Express Free Shipping In India | Worldwide above Rs.20000

Banarasi|Ikat|Painted|Bandhani|Block Prints

Filter

1 Item

Set Descending Direction

1 Item

Set Descending Direction

Ikat or Ikkat – A mind-boggling craft involving planning and precision to perfection

Beautiful fabrics last; synthetics don't. Certain fabrics, develop their own character over time.

This is precisely what one would say about the Pochampally saree, a fabric that traditionally evolved as one of the finest handloom offerings of South India. Who has not heard of Pochampally? A small village in Nalgonda District, Telangana, from where Vinobha Bhave had started his Bhoodan Movement across India. Today it is the home to some of the finest fabrics in silk and cotton, in both single and double ikat. The double ikat of Pochampally is a specialty weave that involves effort and intricacies to ultimately yield unique and classy outcomes.

Ikkat is a dyeing technique involving the application of dye resistant bindings in a pre-determined pattern prior to the colouring of threads. The resulting creation would expectedly surface in a lyrical colour extravaganza of finesse and precision.
  • The Ikat technique allows the weaver to prepare precisely the pattern of colors on the finished fabric by wrapping sections of the yarn with rubber strips before dipping it in select dyes. The rubber strips used for tying are a modern innovation replacing the traditional method of tying with coarse cotton thread.
  • Bindings or substances resisting dye penetration are applied over the fibres in pre-determined patterns and then the threads are dyed.
  • Alteration of bindings and using more than one colour for dyeing produces multi-coloured thread effect.
  • Removal of bindings after the dyeing process and subsequent weaving of the threads would form the desired pattern woven in the fabric. More the precision in the application of the resist bindings, finer would be the pattern formed.
  • Ikat or ikkat is classified into single-ikkat and double-ikat styles.
  • Single Ikat fabrics are created by interweaving tied and dyed warp with plain weft, or resisted weft yarns are inserted in plain weft.
  • Double ikat involves the process of resisting on both warp and weft and then interlacing them to form intricate yet well composed patterns.
  • In warp ikat the dyeing of the threads would be of the warp (lengthwise lay of threads) across which the plain weft (breadth wise feed of thread across the warp) is led through.
  • In weft ikat it would be vice versa.
  • In double ikat both warp threads and weft threads would be dyed separately and then woven together.
  • It may be noted that in warp ikat the patterns are evident on the warp lay even before the weft is introduced. Ikat created by dyeing the warp is simple as compared to the making of either weft ikat or double ikat.
  • Patterns can be formed vertically, horizontally or diagonally.
  • Weft ikat is preferred when it is the overall picture that is important, not the precision of the patterns. Double ikkat is even rarer and an example is the Patan Patola of Gujarat. Lesser accurate or poor imitation double ikkat versions are available in the market.
  • The artistic excellence of ikat prints can be gauged from its traditional motifs of flowers, dancing girl, creepers, leafs, parrot, animals, birds, mythological characters and geometrical patterns. Most of the ikkat printed sarees have repeated geometrical patterns of diamonds, circles, squares, lines etc.
    Pochampally in Andhra Pradesh and Rajkot Patola weave of Gujarat are famous for their individual brand of ikkat sarees. Ikkat prints` are trending and high fashion on a variety of fabrics like pure cotton, pure silk, georgette, crepe and supernet, to mention some. The Odisha Sambalpuri and Bomkai Handlooms have their own versions fairly similar but with nuances while the North East Assam and Meghalaya Handlooms sport their own kind.
    No! Ikat is a near universal weaving style common to many world cultures. Likely, it is one of the oldest forms of textile decoration. India, Japan and many South-East Asian nations have weaving cultures with long histories of Ikat production.

    Let us see the processes of the three types of ikat to get a good understanding of the differences.

    Warp ikat
  • First the yarn is tied in bundles. The yarn could be silk, cotton, jute or any other fibre chosen as base material.
  • The resist bindings in the form of wax or any other dye resistant material, is then applied over the yarn. The dye is applied carefully and systematically and according to the desired shade.
  • The procedure of application of resist bindings afresh for different colours is repeated till the dyeing process of all colours used is complete.
  • Washed and dried in shade, the coloured threads are laid out on the loom and the weft on small spindles is used to interweave along the warp threads to create the fabric.
  • Important is the pattern that has to surface accurately on the warp for which the alignment of the warp threads is a pre-requisite. If the alignment is precise, the resulting motif comes out as a fine print rather than as a weave.
  • The skill lies in the weaver acting essentially as a selective heddle who selectively manually picks up warp threads before passing the shuttle through the resultant "mini- shed".
  • Patterns result from a combination of the warp dye and the weft thread colour. Commonly vertical-axis reflection or "mirror-image" symmetry is used to provide symmetry to the pattern- more simply: whatever pattern or design is woven on the right, is duplicated on the left in reverse order, or at regular intervals, about a central warp thread group.
  • Patterns can be created in the vertical, horizontal or diagonal.
  • Weft ikat
  • Weft ikat uses resist-dye for the weft alone. The variance in colour of the weft means precisely delineated patterns are more difficult to weave. As the weft is commonly a continuous strand, aberrations or variation in colouration are cumulative.
  • Weft ikat are commonly employed where pattern precision is of less aesthetic concern than the overall resultant fabric. Some patterns become transformed by the weaving process into irregular and erratic designs.
  • In weft ikat it is the weaving or weft thread that carries the dyed patterns which only appear as the weaving proceeds. In weft ikat the weaving proceeds much slower than in warp ikat as the passes of the weft must be carefully adjusted to maintain the clarity of the patterns.
  • Double ikat
  • Double Ikat is a technique in which both warp and the weft are resist-dyed prior to stringing on the loom.
  • Double Ikat is created by tying both the warp and weft prior to weaving. This form of weaving requires the most skill for precise patterns to be woven and is considered the premiere form of ikat.
  • The amount of labour and skill required also make it the most expensive, and many poor quality imitations flood the tourist markets.
  • Double ikat is only produced in three countries, India, Japan and Indonesia.
  •  
  • The double ikat of India is predominantly woven in Gujarat and is called patola. Indian and Indonesian examples typify highly precise double ikat.
  • Especially prized are the double ikats woven in silk known in India and Indonesia as patola. These were typically from Gujarat (Cambay) and used as prestigious trade cloths during the peak of the spice trade.
  • Pochampally Saree, a variety from a small village in Nalgonda district, Andhra Pradesh, India is known for its exquisite silk sarees woven in the double Ikat “tie and dye” style.
  • The Asu process is a pre-cursor to the actual ikat process. Before the weaving is done, a manual process of winding of yarn called Asu needs to be performed. This process takes up to 5 hours per saree and is usually done by the womenfolk, who suffer tremendous physical strain due to constantly moving their hand back and forth over 9000 times for each saree. In 1999, a young weaver C Mallesham developed a machine which automated the Asu process, thus developing a painless technological solution for a decade-old unsolved problem.
  • The double Ikat of Patan is a marvel that unfolds as magic.The silken feel of an elaborately intensive hand woven depiction of flora fauna, stylized elephants, motifs of flowers, jewels and abstracted geometrical patterns along with frolicking maidens dancing on the borders of the sari; all lauding the most beautiful textile craft form the world has ever known. This is the double Ikat craft form as practiced in Patan, a district in North Gujarat.
  • Even before the weave is begun, trhe mind has already visualized the pattern that is going to unfold. The word Patola to the connoisseur conjures up an image of the absolute finest in silk hand woven textile, a skill intensive labor of love involving the mysterious bond of creativity between the weaver and the very silken strands of threads that eventually germinate into a luxurious sari worth loosing a kingdom for.
  • Patola, the woven fabric of a coarser variety was the prime element of export to Southeast Asia and the Dutch Indies. So engrained was the Patola as a ritualistic and royal symbol in the Malayan archipelago that it was called Mengikat there, a title later shortened by the Indonesians to Ikat which became the internationally accepted nomenclature for this weave form.
  • The origins of the Patola can be traced back to Gujarat’s Solanki royal family who invited weavers from Jalna, now in the state of Maharashtra to settle in Patan and explore the full potential of the weave construction. Here changes were also made on the existing looms requiring two people to operate it and the creativity of the Patola incorporated Gujarati sensibilities and design variations.
  • It borrowed heavily from the geometrical yantric configurations of Solanki architecture such as the Udaymati Vav at Patan. Today, the Salvi family at Patan has kept alive the double ikat sheer poetry of the intermingling warp and weft of silken music that is the Patolu of covetous desire.
  • The history, skill and aura created by this amazing creation in silk has made it an item worth the wait as each sari is an individual work of art taking anything between three to six months to complete.
  • Telia Rumal is from ‘tel’ meaning oil that relates to the natural alizarin dye process, requiring an extensive oil treatment and ‘rumal’ is the square or kerchief or the 1 m sq of fine cotton. The original meaning of rumal in Persian is ‘face-wiping’ that refers to its local use as a ritual cloth with which Hindu images were cleaned, as well as to the everyday use. The Telia Rumal began to be valued for its oil-treatment, rendered due to alizarin dyes. The dye helped to keep the head cool, warded off dust and softened with every wash.
  • Thousands of such cloths were exported under the trade mark 'Asia-Rumal' to the Middle East, countries in the Persian Gulf, to Aden and further on to East Africa. Chirala was the hub for the Telia Rumal.
  • But because the increasing overseas demand had to be met, practitioners from Chirala trained weavers from Nalagonda in the newly formed Telangana state to meet the requirements. However, after Independence, these secondary centres gradually flourished into individual centres of Telia Rumal production. It was because of the double ikat style of Chirala that the Telia Rumal became famous.
  • Though practiced in several countries of the world, it is the single ikat that is popularly practiced. India has the rare distinction of pursuing with the double Ikat till date. Only two other Asian countries Japan and Indonesia have also continued double Ikat.
  • There is evidence of ikat textiles being used in India since a long time found in the wall-paintings at Ajanta in the Deccan that dates back from the fifth to seventh century. This spread towards coastal Andhra Pradesh and Orissa, where it evolved during the twentieth century.
  • At present, the ikat technique in India is commonly practiced in 3 regions of India. In Gujarat, it is known as Patola, In Odisha it is called Bandha and it is Pagdu Bandhu, Buddavasi and Chitki in Telangana. Of the three Telangana is the most prolific in producing Ikat textiles in India. The cluster producing Ikat textiles lies in Nalagonda district quite close to the capital Hyderabad with Pochampally being the most popular.
  • One or the other of the different varieties in ikat are available on many websites online. But Unnati Silks is one of the few websites that has ikat of all the varieties in India available with it, both at stores in Hyderabad and online. You could buy pochampally single and double ikat handloom cotton patola sarees and cotton silk sarees when doing online shopping in India wholesale or retail at very attractively low prices.
    On the net there are innumerable sites that provide information on ikat sarees – in more or less detail. But the world over there is one reliable source – Wikipedia. It provides quite detailed information on the origin, elucidates on the history. Getting more information on the subject could be possible only from the blogs which devote themselves to a topic, prominent websites like Unnati Silks, or the manufacturer’s website or Facebook page.
    Besides the Ikkat cotton silk sarees, one gets to see a range of pure ikkat soft silk pattu sarees with kanchi border and latest blouse designs, pure handloom silk double ikkat sarees, ikkat sarees in pattu silk, ikat linen sarees, ikat designer print sarees, ikat half sarees, ikat kalamkari sarees, ikat tissue sarees etc. in the three ikat specialist regions – Pochampally, Sambalpur, Rajkot, each providing its variant or variety of ikat in single and double ikat. Alongside one also gets to see lovely maggam work blouses for ikkat sarees, mercerized cotton sarees etc. which further arouse interest.

