We are open and delivering worldwide! Safe, Timely & Efficient

Banarasi|Jamdhani

Filter

5 Items

Set Descending Direction
  1. Yellow  Jamdhani Banarasi Sico Saree
    -60%
    Yellow Jamdhani Banarasi Sico Saree
    Special Price ₹4,240.00 Regular Price ₹10,598.00
  2. Red  Jamdhani Banarasi Sico Saree
    -60%
    Red Jamdhani Banarasi Sico Saree
    Special Price ₹4,240.00 Regular Price ₹10,598.00
  3. Ivory Pure Banarasi Sico Saree
    -66%
    Ivory Pure Banarasi Sico Saree
    Special Price ₹1,699.00 Regular Price ₹4,998.00
  4. Ivory Pure Banarasi Sico Saree
    -66%
    Ivory Pure Banarasi Sico Saree
    Special Price ₹1,699.00 Regular Price ₹4,998.00
  5. Yellow Jamdhani Weaving Kota Banarasi Saree
    -15%
    Yellow Jamdhani Weaving Kota Banarasi Saree
    Special Price ₹1,699.00 Regular Price ₹1,999.00

5 Items

Set Descending Direction

Jamdani – a work technique used on sarees producing bewitching outcomes

Jamdani or Jamdhani is a hand-woven technique that creates patterns of various colours and designs on cotton or silk sarees. Intending to improve the aesthetic appeal, it takes the form of cotton and gold thread weaving to create motifs of geometric patterns and floral designs in colourful hues. Jamdhani hand weaving is a necessary accompaniment for sarees woven in Bengal. A traditional weave that came from Bangla Desh, it is also the pride of West Bengal, India.
Traditionally woven in clusters around Dhaka in Bangladesh and many rural clusters of Bengal, the Jamdani saree is fabulously rich in motifs in geometric, figural and floral patterns woven in a contrasting shade to the base fabric of silk or cotton. The motifs are often woven with maroon, white, green, black, silver and golden coloured thread woven into a gray or natural coloured base fabric. It is one of the finest muslins in the world.
It is an elaborate but rigorously followed process.
  • First yarns to make the fabric are dyed. Once, only herbal dyes were used. Today the cheaper and readily available chemical dyes are used.
  • Setting the warp and weft are like any other handloom weaving process.
  • Using a throw shuttle, the fabric is an open weave with plain weave structure that makes the sari very transparent.
  • Traditional colours being white, black or grey, the borders are golden zari.
  • Two weavers take up the work of adding the discontinuous supplementary weft for the decided pattern and motifs to be included in the fabric.
  • Both cotton and zari threads are used and are thicker compared to the regular warp and weft threads. If the base thread is silk, then many a time cotton threads are used for the brocade designs.
  • The sensational aspect of the Jamdani is that the motifs or pattern are woven into the fabric purely from memory with no use of sketches or tracing sheets.
  • In order to stiffen the threads, starch is applied while the threads are still on the loom after every meter of the weave is woven.
  • The Jamdani motifs are uniquely incorporated in the fabric. Jamdani motifs are mostly floral but in geometric shapes.
  • The spread of the motifs diagonally across the fabric is called Tercha.
  • Flowers like lotus, jasmine, rose, or vegetation like bananas, ginger, palms.
  • A jamdani saree having small flowers dotted on the fabric is known as a Butidar saree. If the design is diagonally inclined, then it becomes a Tercha Jamdani.
  • The floral designs could include besides flowers, peacocks, leaves and vines.
  • If these designs cover the entire field of the sari it is called jalar naksha, jhalar, or jaal.
  • You also have a variety of Jamdani known as Phulwar and if the flowers are large it is Toradar.
  • Some of the Jamdani varieties include
  • Fulwar Jamdani where the pattern has rows of flowers across the saree,
  • Duria Jamdani if the field is covered with polka dots like design,
  • Belwari jamdani with colourful golden borders.
  • Though mostly used for saris, Jamdani is also used for scarves and handkerchiefs
  • With the passage of time certain changes have crept into the Jamdani fabric.
  • Once having only white, black and grey as background colours, today a whole lot of vibrant colours are used.
  • Chemical dyes are mostly used now with very few instances of natural dyes.
  • The extra or supplementary weft has been replaced by a more convenient form of hand embroidery known as Paar.
  • All these queries relate to purchasing Jamdani sarees at stores in different cities of India or from some online website. Jamdani sarees are very popular today and would be available in most big cities and towns across India. One could easily buy Jamdhani or Jamdani silk sarees from saree design & images online from a Jamdani saree manufacturer's house when in India. There are also many online websites that cater to the demand for these Jamdani sarees.
  • While online shopping for silk and cotton jamdani sarees, Khadi Jamdani, Linen Jamdani of different designs and colours with price, you could also check for the reputed Dhakai Jamdani sarees from Bangladesh, known for their exceptional weaving and the unusually woven.
  • I know of Unnati Silks that has a wonderful collection of Jamdhani sarees both in silk and cotton varieties.

    Jamdhani silk sarees

  • Bengal Jamdhani saree, with eye-catching geometrical and floral patterns, having motifs hand woven in golden zari thread, based on the variations in the Jamdani weave, there are different names given to each of them.
  • Prominent among the silk handloom sarees of Bengal is the Tangail Jamdhani. Fine count quality weaves, silk brocade designs suited to the base colour, are decorated with attractive motifs. The Pallav or Pallu is generally adorned by extraordinary themes. Floral motifs are very popular. Many figured patterns have also been introduced. As such Jamdhani hand weaving is a necessary accompaniment for Bengal Silk sarees where cotton and gold thread weaving create motifs of geometric patterns and floral designs in colourful hues.
  • The Gadwal sarees are fine handlooms that incorporate a lot of Jamdhani weaving, the use of zari making them lustrous and eye-catching.
  • You also have the Chanderi Silk Neon sarees with accompanying zari weaving that make them very attractive and stylish.
  • There is an assortment of fine Jamdani pattu silk sarees, that appear grand and exclusive and easily compare with the price of Jamdani sarees in Kolkata or other places in Bengal.
  • Jamdhani cotton sarees

