Free Shipping in India | And Internationally above Rs.19999

Dhaka Jamdhani

Items 1-48 of 87

Set Descending Direction
  1. Yellow Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Yellow Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  2. Blue Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Blue Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  3. Red Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Red Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  4. Green Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Green Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  5. Pink Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Pink Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  6. Peach Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Peach Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  7. Yellow Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Yellow Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  8. Brown Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Brown Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  9. Ivory Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Ivory Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  10. Blue Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Blue Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  11. Green Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Green Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  12. Cream Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree Cream Pure Handloom Dhakai Jamdhani Bengal Muslin Silk Saree
  13. Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  14. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  15. Turquoise Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Turquoise Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  16. Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  17. Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  18. Grey Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Grey Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  19. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  20. Yellow Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Yellow Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  21. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  22. Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  23. Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  24. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  25. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  26. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  27. Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  28. Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Brown Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  29. Red Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Red Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  30. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  31. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  32. Peach Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Peach Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  33. Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  34. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  35. Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Orange Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  36. Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  37. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  38. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  39. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  40. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  41. Yellow Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Yellow Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  42. Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Pink Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  43. Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Blue Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  44. Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Green Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  45. Red Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Red Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  46. Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  47. Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree
  48. Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree Ivory Pure Handloom Dhaka Jamdhani Bengal Tant Cotton Saree

Items 1-48 of 87

Set Descending Direction

Dhaka Jamdhani - timeless inspirations in handloom sarees

“Inspirational weaves come from the most unexpected of places”. The Shantipur-Phulia belt, is known for its extraordinary weaves in cotton and silk. Traditionally they have been acknowledged as one of the initial efforts in hand crafted fabrics in the country and despite the onslaughts of time have not dimmed or lowered in quality.
This region is known for its traditional handloom sarees since ancient times. The Partition saw many weavers from Dhaka migrate with their families and settle in the Santipur- Phulia region. Many of them being skilled weavers, they along with their art spread along the Santipur, Phulia (Fulia), Samudragarh, Dhartigram, Ambika Kalna belt. That is why this region is popularly known as the hub for quality handloom products in exotic designs and colors.
In the 2011 census, the urban area had a population of 288718, of which 51 % were females. The average literacy rate is 64 %, higher than the national average of 59.5 %. Hindus dominate the population at close to 80 %, the remaining 20 % and odd being majorly Muslims.

Being known for its Ras Utsav and "Dolutsav" begun by one of the main associates of Chaitanya Mahaprabhu, Rashyatra, the main festival of the town, has the principal deity and his consort Radha, known as Radharaman, are taken out in a grand procession around the city accompanied with drums, kirtan and other celebratory manner.

  • Shantipur has a history of being a seat of Sanskrit literature and Vedic learning dating back to the 9th century. India has a rich cultural heritage and the art of hand weaving formed its integral part.
  • History has it that hand weaving was in existence In India for over five thousand and eight hundred years now.
  • Early Indian texts, both religious and historical, refer to the glory of the Indian handloom fabric. The Indian handloom was indeed much sought after both in the East and West. Even ancient Greek philosophers have spoken highly of Indian cloth.
  • There has been slight change in the weaving from the handloom of yester years and the one that came to be after the invention of the hand operated loom. The earlier one was hand spun and hand woven and took toll of energy and time. Today handlooms are woven on hand operated looms, the spinning being done beforehand on automatic looms.
  • A labour intensive, potential opportunity offering industry, the handloom sector has done the country proud in many a way, from the weave quality, to design, to adornments, to uniqueness and fashion. Yet it continues to be a highly neglected area in respect of opportunity, encouragement and finance.
  • The famous Shantipuri saree, woven in a particular style, is till this day uniquely identified with the region, and can be considered one among the oldest varieties of the Indian handloom saree.
  • Weaving is an activity that was supposed to have been initiated in the beginning of the 15th century and the handloom saree was encouraged a lot during the rule of the Nadia King Rudra Roy in the last half of the 17th century.
  • It got even more patronage in the Mughal rule and handloom sarees used to be exported to countries of the Far East since then.
  • In the 1920s when the Jacquard attachment to conventional looms came into existence, it introduced possibilities for a vast number of designs unique and eye-catching that enthralled the market. Hand Spun Yarn of 250 – 300s, which is beyond the scope of mill, was used for weaving. Sectional warping and sizing was later introduced to produce a warp of 350 yards in length.
  • During Partition when Bengal got divided into West Bengal (India) and East Bengal (current day Bangladesh), many of the Dhaka weavers migrated to Shantipur and Fulia. Districts around Shantipur town and Kalna in Bardhaman district.
