari threads, more the superiority. The count of genuine Banarasi silk sarees lies in the region of 5000 and above with each zari thread chain about 115 cm. extended. Also the reverse side of the sarees would show up with floating warp and weft threads because of the nature of weaving.
In order to counter the unfair gains made by ‘non-Banarasi’ clusters that took advantage of using the name ‘Banarasi’ for their fabrics and selling at a cheaper price, without adhering to the stringent quality standards that were followed by the ethnic weavers, the traditional groups of six clusters in and around Benaras, applied for and received the Geographical Indication label and legal rights in 2009, for the exclusive use of the name ‘Banarasi’ for their offerings. This stemmed the rot created by the spurious goods trade and drastically improved the situation to cause exports to flourish once again.
The traditional weavers spread over the six districts of Gorakhpur, Chandauli, Bhadohi, Jaunpur, Azamgarh and Banaras itself, have the rights and protection for sole use of the label ‘Banarasi ’ for their handloom weaves. It is a traditional craft of centuries since the Mughal times and there are more than a lakh families involved with different facets in the making of the Banarasi saree.
The Banarasi saree is made in clusters in and around Varanasi so there is no dearth of shops within the city and other important places in the state as well as the rest of India. However the costly silk varieties could be limited to important cities and towns of Uttar Pradesh. In the rest of India all the metros, big cities and towns too would be having Banarasi sarees to sell in big shops.
There are plenty of websites that sell Banarasi sarees online but one cannot be assured that you are buying genuine Banarasi sarees or sarees worth the price that you are paying for. Hence it is always better to ask people who have had an online shopping experience for costly sarees especially the heavy silks or check the websites thoroughly before coming to a decision to place an order.
With four decades of association with textiles since 1980, especially in Handloom fabrics, Unnati Silks has earned a reputation of being a trusted website for women’s apparel – sarees, salwar kameez, kurtas, kurtis, Indo western apparel and fabrics. With different payment options, attractive pricing in wholesale and retail, free shipping in India, reputed couriers and after sales service, Unnati Silks has managed to serve customers over 65 countries overseas too.

The Banarasi collection at Unnati Silks is both varied and vast.

Designer Banarasi Silk Sarees with fusion varieties have always kept the market interested. Banarasi Sicos are with mesmeric patterns and enchanting patch borders with eye-catching motifs in mesmerizing colors. The stunning Banarasi Jamdhani Katan silk saree with a lot of Jamdhani work and attractive bootis has tremendous appeal.

Banarasi Patola silks and Banarasi Georgette sarees beautifully adorned with elegant mango bootis, the brocaded Banrasi Crepe silk saree, the Banarasi Tussar silks and the Supernets in Neon, the Banarasi Organza silks decorated with eye-filling bootis and rich borders in zari, and the Banarasi Georgette silks as well as the designer variety in jacquard art silk put together make an awesome “Banarasi” draw - a vivid and enchanting ensemble of the Banarasi variety under the same roof.

The Banarasi georgette sarees look amazing with blouses having a golden border or blouses in contrasting colour and heavy work. The look is royal and heavy. Full Sleeves or elbow length ones with lovely embroidery, or the net sarees with net sleeves are preferred combinations by many women.
Dry cleaning is the best option recommended for costly sarees which have a lot of accessory work. However for those who would like to clean it themselves, you have to take some time over it. Putting the saree in plain water with a mild detergent leaving it in for a few minutes before lightly brushing would clean it nicely. Since the pallu has a lot of special work on it, it has to be done carefully.
Red is a very popular colour for the Banarasi silk and is generally preferred as bridal wear for morning weddings whereas the less light shades are preferred by brides for weddings after sunset. These Banarasi pure silk sarees also come in bright colors like peach, cream, powder blue, pastel shades, lime or mint green, light pink which are best for daytime occasions.

This is a lengthy subject that cannot be described in words. It is best learnt through demo videos on You Tube. We suggest some channels like:

  • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY on how to wear the Banarasi saree in different styles
  • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 for wearing it in Lehenga style
  • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ for wearing as in Bengali wedding style.

But as you know it is not limited to this and there are plenty of videos by different styling experts who have provided their demo videos for the manner in which the Banarasi saree can be draped.

बनारसी साड़ी एक महीन बुने हुए कपड़े हैं, जिसमें सोने और चांदी की जरी में समृद्ध ब्रोकेड्स होते हैं, जिनमें महीन डिजाइन और नक्काशी शामिल हैं। एक अपेक्षाकृत भारी और भव्य मामला, बनारसी रेशम साड़ी हर दुल्हन के पतलून के हिस्से और शादियों और कई भारतीय घरों में विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।
भव्यता के एक भयानक प्रदर्शन में, बनारसी साड़ी हमेशा अनन्य और मनोरम रही है। देश भर में बहुत से पारंपरिक रेशम विभिन्न जेबों में उपलब्ध हैं, लेकिन बनारसी साड़ी हमेशा पारंपरिक उत्कृष्टता के एक अद्वितीय कपड़े के रूप में अपने दम पर आयोजित की जाती है। सोने या चाँदी की ज़री में समृद्ध ब्रोकेड के साथ बारीक बुना हुआ, जिसमें बढ़िया डिज़ाइन और नक्काशी शामिल हैं, अपेक्षाकृत भारी और भव्य संबंध हर दुल्हन की पतलून का हिस्सा है और कई भारतीय घरों में शादियों और विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।