  • The fine range of Dhaka cotton sarees have the unmistakable stamp and class of the Jamdhani weave. The Daccai Jamdhani saree which is extremely soft to the touch and has easy flow and follows the contours of the body perfectly. Coloured sarees in deep hues and pastels, the Dhaka cotton sarees have brilliant eye-catching motifs all over the saree and the pallu is a designer affair with Jamdhani woven patterns, nice floral jamdhani woven bootis or exotic designer prints. Either way the Dhaka sarees with their fast colours and vibrant hues, make these Jamdhani cotton sarees most exclusive.
  • Some of the traditional motifs include Chameli–Jasmine and Gainda booti-marigold. The most attractive design feature of the Jamdani saree is the paisley motif.
  • There are several kinds of Jamdani muslins. Natural-coloured, unbleached cotton grounds with bleached white cotton supplementary work are traditional, while pastel-coloured grounds with white supplementary work and dark-coloured grounds (black, dark blue and dark red) with white supplementary threads are modern innovations. As the Jamdani is a method by which the design motifs are added by hand during the course of the weaving, it results in an embroidery effect. The method of production is somewhat similar to tapestry work. Small shuttles filled with coloured, gold or silver thread, are passed through the warp as required during the actual weaving of the basic fabric.
  • Any of the above with coloured supplementary threads, or dark grounds with only zari supplementary work are also seen. The Bengal Jamdhani cottons are categorized into ordinary striped or checked Tangail Butidar Tangail or Jamdani with angular designs, Bordered Tangail or Naksha Tangail made on Jacquard looms.
  • The Dhakai cotton handlooms and the Rajasthani cottons are fine fabrics for the Jamdhani and the resulting Jamdani cotton handlooms with Jamdani woven decorative motifs, exotic patterns on the pallu, multi-coloured borders make the Jamdani cotton sarees much sought after.
  • Despite other varieties of Bengal handlooms, each with its own distinctive style the Jamdani, which still continues to retain its original grandeur and sophistication. The original version is referred to as Daccai jamdani.
  • Based on the variations in the Jamdani weave, sarees can be termed as

  • Daccai Jamdani, known for its colourful motifs,
  • the Shantipur Jamdhani, for its soft texture,
  • the Tangail Jamdani, for its traditional borders and
  • the Dhonekai Jamdani, for its colourful hues.
  • So universal is the appeal, that today the Jamdhani is an inclusion in the making of some of the traditional varieties of cotton and silk handlooms,such as the Banaras, Venkatagiri, Uppada, Kanchipuram, Dharmavaram, and Mysore Sarees.
  • Natural-coloured, unbleached cotton grounds with bleached white cotton supplementary work are traditional, while pastel-coloured grounds with white supplementary work and dark-coloured grounds (black, dark blue and dark red) with white supplementary threads are modern innovations.
  • Any of the above with coloured supplementary threads, or dark grounds with only zari supplementary work are also seen.

  • The Bengal Jamdhani cottons are categorized into:
  • Ordinary striped or checked Tangail,
  • Butidar Tangil or Jamdani with angular designs,
  • Bordered Tangil or Naksha Tangail made on Jacquard looms.
  • From 'Jam' meaning flower and 'Dani' meaning a vase or a container, the word Jamdani is of Persian origin. The earliest mention of jamdani and its development as an industry is found in Kautikaya (about 3rd century BC), where it is stated that this was used in Bangla and Pundra.
  • Jamdani is believed to be a fusion of the ancient cloth-making techniques of Bengal (perhaps 2,000 years old) with the muslins produced by Bengali Muslims since the 14th century. Since it developed, Jamdani is the most expensive product of Dhaka looms since it requires the most lengthy and dedicated work.
  • It is not certain when Jamdani came to be adorned with floral patterns of the loom but it is believed it was in the Mughal period, most likely during the reign of either Emperor Akbar (1556–1605) or Emperor Jahangir (1605–1627). The figured or flowered muslin came to be known as the Jamdani. Forbes Watson in his valuable work about the Textiles of India holds that the figured muslins, because of their complicated designs, were always considered the most expensive productions of the Dhaka looms.
  • From the middle of the 19th century, there was a gradual decline in the Jamdani industry. A number of factors contributed to this decline.

  • The subsequent import of lower quality, but cheaper yarn from Europe, started the decline.
  • Most importantly, the decline of Mughal power in India, deprived the producers of Jamdani of their most influential patrons. Villages like Madhurapur and Jangalbari, (both in the Kishoreganj district), once famous for the Jamdani industry went into gradual oblivion.
  • In the rural hinterlands of Bangladesh, there are entire weaver villages engaged in creating the equivalent of poetry on fabric. Overcoming the trauma of partition, weaver families which migrated to West Bengal in the 1950’s have helped keep alive a priceless heritage of highly stylized weaving techniques honed over generations.
  • The handloom industry in the eastern region has had its share of bumpy rides, but Bengal handlooms have survived the ups and downs to become a household name among connoisseurs of textiles.
  • In Bangladesh, weavers use fine Egyptian cotton, while the Indian weavers use only indigenous raw material. The single warp is usually ornamented with two extra weft followed by ground weft. The original Bangladeshi sari is almost invariably on a beige background, but new designs are more exploratory.
  • Jamdani patterns are mostly of geometric, plant, and floral designs and are said to originate in Persian and Mughal fusion thousands of years ago. Due to the exquisite painstaking methodology required, only aristocrats and royal families were able to afford such luxuries at one time.
  • आगे पढ़िए

    क्या है जामदानी साड़ी की खासियत?

    बांग्लादेश में ढाका के आसपास और बंगाल के कई ग्रामीण समूहों में पारंपरिक रूप से बुने गए, जामदानी साड़ी रेशम या कपास के बेस फैब्रिक के विपरीत विषम में बुने हुए ज्यामितीय, अंजीर और फूलों के पैटर्न में स्पष्ट रूप से समृद्ध है। रूपांकनों को अक्सर मैरून, सफेद, हरे, काले, चांदी और सुनहरे रंग के धागे से एक धूसर या प्राकृतिक रंग के बेस फैब्रिक में बुना जाता है। यह दुनिया के सबसे बेहतरीन मलमल में से एक है।

    जामदानी साड़ी बनाने की प्रक्रिया क्या है?

    यह एक विस्तृत लेकिन सख्ती से पालन की जाने वाली प्रक्रिया है।

  • कपड़े बनाने के लिए पहले यार्न को रंगे जाते हैं। एक बार, केवल हर्बल रंगों का उपयोग किया गया था। आज सस्ता और आसानी से उपलब्ध रासायनिक रंगों का उपयोग किया जाता है।
  • ताना और कपड़ा सेट करना किसी भी अन्य हथकरघा बुनाई प्रक्रिया की तरह है।
  • थ्रो शटल का उपयोग करते हुए, कपड़े सादे बुनाई संरचना के साथ एक खुली बुनाई है जो साड़ी को बहुत पारदर्शी बनाती है।
  • पारंपरिक रंग सफेद, काले या भूरे रंग के होते हैं, सीमाएँ सुनहरी ज़री होती हैं।
  • दो बुनकरों ने तय किए गए पैटर्न और रूपांकनों को कपड़े में शामिल करने के लिए असंतुलित पूरक बाने को जोड़ने का काम किया।
  • कपास और जरी धागे दोनों का उपयोग किया जाता है और नियमित रूप से ताना और बाने धागे की तुलना में मोटा होता है। यदि आधार धागा रेशम है, तो ब्रोकेड डिजाइन के लिए कई बार सूती धागे का उपयोग किया जाता है।
  • जामदानी का सनसनीखेज पहलू यह है कि रूपांकनों या पैटर्न को कपड़े से शुद्ध रूप से स्मृति में बुना जाता है जिसमें स्केच या ट्रेसिंग शीट का कोई उपयोग नहीं होता है।
  • थ्रेड्स को सख्त करने के लिए, स्टार्च लगाया जाता है जबकि थ्रेड्स हर मीटर के बुने जाने के बाद लूम पर होते हैं।
  • जामदानी रूपांकनों के बारे में आप क्या बता सकते हैं?