    Normally ikat comes out very well on cotton sarees. But There is however a new lot of Pochampally handloom silk ikat sarees brought out from Unnati Silks.

  • Pochampally Ikat Kupadam Silk Cotton Pattu Saree
  • Pure Handloom Pochampally Ikat Silk Saree
  • The interlock weft technique is known as Kupadam. The Pochampally ikat silk saree is a cotton field with pure silk, zari border and pallu. The fine cotton field is woven separately, with the Pallu made of pure silk. The procedure involves sections of the warp and weft tied first and then resist-dyed to achieve a pre-fixed design pattern. This is then interlaced to get the perfect Pochampally Ikat.
  • For a start the ikat border with some motif continuously along its length is the prime attraction. The ikat, having a large width is split into two equal sections by a lovely medium width golden zari piece running the length of the border.
  • The choice of the plain body is simply neon or vibrant. When you have colors like bright yellow, blue, green as the body color the effect is like a lightning bolt. If there were golden zari striations then the effect is heightened further.
  • Exploring the other features we find the ikat saree handwoven and handcrafted, the pallu is a designer affair with added allure from the tasseled end portion in multi-color threads. The Handloom Mark lends its legal weight certifying it as a genuine Handloom product.
  • Here too there is lot of vibrancy in the chosen colors of yellow, blue, green but with the sheen of pure silk.
  • There is a deep golden zari border running all along its length on the outer, whereas on its inner border is the lovely colorful ikat with its motifs of flora and fauna.
  • An added attraction is the innermost border next to the ikat one that has the popular temple design throughout the length. The Pallu has a different color compared to that of the body, and there are light golden zari bands along its width. The body has the checks pattern in sizes big and small.
  • Both the pure silk and silk cotton versions are lovely in the sense that they lighten up the environs. If the wearer were to wear a good plain contrasting blouse with semi circular neck and three fourth sleeve format and suitable accessories the effect could be devastating.
  • The ikat is popular across the world today and there are very many online websites that would be having some or the other of what you ask. Plus although most deal in retail, wholesale is handled by much fewer. However I can safely say that all that you ask for would be available at Unnati Silks online, wholesale and retail at prices extremely attractive for the genuine handlooms that are served.
    The answer to both is Unnati Silks. Unnati Silks has two offline stores in Hyderabad which one could personally visit and explore the vast range in Ikat handloom sarees. Unnati Silks with its range and variety of all sorts of fabrics especially sarees and salwar kameez has been associated with handlooms since 1980 and has varieties from 21 plus states of India.
    Prices are subject to the city where it is sold, closer to the source it is, one can expect it to be comparatively cheaper than in one more distant. But within the city itself the difference in selling price would vary greatly based on the locality, size of the shop and clientele interested in that variety among other factors. Browse images of ikkat sarees with prices in any of such cities on relevant websites before you buy ikkat sarees wholesale from Bangalore or any of the other cities just to be on the safe side.
    You could get Pochampally single and double ikkat silk and cotton sarees online wholesale with price according to the complexity of ikat design, adornments, and other relevant factors which would then cause the saree price to automatically fall into the price ranges that you mention.
    Buy cotton silk ikkat sarees with designer blouse designs online. You could also try searching blouse designs for latest pochampally ikkat silk sarees. Attempt online shopping for ikkat half sarees sico pattu sarees with designs, along with ikkat uppada handloom pattu silk and cotton half sarees with matching ikkat blouse. These could be at attractive prices at which one would not hesitate to buy online.
    इकत एक रंगाई तकनीक है जिसमें धागे के रंग से पहले पूर्व-निर्धारित पैटर्न में डाई प्रतिरोधी बाइंडिंग के आवेदन शामिल हैं। परिणामस्वरूप निर्माण चालाकी और परिशुद्धता के एक गेय रंग असाधारण में सतह की उम्मीद होगी।
  • आइकैट तकनीक बुनकर को चुनिंदा रंगों में डुबाने से पहले यार्न के वर्गों को रबर स्ट्रिप्स के साथ लपेटकर तैयार कपड़े पर रंगों के पैटर्न को ठीक से तैयार करने की अनुमति देती है। बांधने के लिए उपयोग की जाने वाली रबर स्ट्रिप्स मोटे कपास धागे के साथ बांधने की पारंपरिक विधि की जगह एक आधुनिक नवाचार है।
  • डाई पैठ का विरोध करने वाले बाइंडिंग या पदार्थ पूर्व निर्धारित पैटर्न में तंतुओं पर लगाए जाते हैं और फिर धागे रंगे जाते हैं।
  • बाइंडिंग का परिवर्तन और रंगाई के लिए एक से अधिक रंगों का उपयोग करने से बहु-रंगीन थ्रेड प्रभाव पैदा होता है।
  • रंगाई प्रक्रिया के बाद बाइंडिंग को हटाने और बाद में धागे की बुनाई से कपड़े में बुना हुआ वांछित पैटर्न बन जाएगा। प्रतिरोध बाइंडिंग के आवेदन में अधिक सटीकता, महीन पैटर्न का निर्माण होगा।
  • इकत या इकत को एकल-इकत और दोहरे-इकत शैलियों में वर्गीकृत किया गया है।
  • सिंगल आईकैट कपड़े सादे बाने के साथ बंधे और रंगे हुए ताना को गूंथकर बनाए जाते हैं, या बाने के यार्न को सादे बाने में डाला जाता है।
  • डबल इकत में ताना और मातम दोनों का विरोध करने की प्रक्रिया शामिल है और फिर उन्हें जटिल रूप से अच्छी तरह से बनाए गए पैटर्न बनाने के लिए इंटरलाकिंग किया जाता है।
  • ताना ikat में धागों की रंगाई ताना (धागे की लंबाई के आधार पर) होती है, जिसके पार सादे बाने (ताना के पार धागे की चौड़ाई वाली बुद्धिमान फ़ीड) का नेतृत्व किया जाता है।
  • निराई में यह इसके विपरीत होगा।
  • डबल इकत में दोनों ताना धागे और बाने धागे अलग-अलग रंगे जाते और फिर एक साथ बुने जाते। यह ध्यान दिया जा सकता है कि ताना ikat में ताना शुरू होने से पहले भी ताना पर रखे गए पैटर्न स्पष्ट हैं। ताना को रंगना द्वारा बनाया गया इकत सरल रूप से या तो ikat या डबल ikat बनाने की तुलना में है।
  • पैटर्न लंबवत, क्षैतिज या तिरछे रूप से बनाए जा सकते हैं।
  • जब यह समग्र चित्र है, जो महत्वपूर्ण है, तो वेट ikat पसंद किया जाता है, न कि पैटर्न की सटीकता। डबल इकत भी दुर्लभ है और एक उदाहरण गुजरात का पाटन पटोला है। बाजार में कम सटीक या खराब नकल दोहरे ikkat संस्करण उपलब्ध हैं।
  • Ikat प्रिंट की कलात्मक उत्कृष्टता को फूलों, नृत्य करने वाली लड़की, लता, लीफ्स, तोता, जानवरों, पक्षियों, पौराणिक पात्रों और ज्यामितीय पैटर्न के अपने पारंपरिक रूपांकनों से देखा जा सकता है। अधिकांश इकत प्रिंट वाली साड़ियों में हीरे, हलकों, चौकों, रेखाओं आदि के ज्यामितीय पैटर्न दोहराए गए हैं।
    आंध्र प्रदेश के पोचमपल्ली और गुजरात के राजकोट पटोला बुनाई अपने व्यक्तिगत ब्रांड ikkat साड़ियों के लिए प्रसिद्ध हैं। Ikkat प्रिंट`ट्रेंडिंग और उच्च फैशन जैसे कि विभिन्न कपास, शुद्ध रेशम, जॉर्जेट, क्रेप और सुपरनैट जैसे कुछ का उल्लेख करने के लिए हैं। ओडिशा संबलपुरी और बोम्काई हैंडलूम के अपने संस्करण काफी हद तक समान हैं, लेकिन बारीकियों के साथ, जबकि उत्तर पूर्व असम और मेघालय हैंडलूम अपनी तरह का खेल करते हैं।
    नहीं न! इकत कई विश्व संस्कृतियों के लिए एक सामान्य सार्वभौमिक बुनाई शैली है। संभवतः, यह कपड़ा सजावट के सबसे पुराने रूपों में से एक है। भारत, जापान और कई दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों में इकत उत्पादन के लंबे इतिहास के साथ संस्कृतियों की बुनाई होती है।