मुगल काल से एक शाही बुनाई, यह माना जाता है कि अन्य राज्यों के प्रवासी श्रमिक बनारस में बस गए और इस तरह के कपड़ों की बुनाई को आजीविका के लिए एक सभ्य साधन के रूप में किया। तब से यह एक प्रमुख कुटीर उद्योग के रूप में विकसित हो गया है, जिसमें 'बनारसी' साड़ी बनाने में विभिन्न पहलुओं में शामिल बारह लाख के करीब श्रमिक हैं।

की खासियत बनारसी रेशम की साड़ी ज़री या रिच गोल्ड और सिल्वर रंग के धागे के रूप में मोटिफ्स और ब्रोकेस पर काम करती है। मुगल डिजाइनों का प्रभाव 'कलगी' और 'बेल' के नाम से जाने जाने वाले भयानक फूलों और पत्तेदार रूपांकनों से स्पष्ट है और ऊपर की पत्तियों के बाहरी बॉर्डर डिजाइनों को 'झल्लार' के रूप में जाना जाता है।

ब्रोकेड्स पर भारी सोने के काम के अलावा, मूल कपड़े की कॉम्पैक्ट बुनाई, छोटे विवरण, धातु दृश्य प्रभाव, मेष पैटर्न और जटिल कढ़ाई का काम बनारसी साड़ी, एक समृद्ध पारंपरिक भेंट बनाने के लिए सभी योगदान कर रहे हैं; राष्ट्र का गौरव।

बनारसी साड़ी ब्रोकेड्स से एक शाही एहसास प्राप्त करती है जो इस विरासत कपड़े का एक हिस्सा साझा करती है। पहले के समय में ब्रोकेड को कीमती और अर्ध-कीमती पत्थरों से सजाया गया था, लेकिन आज उन्हें सीक्विन और बीडिंग द्वारा बदल दिया गया है, जब तक कि यह एक स्वनिर्धारित क्रम न हो।

विशेष 'जैक्वार्ड' व्यवस्था का उपयोग करते हुए, बनारसी ब्रोकेड, एक विशेष तकनीक के माध्यम से बुना गया है जिसमें एक पूरक कपड़ा की बुनाई शामिल है जो ताना और बाने की मुख्य बुनाई का हिस्सा नहीं है। यह विचार करना है कि ऐसा लगता है कि जो पैटर्न अनुपूरक भार से आता है वह वास्तव में मुख्य बुनाई के भीतर बुना जाता है।
यह डिजाइन की विशिष्टता के आधार पर, एक पखवाड़े से लेकर एक महीने तक कहीं भी ले जा सकता है, बुनाई के भीतर की पेचीदगियां और साड़ी के साथ बारीक अलंकरण। इसके बाद यह बनारसी साड़ी की कीमत निर्धारित करता है जो कि कुछ हजारों से लेकर लाखों रुपये तक हो सकती है।
चार से पांच शताब्दियां बीत चुकी हैं और ठीक बुनाई की इस परंपरा को न तो मंद पड़ा है और न ही खोई हुई चमक। वास्तव में बनारसी सिल्क साड़ियां पहले की तरह असाधारण और बारीक बनी हुई हैं। पिछले कुछ वर्षों में बुनाई के भीतर परिवर्धन और परिचय कभी भी जगह से बाहर नहीं हुए हैं। पारंपरिक शैली में बुने जाने के बावजूद, संलयन तत्व मूल रूप से अपनी समृद्ध और चमकदार विरासत का हिस्सा बनने के लिए विलय कर चुके हैं।
जबकि दोनों साड़ी भव्य और शाही दिखाई देती हैं, एक विशिष्ट अंतर है। बनारसी साड़ी चांदी और सोने के धागे के ब्रोकेड वर्क पर बहुत अधिक निर्भर करती है जबकि कांजीवरम साड़ी में फेंके जाने वाले बहुत सारे सामान के साथ रंग और संयोजन पर अधिक निर्भर करता है।
यह सार्वभौमिक रूप से पहचाना जाता है कि जरी के धागे जितने भारी होंगे, उतनी ही श्रेष्ठता होगी। असली बनारसी सिल्क साड़ियों की गिनती लगभग 5000 सेमी और प्रत्येक ज़री धागा श्रृंखला के साथ लगभग 115 सेमी है। बढ़ाया। साथ ही साड़ियों का उल्टा हिस्सा बुनाई की प्रकृति के कारण फ्लोटिंग ताना और अजीब धागे के साथ दिखाई देगा।
गैर-बनारसी ’समूहों द्वारा किए गए अनुचित लाभ का मुकाबला करने के लिए, जिन्होंने अपने बुनकरों द्वारा पालन किए जाने वाले कड़े गुणवत्ता मानकों का पालन किए बिना, अपने कपड़ों के लिए बनारसी’ नाम का इस्तेमाल करने और सस्ते दाम पर बेचने का फायदा उठाया। बनारस और उसके आसपास के छह समूहों के पारंपरिक समूहों ने अपने प्रसाद के लिए 'बनारसी' नाम के विशेष उपयोग के लिए 2009 में भौगोलिक संकेत लेबल और कानूनी अधिकार प्राप्त किए। इसने नकली सामान के व्यापार से पैदा हुई सड़ांध को खत्म कर दिया और निर्यात को एक बार फिर से फलने-फूलने की स्थिति में काफी सुधार किया।
छः जिलों गोरखपुर, चंदौली, भदोही, जौनपुर, आज़मगढ़ और बनारस में फैले पारंपरिक बुनकरों को अपने हथकरघा बुनकरों के लिए लेबल 'बनारसी' के एकमात्र उपयोग के अधिकार और संरक्षण प्राप्त हैं। यह मुगल काल से सदियों से चली आ रही एक पारंपरिक शिल्प है और बनारसी साड़ी के निर्माण में विभिन्न पहलुओं के साथ एक लाख से अधिक परिवार शामिल हैं।
बनारसी साड़ी वाराणसी और उसके आसपास के समूहों में बनाई जाती है, ताकि शहर और राज्य के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के साथ-साथ शेष भारत में भी दुकानों की कमी न हो। हालाँकि महंगे रेशम की किस्में उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण शहरों और कस्बों तक सीमित हो सकती हैं। शेष भारत के सभी महानगरों, बड़े शहरों और कस्बों में भी बड़ी दुकानों में बेचने के लिए बनारसी साड़ियाँ मौजूद होंगी।
बहुत सारी वेबसाइटें हैं जो बनारसी साड़ियों की ऑनलाइन बिक्री करती हैं लेकिन किसी को यह आश्वासन नहीं दिया जा सकता है कि आप असली बनारसी साड़ी या साड़ी खरीद रहे हैं जिसकी कीमत आप चुका रहे हैं। इसलिए हमेशा उन लोगों से पूछना बेहतर होता है, जिन्हें महंगी साड़ियों खासकर भारी सिल्क्स के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का अनुभव रहा हो या ऑर्डर देने के निर्णय पर आने से पहले वेबसाइट्स की अच्छी तरह से जांच कर लेते हों।
1980 के बाद से वस्त्रों के साथ चार दशकों के जुड़ाव के साथ, विशेष रूप से हैंडलूम कपड़ों में, उन्नावती सिल्क्स ने महिलाओं के परिधान - साड़ी, सलवार कमीज, कुर्ते, कुर्तियां, इंडो वेस्टर्न परिधान और कपड़ों के लिए एक विश्वसनीय वेबसाइट होने की प्रतिष्ठा अर्जित की है। अलग-अलग भुगतान विकल्पों के साथ, थोक और खुदरा क्षेत्र में आकर्षक मूल्य निर्धारण, भारत में मुफ्त शिपिंग, प्रतिष्ठित कोरियर और बिक्री सेवा के बाद, Unnati Silks 65 से अधिक देशों में विदेशों में भी ग्राहकों की सेवा करने में सफल रही है।