  • जामदानी रूपांकन कपड़े में विशिष्ट रूप से शामिल हैं। जामदानी रूपांकन ज्यादातर पुष्प हैं लेकिन ज्यामितीय आकृतियों में।
  • कपड़े में तिरछे रूप में आकृति के प्रसार को टेरा कहा जाता है।
  • कमल, चमेली, गुलाब, या केले, अदरक, हथेलियों जैसे वनस्पति।
  • कपड़े पर बिंदी लगाने वाली जामदानी साड़ी को बुटीदर साड़ी के रूप में जाना जाता है। यदि डिज़ाइन तिरछे रूप से झुका हुआ है, तो यह टेरा जामदानी बन जाता है।
  • फूलों के डिजाइन में फूलों, मोर, पत्तियों और लताओं के अलावा शामिल हो सकते हैं।
  • यदि ये डिज़ाइन साड़ी के पूरे क्षेत्र को कवर करते हैं तो इसे जलरक्षा, झालर, या जाल कहा जाता है।
  • आपके पास जामदानी की एक किस्म है जिसे फुलवार के रूप में जाना जाता है और यदि फूल बड़े हैं तो यह तोरदार है।
  • की कुछ किस्मों मेंशामिल हैं,

  • जामदानीफुलवार जामदानीजहां पैटर्न में साड़ी,में फूलों की पंक्तियाँ होती हैं,
  • दुरिया जामदानीयदि मैदान को पोल्का डॉट्स जैसे डिज़ाइन,साथ कवर किया गया है
  • बेलवारी जामदानी के साथ रंगीन सुनहरे सीमाओं के।
  • हालांकि ज्यादातर साड़ियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जामदानी का उपयोग स्कार्फ और रूमाल के लिए भी किया जाता है।
  • जामदानी साड़ी में वर्तमान दिन के नवाचारों को क्या देखा जाता है?

    समय बीतने के साथ कुछ बदलाव जामदानी कपड़े में बदल गए हैं।

  • एक बार पृष्ठभूमि के रंगों के रूप में केवल सफेद, काले और ग्रे होने के बाद, आज बहुत सारे जीवंत रंगों का उपयोग किया जाता है।
  • रासायनिक रंगों का उपयोग अब ज्यादातर प्राकृतिक रंगों के बहुत कम उदाहरणों के साथ किया जाता है।
  • अतिरिक्त या पूरक कपड़ा को हाथ कढ़ाई के एक अधिक सुविधाजनक रूप से बदल दिया गया है जिसे पार के रूप में जाना जाता है।
  • भारत में ऑनलाइन शॉपिंग करते समय मुझे जामदानी सिल्क या उप्पा जमदानी धाकई कॉटन सिल्क की साड़ियाँ थोक और खुदरा कहां से मिल सकती हैं? मैं बैंगलोर और हैदराबाद में धकई जमदानी सूती साड़ियों को दुकानों या ऑनलाइन शॉपिंग में असाधारण रूप से कम कीमत के साथ खरीदना चाहूंगा? यह कैसे संभव होगा? मैं एपी में जामदानी साड़ियों को खरीदना चाहता हूं, जो मैंने फेसबुक में देखी थी। क्या ऑनलाइन थोक मूल्य के साथ चित्रों से चेकिंग के लिए सफेद धकई जमदानी सिल्क साड़ियों को खरीदना संभव है?

  • ये सभी प्रश्न भारत के विभिन्न शहरों में या कुछ ऑनलाइन वेबसाइट से जामदानी साड़ियों की खरीद से संबंधित हैं। जामदानी साड़ियाँ आज बहुत लोकप्रिय हैं और भारत के अधिकांश बड़े शहरों और कस्बों में उपलब्ध होंगी। भारत में जामदानी साड़ी निर्माता के घर से साड़ी डिजाइन और छवियों से जामदानी या जामदानी रेशम साड़ियों को ऑनलाइन आसानी से खरीदा जा सकता है। कई ऑनलाइन वेबसाइटें भी हैं जो इन जामदानी साड़ियों की मांग को पूरा करती हैं।
  • रेशम और कपास की जामदानी साड़ियों, खादी जामदानी, विभिन्न डिजाइनों और रंगों के लिनेन जामदानी के लिए ऑनलाइन खरीदारी के साथ, आप बांग्लादेश से प्रतिष्ठित ढकाई जमदानी साड़ियों के लिए भी जांच कर सकते हैं, जो अपनी असाधारण बुनाई और असामान्य रूप से बुने हुए हैं।
  • मुझे भारत में गुणवत्ता वाली जामदानी रेशम और जामदानी सूती साड़ियाँ कहाँ मिलेंगी?

    मुझे मालूम है उन्नावती सिल्क्स जिसमें रेशम और सूती दोनों किस्मों में जामदानी साड़ियों का अद्भुत संग्रह है।

    बताओ, किस तरह का जामदानी साड़ियोंउन्नावी कोसिल्क्स में मिलने की संभावना होगी।

    जामदानी सिल्क की साड़ियाँ

  • बंगाल जामदानीजामदानी साड़ी, आंखों को पकड़ने वाले ज्यामितीय और पुष्प पैटर्न के साथ, सुनहरे रंग की जरी धागे में हाथ से बुने हुए रूपांकनों के साथ,बुनाई में भिन्नता के आधार पर, उनमें से प्रत्येक के लिए अलग-अलग नाम दिए गए हैं।
  • की रेशम हथकरघा साड़ियों के बीच प्रमुख बंगाल तांगेल जामदानी है। बेस रंग के अनुकूल महीन गुणवत्ता वाले बुनकरी, रेशम के ब्रोकेड डिजाइन को आकर्षक रूपांकनों से सजाया गया है। पल्लव या पल्लू को आम तौर पर असाधारण विषयों से सजाया जाता है। पुष्प रूपांकनों बहुत लोकप्रिय हैं। कई अनुमानित पैटर्न भी पेश किए गए हैं। जैसे कि जामदानी हाथ की बुनाई बंगाल सिल्क साड़ियों के लिए एक आवश्यक संगत है जहां कपास और सोने के धागे की बुनाई रंगीन ज्यामिति में ज्यामितीय पैटर्न और पुष्प डिजाइन के रूपांकनों का निर्माण करती है।
  •  
  • गडवाल साड़ी ठीक हथकरघा है जिसमें बहुत सारी जामदानी बुनाई शामिल है, ज़री का उपयोग उन्हें चमकदार और आंख को पकड़ने वाला बनाता है।
  • आपके पास चंदेरी सिल्क नियोन साड़ी के साथ ज़री की बुनाई भी है जो उन्हें बहुत आकर्षक और स्टाइलिश बनाती है।
  • उम्दा जामदानी पेटू सिल्क साड़ियों की एक वर्गीकरण है, जो कोलकाता में या बंगाल में अन्य स्थानों पर जामदानी साड़ियों की कीमत के साथ भव्य और अनन्य और आसानी से दिखाई देती हैं।
  •  