  • The Santipur sarees in the past were very popular for the fine & uniform texture. The sarees are termed as per the design used in the extra warp meant for side border.
  • The Bengal Small Scale Aids Industry Act during the early eighties (1980 –83), was instrumental support of the government for the growth of the Handloom industry. Financial aid, in shape of 50% grant & 50 % Loan was provided to the individual weavers for purchase of looms.
  • During the mid eighties and later in the mid nineties 1995, there were weaver movements for the wage hikes but were unsuccessful for the suppression by Mahajans who stood to lose their dominance as middlemen.
    • The Shantipur – Fulia region has over 125,000 handlooms, churning out Shantipuri, Tangail, and Jamdani handloom sarees in a variety of yarns like cotton, tussar and silk. Dhotis, dress materials, stoles and scarves are also woven.
    • During the 1990s, a new trend emerged in Shantipur and Fulia. Apart from the weaving of traditional Bengal handloom sarees, new products like yardage, scarves and stoles for Export started and the weavers began to understand the tastes and preferences of foreign markets.
    • A sea-change in colours and weaves came to usher in modern day trends that went down well with the market since the weaves incorporated the likes and tastes of the urban clientele.
    • The positive feedback from designers and bulk buyers has wrought a change through muted colors and a variety of textures using different yarn combinations in the Shantipur and Fulia sarees. While appreciation is one heartening aspect, sales have picked up but not been extremely encouraging
    • .
    • Shantipur, the home of skilled weavers, artisans and craftsmen since traditional times had seen a period of glory. Backed by royal patronage and spurred by their encouraging gestures, it was a handloom weaving hub famed for its feather-like touch handloom woven dhotis and sarees.
    • Somewhere in the last few decades, time has not boded well for this town of skilled ethnic practitioners. Their efforts were sincere, their devotion a 100 %, but the masters of their craft, never got their due for their toil. Slowly it became a struggle for survival and even to eke out a decent livelihood seemed like a nightmare. So much so that many of the weavers and craftsmen moved out of Shantipur and searched for whatever meagre-paying job they could get just to exist on this planet.
    • Those fighting for remaining true to their traditional occupation despite the odds, decided to come out of their mould and attempt something as a compromise between what they were familiar with and good at with the current market demands.
    • No wonder Shantipur fabrics suddenly broke out into magenta, teal, burgundy, rust like hues with interesting modern day popular motifs instead of the wonderful jacquard themes that they were experts in.
    • Some even went in for sequins and other adornments to see whether the market would respond favourably. Somehow nothing seemed to work for these desperate souls, who just shrank into a corner or moved to other means of livelihood.
    • Yes indeed! In recent years there has been a spurt in the efforts of individuals, NGOs, organizations seeking a social cause and other outfits who have been interested in handlooms and recognized the immense potential of these fabrics.
    • "The weavers in Shantipur have immense skill. What's lacking is the marketing of their products and keeping up with modern trends," said one of them. This self-styled entrepreneur took up with a small weaver group and designed the product that had to be woven and styled like it. The idea paid off and the item sold several times over in comparison to the amount expected by the weaver.
    • This good Samaritan then contacted leading online stores and offered them lovely weaves with a mix of the traditional and trendy. They gobbled it up. This emboldened the weaver group and gave them a new confidence. They got direction about what they should weave and the colors that would suit, the designs that were current, and most importantly the thought that their life now had a meaning.
    • Many instances can be given of initiatives by individuals and groups that have caught up with different varieties in handlooms and painted similar rosy outcomes for hapless idea-bereft weavers in different parts of the country.
    • The Shantipur scenario has slightly brightened of late but there is still much to be done for bringing the glory back to its respectable past.
      West Bengal handlooms and the Shantipur sarees have been part of the massive collection of varieties that have always been and will remain Unnati’s faith in the priceless heritage of Indian fabrics that has always done the country proud.
        You have an amazing variety under one roof.
    • Fine texture weaves, transparent, airy and very comfortable, the Bengal handloom cotton sari is ideal for hot climes and sultry weather.
    • Comfortable, colourful and classy, the pure cotton sarees are known for their attractive borders, hand woven bootis with fancy motifs, exquisite embroidery and exotic hand painting of tribal art.
    • Bengal Jamdhani saree, with eye-catching geometrical and floral patterns, having motifs hand woven in golden zari thread, based on the variations in the Jamdani weave, there are different names given to each of them.