Unnati Silks में बनारसी संग्रह विविध और विशाल दोनों है।

फ्यूजन किस्मों के साथ डिजाइनर बनारसी सिल्क साड़ियों ने हमेशा बाजार में दिलचस्पी बनाए रखी है। बनारसी सिसिली मेस्मेरिक पैटर्न के साथ हैं और मंत्रमुग्ध करने वाले रंगों में आंखों को पकड़ने वाले रूपांकनों के साथ आकर्षक पैच बॉर्डर हैं। बहुत सारे जामदानी काम और आकर्षक बूटियों के साथ तेजस्वी बनारसी जामदानी कटान रेशम साड़ी में जबरदस्त अपील है।

बनारसी पटोला सिल्क्स और बनारसी जॉर्जेट की साड़ियाँ खूबसूरत आम बूटियों से सुशोभित हैं, ब्रोकेड बनारसी क्रेप सिल्क की साड़ी, बनारसी तुषार की सिल्क्स और नीयन में सुपर्नेट्स, बनारसी ऑर्गेनाज़ की सिल्क्स, जो कि ज़री, और बनारसी, आई-बूट्स और रिच बॉर्डर से सुशोभित हैं। जॉर्जट सिल्क्स के साथ-साथ जेकक्वार्ड आर्ट सिल्क में डिजाइनर विविधता ने एक ही छत के नीचे बनारसी किस्म का एक अद्भुत और आकर्षक पहनावा - "बनारसी" आकर्षित किया।

बनारसी जॉर्जेट साड़ी ब्लाउज के साथ सुनहरे रंग या विषम रंग और भारी काम वाले ब्लाउज के साथ अद्भुत लगती है। लुक शाही और भारी है। फुल स्लीव्स या एल्बो लेंथ वाली क्यूट सी एम्ब्रायडरी, या नेट स्लीव्स वाली नेट साड़ियों को कई महिलाओं द्वारा पसंद किया जाता है।
महँगी साड़ियों के लिए ड्राई क्लीनिंग सबसे अच्छा विकल्प है जिसकी एक्सेसरी बहुत काम आती है। हालाँकि जो लोग इसे स्वयं साफ करना चाहते हैं, उनके लिए आपको कुछ समय निकालना होगा। साड़ी को सादे पानी में हल्का डिटर्जेंट डालकर कुछ मिनटों के लिए हल्के ब्रश करने से पहले इसे अच्छी तरह से साफ कर लें। चूँकि पल्लू का इस पर बहुत विशेष काम है, इसलिए इसे सावधानी से करना होगा।
लाल बनारसी रेशम के लिए एक बहुत लोकप्रिय रंग है और आमतौर पर सुबह की शादियों के लिए दुल्हन के रूप में पसंद किया जाता है, जबकि कम रोशनी वाले रंगों को सूर्यास्त के बाद होने वाली शादियों के लिए पसंद किया जाता है। ये बनारसी शुद्ध रेशमी साड़ियाँ भी चमकीले रंगों जैसे पीच, क्रीम, पाउडर ब्लू, पेस्टल शेड्स, लाइम या मिंट ग्रीन, हल्के गुलाबी रंग में आती हैं जो दिन के अवसरों के लिए सर्वोत्तम हैं।