    जामदानी सूती साड़ी

  • ढाका सूती साड़ियों की महीन रेंज में जामदानी बुनाई की अचूक मोहर और कक्षा है। Daccai जामदानी साड़ी जो स्पर्श करने के लिए बेहद नरम है और इसका प्रवाह आसान है और शरीर की आकृति पूरी तरह से अनुसरण करती है। गहरे रंग की साड़ियों और पेस्टल्स में रंग-बिरंगी साड़ियों, ढाका कॉटन की साड़ियों में शानदार साड़ी के साथ शानदार आई-कैचिंग मोटिफ्स हैं और पल्लू एक डिजाइनर है जो जामदानी बुने हुए पैटर्न, अच्छी पुष्प जामुन बुनी बूटियों या विदेशी डिजाइनर प्रिंट के साथ है। किसी भी तरह से ढाका साड़ियों को उनके तेज रंगों और जीवंत रंग के साथ, इन जामदानी सूती साड़ियों को सबसे खास बनाते हैं।
  • कुछ पारंपरिक रूपांकनों में चमेली-जैस्मीन और गेनडा बूटी-मैरीगोल्ड शामिल हैं। जामदानी साड़ी की सबसे आकर्षक डिजाइन विशेषता पैस्ले मोटिफ है।
  • कई प्रकार के जामदानी मसलिन हैं। प्रक्षालित सफेद सूती पूरक कार्य के साथ प्राकृतिक रंग के, बिना कटे हुए कपास के मैदान पारंपरिक हैं, जबकि सफेद पूरक कार्य के साथ पेस्टल रंग के मैदान और सफेद पूरक धागे के साथ गहरे रंग के आधार (काले, गहरे नीले और लाल) आधुनिक नवाचार हैं। चूंकि जामदानी एक ऐसी विधि है जिसके द्वारा बुनाई के दौरान डिज़ाइन रूपांकनों को हाथ से जोड़ा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप कढ़ाई का प्रभाव पड़ता है। उत्पादन की विधि कुछ हद तक टेपेस्ट्री के काम के समान है। रंगीन, सोने या चांदी के धागे से भरे छोटे शटर, मूल कपड़े की वास्तविक बुनाई के दौरान आवश्यक रूप से ताना के माध्यम से पारित किए जाते हैं।
  • ऊपर के किसी भी रंग के पूरक धागे, या केवल ज़री के पूरक कार्य के साथ अंधेरे आधार भी दिखाई देते हैं। बंगाल के जामदानी कॉटन को साधारण धारियों या चेक किए गए तांगेल बटीदार तंगेल या जामदानी में कोणीय डिजाइनों के साथ वर्गीकृत किया गया है, जैक्वार्ड करघे पर बने बॉर्डर वाले तांगेल या नक्शा तंगेल।
  • धाकई सूती हैंडलूम और राजस्थानी कॉटन जामदानी के लिए बढ़िया कपड़े हैं और इसके परिणामस्वरूप जामदानी बुने हुए सजावटी हथेलियों के साथ जामदानी बुने हुए सजावटी रूपांकनों, पल्लू पर विदेशी पैटर्न, बहुरंगी सीमाएँ जमदानी सूती साड़ियों के बाद बहुत पसंद की जाती हैं।
  • बंगाल हथकरघा की अन्य किस्मों के बावजूद, प्रत्येक की अपनी विशिष्ट शैली जामदानी है, जो अभी भी अपनी मूल भव्यता और परिष्कार को बनाए रखना चाहती है। मूल संस्करण Daccai जामदानी के रूप में जाना जाता है।
  • बुनाई में भिन्नता के आधार पर, साड़ी कोरूप मेंजा सकता है
  • जामदानीडकैकाई जामदानी केजाना, जो अपने रंगीन रूपांकनों के लिए जानी
  • जाती है, शांतिपुर जामदानी, अपनी नरम बनावट के लिए,जामदानी,
  • तांगेलअपनी पारंपरिक सीमाओं के लिए और
  • डोंकई जामदानी, अपने रंगारंगों के लिए।
  • तो सार्वभौमिक अपील है, कि आज जामदानी कपास और रेशम की कुछ पारंपरिक किस्मों जैसे कि बनारस, वेंकटगिरी, उप्पाडा, कांचीपुरम, धर्मवारम, और मैसूर साड़ियों को बनाने में शामिल है।
  • जामदानी कॉटन साड़ियों की विशेष अपील क्या है?

    प्रक्षालित सफेद सूती पूरक कार्य के साथ प्राकृतिक रंग के, बिना कटे हुए कपास के मैदान पारंपरिक हैं, जबकि सफेद पूरक कार्य के साथ पेस्टल रंग के मैदान और सफेद पूरक धागे के साथ गहरे रंग के आधार (काले, गहरे नीले और लाल) आधुनिक नवाचार हैं। ऊपर के किसी भी रंग के पूरक धागे, या केवल ज़री के पूरक कार्य के साथ अंधेरे आधार भी दिखाई देते हैं।

    बंगाल के जामदानी कॉटन्स को वर्गीकृत किया गया है:

  • साधारणया चेक की हुई तांगेल,
  • डिजाइन वालीबुटीदार तंगिल या जामदानी को कोणीय डिजाइनों के साथ,
  • बॉर्डरेड टैंगिल या जैक्वार्ड करघे पर बना नक्शा तंगेल।
  • मैं जामदानी साड़ी उत्पत्ति और उसके इतिहासथोड़ा सा जानना चाहूंगा

  • से'जाम' अर्थ फूल और 'दानी' जिसका अर्थ है फूलदान या एक कंटेनर, शब्द जामदानी फारसी मूल का है। जामदानी और उद्योग के रूप में इसके विकास का सबसे पहला उल्लेख कौटिल्य (लगभग 3 शताब्दी ईसा पूर्व) में मिलता है, जहाँ यह कहा जाता है कि बंगला और पुंडरा में इसका उपयोग किया जाता था।
  • माना जाता है कि जामदानी 14 वीं शताब्दी से बंगाली मुसलमानों द्वारा निर्मित मलमल के साथ बंगाल की प्राचीन कपड़े बनाने की तकनीक (शायद 2,000 साल पुरानी) का एक संलयन है। चूंकि यह विकसित हुआ, जामदानी ढाका करघे का सबसे महंगा उत्पाद है क्योंकि इसके लिए सबसे लंबे और समर्पित कार्य की आवश्यकता होती है।
  • यह निश्चित नहीं है कि जब जामदानी लूम के फूलों के पैटर्न के साथ सजी हुई थी, लेकिन यह माना जाता है कि यह मुगल काल में था, सबसे अधिक संभावना या तो बादशाह अकबर (1556-1605) या सम्राट जहांगीर (1605-1627) के शासनकाल के दौरान। लगा या फूली हुई मलमल को जामदानी के नाम से जाना जाता है। फोर्ब्स वॉटसन ने भारत के वस्त्र के बारे में अपने मूल्यवान काम में यह माना है कि उनके जटिल डिजाइनों के कारण लगा हुआ मलमल हमेशा ढाका करघे का सबसे महंगा निर्माण माना जाता था।
  • 19 वीं शताब्दी के मध्य से, जामदानी उद्योग में धीरे-धीरे गिरावट आई। कई कारकों ने इस गिरावट में योगदान दिया।