    आइए मतभेदों की अच्छी समझ पाने के लिए तीन प्रकार के इकत की प्रक्रियाओं को देखें।

    ताना ikat
  • पहले सूत को बंडलों में बांधा जाता है। यार्न रेशम, कपास, जूट या किसी अन्य फाइबर को आधार सामग्री के रूप में चुना जा सकता है।
  • मोम या किसी अन्य डाई प्रतिरोधी सामग्री के रूप में प्रतिरोध बाइंडिंग, फिर यार्न पर लगाया जाता है। डाई को सावधानीपूर्वक और व्यवस्थित रूप से और वांछित छाया के अनुसार लागू किया जाता है।
  • विभिन्न रंगों के लिए नए सिरे से प्रतिरोध बाइंडिंग के आवेदन की प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक उपयोग किए गए सभी रंगों की रंगाई प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती।
  • धोया और छाया में सुखाया जाता है, रंगीन धागे को करघे पर बिछाया जाता है और कपड़े को बनाने के लिए छोटे धागों पर कपड़ा बुनने के काम आता है।
  • महत्वपूर्ण वह पैटर्न है जिसे ताना पर सटीक रूप से सतह पर रखना है जिसके लिए ताना धागे का संरेखण एक पूर्व-आवश्यकता है। यदि संरेखण सटीक है, तो परिणामस्वरूप आकृति एक बुनाई के बजाय एक ठीक प्रिंट के रूप में सामने आती है।
  • कौशल बुनकर अभिनय में अनिवार्य रूप से एक चयनात्मक बाधा के रूप में निहित है जो चुनिंदा मैन्युअल रूप से परिणामी "मिनी शेड" के माध्यम से शटल को पारित करने से पहले ताना धागे उठाता है।
  • पैटर्न का परिणाम ताना डाई और अजीब धागे के रंग के संयोजन से होता है। आमतौर पर ऊर्ध्वाधर-अक्ष परावर्तन या "मिरर-इमेज" समरूपता का उपयोग पैटर्न को समरूपता प्रदान करने के लिए किया जाता है- और अधिक सरलता से: जो भी पैटर्न या डिज़ाइन दाईं ओर बुना जाता है, उसे रिवर्स ऑर्डर में बाईं ओर या नियमित अंतराल पर दोहराया जाता है, एक के बारे में केंद्रीय ताना धागा समूह।
  • पैटर्न ऊर्ध्वाधर, क्षैतिज या विकर्ण में बनाया जा सकता है।
  • कपड़ा इकत

  • वेफ्ट इकत अकेले वेट के लिए प्रतिरोध-डाई का उपयोग करता है। बाने के रंग में विचरण का अर्थ है सटीक रूप से चित्रित पैटर्न बुनाई के लिए अधिक कठिन हैं। के रूप में कपड़ा आमतौर पर एक निरंतर किनारा है, कोलोराशन में विपथन या भिन्नता संचयी हैं।
  • वेफ्ट इकाट आमतौर पर नियोजित होते हैं जहां पैटर्न परिशुद्धता समग्र परिणामी कपड़े की तुलना में कम सौंदर्य संबंधी चिंता है। कुछ पैटर्न बुनाई प्रक्रिया द्वारा अनियमित और अनियमित डिजाइन में बदल जाते हैं।
  • कपड़ा ikat में यह बुनाई या बाने का धागा होता है जो रंगे हुए पैटर्न को उकेरता है जो केवल बुनाई के कार्य के रूप में दिखाई देता है। बाने ikat में बुनाई ताना ikat की तुलना में बहुत धीमी गति से आगे बढ़ती है क्योंकि बाने के पास को पैटर्न की स्पष्टता बनाए रखने के लिए सावधानीपूर्वक समायोजित किया जाना चाहिए।
  • डबल इकत