यह एक लंबा विषय है जिसे शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है। यह सबसे अच्छा आप ट्यूब पर डेमो वीडियो के माध्यम से सीखा है। हम कुछ चैनल जैसे सुझाव देते हैं

  • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY विभिन्न शैलियों में बनारसी साड़ी कैसे पहनें,
  • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 इसे Lehenga स्टाइल में पहनने के लिए,
  • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ बंगाली शादी की शैली में पहनने के लिए।

लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि यह इस तक सीमित नहीं है और विभिन्न स्टाइलिंग विशेषज्ञों द्वारा बहुत सारे वीडियो हैं जिन्होंने बनारसी साड़ी को ड्रेप किया जा सकता है।

Kanchipuram silk saree – the royal and rich-looking favourite of South Indian women

Ask any South Indian woman what the Kanjeevaram saree means to her, she will inevitably state a known fact – it is a rich-looking, smooth ocean of silk that is meant for display on exclusive occasions and a possession to be prized for life. The South Indian answer to the famed Banarasi Silks of Northern India, Kanjeevarams or Kanchipuram silks are definitely the pride of the wearer and the envy of onlookers.

A Kanchipuram silk saree is also known for its timelessness. There is no period that one can pin it down to. You can have the purely traditional ones with the predictable designs and ornamentations that have remained popular over time. You can have the lighter-in-weight versions that serve better during humid weather. But the Kanjeevaram as a fine weave also incorporates innovative ideas and trendy additions to make it more market-friendly.