    • Kantha saree, known mainly for its running stitch embroidery on cotton fabrics. The cotton and gold thread work sets off a wonderful design that enhances the look of the fabric.
    • Motifs of flowers, the sun, and modern art depictions generally adorn the Tant saree. The borders of the fabric are thicker than normal since they are prone to tearing. Tants cover a wide range from dark to subdued to light breezy hues. You have beautiful double colour stripes on pastels, light floral breeze versions that are very eye-catching and more subdued earthy hues plain and lightly adorned.
    • Prominent among the silk handloom sarees of Bengal are the Baluchari and the Tangail Jamdhani. Fine count quality weaves, each has its specialty. The appeal of the Baluchari Saree lies in its colour harmony. Silk brocade designs suited to the base colour, are decorated with attractive motifs. The Pallav or Pallu is generally adorned by folk lore or mythological themes.
    • One of the major themes that adorn the Pallav or Pallu of the Baluchari Sarees are mythological stories depicted on the walls of the terra cotta temples that the Malla rulers had built and are located in present day Bengal. The Malla dynasty rule had influenced motifs and the narratives from the Indian epics Mahabharata and Ramayana were obvious subjects for depictions on the thematic pallus. Today floral motifs are very popular. Many figured patterns have also been introduced.
    • Baluchari Sarees are preferred as soft and comfortable wear, for their fine weave and stylish looks. Jamdhani hand weaving is a necessary accompaniment for Bengal Silk sarees where cotton and gold thread weaving create motifs of geometric patterns and floral designs in colourful hues.
    यह क्षेत्र प्राचीन काल से अपनी पारंपरिक हथकरघा साड़ियों के लिए जाना जाता है। विभाजन ने ढाका के कई बुनकरों को अपने परिवारों के साथ देखा और शांतिपुर-फुलिया क्षेत्र में बस गए। उनमें से कई कुशल बुनकर हैं, वे अपनी कला के साथ शांतिपुर, फुलिया (फुलिया), समुद्रगढ़, धारटीग्राम, अंबिका कलना बेल्ट में फैल गए। यही कारण है कि इस क्षेत्र को विदेशी डिजाइन और रंगों में गुणवत्ता वाले हथकरघा उत्पादों के हब के रूप में जाना जाता है।
    2011 की जनगणना में, शहरी क्षेत्र की आबादी 288718 थी, जिनमें से 51% महिलाएं थीं। औसत साक्षरता दर 64% है, जो राष्ट्रीय औसत 59.5% से अधिक है। 80% के करीब हिंदुओं का वर्चस्व है, शेष 20% और विषम रूप से मुस्लिम हैं। चैत महाप्रभु के प्रमुख सहयोगियों में से एक रास उत्सव और "दोलसव" के लिए शुरू होने के नाते, कस्बे के प्रमुख त्योहार रथयात्रा में प्रमुख देवता होते हैं और उनकी पत्नी राधा, जिन्हें राधारमण के नाम से जाना जाता है, को भव्य शोभायात्रा में निकाला जाता है। शहर के चारों ओर ड्रम, कीर्तन और अन्य उत्सव के तरीके के साथ।
    • शांतिपुर में संस्कृत साहित्य और 9 वीं शताब्दी में वैदिक सीखने की एक सीट होने का इतिहास रहा है। भारत में एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है और हाथ बुनाई की कला ने इसका अभिन्न अंग बनाया।