  • डबल आईकैट एक ऐसी तकनीक है जिसमें करघा से बाहर निकलने से पहले ताना और बछड़ा दोनों का इस्तेमाल किया जाता है।
  • डबल इकत ताना-बाना बुनने से पहले दोनों को बांधकर बनाया जाता है। बुनाई के इस रूप में सटीक पैटर्न को बुना जाने के लिए सबसे अधिक कौशल की आवश्यकता होती है और इसे इकत का प्रमुख रूप माना जाता है।
  • आवश्यक श्रम और कौशल की मात्रा भी इसे सबसे महंगी बनाती है, और कई खराब गुणवत्ता वाले नकली पर्यटक बाजारों में बाढ़ लाते हैं।
  • डबल इकत केवल तीन देशों, भारत, जापान और इंडोनेशिया में निर्मित होता है।
  • भारत का दोहरा इकत मुख्य रूप से गुजरात में बुना जाता है और इसे पटोला कहा जाता है। भारतीय और इंडोनेशियाई उदाहरण अत्यधिक सटीक डबल इकत टाइप करते हैं।
  • विशेष रूप से बेशकीमती रेशम के रूप में भारत और इंडोनेशिया में ज्ञात रेशम में बुना जाने वाला दोहरा इकतारा है। ये आम तौर पर गुजरात (कैम्बे) से होते थे और मसाले के व्यापार के चरम के दौरान प्रतिष्ठित व्यापार कपड़ा के रूप में उपयोग किया जाता था।
  • पोचमपल्ली साड़ी, भारत के आंध्र प्रदेश के नलगोंडा जिले के एक छोटे से गाँव की एक किस्म है, जो अपनी बेहतरीन रेशम साड़ियों के लिए जाना जाता है, जिसे डबल इकत "टाई और डाई" शैली में बुना जाता है।
  • Asu प्रक्रिया वास्तविक ikat प्रक्रिया का पूर्व-कर्सर है। बुनाई पूरी होने से पहले, असू नामक यार्न के घुमावदार की एक मैन्युअल प्रक्रिया को निष्पादित करने की आवश्यकता होती है। यह प्रक्रिया प्रति साड़ी 5 घंटे तक चलती है और आमतौर पर महिलाओं द्वारा की जाती है, जो प्रत्येक साड़ी के लिए 9000 से अधिक बार लगातार अपने हाथ को आगे-पीछे करने के कारण जबरदस्त शारीरिक तनाव झेलती हैं।
  • 1999 में, एक युवा बुनकर सी मल्लेशम ने एक मशीन विकसित की, जो आसू प्रक्रिया को स्वचालित करती है, इस प्रकार एक दशक पुरानी अनसुलझी समस्या के लिए दर्द रहित तकनीकी समाधान विकसित कर रही है।
  • पाटन का दोहरा इकत एक चमत्कार है जो जादू के रूप में सामने आता है। वनस्पति के जीवों के लिए एक विस्तृत गहन हाथ से बुने हुए चित्रण, शैलीबद्ध हाथी, फूलों के रूपांकनों, गहने और अमूर्त ज्यामितीय पैटर्न के साथ-साथ साड़ी की सीमाओं पर नाचते हुए युवतियों के नृत्य का सिलसिला महसूस होता है। ; सभी ने सबसे सुंदर कपड़ा शिल्प के रूप में दुनिया को जाना है। यह उत्तरी गुजरात के एक जिले पाटन में प्रचलित दोहरे इकत शिल्प रूप है।
  • बुनाई शुरू होने से पहले ही, trhe mind ने पहले से ही उस पैटर्न की कल्पना कर ली है जो प्रकट होने वाला है। पटोला शब्द पारखी के लिए रेशम के हाथ से बुने हुए वस्त्र में पूरी तरह से एक बेहतरीन छवि पेश करता है, जिसमें बुनकरों के बीच रचनात्मकता का रहस्यमय बंधन और अंत में एक आलीशान साड़ी के रूप में अंकुरित धागों के बीच रचनात्मक बंधन से जुड़े प्रेम का कौशल है। के लिए एक राज्य खो रहा है।
  • पटोला, एक मोटे किस्म का बुने हुए कपड़े, दक्षिण पूर्व एशिया और डच इंडीज को निर्यात का मुख्य तत्व था। तो यह पता चलता है कि मलायन द्वीपसमूह में एक अनुष्ठानिक और शाही प्रतीक के रूप में पटोला था कि इसे मेंगीकैट कहा जाता था, बाद में इंडोनेशियाई लोगों द्वारा इकत को छोटा किया गया एक शीर्षक था जो इस बुनाई रूप के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकार किए गए नामकरण बन गया।
  • पटोला की उत्पत्ति का पता गुजरात के सोलंकी शाही परिवार से लगाया जा सकता है, जिन्होंने जालना से बुनकरों को आमंत्रित किया था, जो अब महाराष्ट्र राज्य में पाटन में बसते हैं और बुनाई निर्माण की पूरी क्षमता का पता लगाते हैं। यहां मौजूदा करघों पर भी बदलाव किए गए थे, जिसमें दो लोगों को इसे संचालित करने की आवश्यकता थी और पटोला की रचनात्मकता ने गुजराती संवेदनाओं और डिजाइन विविधताओं को शामिल किया।
  • इसने पाटन स्थित उदयमती वाव जैसे सोलंकी स्थापत्य के ज्यामितीय यन्त्र विन्यास से भारी उधार लिया। आज, पाटन में सालवी परिवार ने मधुर संगीत की मधुर संगीत की मधुर इच्छा के पटकथा की गूंज और दुपट्टे की दोहरी इकत कविता को जीवित रखा है।
  • रेशम में इस अद्भुत रचना द्वारा बनाए गए इतिहास, कौशल और आभा ने इसे प्रतीक्षा के लायक बना दिया है क्योंकि प्रत्येक साड़ी कला का एक व्यक्तिगत काम है जिसे पूरा करने के लिए तीन से छह महीने के बीच कुछ भी लेना पड़ता है।
  • तेलिया रूमाल 'टेल' अर्थ तेल से है जो प्राकृतिक एलिज़रीन डाई प्रक्रिया से संबंधित है, जिसके लिए एक व्यापक तेल उपचार की आवश्यकता होती है और 'रुमाल' चौकोर या केर्च या महीन कपास का 1 वर्ग वर्ग होता है। फ़ारसी में अफवाह का मूल अर्थ 'फेस-वाइपिंग' है जो अपने स्थानीय उपयोग को एक अनुष्ठान कपड़े के रूप में संदर्भित करता है जिसके साथ हिंदू छवियों को साफ किया गया था, साथ ही रोजमर्रा के उपयोग के लिए भी। तेलिया रुमाल को इसके तेल-उपचार के लिए महत्व दिया जाने लगा, जो कि एलिज़रीन रंगों के कारण प्रदान किया गया। डाई ने सिर को ठंडा रखने में मदद की, धूल से वार्ड किया और हर धोने के साथ नरम किया।
  • इस तरह के हजारों कपड़े मध्य पूर्व में व्यापार चिह्न 'एशिया-रूमाल', फारस की खाड़ी के देशों, एडेन और आगे के पूर्वी अफ्रीका में निर्यात किए गए थे। चिराला तेलिया रूमाल का केंद्र था।
  • लेकिन क्योंकि विदेशों में बढ़ती मांग को पूरा किया जाना था, चिराला के चिकित्सकों ने आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नवगठित तेलंगाना राज्य में नलगोंडा के बुनकरों को प्रशिक्षित किया। हालांकि, स्वतंत्रता के बाद, ये माध्यमिक केंद्र धीरे-धीरे तेलिया रूमाल उत्पादन के व्यक्तिगत केंद्रों में विकसित हुए। चिरला की दोहरी इकत शैली के कारण यह तेलिया रूमाल प्रसिद्ध हुआ।
  • हालांकि दुनिया के कई देशों में इसका प्रचलन है, लेकिन यह एकल इकत है जो लोकप्रिय रूप से प्रचलित है। भारत को आज तक दोहरे इकत के साथ पीछा करने का दुर्लभ गौरव प्राप्त है। केवल दो अन्य एशियाई देशों जापान और इंडोनेशिया ने भी डबल इकत जारी रखा है।
  • दक्खन में अजंता में दीवार-चित्रों में पाए जाने वाले लंबे समय से पांचवीं से सातवीं शताब्दी के बाद के भारत में इकत वस्त्रों का प्रमाण मिलता है। यह तटीय आंध्र प्रदेश और उड़ीसा की ओर फैल गया, जहां यह बीसवीं शताब्दी के दौरान विकसित हुआ।
  • वर्तमान में, भारत में ikat तकनीक आमतौर पर भारत के 3 क्षेत्रों में प्रचलित है। गुजरात में, इसे पटोला के रूप में जाना जाता है, ओडिशा में इसे बांधा कहा जाता है और यह तेलंगाना में पगडू बंधु, बुद्धवासी और चित्की है। तीनों में से तेलंगाना भारत में इकत टेक्सटाइल के उत्पादन में सबसे अधिक है। इकत वस्त्रों का उत्पादन करने वाला क्लस्टर नलगोंडा जिले में स्थित है जो राजधानी हैदराबाद के काफी करीब है जिसमें पोचमपल्ली सबसे लोकप्रिय है।
  • Ikat में विभिन्न किस्मों में से एक या कई ऑनलाइन वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। परंतु Unnati Silks उन कुछ वेबसाइटों में से एक है, जिनके पास भारत में सभी किस्मों के ikat उपलब्ध हैं और यह हैदराबाद और ऑनलाइन दोनों स्टोरों में उपलब्ध है। जब आप भारत में थोक या खुदरा ऑनलाइन खरीदारी करते हैं तो बहुत ही कम कीमत पर पोचमपल्ली सिंगल और डबल इकत हैंडलूम कॉटन पटोला साड़ी और कॉटन सिल्क साड़ी खरीद सकते हैं।
    नेट पर असंख्य साइटें हैं जो ikat साड़ियों के बारे में जानकारी प्रदान करती हैं - अधिक या कम विवरण में। लेकिन दुनिया भर में एक विश्वसनीय स्रोत है - विकिपीडिया। यह उत्पत्ति पर काफी विस्तृत जानकारी प्रदान करता है, इतिहास पर प्रकाश डालता है। विषय पर अधिक जानकारी प्राप्त करना केवल उन ब्लॉगों से संभव हो सकता है जो अपने आप को एक विषय के लिए समर्पित करते हैं, जैसे प्रमुख वेबसाइटें Unnati Silks, या निर्माता की वेबसाइट या फेसबुक पेज।
    इकत कपास सिल्क साड़ियों के अलावा, एक को कांची बॉर्डर और नवीनतम ब्लाउज डिजाइन, प्योर हैंडलूम सिल्क डबल इकत साड़ी, इकत सिट की साड़ी, इकत सनी साड़ी, इकत डिजाइनर प्रिंट के साथ शुद्ध ikkat नरम रेशम pattu साड़ियों की एक श्रृंखला देखने को मिलती है। ikat आधा साड़ी, ikat kalamkari साड़ी, ikat ऊतक साड़ी आदि तीन ikat विशेषज्ञ क्षेत्रों में - Pochampally, संबलपुर, राजकोट, प्रत्येक अपने एकल या डबल ikat में ikat के विभिन्न प्रकार या विविधता प्रदान करते हैं। इसके साथ-साथ इकत साड़ी, मर्करीकृत सूती साड़ियों आदि के लिए प्यारे मैगाम वर्क ब्लाउज भी देखने को मिलते हैं, जो आगे चलकर दिलचस्पी जगाते हैं।