Kanchipuram Silk Sarees are made of pure silk, with motifs having zari of silk threads dipped in liquid gold and silver. For it to be classified as a Kanjeevaram Sari, Geographical Indication (GI) stricture stipulates that the decorative zari must have at least 57% silver and 0.6% gold in it. Kanchipuram Sarees have GI label for the product since 2005.
The appeal of the Kanjeevaram Silks lies in the elegant broad borders with colours and designs different from that of the body. The pallu or hanging end of the saree, could continue with the same colour and design as that of the border or could differ. If different, it is woven separately and then finely attached to the main saree.
The typical motifs are sun, moon, peacock, swan, lion and mango. Themes like jasmine flowers scattered between boundaries, parallel lines running across or temple structures are also popular. But every other day something new is experimented with and repeated if found popular.
Priced from a modest Rs. 2000/-, the Kanchipuram Silk Saree could be upto a lakh and above, based on the design, motif, additional adornments and materials used.
  • Kanjeevaram is traditional, its weave magic as good as new any time. Taking about the Kanjeevaram saree is old hat to many where the special appeal is still spoken of as a seemingly royal venture. Known widely with expectations of very intricate designs that are woven into the body in gold threads of human and animal figures of geometric designs with temple towers along the border have become acknowledged facts. Wide borders, temple designs, checks, stripes and floral buttas are traditional designs found on a Kanchipuram saree.
  • The base material, silk, is also known for its quality and craftsmanship. Good fine count weaves with suitable enhancement, suitable linings and smooth texture, with the special shimmer quality have kept its reputation as a valuable product to be carefully stored and displayed on those special occasions like weddings, grand parties, big festivals, social functions. No wonder its market value has not diminished over time.
  • Take a peek at what is involved in the traditional making of this celebrated fabric. The Kanjeevaram saree has two important fabric materials that it invariably incorporates. One, pure mulberry silk yarn, that is mostly procured from Karnataka, and the other, shining golden and silver zari threads from Gujarat.
  • Weaving a Kanchipuram saree involves using three shuttles. The border differs from the body by way of color and design. If the Pallu (the hanging part of the saree or the end-piece) is to be woven in a different shade, it is first separately woven and then attached to the body in many cases.
  • Popular motifs still include nature, flora and fauna, but of late market tastes are getting included in a manner pleasing to the eye. The costly varieties could have richly woven pallus with paintings of scenes taken from the epics – Mahabharata and Ramayana. There are also the special varieties using heavy silk and gold cloth that are meant for special occasions and sparingly used.
  • Why not try Unnati Silks, a reputed website which has been associated with handlooms since 1980. You would not only be benefited by the images and other details of 100 plus varieties of handloom sarees from 21 states of India, which also includes the famed Kanchipuram sarees.
  • There is one in which there is inclusion of Warli painting for the borders and pallu in pen painting tribal art in the Kanchi silk saree.
  • There is Applique hand painted floral bootis in Kalamkari adorn the traditonal Kanchipuram silk saree on line with hand embroidery in aari, kundan, dabala and zardozi giving the elegant touch.
  • Block printed pattu silks with zari adorned pallus in modern designs and contemporary art give a new dimension to finery and fashion for the traditional Kanchipuram silk sarees
  • The latest Kanchi Pattu Silk Saris have crystals, kundans and beads. They make exclusive gifts on festive occasions, are preferred as grand bridal attire or are used as wear for special occasions like weddings, visit to temples during traditional festivals, cultural programs, big parties and birthdays.
  • A popular variation in the Kanchipuram Silk Sari is the dipping of zari threads in rice water and drying it to get thickness, before weaving. This would be the heavier weighing stiff but also popular variety of the Saree.
  • Sometime back a pristine collection of Kanjeevaram silk sarees that had the virtues of being hand woven, handcrafted and hand painted in a display of sheer craftsmanship was introduced. It was an instant hit with the market.
  • The body or field was kept plain to be lightly adorned with uniformly adorned flowery designs with small dot shaped mirrors in the centre and nicely embroidered on the edges and periphery of the motifs. Interspersed with singular dot mirror pieces attached with thread work, the broad expanse of the bright and vivid base of the saree hardly seemed crowded yet begged attention.