    • इतिहास यह है कि भारत में पाँच हज़ार और आठ सौ वर्षों से हाथ की बुनाई जारी थी।
    • प्रारंभिक भारतीय ग्रंथ, दोनों धार्मिक और ऐतिहासिक, भारतीय हथकरघा कपड़े की महिमा का उल्लेख करते हैं। भारतीय हथकरघा वास्तव में पूर्व और पश्चिम दोनों में बहुत मांग में था। यहां तक कि प्राचीन यूनानी दार्शनिकों ने भी भारतीय कपड़ों की अत्यधिक बात की है।
    • यस्टर वर्षों के हथकरघा से बुनाई में मामूली बदलाव आया है और जो हाथ संचालित करघा के आविष्कार के बाद आया है। पहले वाला हाथ काता गया और हाथ से बुना गया और ऊर्जा और समय का टोल लिया। आज हथकरघा को हाथ से संचालित करघे पर बुना जाता है, स्वचालित कताई पर पहले से कताई की जा रही है।
    • एक श्रम गहन, संभावित अवसर प्रदान करने वाला उद्योग, हथकरघा क्षेत्र ने देश को कई तरह से बुनाई की गुणवत्ता से लेकर, डिजाइन, अलंकरण, अद्वितीयता और फैशन तक में किया है। फिर भी यह अवसर, प्रोत्साहन और वित्त के मामले में अत्यधिक उपेक्षित क्षेत्र है।
    • विशेष शैली में बुनी गई प्रसिद्ध शांतिपुरी साड़ी आज तक इस क्षेत्र के साथ विशिष्ट रूप से पहचानी जाती है, और इसे भारतीय हथकरघा साड़ी की सबसे पुरानी किस्मों में से एक माना जा सकता है।
    • बुनाई एक ऐसी गतिविधि है जिसे 15की शुरुआत में शुरू किया गयावीं शताब्दीथा और 17के अंतिम भाग में नादिया राजा रुद्र रॉय के शासन के दौरान हथकरघा साड़ी को बहुत प्रोत्साहित किया गया थावीं शताब्दी।
    • मुगल शासन में इसे और भी अधिक संरक्षण मिला और तब से सुदूर पूर्व के देशों में हथकरघा साड़ियों का निर्यात किया जाता था।
    • 1920 के दशक में जब पारंपरिक करघों के लिए जैक्वार्ड का लगाव अस्तित्व में आया, तो इसने कई तरह के डिजाइनों के लिए अद्वितीय और आंख को पकड़ने वाली संभावनाओं को पेश किया, जो बाजार में प्रवेश कर गए। 250 - 300 के हाथ स्पून यार्न, जो कि चक्की के दायरे से परे है, बुनाई के लिए इस्तेमाल किया गया था। अनुभागीय युद्ध और आकार को बाद में 350 गज की लंबाई का ताना-बाना पेश करने के लिए पेश किया गया था।
    • विभाजन के दौरान जब बंगाल पश्चिम बंगाल (भारत) और पूर्वी बंगाल (वर्तमान बांग्लादेश) में विभाजित हो गया, तो ढाका के कई बुनकर शांतिपुर और फुलिया चले गए। बर्धमान जिले में शांतिपुर शहर और कलना के आसपास जिले।
    • अतीत में शांतिपुर की साड़ियाँ महीन और समान बनावट के लिए बहुत लोकप्रिय थीं। साड़ियों को साइड बॉर्डर के लिए डिज़ाइन किए गए अतिरिक्त ताना में इस्तेमाल किए गए डिजाइन के अनुसार कहा जाता है।
    • अस्सी के दशक (1980-83) के दौरान बंगाल स्माल स्केल एड्स उद्योग अधिनियम, हथकरघा उद्योग के विकास के लिए सरकार का महत्वपूर्ण समर्थन था। वित्तीय सहायता, 50% अनुदान के आकार में और 50% ऋण करघा बुनकरों को खरीदने के लिए प्रदान किया गया।
    • मध्य अस्सी के दशक के दौरान और बाद में मध्य नब्बे के दशक में, वेतन वृद्धि के लिए बुनकर आंदोलन थे, लेकिन महाजनों द्वारा दमन के लिए असफल थे जो बिचौलियों के रूप में अपना प्रभुत्व खोने के लिए खड़े थे।
    • शांतिपुर - फुलिया क्षेत्र में 125,000 से अधिक हथकरघा हैं, जो शांतिपुरी, तंगेल, और जामदानी हथकरघा साड़ियों जैसे सूत, टसर और रेशम की विभिन्न प्रकारों में मिलते हैं। धोती, ड्रेस सामग्री, स्टोल और स्कार्फ भी बुने जाते हैं।