    आम तौर पर ikat सूती साड़ियों पर बहुत अच्छी तरह से निकलता है। लेकिन वहाँ हालांकि Pochampally हथकरघा रेशम ikat साड़ियों की एक नई बहुत कुछ Unnati सिल्क्स से बाहर लाया गया है।

  • पोचमपल्ली इकत कुपदम सिल्क कॉटन पट्टू साड़ी
  • शुद्ध हथकरघा पोचमपल्ली इकत रेशम साड़ी
  • इंटरलॉक वेट तकनीक को कुपदम कहा जाता है। पोचमपल्ली इकत रेशम साड़ी शुद्ध रेशम, जरी की सीमा और पल्लू के साथ एक कपास क्षेत्र है। महीन कपास का खेत अलग से बुना जाता है, जिसमें पल्लू शुद्ध रेशम से बना होता है। इस प्रक्रिया में पहले से बंधे हुए ताने और बाने के खंड शामिल हैं और फिर पूर्व-निर्धारित डिज़ाइन पैटर्न को प्राप्त करने के लिए प्रतिरोध-रंगे हुए हैं। यह तो सही Pochampally Ikat पाने के लिए इंटरलेस्ड है।
  • एक शुरुआत के लिए ikat सीमा कुछ आकृति के साथ लगातार अपनी लंबाई के साथ मुख्य आकर्षण है। Ikat, एक बड़ी चौड़ाई होने से एक सुंदर मध्यम चौड़ाई सुनहरी ज़री के टुकड़े द्वारा दो समान खंडों में विभाजित किया जाता है जो सीमा की लंबाई को चलाता है।
  • सादे शरीर का विकल्प केवल नीयन या जीवंत है। जब आपके पास चमकीले पीले, नीले, हरे जैसे रंग होते हैं तो शरीर का रंग एक बिजली के बोल्ट की तरह होता है। यदि स्वर्ण जरी धारियाँ होतीं तो प्रभाव और बढ़ जाता।
  • अन्य सुविधाओं की खोज करते हुए, हम पाते हैं कि इकत साड़ी दस्तकारी और दस्तकारी, पल्लू एक डिजाइनर संबंध है जो बहु-रंग के धागे में लटकन वाले अंत भाग से जोड़ा गया है।
  • हैंडलूम मार्क अपने कानूनी वजन को एक वास्तविक हैंडलूम उत्पाद के रूप में प्रमाणित करता है।
  • यहां भी पीले, नीले, हरे रंग के चुने हुए रंगों में जीवंतता है, लेकिन शुद्ध रेशम की चमक के साथ।
  • एक गहरी सुनहरी ज़री की सीमा है जो बाहरी हिस्से में अपनी लंबाई के साथ चल रही है, जबकि इसकी आंतरिक सीमा पर वनस्पतियों और जीवों के रूपांकनों के साथ सुंदर रंगीन इकत है।
  • एक अतिरिक्त आकर्षण ikat के बगल में एक अंतरतम सीमा है जिसकी लंबाई में लोकप्रिय मंदिर का डिजाइन है। पल्लू में शरीर की तुलना में एक अलग रंग है, और इसकी चौड़ाई के साथ हल्के सुनहरे रंग की जरी की पट्टियाँ हैं। शरीर का आकार बड़ा और छोटा होता है।
  • दोनों शुद्ध रेशम और रेशम कपास संस्करण इस अर्थ में प्यारे हैं कि वे वातावरण को हल्का करते हैं। अगर पहनने वाले को सेमी सर्कुलर नेक और तीन चौथे स्लीव फॉर्मेट और उपयुक्त एसेसरीज के साथ एक अच्छा प्लेन कॉन्ट्रास्टिंग ब्लाउज पहनना पड़ता है, तो इसका प्रभाव विनाशकारी हो सकता है।
  • Ikat आज दुनिया भर में लोकप्रिय है और बहुत सारी ऑनलाइन वेबसाइटें हैं जो आपके द्वारा पूछे जाने वाले कुछ या किसी अन्य के पास होंगी। इसके अलावा, हालांकि खुदरा, थोक में अधिकांश सौदे बहुत कम होते हैं। हालाँकि मैं सुरक्षित रूप से कह सकता हूँ कि आप जो भी माँगेंगे वह सभी उपलब्ध होगा Unnati सिल्क्स ऑनलाइन, थोक और खुदरा कीमतों पर बेहद आकर्षक हैं जो असली हथकरघा के लिए परोसा जाता है।

    मैं हैदराबाद में नवीनतम संबलपुरी ikat प्रिंट, पोचमपल्ली ikat कपास, ikat patola साड़ी के साथ ikat साड़ी ब्लाउज पैटर्न और डिजाइन कहां खरीद सकता हूं? मैं पारंपरिक ikat सूती और ओरिसा की साड़ी साड़ी, डिजाइनर बनारसी ikat साड़ी, पोचमपल्ली ikkat रेशम और कपास हथकरघा आंध्र प्रदेश की साड़ियाँ, उप्पाडा शिकाकट patu साड़ी, पटोला ikat साड़ी, ikat pattu रेशम और कपास सूती साड़ी मिल सकती है। भारत में एक ही स्थान पर ऑनलाइन शॉपिंग थोक के लिए?