  • You have the designer patterns like a crown or floral sketch with outline embroidery on the inner portion of a very decorative border. The border flaunts multicolor designs, waves, shapes, pleasing patterns embedded within them suitably and incorporating evenly distributed mirror work. Colors chosen for the thread work for the mirrors to be held in place matches the surrounding fabric color or beautifully contrasts the base of the border it is sewn on.
  • Then again you could have on a bright and vibrant colored fabric dark and contrasting patterns and designs. Lovely floral design motifs with neatly embedded mirrors within and threaded nicely on the outer, evenly distributed across the plain field interspersed with mirrors dotting in between on the plain body. The reflections from the mirrors sometimes in artificial lighted conditions bounce off nicely and add to the magical appearance of the wearer. Worn with a little care, in a certain manner of wearing, brings out the saree pleats in a neat serial arrangement of the border patterns with their embedded mirrors that make it endearingly eye-catching. The colors chosen are judicious, very pleasing to the eye.
  • Then came a pristine Collection of Pure Kanjivaram Silk Pattu Sarees with intricate hand embroidery. Handcrafted embroidery is exclusive and a treasured art since it is painstaking, time consuming, and a lot of care and dedication is put in by ethnic practitioners into the work, resulting in flawless creations of exquisite beauty. A mix of some of the exquisite thread work arrangements were included like Zardozi, Kundan work, Kalamkari, Mirror work etc.
  • Legend has it that the weavers of Kanchi Silks are supposed to be the descendants of Sage Markandeya, the celestial weaver, known for his feat of weaving tissue from the fibre of the lotus plant. Further while Lord Shiva is supposed to like cotton as his fabric, Lord Vishnu has a preference for silk. So the weavers could be considered as favourites of Lord Vishnu. It was in the reign of the famed king in the South of India, Krishnadevaraya, that Kanchipuram was given importance and earned its traditional name. Two weaving communities of Devangas and Saligars were the mainstay of the Kanjeevaram sarees and even today they abound Kanchi and take to weaving of sarees as their traditional profession.
  • The Kanchipuram saree that is being woven since traditional times is so deeply ingrained in the ethos of the place, no longer does it remain merely a costly fabric, it is considered a priceless heritage that is sacrosanct and guarded jealously by the people of the town. No wonder that it has become the primary source for eking out a livelihood and the skill and knowledge of the craft passed down from generation to generation.
  • So obsessed are the people with this fabric that a pre-independence era movie called ‘Kanchivaram’ in Tamil on the subject was released in 2008. The theme of the movie while briefly showing the process, highlights the pitiable state of the weavers and their families wherein they lived a hand-to-mouth existence, owing to being unorganized, exploited and marginalized. Their lot improved only when the State govt. intervened and got them to form a co-operative which has then on, as a collective movement, looked after the interests of the weavers.
  • Unnati Silks is again a solution for you. You could get your traditional pure Kanjivaram or Kanchipuram pattu silk sarees through online shopping with images and prices provided for you to select from with an option of cash on delivery also available. Many ladies buy Kanchipuram handloom silk half sarees for wedding with price payments made online.
    Definitely. You could buy Kanjivaram pattu silk and half sarees, silk kanjivaram saree with zari, in Pune, Chennai, Bangalore for wedding functions or any other occasion asking for these lovely pattu sarees.
    Again why not! In fact the other day I remember a non-resident Indian woman querying for Kanchipuram organza silk sarees in her online shopping with images and price and wanting to pay by cash on delivery at a billing address in Chennai, India. It was done.
    From the time the internet has opened up to internet websites to do online shopping for almost anything under the sky, it has become a trend. Residing in Hyderabad you could do online shopping for Kanchipuram silk sarees in Chennai, explore Kanjivaram pattu silk sarees cost with their matching saree blouse designs while online shopping from anywhere in India. Oh yes! You can check out for bridal Kanchipuram wedding semi silk sarees in your online shopping with price. There is the convenience of being able to pay by cash on delivery for ordering Kanchipuram silk sarees from anywhere you buy online in India.