    • 1990 के दशक के दौरान, शांतिपुर और फुलिया में एक नया चलन सामने आया। पारंपरिक बंगाल हथकरघा साड़ियों की बुनाई के अलावानए उत्पाद जैसे कि यार्डेज, स्कार्फ और स्टोल निर्यात के लिएशुरू हुए और बुनकरों ने विदेशी बाजारों के स्वाद और वरीयताओं को समझना शुरू किया।
    • आधुनिक दिनों के रुझानों में रंगों और बुनाई में एक समुद्री परिवर्तन आया, जो बाजार के साथ अच्छी तरह से नीचे चला गया क्योंकि बुनाई ने शहरी ग्राहकों की पसंद और स्वाद को शामिल किया।
    • डिजाइनरों और थोक खरीदारों की सकारात्मक प्रतिक्रिया ने म्यूट रंगों और शांतिपुर और फुलिया साड़ियों में विभिन्न यार्न संयोजनों का उपयोग करके विभिन्न प्रकार के बनावट के माध्यम से एक बदलाव लाया है। हालांकि प्रशंसा एक हार्दिक पहलू है, बिक्री ने उठाया है लेकिन बहुत उत्साहजनक नहीं है।
    • शांतिपुर, पारंपरिक समय से कुशल बुनकरों, कारीगरों और शिल्पकारों के घर ने गौरव का दौर देखा था। शाही संरक्षण के आधार पर और उनके उत्साहजनक इशारों द्वारा, यह एक हथकरघा बुनाई हब था, जो अपने पंखों की तरह छूने वाले हैंडलूम बुने हुए धोती और साड़ियों के लिए प्रसिद्ध था।
    • पिछले कुछ दशकों में, कुशल जातीय चिकित्सकों के इस शहर के लिए समय अच्छी तरह से नहीं बीता है। उनके प्रयास ईमानदार थे, उनकी भक्ति 100%, लेकिन उनके शिल्प के स्वामी, उनके शौचालय के कारण कभी नहीं मिले। धीरे-धीरे यह अस्तित्व के लिए एक संघर्ष बन गया और यहां तक कि एक सभ्य आजीविका को बाहर निकालने के लिए एक बुरे सपने की तरह लग रहा था। इतना कि बुनकरों और कारीगरों में से कई शांतिपुर से बाहर चले गए और जो भी अल्प-भुगतान वाली नौकरी की तलाश की, वे सिर्फ इस ग्रह पर मौजूद हो सकते थे।
    • बाधाओं के बावजूद अपने पारंपरिक कब्जे के लिए शेष सत्य के लिए लड़ने वालों ने अपने सांचे से बाहर आने का फैसला किया और मौजूदा बाजार की मांगों के साथ जो वे परिचित थे और अच्छे थे, उनके बीच एक समझौते के रूप में कुछ करने का प्रयास किया।
    • कोई आश्चर्य नहीं कि शांतिपुर के कपड़े अचानक मैजेंटा, चैती, बरगंडी, जंग में बदल गए, जैसे कि आधुनिक आधुनिक लोकप्रिय रूपांकनों के बजाय दिलचस्प आधुनिक दिन के साथ ह्यूस जैसे कि वे विशेषज्ञ थे।
    • कुछ भी सेक्विन और अन्य श्रंगार के लिए गए थे यह देखने के लिए कि क्या बाजार अनुकूल प्रतिक्रिया देगा। किसी भी तरह से इन हताश आत्माओं के लिए कुछ भी नहीं लग रहा था, जो बस एक कोने में चले गए या आजीविका के अन्य साधनों में चले गए।
    • हाँ सचमुच! हाल के वर्षों में व्यक्तियों, गैर-सरकारी संगठनों, सामाजिक कारणों की तलाश करने वाले संगठनों और अन्य संगठनों की कोशिशों में तेजी आई है जो हथकरघा में रुचि रखते हैं और इन कपड़ों की अपार संभावनाओं को पहचानते हैं।
    • उनमें से एक ने कहा, "शांतिपुर के बुनकरों में अपार कौशल है। उनके उत्पादों की मार्केटिंग में क्या कमी है और आधुनिक रुझानों को ध्यान में रखते हुए।" इस स्व-चालित उद्यमी ने एक छोटे से बुनकर समूह के साथ काम किया और उस उत्पाद को डिजाइन किया जिसे बुना और स्टाइल करना पड़ा। बुनकर द्वारा अपेक्षित राशि की तुलना में इस विचार ने भुगतान किया और वस्तु कई बार बेची गई।
    • इस अच्छे सामरी ने तब प्रमुख ऑनलाइन स्टोरों से संपर्क किया और उन्हें पारंपरिक और ट्रेंडी के मिश्रण के साथ सुंदर बुनाई की पेशकश की। उन्होंने इसकी देखभाल की। इसने बुनकर समूह को उभारा और उन्हें एक नया आत्मविश्वास दिया। उन्हें इस बारे में दिशा मिली कि उन्हें क्या पहनना चाहिए और कौन से रंग सूट करेंगे, जो डिज़ाइन चालू थे, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उनके जीवन का अब एक अर्थ था।