    दोनों का जवाब है उन्नाती सिल्क्स। Unnati Silks के हैदराबाद में दो ऑफ़लाइन स्टोर हैं, जो व्यक्तिगत रूप से इकत हथकरघा साड़ियों में विशाल रेंज का भ्रमण कर सकते हैं। Unnati सिल्क्स अपनी रेंज और विभिन्न प्रकार के कपड़ों की विविधता के साथ विशेष रूप से साड़ी और सलवार कमीज 1980 के बाद से हथकरघा के साथ जुड़ा हुआ है और भारत के 21 से अधिक राज्यों से किस्में हैं।
    कीमतें उस शहर के अधीन हैं जहां इसे बेचा जाता है, स्रोत के करीब है, एक यह उम्मीद कर सकता है कि यह एक और अधिक दूर की तुलना में तुलनात्मक रूप से सस्ता हो। लेकिन शहर के भीतर ही बेचने की कीमत में अंतर स्थानीयता, दुकान के आकार और ग्राहकों के लिए उस विविधता के आधार पर भिन्न होता है जो अन्य कारकों में होता है। संबंधित वेबसाइटों पर ऐसे किसी भी शहर में ikkat साड़ियों के चित्र ब्राउज़ करें, इससे पहले कि आप बैंगलोर से ikkat साड़ी का थोक खरीदें या किसी भी अन्य शहरों में सुरक्षित पक्ष पर हों।
    आप Pochampally सिंगल और डबल ikkat सिल्क और कॉटन साड़ी ऑनलाइन थोक के साथ ikat डिजाइन, अलंकरण, और अन्य प्रासंगिक कारकों की जटिलता के अनुसार प्राप्त कर सकते हैं, जो तब साड़ी कीमत स्वचालित रूप से आपके द्वारा उल्लिखित मूल्य पर्वतमाला में गिरने का कारण बनेगी।
    ऑनलाइन डिजाइनर ब्लाउज डिजाइन के साथ कपास रेशम ikkat साड़ी खरीदें। आप नवीनतम पोचमपल्ली ikkat रेशम साड़ियों के लिए ब्लाउज डिजाइन की खोज करने का भी प्रयास कर सकते हैं। Ikkat हाफ साड़ी sico patico के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का प्रयास करें, साथ ही साथ ikkat ब्लाउज के साथ ikkat uppada handloom pattu सिल्क और कॉटन हाफ साड़ियों के साथ डिजाइन। ये आकर्षक कीमतों पर हो सकते हैं जिस पर कोई भी ऑनलाइन खरीदने में संकोच नहीं करेगा।

    From the Banks of Ganga Ghat – Luxury of Banarasi Silks

    Varanasi, also known as Benaras, Banaras or Kashi, is on the banks of the holy river Ganges in Uttar Pradesh. Varanasi is considered one of the holiest cities in India and the world. Benaras is also known for its muslin and silk fabrics since centuries.

    Be it a purchase or a gift from somebody, the Banarasi saree has been lovingly treasured, used sparingly on occasions and prized like a treasure by most saree-loving women. Pure Silk has been part of Indian tradition for exclusive wear since royal times, an observance carried on till this day. It is the devoted effort of the Banarasi silk saree weaver to weave pure gold and silver threads with precision and create masterpieces with the making of each and every saree. Time has not dimmed this art and the modern day weaver is as dedicated to his work as his forefathers were. No wonder the Indian masses have always considered it as something to possess during a lifetime.

    The Banarasi saree is a finely woven fabric, with rich brocades in gold and silver zari, including fine designs and engravings. A relatively heavy and opulent affair, the Banarasi silk saree is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.
    In an awesome display of grandeur, the Banarasi saree has always been exclusive and captivating. Very many traditional silks are available in different pockets across the country, but the Banarasi Saree has always held out on its own as a unique fabric of traditional excellence. Finely woven, with rich brocades in gold or silver zari that includes fine designs and engravings, the relatively heavy and opulent affair is part of every bride’s trousseau and a must-have finery fabric for weddings and exclusive occasions in many Indian homes.

    A royal weave since Mughal times, it is believed that migrant workers from other states settled in Banaras and carried out the weaving of such fabrics as a decent means to livelihood. Since then it has developed into a major cottage industry that has close to twelve lakh workers involved in different facets in the making of the ‘Banarasi’ saree.

    The specialty of the Banarasi silk saree lies in its use of zari or rich gold and silver coloured thread work on motifs and brocades. The influence of Mughal designs is evident from the awesome floral and leafy motifs known as ‘kalga’ and ‘bel’ and outer border designs of upright leaves known as ‘Jhallar’.

    In addition the heavy gold work on the brocades, the compact weaving of the basic fabric, the small detailing, metallic visual effects, the mesh pattern and the intricate embroidery work are all contributive towards making the Banarasi saree, a rich traditional offering; a pride of the nation.

    The Banarasi saree acquires a royal feel from the brocades that share a part of this heirloom fabric. In earlier times the brocade was adorned by precious and semi-precious stones, but today they have been replaced by sequins and beading to give that exquisite look, unless it is a customized order.

    Using the special ‘Jacquard’ arrangement, the Banarasi brocade, is woven through the special technique involving the weaving of a supplementary weft that is not part of the main weave of warp and weft. The idea is to make it seem that the pattern which comes from the supplementary weft is actually woven within the main weave.
    It could take anywhere from a fortnight to a month, based on the exquisiteness of the designs, the intricacies within the weave and the fine adornments that accompany the saree. Subsequently this determines the Banarsi saree price that could be anywhere from a few thousands to a lakh of rupees.
    Four to five centuries have passed and this tradition of fine weaving has neither dimmed nor lost lustre. In fact the Banarasi Silk Sarees have continued to remain as exceptional and finely sought as before. Over the years additions and introductions within the weave have never seemed out of place. Despite being woven in traditional style, the fusion elements have seamlessly merged to become a part of its rich and dazzling heritage.
    While both sarees appear grand and royal, there is a distinctive difference. The Banarasi saree relies heavily on silver and gold thread brocade work whereas the Kanjeevaram saree depends more on color and combinations with plenty of accessories thrown in.
    It is recognized universally that the heavier the zari threads, more the superiority. The count of genuine Banarasi silk sarees lies in the region of 5000 and above with each zari thread chain about 115 cm. extended. Also the reverse side of the sarees would show up with floating warp and weft threads because of the nature of weaving.
    In order to counter the unfair gains made by ‘non-Banarasi’ clusters that took advantage of using the name ‘Banarasi’ for their fabrics and selling at a cheaper price, without adhering to the stringent quality standards that were followed by the ethnic weavers, the traditional groups of six clusters in and around Benaras, applied for and received the Geographical Indication label and legal rights in 2009, for the exclusive use of the name ‘Banarasi’ for their offerings. This stemmed the rot created by the spurious goods trade and drastically improved the situation to cause exports to flourish once again.
    The traditional weavers spread over the six districts of Gorakhpur, Chandauli, Bhadohi, Jaunpur, Azamgarh and Banaras itself, have the rights and protection for sole use of the label ‘Banarasi ’ for their handloom weaves. It is a traditional craft of centuries since the Mughal times and there are more than a lakh families involved with different facets in the making of the Banarasi saree.
    The Banarasi saree is made in clusters in and around Varanasi so there is no dearth of shops within the city and other important places in the state as well as the rest of India. However the costly silk varieties could be limited to important cities and towns of Uttar Pradesh. In the rest of India all the metros, big cities and towns too would be having Banarasi sarees to sell in big shops.
    There are plenty of websites that sell Banarasi sarees online but one cannot be assured that you are buying genuine Banarasi sarees or sarees worth the price that you are paying for. Hence it is always better to ask people who have had an online shopping experience for costly sarees especially the heavy silks or check the websites thoroughly before coming to a decision to place an order.
    With four decades of association with textiles since 1980, especially in Handloom fabrics, Unnati Silks has earned a reputation of being a trusted website for women’s apparel – sarees, salwar kameez, kurtas, kurtis, Indo western apparel and fabrics. With different payment options, attractive pricing in wholesale and retail, free shipping in India, reputed couriers and after sales service, Unnati Silks has managed to serve customers over 65 countries overseas too.