  • यूरोप से निम्न गुणवत्ता वाले, लेकिन सस्ते यार्न के आयात ने गिरावट की शुरुआत की।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात, भारत में मुगल सत्ता का पतन, जामदानी के निर्माताओं को उनके सबसे प्रभावशाली संरक्षक से वंचित करता है। एक बार जामदानी उद्योग के लिए प्रसिद्ध मधुपुर और जंगलबाड़ी, (किशोरगंज जिले में दोनों) जैसे गांव धीरे-धीरे गुम हो गए।
  • तो उसके बाद जमदानी कैसे पनपी?

  • बांग्लादेश के ग्रामीण इलाकों में, कपड़े पर कविता के समकक्ष बनाने के लिए पूरे बुनकर गाँव लगे हुए हैं। विभाजन के आघात पर काबू पाने, बुनकर परिवारों ने, जो 1950 में पश्चिम बंगाल चले गए, ने पीढ़ी दर पीढ़ी प्रतिष्ठित उच्च तकनीक बुनाई तकनीकों की एक अमूल्य धरोहर को जीवित रखने में मदद की है।
  • पूर्वी क्षेत्र में हथकरघा उद्योग में ऊबड़-खाबड़ सवारी की हिस्सेदारी रही है, लेकिन बंगाल हथकरघा वस्त्रों के पारखी लोगों के बीच एक घरेलू नाम बनने के लिए उतार-चढ़ाव से बचे हैं।
  • बांग्लादेश में, बुनकर ठीक मिस्र के कपास का उपयोग करते हैं, जबकि भारतीय बुनकर केवल स्वदेशी कच्चे माल का उपयोग करते हैं। सिंगल ताना आमतौर पर दो अतिरिक्त बाने के साथ अलंकृत होता है और उसके बाद ग्राउंड वेट होता है। मूल बांग्लादेशी साड़ी लगभग बेज रंग की पृष्ठभूमि पर है, लेकिन नए डिजाइन अधिक खोजपूर्ण हैं।
  • जामदानी पैटर्न ज्यादातर ज्यामितीय, पौधे और फूलों के डिजाइनों के होते हैं और कहा जाता है कि इनकी उत्पत्ति हज़ारों साल पहले फ़ारसी और मुगल संलयन में हुई थी। अति सुंदर श्रमसाध्य कार्यप्रणाली के कारण, केवल अभिजात वर्ग और शाही परिवार एक समय में इस तरह की विलासिता को वहन करने में सक्षम थे।
  • From the Banks of Ganga Ghat – Luxury of Banarasi Silks

    Varanasi, also known as Benaras, Banaras or Kashi, is on the banks of the holy river Ganges in Uttar Pradesh. Varanasi is considered one of the holiest cities in India and the world. Benaras is also known for its muslin and silk fabrics since centuries.

    Be it a purchase or a gift from somebody, the Banarasi saree has been lovingly treasured, used sparingly on occasions and prized like a treasure by most saree-loving women. Pure Silk has been part of Indian tradition for exclusive wear since royal times, an observance carried on till this day. It is the devoted effort of the Banarasi silk saree weaver to weave pure gold and silver threads with precision and create masterpieces with the making of each and every saree. Time has not dimmed this art and the modern day weaver is as dedicated to his work as his forefathers were. No wonder the Indian masses have always considered it as something to possess during a lifetime.

    Read On

    Why is the Banarasi saree considered exclusive?

    The Banarasi saree is a finely woven fabric, with rich brocades in gold and silver zari, including fine designs and engravings. A relatively heavy and opulent affair, the Banarasi silk saree is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.

    How is the Banarasi saree made and why it is considered exclusive.

    In an awesome display of grandeur, the Banarasi saree has always been exclusive and captivating. Very many traditional silks are available in different pockets across the country, but the Banarasi Saree has always held out on its own as a unique fabric of traditional excellence. Finely woven, with rich brocades in gold or silver zari that includes fine designs and engravings, the relatively heavy and opulent affair is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.

    A royal weave since Mughal times, it is believed that migrant workers from other states settled in Banaras and carried out the weaving of such fabrics as a decent means to livelihood. Since then it has developed into a major cottage industry that has close to twelve lakh workers involved in different facets in the making of the ‘Banarasi’ saree.

    I would like to know how the Banarasi silk saree is made and what is its USP.

    The specialty of the Banarasi silk saree lies in its use of zari or rich gold and silver coloured thread work on motifs and brocades. The influence of Mughal designs is evident from the awesome floral and leafy motifs known as ‘kalga’ and ‘bel’ and outer border designs of upright leaves known as ‘Jhallar’.

    In addition the heavy gold work on the brocades, the compact weaving of the basic fabric, the small detailing, metallic visual effects, the mesh pattern and the intricate embroidery work are all contributive towards making the Banarasi saree, a rich traditional offering; a pride of the nation.

    The Banarasi saree acquires a royal feel from the brocades that share a part of this heirloom fabric. In earlier times the brocade was adorned by precious and semi-precious stones, but today they have been replaced by sequins and beading to give that exquisite look, unless it is a customized order.

    What is special about the Banarasi brocade?

    Using the special ‘Jacquard’ arrangement, the Banarasi brocade, is woven through the special technique involving the weaving of a supplementary weft that is not part of the main weave of warp and weft. The idea is to make it seem that the pattern which comes from the supplementary weft is actually woven within the main weave.

    How long does it take to weave a Banarasi saree? How much does the Banarasi silk saree cost?

    It could take anywhere from a fortnight to a month, based on the exquisiteness of the designs, the intricacies within the weave and the fine adornments that accompany the saree. Subsequently this determines the Banarsi saree price that could be anywhere from a few thousands to a lakh of rupees.

    Is the Banarasi saree still in fashion? Can one expect the same quality of the Banarasi saree in today’s times?

    Four to five centuries have passed and this tradition of fine weaving has neither dimmed nor lost lustre. In fact the Banarasi Silk Sarees have continued to remain as exceptional and finely sought as before. Over the years additions and introductions within the weave have never seemed out of place. Despite being woven in traditional style, the fusion elements have seamlessly merged to become a part of its rich and dazzling heritage.