    Sure! In this age of the internet, any website could provide what you ask for delivered to your home. You could select and buy Kanjivaram pattu silk sarees from the weavers’ online website with images and price and opt for a convenient mode of payment , to have them delivered to you anywhere in India.
    कांचीपुरम सिल्क साड़ियों को शुद्ध रेशम से बनाया जाता है, जिसमें मोटियों के रेशम के धागे तरल सोने और चांदी में डुबोए जाते हैं। इसके लिए कांजीवरम साड़ी के रूप में वर्गीकृत होने के लिए, भौगोलिक संकेत (जीआई) सख्ती से निर्धारित किया जाता है कि सजावटी ज़री में कम से कम 57% चांदी और 0.6% सोना होना चाहिए। कांचीपुरम साड़ियों में उत्पाद के लिए 2005 से जीआई लेबल है।
    कांजीवरम सिल्क्स की अपील शरीर के रंगों और डिजाइनों के साथ सुरुचिपूर्ण विस्तृत सीमाओं में है। साड़ी का पल्लू या लटकता हुआ छोर, उसी रंग और डिजाइन के साथ जारी रह सकता है, जो सीमा पर हो सकता है या अलग हो सकता है। यदि अलग है, तो इसे अलग से बुना जाता है और फिर मुख्य साड़ी से बारीक रूप से जुड़ा होता है।
    विशिष्ट रूपांकनों सूरज, चंद्रमा, मोर, हंस, शेर और आम हैं। सीमाओं के बीच बिखरे चमेली के फूल जैसे थीम, पार या मंदिर संरचनाओं के समानांतर चलने वाली रेखाएं भी लोकप्रिय हैं। लेकिन हर दूसरे दिन कुछ नया प्रयोग किया जाता है और लोकप्रिय होने पर दोहराया जाता है।
    मामूली रु। से लिया गया 2000 / -, कांचीपुरम सिल्क साड़ी एक लाख और उससे अधिक हो सकती है, जो डिजाइन, रूपांकन, अतिरिक्त श्रंगार और उपयोग की जाने वाली सामग्री के आधार पर हो सकती है।
  • कांजीवरम पारंपरिक है, इसका बुना हुआ जादू किसी भी समय नया है। कांजीवरम साड़ी के बारे में लेना कई लोगों के लिए पुरानी टोपी है जहां विशेष अपील अभी भी एक प्रतीत होता है शाही उद्यम के रूप में बोली जाती है। व्यापक रूप से बहुत जटिल डिजाइनों की अपेक्षाओं के साथ जाना जाता है जो बॉर्डर के साथ मंदिर के टावरों के साथ ज्यामितीय डिजाइनों के मानव और जानवरों के सोने के धागे में शरीर में बुना जाता है। कांचीपुरम की साड़ी पर चौड़े बॉर्डर, मंदिर के डिजाइन, चेक, धारियां और फूलों के बट पारंपरिक डिजाइन हैं।
  • आधार सामग्री, रेशम, इसकी गुणवत्ता और शिल्प कौशल के लिए भी जाना जाता है। उपयुक्त वृद्धि, उपयुक्त अस्तर और चिकनी बनावट के साथ अच्छी महीन गिनती की बुनाई, विशेष झिलमिलाहट के साथ अपनी प्रतिष्ठा को मूल्यवान उत्पाद के रूप में बनाए रखती है, जिसे शादियों, भव्य पार्टियों, बड़े उत्सवों, सामाजिक समारोहों जैसे विशेष अवसरों पर प्रदर्शित किया जाता है। कोई आश्चर्य नहीं कि समय के साथ इसका बाजार मूल्य कम नहीं हुआ है।
  • इस प्रसिद्ध कपड़े के पारंपरिक निर्माण में शामिल होने पर एक नज़र डालें। कांजीवरम साड़ी में दो महत्वपूर्ण कपड़े सामग्री है जो इसे हमेशा शामिल करती है। एक, शुद्ध शहतूत रेशम का धागा, जो कि ज्यादातर कर्नाटक से खरीदा जाता है, और दूसरा, गुजरात से चमकते हुए सुनहरे और चांदी के जरी के धागे।
  • कांचीपुरम की साड़ी बुनने में तीन शटल का उपयोग करना शामिल है। सीमा रंग और डिजाइन के माध्यम से शरीर से अलग होती है। यदि पल्लू (साड़ी या अंत-टुकड़ा का लटकता हुआ हिस्सा) एक अलग छाया में बुना जाना है, तो इसे पहले अलग से बुना जाता है और फिर कई मामलों में शरीर से जोड़ा जाता है।
  • लोकप्रिय रूपांकनों में अभी भी प्रकृति, वनस्पतियों और जीवों को शामिल किया गया है, लेकिन देर से बाजार के स्वाद को आंख को प्रसन्न करने के तरीके में शामिल किया जा रहा है। महाभारत और रामायण की महंगी किस्में महाकाव्यों और रामायणों से लिए गए दृश्यों के चित्रों के साथ बड़े पैमाने पर बुने हुए पल्लू हो सकते हैं। भारी रेशम और सोने के कपड़े का उपयोग करने वाली विशेष किस्में भी हैं जो विशेष अवसरों और संयम के लिए उपयोग की जाती हैं।
  • क्यों नहीं कोशिश करो उन्नाव कीएक प्रतिष्ठित वेबसाइट, जो 1980 से हथकरघा से जुड़ी है। आपको भारत के 21 राज्यों से हथकरघा साड़ियों की 100 से अधिक किस्मों की छवियों और अन्य विवरणों से न केवल लाभ होगा, जिसमें प्रसिद्ध कांचीपुरम साड़ियां भी शामिल हैं।
  • एक है जिसमें कांची रेशम की साड़ी में पेन पेंटिंग आदिवासी कला में सीमाओं और पल्लू के लिए वारली पेंटिंग का समावेश है।
  • कलामकारी में अप्प्लीक हैंड पेंटेड फ्लोरल बूटियाँ हैं, जो ट्रेडिशनल कांचीपुरम सिल्क की साड़ी में हाथ की कढ़ाई के साथ साड़ी, कुंदन, दाबाला और ज़रदोज़ी में दी गई हैं।
  • आधुनिक डिज़ाइनों और समकालीन कला में ज़री से सजे हुए पल्लू के साथ ब्लॉक प्रिंटेड पेटू सिल्स पारंपरिक कांचीपुरम सिल्क साड़ियों के लिए फैशन और फैशन को एक नया आयाम देते हैं
  • नवीनतम कांची पट्टू सिल्क सरियों में क्रिस्टल, कुंदन और माला हैं। वे उत्सव के अवसरों पर विशेष उपहार बनाते हैं, भव्य दुल्हन पोशाक के रूप में पसंद किए जाते हैं या विशेष अवसरों के लिए पहनने के रूप में उपयोग किए जाते हैं जैसे कि शादी, पारंपरिक त्योहारों, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, बड़ी पार्टियों और जन्मदिन के दौरान मंदिरों में जाना।
  • कांचीपुरम सिल्क साड़ी में एक लोकप्रिय भिन्नता है, चावल के पानी में जरी के धागों को डुबोना और बुनाई से पहले उसे मोटा होना। यह भारी वजन वाले कड़े लेकिन साड़ी की लोकप्रिय किस्म होगी।
  • कुछ समय पहले कांजीवरम सिल्क साड़ियों का एक प्राचीन संग्रह था जिसमें हाथ से बुने हुए, दस्तकारी और सरासर शिल्प कौशल के प्रदर्शन में चित्रित किए जाने के गुण थे। यह बाजार के साथ एक त्वरित हिट थी।
  • केंद्र में छोटे डॉट के आकार के दर्पणों के साथ समान रूप से सुशोभित फूलों के डिजाइन के साथ शरीर या क्षेत्र को सादे रखा गया था और किनारों पर अच्छी तरह से कढ़ाई और रूपांकनों की परिधि थी। थ्रेड वर्क के साथ अटैच्ड सिंगुलर डॉट मिरर पीस के साथ इंट्रेस्ड, साड़ी के ब्राइट और विविड बेस का ब्रॉड एक्सपेंशन शायद ही भीड़भाड़ वाला लग रहा था।