    The Banarasi collection at Unnati Silks is both varied and vast.

    Designer Banarasi Silk Sarees with fusion varieties have always kept the market interested. Banarasi Sicos are with mesmeric patterns and enchanting patch borders with eye-catching motifs in mesmerizing colors. The stunning Banarasi Jamdhani Katan silk saree with a lot of Jamdhani work and attractive bootis has tremendous appeal.

    Banarasi Patola silks and Banarasi Georgette sarees beautifully adorned with elegant mango bootis, the brocaded Banrasi Crepe silk saree, the Banarasi Tussar silks and the Supernets in Neon, the Banarasi Organza silks decorated with eye-filling bootis and rich borders in zari, and the Banarasi Georgette silks as well as the designer variety in jacquard art silk put together make an awesome “Banarasi” draw - a vivid and enchanting ensemble of the Banarasi variety under the same roof.

    The Banarasi georgette sarees look amazing with blouses having a golden border or blouses in contrasting colour and heavy work. The look is royal and heavy. Full Sleeves or elbow length ones with lovely embroidery, or the net sarees with net sleeves are preferred combinations by many women.
    Dry cleaning is the best option recommended for costly sarees which have a lot of accessory work. However for those who would like to clean it themselves, you have to take some time over it. Putting the saree in plain water with a mild detergent leaving it in for a few minutes before lightly brushing would clean it nicely. Since the pallu has a lot of special work on it, it has to be done carefully.
    Red is a very popular colour for the Banarasi silk and is generally preferred as bridal wear for morning weddings whereas the less light shades are preferred by brides for weddings after sunset. These Banarasi pure silk sarees also come in bright colors like peach, cream, powder blue, pastel shades, lime or mint green, light pink which are best for daytime occasions.

    This is a lengthy subject that cannot be described in words. It is best learnt through demo videos on You Tube. We suggest some channels like:

    • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY on how to wear the Banarasi saree in different styles
    • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 for wearing it in Lehenga style
    • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ for wearing as in Bengali wedding style.

    But as you know it is not limited to this and there are plenty of videos by different styling experts who have provided their demo videos for the manner in which the Banarasi saree can be draped.

    बनारसी साड़ी एक महीन बुने हुए कपड़े हैं, जिसमें सोने और चांदी की जरी में समृद्ध ब्रोकेड्स होते हैं, जिनमें महीन डिजाइन और नक्काशी शामिल हैं। एक अपेक्षाकृत भारी और भव्य मामला, बनारसी रेशम साड़ी हर दुल्हन के पतलून के हिस्से और शादियों और कई भारतीय घरों में विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।
    भव्यता के एक भयानक प्रदर्शन में, बनारसी साड़ी हमेशा अनन्य और मनोरम रही है। देश भर में बहुत से पारंपरिक रेशम विभिन्न जेबों में उपलब्ध हैं, लेकिन बनारसी साड़ी हमेशा पारंपरिक उत्कृष्टता के एक अद्वितीय कपड़े के रूप में अपने दम पर आयोजित की जाती है। सोने या चाँदी की ज़री में समृद्ध ब्रोकेड के साथ बारीक बुना हुआ, जिसमें बढ़िया डिज़ाइन और नक्काशी शामिल हैं, अपेक्षाकृत भारी और भव्य संबंध हर दुल्हन की पतलून का हिस्सा है और कई भारतीय घरों में शादियों और विशेष अवसरों के लिए एक महीन कपड़े का होना चाहिए।

    मुगल काल से एक शाही बुनाई, यह माना जाता है कि अन्य राज्यों के प्रवासी श्रमिक बनारस में बस गए और इस तरह के कपड़ों की बुनाई को आजीविका के लिए एक सभ्य साधन के रूप में किया। तब से यह एक प्रमुख कुटीर उद्योग के रूप में विकसित हो गया है, जिसमें 'बनारसी' साड़ी बनाने में विभिन्न पहलुओं में शामिल बारह लाख के करीब श्रमिक हैं।

    की खासियत बनारसी रेशम की साड़ी ज़री या रिच गोल्ड और सिल्वर रंग के धागे के रूप में मोटिफ्स और ब्रोकेस पर काम करती है। मुगल डिजाइनों का प्रभाव 'कलगी' और 'बेल' के नाम से जाने जाने वाले भयानक फूलों और पत्तेदार रूपांकनों से स्पष्ट है और ऊपर की पत्तियों के बाहरी बॉर्डर डिजाइनों को 'झल्लार' के रूप में जाना जाता है।

    ब्रोकेड्स पर भारी सोने के काम के अलावा, मूल कपड़े की कॉम्पैक्ट बुनाई, छोटे विवरण, धातु दृश्य प्रभाव, मेष पैटर्न और जटिल कढ़ाई का काम बनारसी साड़ी, एक समृद्ध पारंपरिक भेंट बनाने के लिए सभी योगदान कर रहे हैं; राष्ट्र का गौरव।

    बनारसी साड़ी ब्रोकेड्स से एक शाही एहसास प्राप्त करती है जो इस विरासत कपड़े का एक हिस्सा साझा करती है। पहले के समय में ब्रोकेड को कीमती और अर्ध-कीमती पत्थरों से सजाया गया था, लेकिन आज उन्हें सीक्विन और बीडिंग द्वारा बदल दिया गया है, जब तक कि यह एक स्वनिर्धारित क्रम न हो।