    • ऐसे कई उदाहरण व्यक्तियों और समूहों द्वारा दिए जा सकते हैं, जिन्होंने हथकरघों में विभिन्न किस्मों के साथ पकड़ बनाई है और देश के विभिन्न हिस्सों में असहाय विचार-बुनकर बुनकरों के लिए समान रसदार परिणामों को चित्रित किया है।
    • शांतिपुर परिदृश्य थोड़ा देर से उजला हुआ है, लेकिन गौरव को उसके सम्मानजनक अतीत में वापस लाने के लिए बहुत कुछ किया जाना बाकी है।
      पश्चिम बंगाल हथकरघा और शांतिपुर साड़ी उन किस्मों के विशाल संग्रह का हिस्सा रहा है जो हमेशा से रही हैं और भारतीय कपड़ों की अमूल्य धरोहर में उन्नाव का विश्वास बना रहेगा जिसने देश को हमेशा गौरवान्वित किया है। आपके पास एक छत के नीचे एक अद्भुत विविधता है।
    • महीन बनावट की बुनाई, पारदर्शी, हवादार और बहुत आरामदायक, बंगाल हैंडलूम सूती साड़ी गर्म जलवायु और उमस भरे मौसम के लिए आदर्श है।
    • आरामदायक, रंगीन और उत्तम दर्जे की, शुद्ध सूती साड़ियों को उनकी आकर्षक सीमाओं, फैंसी रूपांकनों के साथ हाथ से बुनी बूटियों, अति सुंदर कढ़ाई और आदिवासी कला की विदेशी हस्त चित्रकला के लिए जाना जाता है।
    • बंगाल जामदानीजामदानी साड़ी, आंखों को पकड़ने वाले ज्यामितीय और पुष्प पैटर्न के साथ, सुनहरे रंग की जरी धागे में हाथ से बुने हुए रूपांकनों के साथ,बुनाई में भिन्नता के आधार पर, उनमें से प्रत्येक के लिए अलग-अलग नाम दिए गए हैं।
    • कांथा साड़ी, मुख्य रूप से सूती कपड़ों पर सिलाई कढ़ाई के लिए जानी जाती है। सूती और सोने के धागे का काम एक शानदार डिजाइन सेट करता है जो कपड़े के लुक को बढ़ाता है।
    • फूलों के मोती, सूरज, और आधुनिक कला चित्रण आमतौर पर टेंट साड़ी को सुशोभित करते हैं। कपड़े की सीमा सामान्य से अधिक मोटी होती है क्योंकि वे फटने की संभावना होती है। टेंट अंधेरे से लेकर हल्की उबड़ खाबड़ तक की विस्तृत श्रृंखला को कवर करते हैं। आपके पास पेस्टल्स पर सुंदर डबल रंग की धारियां हैं, हल्के पुष्प वाले हवा के संस्करण हैं जो बहुत ही आंखों को पकड़ने वाले और अधिक दबे हुए मिट्टी के रंग के सादे और हल्के से सजी हैं।
    • की रेशम हथकरघा साड़ियों में प्रमुख बंगाल बालूचरी और तंगेल जामदानी हैं। ठीक गिनती गुणवत्ता वाले बुनाई, प्रत्येक की विशेषता है। बालूचरी साड़ी की अपील इसके रंग सामंजस्य में निहित है। बेस रंग के अनुकूल सिल्क ब्रोकेड के डिजाइन आकर्षक रूपांकनों से सजाए गए हैं। पल्लव या पल्लू आमतौर पर लोक विद्या या पौराणिक विषयों से सुशोभित है।
    • बालूचरी साड़ियों के पल्लव या पल्लू को सजाने वाले प्रमुख विषयों में से एक पौराणिक कथाएँ हैं जो मल्ल शासकों द्वारा बनाए गए टेरा के मंदिरों की दीवारों पर चित्रित की गई हैं और वर्तमान बंगाल में स्थित हैं। मल्ल वंश के शासन ने रूपांकनों को प्रभावित किया था और भारतीय महाभारत और रामायण के कथानक विषयक पल्लुओं पर चित्रण के लिए स्पष्ट विषय थे। आज फूलों के रूप बहुत लोकप्रिय हैं। कई अनुमानित पैटर्न भी पेश किए गए हैं।
    • बालूचरी साड़ियों को उनके महीन बुनाई और स्टाइलिश दिखने के लिए नरम और आरामदायक पहनने के लिए पसंद किया जाता है। बंगाल सिल्क साड़ियों के लिए जामदानी हाथ की बुनाई एक आवश्यक संगत है, जहाँ सूती और सोने के धागे की बुनाई रंगीन ज्यामिति में ज्यामितीय पैटर्न और फूलों के डिजाइन के रूपांकनों का निर्माण करती है।