  • आपके पास एक बहुत ही सजावटी सीमा के आंतरिक भाग पर रूपरेखा कढ़ाई के साथ एक मुकुट या पुष्प स्केच जैसे डिजाइनर पैटर्न हैं। सीमा बहुरंगा डिजाइन, लहरों, आकार, मनभावन पैटर्न उनके भीतर एम्बेडेड और समान रूप से वितरित दर्पण काम को शामिल flaunts। जगह के लिए होने वाले दर्पणों के लिए धागे के काम के लिए चुने गए रंग आसपास के कपड़े के रंग से मेल खाते हैं या खूबसूरती से उस सीमा के आधार के विपरीत होते हैं जिस पर यह सिलना है।
  • तो फिर आप एक उज्ज्वल और जीवंत रंगीन कपड़े अंधेरे और विषम पैटर्न और डिजाइन पर हो सकते हैं। भीतर से बड़े करीने से लगाए गए दर्पणों के साथ लवली पुष्प डिजाइन रूपांकनों और बाहरी रूप से अच्छी तरह से पिरोया, समान रूप से सादे शरीर पर बीच में दर्पण डॉटिंग के साथ interspersed सादे क्षेत्र भर में वितरित किया। कभी-कभी कृत्रिम रोशन स्थितियों में दर्पणों से परावर्तन अच्छे से उछलते हैं और पहनने वाले के जादुई स्वरूप में जुड़ जाते हैं। थोड़ी देखभाल के साथ पहना जाता है, पहनने के एक निश्चित तरीके से, सीमा पैटर्न के एक साफ सीरियल व्यवस्था में साड़ी वादियों को अपने एम्बेडेड दर्पणों के साथ बाहर लाता है जो इसे नेत्रहीन रूप से आंख को पकड़ने वाला बनाते हैं। चुने गए रंग विवेकपूर्ण हैं, आंख को बहुत भाते हैं।
  • फिर जटिल कांजीवरम सिल्क पट्टू साड़ियों का एक जटिल संग्रह हाथ की कढ़ाई के साथ आया। हस्तनिर्मित कढ़ाई विशिष्ट और एक क़ीमती कला है क्योंकि यह श्रमसाध्य है, समय लेने वाली है, और जातीय चिकित्सकों द्वारा काम में बहुत सावधानी और समर्पण डाला जाता है, जिसके परिणामस्वरूप अति सुंदर सौंदर्य की रचना होती है। कुछ बेहतरीन थ्रेड वर्क अरेंजमेंट का मिश्रण शामिल था जैसे जरदोजी, कुंदन वर्क, कलमकारी, मिरर आदि।
  • किंवदंती है कि कांची सिल्क्स के बुनकरों को सेज मार्कंडेय के वंशज माना जाता है, जो खगोलीय बुनकर हैं, जिन्हें कमल के पौधे के फाइबर से ऊतक बुनाई के अपने करतब के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, जबकि भगवान शिव को अपने कपड़े के रूप में कपास पसंद है, भगवान विष्णु को रेशम पसंद है। इसलिए बुनकरों को भगवान विष्णु का पसंदीदा माना जा सकता है। यह भारत के दक्षिण में प्रसिद्ध राजा, कृष्णदेवराय के शासनकाल में था, कांचीपुरम को महत्व दिया गया था और उन्होंने अपना पारंपरिक नाम कमाया था। देवांगों और सालिगरों के दो बुनाई समुदाय कांजीवरम साड़ियों के मुख्य आधार थे और आज भी वे कांची को त्यागते हैं और साड़ियों की बुनाई को अपना पारंपरिक पेशा मानते हैं।
  • कांचीपुरम साड़ी जो परंपरागत समय से बुनी जा रही है, उस स्थान के लोकाचार में इतनी गहराई से लिप्त है, अब यह केवल एक महंगा कपड़ा नहीं रह गया है, यह एक अमूल्य धरोहर माना जाता है जो शहर के लोगों द्वारा पवित्र और संरक्षित है। कोई आश्चर्य नहीं कि यह एक आजीविका को बाहर करने का प्राथमिक स्रोत बन गया है और शिल्प के कौशल और ज्ञान पीढ़ी से पीढ़ी तक नीचे चले गए हैं।
  • इस तरह के कपड़े के प्रति जुनूनी लोग इस विषय पर हैं कि इस विषय पर तमिल में 'कांचीवरम' नामक एक पूर्व-स्वतंत्रता युग की फिल्म 2008 में रिलीज़ हुई थी। फिल्म की विषयवस्तु को संक्षिप्त रूप से दिखाते हुए, बुनकरों और उनके परिवारों की दयनीय स्थिति पर प्रकाश डाला गया। जिसमें वे असंगठित, शोषित और हाशिए पर रहने के कारण हाथ से मुँह बनाये रहते थे। जब राज्य सरकार ने बहुत सुधार किया। हस्तक्षेप किया और उन्हें एक सहकारी समिति बनाने के लिए मिला, जो तब एक सामूहिक आंदोलन के रूप में, बुनकरों के हितों की देखभाल करता था।
  • Unnati Silks फिर से आपके लिए एक समाधान है। आप अपने पारंपरिक शुद्ध कांजीवरम या कांचीपुरम पेटू सिल्क की साड़ियों को ऑनलाइन शॉपिंग के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें आपके द्वारा उपलब्ध कराए गए कैश ऑन ऑप्शन के साथ चयन करने के लिए चित्र और कीमतें उपलब्ध हैं। कई महिलाएं शादी के लिए कांचीपुरम हैंडलूम सिल्क की हाफ साड़ी खरीदती हैं, जो ऑनलाइन दी जाती हैं।
    निश्चित रूप से। आपपुणे, चेन्नई, बैंगलोर में शादी के फंक्शन या किसी भी अन्य अवसर पर इन प्यारे पेटू साड़ियों के लिए यू कांजीवरम पेटू सिल्क और हाफ साड़ी, रेशम कांजीवरम साड़ी पहन सकती हैं।
    फिर क्यों नहीं! वास्तव में दूसरे दिन मुझे याद है कि कांचीपुरम ऑर्गेना सिल्क साड़ियों के लिए एक गैर-निवासी भारतीय महिला ने छवियों और कीमत के साथ ऑनलाइन शॉपिंग की और चेन्नई, भारत में एक बिलिंग पते पर कैश ऑन डिलीवरी का भुगतान करना चाहती थी। वह हो गया था।
    जब से इंटरनेट ने इंटरनेट वेबसाइटों को खोला है, तब से आकाश के नीचे लगभग किसी भी चीज़ की ऑनलाइन खरीदारी करना एक चलन बन गया है। हैदराबाद में रहकर आप चेन्नई में कांचीपुरम सिल्क की साड़ियों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं, कांजीवरम पेटू सिल्क साड़ियों की अपनी भारत में कहीं से भी ऑनलाइन खरीदारी करते समय उनकी मैचिंग साड़ी ब्लाउज डिज़ाइनों के साथ देख सकते हैं। अरे हाँ! आप अपनी ऑनलाइन शॉपिंग में दुल्हन कांचीपुरम शादी की सेमी सिल्क की साड़ियों की कीमत के साथ जांच कर सकते हैं। भारत में कहीं भी ऑनलाइन खरीदने के लिए कांचीपुरम सिल्क साड़ियों के ऑर्डर के लिए कैश ऑन डिलीवरी का भुगतान करने की सुविधा है।
    ज़रूर! इंटरनेट के इस युग में, कोई भी वेबसाइट आपको अपने घर तक पहुंचाने के लिए जो भी मांग सकती है, प्रदान कर सकती है। आप बुनकरों की ऑनलाइन वेबसाइट से कांजीवरम पेटू सिल्क साड़ियों का चयन और खरीद सकते हैं और भुगतान का एक सुविधाजनक तरीका चुन सकते हैं, ताकि आप उन्हें भारत में कहीं भी पहुंचा सकें।