    विशेष 'जैक्वार्ड' व्यवस्था का उपयोग करते हुए, बनारसी ब्रोकेड, एक विशेष तकनीक के माध्यम से बुना गया है जिसमें एक पूरक कपड़ा की बुनाई शामिल है जो ताना और बाने की मुख्य बुनाई का हिस्सा नहीं है। यह विचार करना है कि ऐसा लगता है कि जो पैटर्न अनुपूरक भार से आता है वह वास्तव में मुख्य बुनाई के भीतर बुना जाता है।
    यह डिजाइन की विशिष्टता के आधार पर, एक पखवाड़े से लेकर एक महीने तक कहीं भी ले जा सकता है, बुनाई के भीतर की पेचीदगियां और साड़ी के साथ बारीक अलंकरण। इसके बाद यह बनारसी साड़ी की कीमत निर्धारित करता है जो कि कुछ हजारों से लेकर लाखों रुपये तक हो सकती है।
    चार से पांच शताब्दियां बीत चुकी हैं और ठीक बुनाई की इस परंपरा को न तो मंद पड़ा है और न ही खोई हुई चमक। वास्तव में बनारसी सिल्क साड़ियां पहले की तरह असाधारण और बारीक बनी हुई हैं। पिछले कुछ वर्षों में बुनाई के भीतर परिवर्धन और परिचय कभी भी जगह से बाहर नहीं हुए हैं। पारंपरिक शैली में बुने जाने के बावजूद, संलयन तत्व मूल रूप से अपनी समृद्ध और चमकदार विरासत का हिस्सा बनने के लिए विलय कर चुके हैं।
    जबकि दोनों साड़ी भव्य और शाही दिखाई देती हैं, एक विशिष्ट अंतर है। बनारसी साड़ी चांदी और सोने के धागे के ब्रोकेड वर्क पर बहुत अधिक निर्भर करती है जबकि कांजीवरम साड़ी में फेंके जाने वाले बहुत सारे सामान के साथ रंग और संयोजन पर अधिक निर्भर करता है।
    यह सार्वभौमिक रूप से पहचाना जाता है कि जरी के धागे जितने भारी होंगे, उतनी ही श्रेष्ठता होगी। असली बनारसी सिल्क साड़ियों की गिनती लगभग 5000 सेमी और प्रत्येक ज़री धागा श्रृंखला के साथ लगभग 115 सेमी है। बढ़ाया। साथ ही साड़ियों का उल्टा हिस्सा बुनाई की प्रकृति के कारण फ्लोटिंग ताना और अजीब धागे के साथ दिखाई देगा।
    गैर-बनारसी ’समूहों द्वारा किए गए अनुचित लाभ का मुकाबला करने के लिए, जिन्होंने अपने बुनकरों द्वारा पालन किए जाने वाले कड़े गुणवत्ता मानकों का पालन किए बिना, अपने कपड़ों के लिए बनारसी’ नाम का इस्तेमाल करने और सस्ते दाम पर बेचने का फायदा उठाया। बनारस और उसके आसपास के छह समूहों के पारंपरिक समूहों ने अपने प्रसाद के लिए 'बनारसी' नाम के विशेष उपयोग के लिए 2009 में भौगोलिक संकेत लेबल और कानूनी अधिकार प्राप्त किए। इसने नकली सामान के व्यापार से पैदा हुई सड़ांध को खत्म कर दिया और निर्यात को एक बार फिर से फलने-फूलने की स्थिति में काफी सुधार किया।
    छः जिलों गोरखपुर, चंदौली, भदोही, जौनपुर, आज़मगढ़ और बनारस में फैले पारंपरिक बुनकरों को अपने हथकरघा बुनकरों के लिए लेबल 'बनारसी' के एकमात्र उपयोग के अधिकार और संरक्षण प्राप्त हैं। यह मुगल काल से सदियों से चली आ रही एक पारंपरिक शिल्प है और बनारसी साड़ी के निर्माण में विभिन्न पहलुओं के साथ एक लाख से अधिक परिवार शामिल हैं।
    बनारसी साड़ी वाराणसी और उसके आसपास के समूहों में बनाई जाती है, ताकि शहर और राज्य के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के साथ-साथ शेष भारत में भी दुकानों की कमी न हो। हालाँकि महंगे रेशम की किस्में उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण शहरों और कस्बों तक सीमित हो सकती हैं। शेष भारत के सभी महानगरों, बड़े शहरों और कस्बों में भी बड़ी दुकानों में बेचने के लिए बनारसी साड़ियाँ मौजूद होंगी।
    बहुत सारी वेबसाइटें हैं जो बनारसी साड़ियों की ऑनलाइन बिक्री करती हैं लेकिन किसी को यह आश्वासन नहीं दिया जा सकता है कि आप असली बनारसी साड़ी या साड़ी खरीद रहे हैं जिसकी कीमत आप चुका रहे हैं। इसलिए हमेशा उन लोगों से पूछना बेहतर होता है, जिन्हें महंगी साड़ियों खासकर भारी सिल्क्स के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का अनुभव रहा हो या ऑर्डर देने के निर्णय पर आने से पहले वेबसाइट्स की अच्छी तरह से जांच कर लेते हों।
    1980 के बाद से वस्त्रों के साथ चार दशकों के जुड़ाव के साथ, विशेष रूप से हैंडलूम कपड़ों में, उन्नावती सिल्क्स ने महिलाओं के परिधान - साड़ी, सलवार कमीज, कुर्ते, कुर्तियां, इंडो वेस्टर्न परिधान और कपड़ों के लिए एक विश्वसनीय वेबसाइट होने की प्रतिष्ठा अर्जित की है। अलग-अलग भुगतान विकल्पों के साथ, थोक और खुदरा क्षेत्र में आकर्षक मूल्य निर्धारण, भारत में मुफ्त शिपिंग, प्रतिष्ठित कोरियर और बिक्री सेवा के बाद, Unnati Silks 65 से अधिक देशों में विदेशों में भी ग्राहकों की सेवा करने में सफल रही है।

    Unnati Silks में बनारसी संग्रह विविध और विशाल दोनों है।

    फ्यूजन किस्मों के साथ डिजाइनर बनारसी सिल्क साड़ियों ने हमेशा बाजार में दिलचस्पी बनाए रखी है। बनारसी सिसिली मेस्मेरिक पैटर्न के साथ हैं और मंत्रमुग्ध करने वाले रंगों में आंखों को पकड़ने वाले रूपांकनों के साथ आकर्षक पैच बॉर्डर हैं। बहुत सारे जामदानी काम और आकर्षक बूटियों के साथ तेजस्वी बनारसी जामदानी कटान रेशम साड़ी में जबरदस्त अपील है।

    बनारसी पटोला सिल्क्स और बनारसी जॉर्जेट की साड़ियाँ खूबसूरत आम बूटियों से सुशोभित हैं, ब्रोकेड बनारसी क्रेप सिल्क की साड़ी, बनारसी तुषार की सिल्क्स और नीयन में सुपर्नेट्स, बनारसी ऑर्गेनाज़ की सिल्क्स, जो कि ज़री, और बनारसी, आई-बूट्स और रिच बॉर्डर से सुशोभित हैं। जॉर्जट सिल्क्स के साथ-साथ जेकक्वार्ड आर्ट सिल्क में डिजाइनर विविधता ने एक ही छत के नीचे बनारसी किस्म का एक अद्भुत और आकर्षक पहनावा - "बनारसी" आकर्षित किया।

    बनारसी जॉर्जेट साड़ी ब्लाउज के साथ सुनहरे रंग या विषम रंग और भारी काम वाले ब्लाउज के साथ अद्भुत लगती है। लुक शाही और भारी है। फुल स्लीव्स या एल्बो लेंथ वाली क्यूट सी एम्ब्रायडरी, या नेट स्लीव्स वाली नेट साड़ियों को कई महिलाओं द्वारा पसंद किया जाता है।
    महँगी साड़ियों के लिए ड्राई क्लीनिंग सबसे अच्छा विकल्प है जिसकी एक्सेसरी बहुत काम आती है। हालाँकि जो लोग इसे स्वयं साफ करना चाहते हैं, उनके लिए आपको कुछ समय निकालना होगा। साड़ी को सादे पानी में हल्का डिटर्जेंट डालकर कुछ मिनटों के लिए हल्के ब्रश करने से पहले इसे अच्छी तरह से साफ कर लें। चूँकि पल्लू का इस पर बहुत विशेष काम है, इसलिए इसे सावधानी से करना होगा।
    लाल बनारसी रेशम के लिए एक बहुत लोकप्रिय रंग है और आमतौर पर सुबह की शादियों के लिए दुल्हन के रूप में पसंद किया जाता है, जबकि कम रोशनी वाले रंगों को सूर्यास्त के बाद होने वाली शादियों के लिए पसंद किया जाता है। ये बनारसी शुद्ध रेशमी साड़ियाँ भी चमकीले रंगों जैसे पीच, क्रीम, पाउडर ब्लू, पेस्टल शेड्स, लाइम या मिंट ग्रीन, हल्के गुलाबी रंग में आती हैं जो दिन के अवसरों के लिए सर्वोत्तम हैं।

    यह एक लंबा विषय है जिसे शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है। यह सबसे अच्छा आप ट्यूब पर डेमो वीडियो के माध्यम से सीखा है। हम कुछ चैनल जैसे सुझाव देते हैं

    • https://www.youtube.com/watch?v=An_IGeE9rHY विभिन्न शैलियों में बनारसी साड़ी कैसे पहनें,
    • https://www.youtube.com/watch?v=ZmSFN8x_QQ0 इसे Lehenga स्टाइल में पहनने के लिए,
    • https://www.youtube.com/watch?v=2Aym-vJhYhQ बंगाली शादी की शैली में पहनने के लिए।

    लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि यह इस तक सीमित नहीं है और विभिन्न स्टाइलिंग विशेषज्ञों द्वारा बहुत सारे वीडियो हैं जिन्होंने बनारसी साड़ी को ड्रेप किया जा सकता है।