    How does one distinguish between the Banarasi saree and its southern cousin ‘the Kanjeevaram’ saree?

    While both sarees appear grand and royal, there is a distinctive difference. The Banarasi saree relies heavily on silver and gold thread brocade work whereas the Kanjeevaram saree depends more on color and combinations with plenty of accessories thrown in.

    How do you identify a Banarasi silk saree?

    It is recognized universally that the heavier the zari threads, more the superiority. The count of genuine Banarasi silk sarees lies in the region of 5000 and above with each zari thread chain about 115 cm. extended. Also the reverse side of the sarees would show up with floating warp and weft threads because of the nature of weaving.

    How are the Banarasi weavers protected from misuse of the term ’Banarasi saree’?

    In order to counter the unfair gains made by ‘non-Banarasi’ clusters that took advantage of using the name ‘Banarasi’ for their fabrics and selling at a cheaper price, without adhering to the stringent quality standards that were followed by the ethnic weavers, the traditional groups of six clusters in and around Benaras, applied for and received the Geographical Indication label and legal rights in 2009, for the exclusive use of the name ‘Banarasi’ for their offerings. This stemmed the rot created by the spurious goods trade and drastically improved the situation to cause exports to flourish once again.

    Where are Banarasi sarees made?

    The traditional weavers spread over the six districts of Gorakhpur, Chandauli, Bhadohi, Jaunpur, Azamgarh and Banaras itself, have the rights and protection for sole use of the label ‘Banarasi ’ for their handloom weaves. It is a traditional craft of centuries since the Mughal times and there are more than a lakh families involved with different facets in the making of the Banarasi saree.

    Where can you buy the Banarasi saree in Varanasi? In other parts of India?

    The Banarasi saree is made in clusters in and around Varanasi so there is no dearth of shops within the city and other important places in the state as well as the rest of India. However the costly silk varieties could be limited to important cities and towns of Uttar Pradesh. In the rest of India all the metros, big cities and towns too would be having Banarasi sarees to sell in big shops.

    What about online websites selling Banarasi sarees?

    There are plenty of websites that sell Banarasi sarees online but one cannot be assured that you are buying genuine Banarasi sarees or sarees worth the price that you are paying for. Hence it is always better to ask people who have had an online shopping experience for costly sarees especially the heavy silks or check the websites thoroughly before coming to a decision to place an order.

    Is Unnati Silks a trusted website?

    With four decades of association with textiles since 1980, especially in Handloom fabrics, Unnati Silks has earned a reputation of being a trusted website for women’s apparel – sarees, salwar kameez, kurtas, kurtis, Indo western apparel and fabrics. With different payment options, attractive pricing in wholesale and retail, free shipping in India, reputed couriers and after sales service, Unnati Silks has managed to serve customers over 65 countries overseas too.

    What has Unnati Silks to offer by way of its Banarasi collection?

    The Banarasi collection at Unnati Silks is both varied and vast.

    Designer Banarasi Silk Sarees with fusion varieties have always kept the market interested. Banarasi Sicos are with mesmeric patterns and enchanting patch borders with eye-catching motifs in mesmerizing colors. The stunning Banarasi Jamdhani Katan silk saree with a lot of Jamdhani work and attractive bootis has tremendous appeal.

    Banarasi Patola silks and Banarasi Georgette sarees beautifully adorned with elegant mango bootis, the brocaded Banrasi Crepe silk saree, the Banarasi Tussar silks and the Supernets in Neon, the Banarasi Organza silks decorated with eye-filling bootis and rich borders in zari, and the Banarasi Georgette silks as well as the designer variety in jacquard art silk put together make an awesome “Banarasi” draw - a vivid and enchanting ensemble of the Banarasi variety under the same roof.

    What Banarasi saree blouse designs does one have to wear with the Banarasi saree?

    The Banarasi georgette sarees look amazing with blouses having a golden border or blouses in contrasting colour and heavy work. The look is royal and heavy. Full Sleeves or elbow length ones with lovely embroidery, or the net sarees with net sleeves are preferred combinations by many women.

    What is the best way to wash a Banarasi silk saree?

    Dry cleaning is the best option recommended for costly sarees which have a lot of accessory work. However for those who would like to clean it themselves, you have to take some time over it. Putting the saree in plain water with a mild detergent leaving it in for a few minutes before lightly brushing would clean it nicely. Since the pallu has a lot of special work on it, it has to be done carefully.

    Are you partial to the color red?

    Red is a very popular colour for the Banarasi silk and is generally preferred as bridal wear for morning weddings whereas the less light shades are preferred by brides for weddings after sunset. These Banarasi pure silk sarees also come in bright colors like peach, cream, powder blue, pastel shades, lime or mint green, light pink which are best for daytime occasions.

    People would like to know how to wear a Banarasi saree, in Lehenga style, as in Bengali wedding or for any wedding function for that matter. How can I learn the way to style and wear my Banarasi saree and in different styles, so that I would appeal in a photoshoot?

    This is a lengthy subject that cannot be described in words. It is best learnt through demo videos on You Tube. We suggest some channels like:

    • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY on how to wear the Banarasi saree in different styles
    • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 for wearing it in Lehenga style
    • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ for wearing as in Bengali wedding style.

    But as you know it is not limited to this and there are plenty of videos by different styling experts who have provided their demo videos for the manner in which the Banarasi saree can be draped.

    पढ़ें

    क्यों बनारसी साड़ी को खास माना जाता है?

    बनारसी साड़ी एक महीन बुने हुए कपड़े हैं, जिसमें सोने और चांदी की जरी में समृद्ध ब्रोकेड्स होते हैं, जिनमें महीन डिजाइन और नक्काशी शामिल हैं। एक अपेक्षाकृत भारी और भव्य मामला, बनारसी रेशम साड़ी हर दुल्हन के पतलून के हिस्से और शादियों और कई भारतीय घरों में विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।

    बनारसी साड़ी को कैसे बनाया जाता है और इसे विशेष क्यों माना जाता है।

    भव्यता के एक भयानक प्रदर्शन में, बनारसी साड़ी हमेशा अनन्य और मनोरम रही है। देश भर में बहुत से पारंपरिक रेशम विभिन्न जेबों में उपलब्ध हैं, लेकिन बनारसी साड़ी हमेशा पारंपरिक उत्कृष्टता के एक अद्वितीय कपड़े के रूप में अपने दम पर आयोजित की जाती है। सोने या चाँदी की ज़री में समृद्ध ब्रोकेड के साथ बारीक बुना हुआ, जिसमें बढ़िया डिज़ाइन और नक्काशी शामिल हैं, अपेक्षाकृत भारी और भव्य संबंध हर दुल्हन की पतलून का हिस्सा है और कई भारतीय घरों में शादियों और विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।

    मुगल काल से एक शाही बुनाई, यह माना जाता है कि अन्य राज्यों के प्रवासी श्रमिक बनारस में बस गए और इस तरह के कपड़ों की बुनाई को आजीविका के लिए एक सभ्य साधन के रूप में किया। तब से यह एक प्रमुख कुटीर उद्योग के रूप में विकसित हो गया है, जिसमें 'बनारसी' साड़ी बनाने में विभिन्न पहलुओं में शामिल बारह लाख के करीब श्रमिक हैं।

    मैं जानना चाहता हूं कि बनारसी रेशम की साड़ी कैसे बनाई जाती है और इसकी यूएसपी क्या है।

    की खासियत बनारसी रेशम की साड़ी ज़री या रिच गोल्ड और सिल्वर रंग के धागे के रूप में मोटिफ्स और ब्रोकेस पर काम करती है। मुगल डिजाइनों का प्रभाव 'कलगी' और 'बेल' के नाम से जाने जाने वाले भयानक फूलों और पत्तेदार रूपांकनों से स्पष्ट है और ऊपर की पत्तियों के बाहरी बॉर्डर डिजाइनों को 'झल्लार' के रूप में जाना जाता है।

    ब्रोकेड्स पर भारी सोने के काम के अलावा, मूल कपड़े की कॉम्पैक्ट बुनाई, छोटे विवरण, धातु दृश्य प्रभाव, मेष पैटर्न और जटिल कढ़ाई का काम बनारसी साड़ी, एक समृद्ध पारंपरिक भेंट बनाने के लिए सभी योगदान कर रहे हैं; राष्ट्र का गौरव।

    बनारसी साड़ी ब्रोकेड्स से एक शाही एहसास प्राप्त करती है जो इस विरासत कपड़े का एक हिस्सा साझा करती है। पहले के समय में ब्रोकेड को कीमती और अर्ध-कीमती पत्थरों से सजाया गया था, लेकिन आज उन्हें सीक्विन और बीडिंग द्वारा बदल दिया गया है, जब तक कि यह एक स्वनिर्धारित क्रम न हो।

    बनारसी ब्रोकेड में क्या खास है?

    विशेष 'जैक्वार्ड' व्यवस्था का उपयोग करते हुए, बनारसी ब्रोकेड, एक विशेष तकनीक के माध्यम से बुना गया है जिसमें एक पूरक कपड़ा की बुनाई शामिल है जो ताना और बाने की मुख्य बुनाई का हिस्सा नहीं है। यह विचार करना है कि ऐसा लगता है कि जो पैटर्न अनुपूरक भार से आता है वह वास्तव में मुख्य बुनाई के भीतर बुना जाता है।

    बनारसी साड़ी को बुनने में कितना समय लगता है? बनारसी रेशम साड़ी की कीमत कितनी है?

    यह डिजाइन की विशिष्टता के आधार पर, एक पखवाड़े से लेकर एक महीने तक कहीं भी ले जा सकता है, बुनाई के भीतर की पेचीदगियां और साड़ी के साथ बारीक अलंकरण। इसके बाद यह बनारसी साड़ी की कीमत निर्धारित करता है जो कि कुछ हजारों से लेकर लाखों रुपये तक हो सकती है।

    क्या बनारसी साड़ी अभी भी फैशन में है? क्या आज के समय में बनारसी साड़ी की गुणवत्ता की उम्मीद की जा सकती है?

    चार से पांच शताब्दियां बीत चुकी हैं और ठीक बुनाई की इस परंपरा को न तो मंद पड़ा है और न ही खोई हुई चमक। वास्तव में बनारसी सिल्क साड़ियां पहले की तरह असाधारण और बारीक बनी हुई हैं। पिछले कुछ वर्षों में बुनाई के भीतर परिवर्धन और परिचय कभी भी जगह से बाहर नहीं हुए हैं। पारंपरिक शैली में बुने जाने के बावजूद, संलयन तत्व मूल रूप से अपनी समृद्ध और चमकदार विरासत का हिस्सा बनने के लिए विलय कर चुके हैं।

    बनारसी साड़ी और उसके दक्षिणी चचेरे भाई 'कांजीवरम' के बीच अंतर कैसे होता है साड़ी?

    जबकि दोनों साड़ी भव्य और शाही दिखाई देती हैं, एक विशिष्ट अंतर है। बनारसी साड़ी चांदी और सोने के धागे के ब्रोकेड वर्क पर बहुत अधिक निर्भर करती है जबकि कांजीवरम साड़ी में फेंके जाने वाले बहुत सारे सामान के साथ रंग और संयोजन पर अधिक निर्भर करता है।

    आप बनारसी सिल्क साड़ी की पहचान कैसे करते हैं?

    यह सार्वभौमिक रूप से पहचाना जाता है कि जरी के धागे जितने भारी होंगे, उतनी ही श्रेष्ठता होगी। असली बनारसी सिल्क साड़ियों की गिनती लगभग 5000 सेमी और प्रत्येक ज़री धागा श्रृंखला के साथ लगभग 115 सेमी है। बढ़ाया। साथ ही साड़ियों का उल्टा हिस्सा बुनाई की प्रकृति के कारण फ्लोटिंग ताना और अजीब धागे के साथ दिखाई देगा।

    बनारसी बुनकरों को 'बनारसी साड़ी' शब्द के दुरुपयोग से कैसे बचाया जाए?

    गैर-बनारसी ’समूहों द्वारा किए गए अनुचित लाभ का मुकाबला करने के लिए, जिन्होंने अपने बुनकरों द्वारा पालन किए जाने वाले कड़े गुणवत्ता मानकों का पालन किए बिना, अपने कपड़ों के लिए बनारसी’ नाम का इस्तेमाल करने और सस्ते दाम पर बेचने का फायदा उठाया। बनारस और उसके आसपास के छह समूहों के पारंपरिक समूहों ने अपने प्रसाद के लिए 'बनारसी' नाम के विशेष उपयोग के लिए 2009 में भौगोलिक संकेत लेबल और कानूनी अधिकार प्राप्त किए। इसने नकली सामान के व्यापार से पैदा हुई सड़ांध को खत्म कर दिया और निर्यात को एक बार फिर से फलने-फूलने की स्थिति में काफी सुधार किया।

    बनारसी साड़ी कहाँ बनाई जाती है?

    छः जिलों गोरखपुर, चंदौली, भदोही, जौनपुर, आज़मगढ़ और बनारस में फैले पारंपरिक बुनकरों को अपने हथकरघा बुनकरों के लिए लेबल 'बनारसी' के एकमात्र उपयोग के अधिकार और संरक्षण प्राप्त हैं। यह मुगल काल से सदियों से चली आ रही एक पारंपरिक शिल्प है और बनारसी साड़ी के निर्माण में विभिन्न पहलुओं के साथ एक लाख से अधिक परिवार शामिल हैं।

    वाराणसी में बनारसी साड़ी कहां से खरीद सकते हैं? भारत के अन्य हिस्सों में?

    बनारसी साड़ी वाराणसी और उसके आसपास के समूहों में बनाई जाती है, ताकि शहर और राज्य के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के साथ-साथ शेष भारत में भी दुकानों की कमी न हो। हालाँकि महंगे रेशम की किस्में उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण शहरों और कस्बों तक सीमित हो सकती हैं। शेष भारत के सभी महानगरों, बड़े शहरों और कस्बों में भी बड़ी दुकानों में बेचने के लिए बनारसी साड़ियाँ मौजूद होंगी।

    बनारसी साड़ियों को बेचने वाली ऑनलाइन वेबसाइटों के बारे में क्या?

    बहुत सारी वेबसाइटें हैं जो बनारसी साड़ियों की ऑनलाइन बिक्री करती हैं लेकिन किसी को यह आश्वासन नहीं दिया जा सकता है कि आप असली बनारसी साड़ी या साड़ी खरीद रहे हैं जिसकी कीमत आप चुका रहे हैं। इसलिए हमेशा उन लोगों से पूछना बेहतर होता है, जिन्हें महंगी साड़ियों खासकर भारी सिल्क्स के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का अनुभव रहा हो या ऑर्डर देने के निर्णय पर आने से पहले वेबसाइट्स की अच्छी तरह से जांच कर लेते हों।

    क्या Unnati Silks एक विश्वसनीय वेबसाइट है?

    1980 के बाद से वस्त्रों के साथ चार दशकों के जुड़ाव के साथ, विशेष रूप से हैंडलूम कपड़ों में, उन्नावती सिल्क्स ने महिलाओं के परिधान - साड़ी, सलवार कमीज, कुर्ते, कुर्तियां, इंडो वेस्टर्न परिधान और कपड़ों के लिए एक विश्वसनीय वेबसाइट होने की प्रतिष्ठा अर्जित की है। अलग-अलग भुगतान विकल्पों के साथ, थोक और खुदरा क्षेत्र में आकर्षक मूल्य निर्धारण, भारत में मुफ्त शिपिंग, प्रतिष्ठित कोरियर और बिक्री सेवा के बाद, Unnati Silks 65 से अधिक देशों में विदेशों में भी ग्राहकों की सेवा करने में सफल रही है।

    Unnati Silks ने अपने बनारसी संग्रह के माध्यम से क्या पेशकश की है?

    Unnati Silks में बनारसी संग्रह विविध और विशाल दोनों है।

    फ्यूजन किस्मों के साथ डिजाइनर बनारसी सिल्क साड़ियों ने हमेशा बाजार में दिलचस्पी बनाए रखी है। बनारसी सिसिली मेस्मेरिक पैटर्न के साथ हैं और मंत्रमुग्ध करने वाले रंगों में आंखों को पकड़ने वाले रूपांकनों के साथ आकर्षक पैच बॉर्डर हैं। बहुत सारे जामदानी काम और आकर्षक बूटियों के साथ तेजस्वी बनारसी जामदानी कटान रेशम साड़ी में जबरदस्त अपील है।

    बनारसी पटोला सिल्क्स और बनारसी जॉर्जेट की साड़ियाँ खूबसूरत आम बूटियों से सुशोभित हैं, ब्रोकेड बनारसी क्रेप सिल्क की साड़ी, बनारसी तुषार की सिल्क्स और नीयन में सुपर्नेट्स, बनारसी ऑर्गेनाज़ की सिल्क्स, जो कि ज़री, और बनारसी, आई-बूट्स और रिच बॉर्डर से सुशोभित हैं। जॉर्जट सिल्क्स के साथ-साथ जेकक्वार्ड आर्ट सिल्क में डिजाइनर विविधता ने एक ही छत के नीचे बनारसी किस्म का एक अद्भुत और आकर्षक पहनावा - "बनारसी" आकर्षित किया।

    बनारसी साड़ी के साथ बनारसी साड़ी ब्लाउज के डिजाइन को क्या पहनना है?

    बनारसी जॉर्जेट साड़ी ब्लाउज के साथ सुनहरे रंग या विषम रंग और भारी काम वाले ब्लाउज के साथ अद्भुत लगती है। लुक शाही और भारी है। फुल स्लीव्स या एल्बो लेंथ वाली क्यूट सी एम्ब्रायडरी, या नेट स्लीव्स वाली नेट साड़ियों को कई महिलाओं द्वारा पसंद किया जाता है।

    बनारसी रेशम की साड़ी धोने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

    महँगी साड़ियों के लिए ड्राई क्लीनिंग सबसे अच्छा विकल्प है जिसकी एक्सेसरी बहुत काम आती है। हालाँकि जो लोग इसे स्वयं साफ करना चाहते हैं, उनके लिए आपको कुछ समय निकालना होगा। साड़ी को सादे पानी में हल्का डिटर्जेंट डालकर कुछ मिनटों के लिए हल्के ब्रश करने से पहले इसे अच्छी तरह से साफ कर लें। चूँकि पल्लू का इस पर बहुत विशेष काम है, इसलिए इसे सावधानी से करना होगा।

    क्या आप लाल रंग के लिए आंशिक हैं?

    लाल बनारसी रेशम के लिए एक बहुत लोकप्रिय रंग है और आमतौर पर सुबह की शादियों के लिए दुल्हन के रूप में पसंद किया जाता है, जबकि कम रोशनी वाले रंगों को सूर्यास्त के बाद होने वाली शादियों के लिए पसंद किया जाता है। ये बनारसी शुद्ध रेशमी साड़ियाँ भी चमकीले रंगों जैसे पीच, क्रीम, पाउडर ब्लू, पेस्टल शेड्स, लाइम या मिंट ग्रीन, हल्के गुलाबी रंग में आती हैं जो दिन के अवसरों के लिए सर्वोत्तम हैं।

    लोग जानना चाहेंगे कि बनारसी साड़ी कैसे पहनें, लेहेंगा शैली में, बंगाली शादी में या उस मामले में किसी भी शादी समारोह के लिए। मैं अपनी बनारसी साड़ी को पहनने और पहनने के तरीके और विभिन्न शैलियों को कैसे सीख सकता हूं, ताकि मैं एक फोटोशूट में अपील करूं?

    यह एक लंबा विषय है जिसे शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है। यह सबसे अच्छा आप ट्यूब पर डेमो वीडियो के माध्यम से सीखा है। हम कुछ चैनल जैसे सुझाव देते हैं

    • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY विभिन्न शैलियों में बनारसी साड़ी कैसे पहनें,
    • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 इसे Lehenga स्टाइल में पहनने के लिए,
    • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ बंगाली शादी की शैली में पहनने के लिए।

    लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि यह इस तक सीमित नहीं है और विभिन्न स्टाइलिंग विशेषज्ञों द्वारा बहुत सारे वीडियो हैं जिन्होंने बनारसी साड़ी को ड्रेप किया जा सकता है।